नौकरानी को अपने लंड पर बिताया

naukarai ki chudai ki kahani साहिल बेटा उठो लक्ष्मी ने आवाज़ दी.

मैं पेट के बल सोया था हाआआन्ं मैने नींद में कहाँ, सुबह सुबह मेरा लंड खड़ा था लक्ष्मी ने चादर खीची मैंने झट से तकिया लिया और अपने लंड पर रख दिया वो हासणे लगी.

क्यू हसी तुम कुछ नही उसने कहा मैं नहाने चला गया मेरा लॉडा तना हुआ था मैने अभी तक चुत नही चोदि थी मेरे दोस्तों मे से कुछ अपनी काम वाली बाई को चोदा था जो कमसिन कम उमर की थी पर लक्ष्मी मेरे मा की उमर की थी मुझे बचपन मे नहलाया था.

आदिल घर पे आया और बेड पर बैठ गया लक्ष्मी ने हिं दोनो को चाय और बिस्कट दी और चली गयी आदिल उसे जाते उसकी गॅंड देखने लगा, वो मेरा कॉलेज का फ्रेंड था, क्या देख रहा है, मस्त गॅंड है.

साले तेरी कमसिन कंवली नही है लक्ष्मी है तेरी मा की उमर की है, पर माल है यार, कमसे कम कॉंडम नही लगा ना होगा, कुत्ता है तू, अब पचपन की है पेट से नही होगी और मेरी चाची साठ की है उसको चोदा तो यह क्या है, चाची को?

हान ईयर चाचा बहोत पहले गुजर गये थे एक रात बस रात को चढ़ गया चाची तो मेरी दीवानी हो गयी, यह भी विधवा है ट्राइ कर लंड की भूकि है, तेरे अब्बा भी तो कुछ साल पहले गुजर गये, अब मेरी मा को चोदेन्गा आदिल ने कहाँ, क्यू तेरी चाची भी तो किसीकि मा है, हान पर आजकल मेरे मा के कज़िन बहोत आ है मुझे पता है वो अम्मी को चोद रहे है.

हम दोनो का लंड खड़ा था मैने लक्ष्मी को आवाज़ दी, घर पर कोई नही है क्या, हान बेटा अम्मी बाहर गयी है और अब्बू दुकान पर लक्ष्मी ने कप उठाते हुए कहाँ, लक्ष्मी आदिल के पैर मे दर्द है ज़रा तुम तेल लगा के मालीश कर दो, हान बेटा क्यूँ नही, यहाँ नहीं दूसरे कमरे मे आदिल ने कहा और वो लक्ष्मी के साथ अम्मी अब्बू के बेडरूम चला गया.

यह कहानी भी पड़े  दोस्त की बहन को चुदाई करके रखैल बनाया

लक्ष्मी ने तेल की बॉटल निकाली आदिल ने अपनी पैंट खोलनी शुरू की, पैंट निकालने की ज़रूरत नही आदिल बेटा मैं ऐसेही मालीश कर दूँगी, नही लक्ष्मी चाची पैंट खराब हो जाएगी और तुमने तो मुझे और साहिल को नहलाया है तुमसे क्या शरम, आदिल ने पैंट उतार दी अब वो सिर्फ़ अंडरवेर और टी शर्ट मे था.

आदिल मेरी उमर का था पाँच फीट लंबे बाल स्लिम बॉडी हल्के मसल्स और रंग काला पर स्मार्ट था, लक्ष्मी आदिल के पैर पर तेल लगाने लगी नही चाची वहाँ नही यहाँ उसने लक्ष्मी का हाथ पकड़ा और अपनी थाइस पर रख दिया, चाची धीरे धीरे तेल मसलने लगी आदिल का काला लंड अंडरवेर मे से तन कर खड़ा हो गया.

लक्ष्मी अंजान बन मालीश कर रही थी, चाची सॉरी तुम्हे बुरा तो नही लग रहा मैं इस तरह लेटा हू, नही बेटा बुरा क्यूँ लगेगा, नही चाची बचपन की बात और थी पर अब मैं जवान हो गया हू उस वक़्त तो बुल्ली थी पर अब कोई भी हात लगाता है तो यह बड़ा हो जाता है, नही मैं समझ सकती हू कोई बात नही तुमलोग अभी भी मेरे लिए बच्चे हो.

चाची थोड़ा और उपर उसके बाजू मैं आदिल ने अपने लंड की और इशारा किया, और इसी बहाने उपना अंडरवेर थोड़ा सरका दिया उसका एक गोटा बाहर आ गया और थोड़ी झाते नज़र आने लगी, लेटे लेटे अब वो धीरे धीरे आअह्ह्ह्ह आआह्ह्ह करने लगा और लक्ष्मी के चूचे देखने लगा फिर एक हाथ से उसका पल्लू सरका दिया लक्ष्मी के बड़े बड़े बूब्स ब्लाउस मे से दीख रहे थे.

यह कहानी भी पड़े  रेंट पे रहने वाली भाभी की चुदाई

आदिल यह क्या कर रहे हो, जो करना चाहिए तुमने इतनी बार हमे नंगा देखा मुझे भी कुछ देखने दो, तुम पागल हो लक्ष्मी ने पल्लू फिर से रख दिया आदिल ने फिर से सरका दिया.

चाची तुम जब हमे नहलाती तो तुम्हारा हाथ हमारे बुल्ली पर लगता प्लीज़ आज भी लगा दो ना, नही लक्ष्मी उठी और जाने लगी सामने टॉवेल लपेटे खड़ा था साहिल बेटा तुम.

हन मैने देखा तुम आदिल की बुल्ली पकड़ रही थी, नही बेटा वो खुद गंदी हरकत कर रहा था उसे समझाओ मैं उसकी मा की उमर की हू, पर नही कहते हुए आदिल जो अब नंगा हो चुका था लक्ष्मी को पीछे से जाकड़ लिया और किस करने लगा.

मैने अपना टॉवेल निकाल दिया और अपना खड़ा हुआ लंड लक्ष्मी के हाथ मे पकड़ा दिया और यह बुल्ली नही लॉडा है, हम दोनो आगे पीछे से लक्ष्मी को रगड़ रहे थे, छोड़ दो क्या कर रहे आआह्ह्ह्ह्ह नही शरम करो नाअह्ह्ह्जीइ बेटा जाने दो, आज बेटों के लंड को शांत कर दो चाची आदिल लक्ष्मी की साड़ी उतारने लगा और मैने उसका ब्लाउस खोल दिया.

अब आदिल नीचे बैठकर चुत चूम रहा था और मैं लक्ष्मी के बूब्स काट रहा था, मैं आआश्ह्ह्ह तुम्हारे अम्मी अब्बू से कह दूंगिइइई आअह्ह्ह्ह कोई बात नही चाची कह देना पर आज हम तुमको बिना चोदे नही रह सकते, प्लेअस्स्स्से बेटा आअह्ह्ह्ह्ह्ह मत करो ऐसा मुझे आआह्ह्ह्ह ऊह्ह्ह्ह्ह्ह्ह जाने दो, चाची कितने साल से तुमने लंड नही लिया हम तुम्हारी प्यास भुजाएँगे.

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ:

Pages: 1 2