पड़ोस की हॉट भाभी की साथ सेक्स

हैल्लो दोस्तों मेरा नाम विजय है मेरी उम्र 23 साल की है। में कोटा राजस्थान से हूँ। दोस्तों में पहली बार अपनी सच्ची स्टोरी आपके साथ शेयर कर रहा हूँ। ये कहानी मेरे पड़ोस मे रहने वाली आंटी की है। वो अभी कुछ दिनो पहले ही रहने आई थी। उनके पति एक कम्पनी मे हैं। वो अपने बच्चो के साथ किराए पर रहने लगी थी। उनकी उम्र 32 के आस पास है। वो दिखने मे गोरी और ऊपर वाले ने उनके शरीर के हर हिस्से को तराशा हुआ है। उनके बूब्स 38-36-42 है, जो कि मुझे बाद मे पता चला। अब में स्टोरी शुरू करता हूँ।

वो आंटी दिखने मे बहुत सुंदर थी, में उन्हे रोज़ छुपकर देखता था। जब वो अपने घर के आँगन मे झाड़ू लगाती थी तो में अपने घर की छत पर से उन्हे घूर घूर कर देखा करता था। वो क्या माल थी। जब वो झुकती तब उनके बूब्स तो मुझे नहीं दिखते थे लेकिन कपड़ो के ऊपर से ही साइज़ देखकर मेरा लंड झटके मारने लगता और मे नीचे आकर बाथरूम मे जाकर उनके नाम की मुठ मारता था। जब भी वो चलती थी तो उनके चूतड़ ऐसे मटकते थे कि बूढ़े का भी लंड खड़ा कर दे जब भी वो घर से बाहर पैदल निकलती तो में भी कुछ भी बहाने से उनके पीछे हो लेता और उनके मदमस्त मोटे और गोल कूल्हे देखकर मन ही मन सोचता कि कब में मेरा लंड इनकी गांड मे डालूँगा और कब मेरा सपना पूरा होगा और कई बार आंटी ने मुझे नोटीस भी किया और वो मुस्कुरा देती और उनकी मुस्कान इतनी ग़ज़ब थी कि मुझसे कंट्रोल नहीं होता था।

दोस्तों एक दिन वो दिन आ ही गया जब मेरा सपना मुझे पूरा होता लगने लगा। तभी एक दिन मेरे मम्मी पापा तीन दिन के लिए आउट ऑफ स्टेशन गये थे। में घर पर अकेला था और वो संडे का दिन था। दिन मे भी हमारी कॉलोनी सुनसान सी रहती है। तभी मैंने देखा कि आंटी अकेली बाहर बैठी हैं और फिर में भी बाहर घूमने लगा और फिर बार बार उनकी तरफ देख रहा था। तभी आंटी ने नोटीस किया और स्माईल पास की उन्होने फिर मैंने भी उन्हें स्माईल किया।
फिर वो बोली आप आज घर पर अकेले हो, आपके मम्मी पापा आउट ऑफ स्टेशन गये हैं। तभी मैंने कहा कि हाँ और सर हिला दिया। फिर उन्होने कहा आज आप खाना कहाँ खाओगे? मैंने कहा किसी होटल मे। फिर वो बोली नहीं आप बाहर मत खाओ बारिश का टाईम है, में आज आपका खाना यहीं मेरे घर पर ही बना लेती हूँ। तभी मैंने बहुत मना किया लेकिन वो नहीं मानी तभी कुछ देर मे तेज़ बारिश शुरू हो गई। अब तो मे होटेल भी नहीं जा सकता था।

