पड़ोस के नौकर ने शादी-शुदा लड़की चोदी

ही फ्रेंड्स, मेरा नाम किरण है, और मैं एंपी की रहने वाली हू. मेरी उमर 27 साल है, और मैं शादी-शुदा हू. पिछले साल ही मेरी शादी हुई है, और अभी तक मेरा कोई बच्चा नही है.

मेरी हाइट 5’6″ है, और रंग गोरा है. फिगर साइज़ मेरा 36-30-36 है. मैं दिखने में इतनी सेक्सी हू, की किसी भी मर्द की नज़र मुझ पर फिसल जाए. मेरी फॅमिली में मैं, मेरे हज़्बेंड, मेरे ससुर, और मेरी सास है.

मेरे हज़्बेंड और ससुर दोनो सरकारी नौकरी पर है, और सास मेरी एक दुकान चलती है. मैं घर पर ही रह कर घर का काम देखती हू, और कभी-कभी सासू मा की दुकान के काम में हेल्प करा देती हू.

मेरे हज़्बेंड मुझे हफ्ते में 3-4 बार छोड़ते है, लेकिन वो कभी मुझे संतुष्ट नही कर पाए. मैं एक शरीफ घर की लड़की हू, तो बाहर भी मूह नही मार सकती थी. इसलिए जब भी मुझे मौका मिलता, तो मैं फिंगरिंग करके अपनी छूट को संतुष्ट कर लेती हू. लेकिन फिर एक दिन मेरी ज़िंदगी में एक घटना घाटी.

मेरे हज़्बेंड अपनी जॉब के काम के लिए 2 दिन के लिए शहर से बाहर जेया रहे थे. उधर मेरे ससुर जी भी अपने किसी कोलीग की रिटाइयर्मेंट की पार्टी पर जेया रहे थे. वो सासू मा को भी अपने साथ लेके जाने वाले थे. मैं बहुत खुश थी की मैं पुर घर में अकेली रहने वाली थी.

मैने सोचा था की आज तो बड़ी वाली लेड पर पॉर्न लगा कर फिंगरिंग करूँगी. मेरे हज़्बेंड सुबा-सुबा ही निकल गये थे, और अब शाम हो चुकी थी. अब ससुर जी और सासू मा भी पार्टी पर जाने के लिए तैयार हो रहे थे. 8 बजे के करीब वो निकल गये, और जाते-जाते ससुर जी बोले-

ससुर जी: बेटा अपना ध्यान रखना. मेरे दोस्त ने वाहा रुकने का इंतेज़ां किया है, तो हम सुबा ही आएँगे. तुम्हारी सासू मा नही चाहती की मैं ड्राइव करू इतनी रात में.

मेरी खुशी का ठिकाना नही रहा, और मैने उनको कहा-

मैं: ठीक है पापा. आप एंजाय करो जाके.

फिर वो चले गये. मैने अंदर जाके कपड़े चेंज किए, और लाल रंग की लेगैंग्स और ब्लॅक त-शर्ट पहन ली. फिर मैं अपने रूम में चली गयी. अब मैं रेडी थी अपनी छूट शांत करने के लिए. मैने टीवी पर पॉर्न वीडियो लगाई, और लाइट बंद करके बेड पर लेट गयी.

अब रूम में एक तो टीवी की लाइट थी, और दूसरी विंडो से लाइट आ रही थी, जिसकी वजह से 50% विज़िबिलिटी थी और बाकी अंधेरा था. पॉर्न वीडियो शुरू हो चुकी थी, और मेरे हाथ मेरे बूब्स तक पहुँच चुके थे. मैं अपने बूब्स दबा रही थी, और आ आ कर रही थी.

फिर एक हाथ मैं अपनी छूट पर ले गयी, और कपड़ों के उपर से अपनी छूट रगड़ने लगी. मुझे मस्ती चढ़ रही थी. धीरे-धीरे मैने अपनी लेगैंग्स और पनटी उतार दी, और अपनी छूट को मसालते हुए उसमे उंगली करने लगी. मुझे बहुत मज़ा आ रहा था.

फिर मैने अपनी कुरती और ब्रा भी उतार दी. अब मैं एक हाथ से छूट में उंगली कर रही थी, और दूसरे हाथ से अपने निपल्स खींच-खींच कर मज़ा ले रही थी. मैं पूरी तरह से मदहोश हो चुकी थी.

