नेहा आंटी की गांद मारी

हेलो दोस्तो मैं सोनू शर्मा आपका स्वागत करता हू पार्ट 2 मैं. जिसमे मैं आपको ब्ताहुगा की कैसे मैने नेहा आंटी की गांद मारी. उससे पहले अगर अपने पार्ट 1 नही पढ़ा है तो ज़रूर पढ़ ले.

स्टोरी स्टार्ट करने से पहले मुझे कुछ बताना है आप लोगो को. ये स्टोरी या आने वाली जितनी भी मेरी स्टोरी होगी कोई भी काल्पनिक नही होगी, सब स्टोरी रियल होगी.

अब ज़्यादा देर ना करते हुए अब स्टोरी पे आता हू.

पार्ट 1 मे पढ़ा ही होगा अपने की कैसे मैने नेहा आंटी को छोड़ा.

तो हम सेक्स करके तक चुके थे और हुमारी नींद लग चुकी थी. उठने के बाद हम दोनो कंटिन्यू किस किए जेया रहे थे. (मुझे वेट किस करना बहोट पसंद है, ख़ास कर बड़ी औरतो के साथ) और नेहा आंटी मेरा लंड शेला रही थी.

कुछ मिनिट बाद मेरा लंड खड़ा हो गया. फिर नेहा आंटी उसको मूह मे ले रही थी और काफ़ी अकचे से चूस रही थी. मुझे काफ़ी मज़ा आ रहा था. इतने में आंटी का फोन रिंग हुआ तो वो मुझे इशारा करते हुए चुप रहने को बोली. कॉल पे बात करते टाइम नेहा आंटी का मूह उतार गया था.

मे (जब कॉल कट हुआ) – क्या हुआ?

नेहा आंटी – अर्रे यरर मेरा पति 5 मीं मे घर पर आ रहा है और वो बता रहे थे की 2 घंटे बाद गॅव से कुछ रिश्तेदार आ रहे है. इसलिए अभी तू चले जेया मुझे बहोट काम है अभी.

मे – ठीक है आंटी, लेकिन अभी मेरा लंड खड़ा है उसका क्या?

नेहा आंटी – अगर टाइम होता तो अभी मे इसको शांत करती लेकिन मेरा पति आ रहा है प्लीज़ तू चले जेया. मैं खुद मेसेज कर दूँगी कब आना है तेरे को.

मे – कोई बात नही आंटी समझ सकता हू. (मैं मॅन मे उसके पति को काफ़ी गलिया दे रहा है. सला बीच मे तपाक गया एक रौंद होने के बाद आता.)

उसके बाद मैं भी अपने घर पे आ गया. बिस्तर पे लेता हुआ था और नेहा आंटी के बारे मे ही सोचते सोचते मुझे नींद लग गयी. 5 बजे मेरी नींद खुली फिर मैं अपनी पढ़ाई करने लग गया. 7:30 पे नेहा आंटी का मेसेज आता है.

नेहा आंटी – जल्दी से च्चत पे आजा.

मे- ओक आता हू.

मैं च्चत पर पहुँचा तो अंधेरा था काफ़ी. एकदम से साइड से आंटी ने मुझे अपनी तरफ किक्चा. मे तोड़ा सा दर्र गया था फिर जब उनको देखा-

मे- अर्रे आंटी मे तो दर ही गया था..

नेहा आंटी- चुप कर!

नेहा आंटी ने एकदम से अपने लिप्स मेरा लिप्स पे लगा दिए और मैं भी उनका पूरा साथ दे रहा था. कभी आंटी मेरी जीभ को सक करती कभी मे उनकी जीब को सक करता. उनके बूब्स भी प्रेस करता अप्पर अप्पर से और छूट भी मसलता. साथ साथ मैं दर भी लग रहा था की कोई देखा ना ले. इसलिए हम दोनो पूरे चोकनने थे किस करते टाइम.