यह कहानी भी पड़े  आंटी की चुची मसल कर मस्ती की ट्रेन में

वैसे मे खाना जल्दी ख़ाता हूँ, लेकिन अब मे बारिश रुकने का वेट करने लगा, लेकिन बारिश बहुत तेज़ थी। तभी कुछ देर बाद डोर बेल बज़ी अब मैंने गेट पर देखा तो वो मेरी पड़ोस वाली आंटी थी वो अपने हाथ मे खाना लिए हुए तभी वो बोली जल्दी से डरवाज़ा खोलो मे भीग रही हूँ। फिर मे दौड़कर गया और डोर खोला बाहर बारिश बहुत तेज़ थी, आंटी का सूट पूरा भीग गया था। फिर मैंने उनके हाथ से खाना लिया तो वो बोली में तो हम दोनो का खाना यहीं ले आई हूँ।
हमारे घर पर टीवी नहीं चल रहा है तो मैंने सोचा कि में आपके यहाँ देख लूँगी मैंने कहा जरुर आंटी और फिर वो बहुत खुश हो गई थी। फिर मैंने बोला आप तो पूरी भीग गई हो, तभी वो बोली में अभी चेंज करके आती हूँ, तभी मैंने कहा कि आंटी आप ऐसा करो गाउन पहन लो मे अभी अंदर से आपको लाकर दे देता हूँ।

तभी वो बोली नहीं मैंने कहा कि आंटी मान जाओ नहीं तो भीग जाओगी वापस आने जाने के चक्कर में। अब उन्होने कहा कि ठीक है फिर मैंने उन्हे अंदर कमरे से लाकर गाउन दिया। तभी वो उसे मुझसे लेकर अंदर बाथरूम मे चेंज करने गई और फिर थोड़ी देर बाद वापस चेंज करके आई और फिर हमने साथ मे बैठकर खाना खाया। अब में उन्हे एक नज़र से देखे जा रहा था वो ये सब नोटीस कर रही थी। लेकिन वो कुछ नहीं बोली फिर मैंने कहा कि अब में भी चेंज कर लेता हूँ और टॉयलेट करके आता हूँ।
आप इतनी देर टीवी देखिए, तभी आंटी ने भी खाना खा लिया था और फिर उन्होंने जैसे ही टीवी ऑन किया तो वो हैरान रह गई क्योंकि मैंने उसमे एक ब्लू मूवी लगा रखी थी। उसमे एक लड़का एक मोटी औरत की गांड मार रहा था। तभी उन्होने तुरन्त टीवी बंद कर दी और उन्हे पसीना आने लगा में जान करके अंदर ही देर लगा रहा था फिर उन्होने झाँक कर देखा मे बाथरूम में था।

यह कहानी भी पड़े  ब्लॅकमेल की कहानी

तभी उन्होने फिर से टीवी चालू की और मूवी देख ही रही थी। कि इतने मे मैं आ गया था। अब मैंने उन्हे देखा तो वो एकदम से घबरा गई और तभी उन्होने जल्दी से टीवी बंद कर दी। फिर में मुस्कुराया अब उनके माथे पर पसीना आना शुरू हो गया। मैंने पूछा क्या हुआ आंटी इतनी घबराई हुई क्यूँ हो आप? तो वो बोली कुछ नहीं। मैंने कहा कि अगर आपको अकेले मे टीवी देखनी है तो मे चला जाता हूँ।
तभी वो बोली नहीं ऐसा कुछ नहीं है फिर मैंने बोला तो में टीवी ऑन कर दूं। फिर वो कुछ नहीं बोली फिर मैंने टीवी ऑन कर दी। तो वो बोली कि तुम इतनी गंदी मूवी देखते हो मैंने कभी नहीं सोचा था। फिर मैंने कहा आंटी इसमे क्या गंदा है आप भी तो देख रही थी ना सच बताओ, तो वो थोड़ा रुकी फिर मुस्कुरा दी और मे भी हंस पड़ा। मैंने बोला कि आपका भी मन है तो हम दोनो साथ मे देख लेते हैं ना मूवी। तो वो शरमा गई। लेकिन अब में समझ गया था कि वो तैयार है। मैंने फिर मूवी चलाई अब मेरा लंड तो पहले से ही रेडी था में खड़ा हुआ तो पेंट के आगे टेंट बन गया। आंटी वो देख रही थी और वो कई सालो से प्यासी थी। अब में भी उनके बूब्स देख रहा था।

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ:

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!