तभी मेरी छूट पर किसी ने अपना मूह लगा लिया, और छूट चाटने लगा. अचानक से ऐसा होने पर मैं दर्र गयी, और जल्दी से उठ गयी. मैने देखा एक आदमी मेरे सामने नंगा बैठा था बेड की साइड में. मैने उसको कामपति आवाज़ में पूछा-

मैं: कों हो तुम!

वो बोला: मैं सन्नी भाभी.

सन्नी हमारे सामने वाले घर का नौकर था. वो कोई 23-24 साल का 5’11” हाइट वाला लड़का था.

फिर मैने कहा: तुम यहा कैसे आए.

सन्नी: भाभी मैं सामने च्चत पर था. आपको ऐसे देख कर खुद को रोक नही पाया, तो च्चत से कूद कर विंडो में से आ गया.

मैं: दफ़ा हो जाओ यहा से.

सन्नी: भाभी मैं आपको वो खुशी दे सकता हू, जो भैया नही दे पाते.

मैं: मैने कहा ना जाओ यहा से.

ये बोल कर मैने चादर से खुद को ढाका, और लाइट ओं की. लाइट ओं की तो देखा सन्नी पूरा नंगा था. उसका लंड पूरा टाइट था, और 8 इंच का था. उसका लंड देख कर मेरी नीयत खराब हो गयी. मेरा मॅन मुझसे कहने लगा की यही लंड तेरी प्यास बुझाएगा. फिर मैने उसको कहा-

मैं: सन्नी अगर हमारे बीच में कुछ होता है, तो किसी को पता नही लगना चाहिए.

सन्नी: आप फिकर मत करो. किसी को कभी भी पता नही चलेगा.

फिर मैने सन्नी का लंड पकड़ा, और उसकी तरफ देख कर मुस्कुराइ. मेरी छूट में आग तो पहले से ही लगी हुई थी. मैं अपने घुटनो पर बैठ गयी, और किसी रंडी की तरह उसका लंड चूसने लगी. उसका लंड चूसने में मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. लाइफ में पहली बार मैने ऐसा तगड़ा लंड देखा था. मेरे पति का लंड सिर्फ़ 4 इंच का है.

सन्नी ने अपना हाथ मेरे सर के पीछे रख लिया, और कमर आयेज-पीछे करके मेरे मूह में धक्के देने लगा. मेरे मूह से थूक बह कर उसके लंड को चिकना कर रही थी. कुछ देर बाद उसने मेरे बाल खींच कर मुझे उठाया, और मेरे होंठ चूसने लगा. मैं भी उसका पूरा साथ दे रही थी.

होंठ चूस्टे हुए वो मेरे चूतड़ दबा रहा था. फिर उसने मुझे बेड पर लिटाया, और मेरी जांघों के बीच आ गया. उसके बाद उसने लंड मेरी गीली छूट पर रखा, और धक्का मार कर आधा अंदर घुसा दिया. जितनी जगह मेरे पति ने अपने पुर लंड से मेरी छूट में बनाई थी, उतनी तो उसके आधे लंड ने ही कवर कर ली.

मेरे मूह से चीखें निकालने लगी तो उसने लीप-लॉक करके मेरा मूह बंद कर दिया. फिर वो धक्के पे धक्का मारता गया, और छूट फाड़ कर पूरा लंड अंदर घुसा दिया. मेरी दर्द से जान निकल रही थी.

लंड पूरा घुसा कर वो धीरे-धीरे उसको अंदर-बाहर करने लगा. अब मुझे मज़ा आने लगा. ऐसा मज़ा, जो अब तक की ज़िंदगी में कभी नही आया था. फिर वो स्पीड से मुझे छोड़ने लगा, और मैं भी गांद उठा-उठा कर उससे चूड़ने लगी. उसका लंड मेरी बच्चे-दानी तक पहुँच कर मुझे चरमसुख दे रहा था.

वो साथ-साथ मेरे होंठ और बूब्स भी चूस रहा था. फिर उसने मुझे बाहों में उठा लिया, और हवा में उछाल-उछाल कर छोड़ने लगा. मेरी छूट से खून भी निकल आया था. ऐसा लग रहा था आज मेरी असली सुहग्रात हुई थी.

उस रात सन्नी ने मुझे 5 बार चोदा. इतने वक़्त की प्यास उसने एक ही रात में बुझा दी. अब मैं कभी भी उसको बुला कर अपनी चूत शांत करवा लेती हू.

यह कहानी भी पड़े  विधवा भाभी ने नौकर को किया सिड्यूस


error: Content is protected !!