नेहा आंटी- अभी मुझे जाना होगा 3-4 दिन हम नही मिल पाएँगे. क्यूकी रिश्तेदार को देल्ही घूमना है और पति ने भी ऑफीस से छुट्टी ले रखी है. इसलिए तू कॉल या मेसेज मुझे मत करना मे खुद करूँगी.

मे- ओक.

उसके बाद रोज़ हम एक दूसरे को डेक्ते थे लेकिन बात नही हो पाती. मैं भी फिर अपने काम मैं लग गया था. 6 दिन गुजर गये थे, रात को 10:20 को नेहा आंटी का मेसेज आता है.

नेहा आंटी- हेलो! कल शुभा 4:30 बजे मेरा घर आ जाना. उनकी मॉर्निंग मैं ड्यूटी है तो घर पर कोई न्ही होगा.

मे- ठीक है डार्लिंग.

कल सुबा टाइम पे मैं घर के बाहर निकाला और नेहा आंटी को मिस कॉल मारा. उन्होने अपना गाते तोड़ा सा खोल के रखा हुआ था. मैं अक दम से उनके घर के अंदर घुस गया और गाते को लॉक किया. जैसे ही मैं पीछे मुड़ा तो नेहा आंटी मेरा सामने थी, क्या लग रही थी!

आंटी ने ट्रडीशनल ड्रेस पहनी थी (नेहा आंटी ओरइससा की है). मैं उन्होने देखा तो डाइरेक्ट अपनी और किचा के लीप किस चालू कर दी. आंटी भी पूरा साथ दे रही थी मेरा, 15 मीं तक किस की हुँने.

मे- क्या बात है आंटी आज तो आप सेक्सी लग रही हो काफ़ी, वैसे सारे का नाम क्या?

नेहा आंटी- हुमारे ओररिसा मैं इसको काटकी सारी बोलते है! आज मेरा मॅन किया की इसको तेरे लिए पहनु.

मे- बहोट सुंदर लग रही हो आप इसमे, आपको छोड़ने मैं मज़ा आएगा काफ़ी.

नेहा आंटी- तो रोक कों रहा है शुरू होज़ा.

आंटी मेरा पास आई और किस करते करते है मेरा कपड़े उतरने लगी. मैं भी उनकी सारी निकालने लगा. उसके बाद मई उसके पूरी बॉडी को लीक करने लगा. बॉडी का कोई ऐसा हिस्सा नही होगा जहा पे मैने उसको चूमा ना हो.

बॉडी पे किस करते करते मैं उनकी छूट के पास आया. छूट से अलग ही खुसबू आ रही थी जो मुझे मदहोश कर रही थी. जल्दी से मैने उनकी पनटी निकली और पागलो की तरहा उनकी छूट चाटने लगा. 10 मीं तक उनकी छूट छाती जिसमे वो अक बार डिसचार्ज हो गयी थी.

मैं भी नंगा हो गया और उनको मेरा लंड दिया. वो अक भूके शेरनी की तरहा मेरा लंड चूस रही थी. मैं साथ मे उनकी छूट मे उंगली कर रहा था ज़ोर ज़ोर से.

लेकिन मेरा आज एरदा उनकी गांद मरने का था. (वो क्या है ना रात मैं मैने गांद मरने वाली वीडियो देखी थी इसलिए आज मेरा मॅन था की उनकी गांद को हलला करू).

मे- आंटी मुझे आपकी गांद मारनी है.

नेहा आंटी- चूतिया हो गया है क्या भेंचोड़ मैने कभी अपनी गांद मे लंड नही लिया है.

मे- तो आज लेलो. आराम से करूगा मज़ा भी आएगा आपको प्लीज़ म्ना मत करना मेरा बहोट मान हो रहा है ( वैसे आंटी ने काफ़ी नाटक किए थे इन थे एंड वो मान गयी गांद मरवाने को).

नेहा आंटी- पक्का आराम से करेगा ना क्यू की मेरा फर्स्ट टाइम है.

मे- हा आंटी मुझे टा है आराम से ही करूगा. तेल की बॉटल किधर है?

