पड़ोसन आंटी पम्मी की चुदाई

हेलो मेरा नाम है राहुल मैं अपनी पहली कहानी पोस्ट करने जा रहा हू कोई ग़लती हो तो आई एम सॉरी अब कहानी पर आता हू मैं पंजाब जालंधर का रहने वाला हू मेरी हाइट 5’10 है वित मस्क्युलर बॉडी और दिखने मे भी स्मार्ट हूँ जिसकी वजह से हमेशा लड़किया मुझसे अट्रॅक्ट होती है आज मैं अपनी आंटी की स्टोरी बताने जा रहा हूँ मेरी आंटी का नाम पम्मी है (चेंज्ड फॉर प्राइवसी) आंटी बहोत ही सेक्सी है और उनकी फिगर बहोत मस्त है उनका साइज़ लगभग 32-34-36 होगा मुझे वो बहोत अछी लगती है मैं हमेशा उनके साथ सेक्स करने के बारे मे सोचता था एक दिन मेरा ये सपना सच हो गया अंकल काम की वजह से बाहर रहते है और उनकी बेटी बाहर पढ़ती है आंटी घर मे अकेली रहती है एक दिन अचानक उनकी तबीयत खराब हो गयी तो आंटी ने मुझे उनके घर सोने को कहा तो मैं मान गया मैं बहोत एग्ज़ाइटेड था क्योकि वो घर पर अकेली रहती है तो मैने सोचा आज अछा मौका है जैसे ही रात हुई तो मैं उनके घर सोने चले गया हम दोनो ने थोड़ी देर इधर उधर की बाते की.

और फिर मूवी देखने लगे एक हॉलीवुड मूवी चल रही थी उसमे किस का सीन आया तो आंटी उठकर पानी लेने चली गयी मैं वो सब देख कर कंट्रोल नही कर पाया और मेरा लंड खड़ा हो गया जब आंटी वापिस आई तो आंटी ने मेरी पैंट की तरफ़ देखा और खड़े लंड को देख कर उसे अनदेखा कर वाहा से चली गयी फिर आंटी ने खाना बना लिया और हम दोनो ने बैठकर खाना खाया और फिर आंटी ने कहा तुम मेरे कमरे मे ही सो जाना इतना कह कर आंटी चली गयी और मैं टीवी देखता रहा फिर करीब 10 बजे मैं उठा और आंटी के रूम मे जाकर उनके बगल मे सो गया मेरे जाने से पहले ही आंटी सो चुकी थी पर मुझे नींद नही आ रही थी मुझे बस उन्हे चोदने का ख़याल था कितनी देर मैं बैठा ये सब सोचता रहा और फिर मैने हिम्मत करके उनके मुम्मो पर हाथ फेरना शुरू किया तो वो कुछ नही बोली तो मैने अपनी हिम्मत बढ़ाई और उनके मुम्मो को दबाने लगा फिर एक दम आंटी उठ गयी और मेरी तरफ गुस्से से देखने लगी मैं डर गया मैने आंटी से सॉरी कहा पर आंटी मुझे गुस्से से देखती जा रही थी.

यह कहानी भी पड़े  पुणे मे सगी मौसी की चुदाई की

वो बोली सुबह बताती हूँ तेरी मम्मी की तू क्या हरकते करता है मैने आंटी को फिर सॉरी बोला तो मेरे बहोत कहने के बाद आंटी मान गयी पर आंटी ने कहा की अगर तू मुझे सारी रात चोदेगा और ये बात किसी को नही बताएगा तभी मैं मानुगी तुम्हारे अंकल घर से बाहर रहते है इस वजह से मैं प्यासी हूँ बाहर तेरा खड़ा लंड देख के मैं गर्म हो गयी थी और तभी से तुझ से चुदवाने के बारे मे सोच रही हूँ अगर तू मेरी प्यास बुझा सकता है तो तू जो माँगेंगा मैं वो दूँगी मुझे और क्या चाहिए था ये सुनते ही मैने उनके लिप्स पर अपने लिप्स रख दिए और उन्हे ज़ोर ज़ोर से चूमने लगा करीब 15 मिनिट हमने किस की और मैने आंटी के मुम्मे दबाए फिर मैने आंटी के कपड़े उतारने शुरू किए पहले उनका कुर्ता निकाला और उनकी बॉल्स उभर कर मेरे हाथ मे आ गयी आंटी ने ब्रा नही पहनी थी फिर मैने उनके मुम्मो को चूसा तो आंटी सिसकिया लेने लगी, आहह ऊऊऊओ ओर्रर्र ज़ोर से चूवस्ससस फिर कुछ देर बाद मैने आंटी की सलवार निकाल दी और उनकी गॅंड देखकर और एग्ज़ाइटेड हो गया.

उनकी गॅंड पूरी तरह हेर्स से भरी थी तो मैने उंगली करनी शुरू की आंटी ज़ोर ज़ोर से सिसकिया लेने लगी आअहह ऊऊ फिर आंटी ने कहा की और मत तड़पा तो मैने अपना 6 इंच का लंड उनकी गॅंड मे डाल दिया तो आंटी चीख पड़ी उउई माआआअ फाड़ डाली रे तूने आराम से कर तेरी ही हूँ, कुछ देर बाद जब दर्द कम हुआ तो आंटी मेरा साथ देने लगी 30 मिनट बाद हम दोनो झड़ गये और वही पर एक दूसरे को हग करके सो गये उस रात हमने कई बार चुदाई की और अगले दिन सुबह जब मैं उठा तो वो मुस्कराती हुई मेरे पास आई और मुझे कोफ़ी दी और गुड मॉर्निंग कहा फिर जब वो नहाने गयी तो उन्होने फिर मुझे बुला लिया और हम दोनो ने इकहट्‍टे नाहया और मैने एक बार फिर उन्हे बाथरूम मे चोदा उसके बाद कई दीनो तक हमारा ये सिलसिला चलता रहा एक दिन मैने आंटी से कहा की आपकी बेटी बहोत सुंदर है मुझे उसे भी चोदना है तो आंटी ने सॉफ मना कर दिया पर मेरे कुछ देर कहने के बाद वो मान गयी उनकी लड़की मेरे से 1 साल छोटी है पर देखने मे मेरे से बड़ी लगती है.

यह कहानी भी पड़े  मिसेज तिवारी के साथ पार्किंग लॉट में गुलछर्रे

Pages: 1 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!