उन्होने बोलो तेरा साइड मैं टेबल है उसके नीचे रखी हुए है मैने तेल लिया और अपने लंड पे लगाया उनकी गांद पे भी लगाया. आंटी को डॉगी पोज़िशन मैं किया उनकी गांद पे मेरा सेट किया और लंड को गांद पे रगड़ने लगा. उसके बाद मैने जताका मारा टोपा अंदर चला गया था नेहा थोड़ी ज़ोर से चिल्ला ही.

नेहा आंटी- हाअ हाअ मार गयी अर्रे मदरचोड़ लंड निकल अपना बहोट जाड़ा दर्द हो रहा है.

मैं कॉन्सा लंड निकालने वाला था वैसे ही 3 मीं तक रुका आंटी भी थोड़ी से रिलॅक्स हो गयी थी फिर मैने और तेल लगाया आराम से अक और जताका मारा मेरा पूरा लंड अंदर चला गया था लेकिन आंटी की हालत करब हो गयी थी मुझे गलिया दे रही थी.

कुछ मिनिट वैसे ही रुका और उनके बूब्स प्रेस कर रहा था साथ मैं छूट भी शैला रहा था और मैं आराम आराम से लंड आयेज पिच कर रहा था. जैसे ही उनका दर्द कम हुआ तो मैने भी अपनी आराम आराम से स्पीड ब्डा दी और ज़ोर ज़ोर से शॉट मरने ल्गा उनकी गांद मे आंटी भी काफ़ी एंजाय कर र्है थी.

30 मीं तक उनकी गांद मारी और माल अंदर ही निकल दिया मैने लेकिन आंटी की हालत करब हो गयी थी. उन्होने बोला मेरा पेट और गांद मैं काफ़ी दर्द हो रहा है. मैने उसको किस करने शुरू किया काफ़ी देर तक हुँने किस किया उतने मैं मेरा लंड फिरसे खड़ा हो गया.

फिरसे मैने उनकी छूट च्चटना स्टार्ट किया च्चते च्चते वो अक फिरसे डिसचार्ज हुए सारा पानी पे गया मैं. उसके बाद मिशनरी पोज़िशन मैं आंटी की खूब छूट मारी और साथ मे किस भी किया (जो की मुझे सबसे जाड़ा पसंद है). आंटी भी काफ़ी मज़े ले रही थी मेरा लंड का उसके बाद मैने सारा माल अंदर ही निकल दिया.

मे- कैसा लगा आंटी आपको आज?

नेहा आंटी- तूने तो आज गांद मार कर मेरी कुछ ज़्यादा ही हालत करब कर दी. काफ़ी देर हो रहा है अभी भी लेकिन मज़ा आया.

मे- कोई बात नही आंटी पेनकिलर ले लेना सब ठीक हो जाएगा. अभी मैं भी जाता हू आप अपना द्‍यान रखना.

नेहा आंटी- ठीक है

हुँने तोड़ा सा और किस किया और मैं घर पर . अपने. लेकिन दोस्तो आंटी की गांद मारी उसके बाद आंटी सही से चल ही नही पा रही थी, उनको दर्द हो रहा था.

नेक्स्ट स्टोरी मे आपको ब्ताहुगा कैसे मुझे ऑनलाइन एक कपल मिला और आयेज क्या क्या हुआ.

तो यही थी दोस्तो स्टोरी जिसमे मैने नेहा आंटी की गांद मारी. . आप अपना फीडबॅक ज़रूर दे क्यूकी काफ़ी मेहनत लगती है स्टोरी . मे. . फीडबॅक से . मिलता है और कोई ग़लती हो तो वो भी पता लगती है. तो नेक्स्ट टाइम मैं उसका . ज़रूर ..

और हन अगर देल्ही मे किसी गर्ल, आंटी, भाभी को सॅटिस्फॅक्षन चाहिए तो मुझे मैल कर सकती है. मैं . . (पैसा) नही लेता हू. मुझे बस मज़े करने और सामने वालो को मज़े देना से ही मतलब होता है.

यह कहानी भी पड़े  बदलते रिश्ते और भरपूर चुदाई

error: Content is protected !!