नाना ने अपने मोटे लंड से चोदकर मेरे यौवन को खिला दिया

हाय फ्रेंड्स, आप लोगो को में स्वागत है। मैं रोज ही इसकी सेक्सी स्टोरीज पढ़ती हूँ और आनन्द लेती हूँ। आप लोगो को भी यहाँ की सेक्सी और रसीली स्टोरीज पढने को बोलूंगी। मेरा नाम रंगोली दूबे है। आज फर्स्ट टाइम आप लोगो को अपनी कामुक स्टोरी सुना रही हूँ। अगर मेरे से कोई गलती हो तो माफ़ कर देना। मैं दिल्ली की रहने वाली हूँ और बहोत जवान और सेक्सी लड़की हूँ। मेरे घर में पापा, मम्मी, भैया, नाना और नानी है। मेरी मम्मी अब मायके में ही रहती हूँ क्यूंकि मेरे पापा की नौकरी जब छूट गयी तो पापा मेरी नानी के घर ही आ गये और अपनी जनरल स्टोर की दूकान खोल दी। अब हम सब लोग मेरे नाना नानी के पास ही रहते है।

फ्रेंड्स मेरे नाना, नानी बहोत अच्छे है। वो मम्मी, पापा और हम सब बच्चो को बहोत प्यार करते है और रूपये पैसे से हमेशा ही मदद करते है। पर आज मैं आपको बोर नही करूंगी। मैं आपको राज की बात बताने जा रही हूँ। मैं अभी 20 साल की फूल जैसी दिखती हूँ और देखने में काफी सेक्सी और हॉट लगती हूँ। अपने सहेली के बॉयफ्रेंड्स से मैं कई बार चुदवा चुकी हूँ। अब तो मेरे को रोज ही चूत में लंड लेता अच्छा लगता है। अब मेरे को पूरी तरह से चुदाई की लत लग गयी है। रोज ही सेक्स करने का दिल करता है। मेरे नाना का नाम मोहन लाल है। वो रिटायर हो चुके है। अब 63 साल के हो चुके है पर आज भी जवान दीखते है।

वो अपनी सेहत का शुरू से बहोत ध्यान रखते है। यही वजह है की आज भी वो जवान मर्द दीखते है। कुछ दिनों पहले की बात है मैं सुबह सुबह नाना के कमरे में सफाई करने गयी थी। वो बेड पर सो रहे थे और खर्राटे भी भर रहे थे। पर अब सुबह हो चुकी थी और नाना को जगाना था। मेरी नानी जग चुकी थी और बाथरूम में नहाने चली गयी थी। आज उनको नाना के साथ मंदिर जाना था। मेरे को नाना को जगाना था।
मैं: नाना जी!! उठो!! जल्दी उठो। नानी के साथ आपको मन्दिर जाना है
मैंने बोला पर वो नींद में थे और मुझे पकड़ लिया और अपने से चिपका लिया। मैंने सलवार कमीज पहना था। नाना ने मुझे सीने से चिपका लिया और गालो पर पप्पी देने लगे। मेरे को किस करने लगे। वो मेरे को नानी समझ रहे थे।

यह कहानी भी पड़े  आयशा खान से सच्चा प्यार और चुदाई 3

नाना: आओ मनोरमा (मेरी नानी का नाम) मुझे प्यार करो। कल रात मैंने तुमसे कितना बोला पर तुमने मेरे को अपनी चूत नही दी
वो बोले और नींद में मुझे नानी समझ लिया। मेरे को अपने पास खींच लिया और मेरे दोनों दूध दबाने लगे। नाना की चूत चुदाई वाली बाते सुनकर मैं हैरान रह गयी। इसका मतलब था की 63 साल की उम्र में भी नाना मेरी नानी की चूत मारते है। कुछ देर तक वो अपनी आँखे बंद करके मेरे लब चूसते रहे। फिर उनकी आँखे अचानक खुल गयी। उन्होंने मेरे को देखा तो फौरन छोड़ दिया। मेरे को देखकर वो झेंप गये थे
नाना: अरे रंगोली बेटी!! तुम यहाँ क्या कर रही हो???
मैं: मैं तो आपको जगाने आई थी पर आप तो
नाना: बेटी! मैं समझा की तुम्हारी नानी है

मैं: कोई बात नही नाना जी!! बुड्ढो के भी अरमान होते है। आपने मेरे साथ जो किया मैं किसी को नही बोलूंगी
उसके बाद मैं चली आई। कुछ दिन तक मेरे को नाना के द्वारा की गयी शरारत याद आती रही। किस तरह से उन्होंने मेरे को पकड़ लिया था और लबो पर किस कर दिया था। किस तरह से वो काफी देर तक मेरे साथ किसिंग करते रहे और मेरे संतरे दबाते रहे। अब तो कुछ दिन बाद मेरा भी नाना से चुदने का दिल करने लगा। दूसरे दिन मैं रात के वक्त उनके कमरे में गयी। क्यूंकि नाना को कार्टून चेनल देखने का बड़ा शौक था।

मैं: नाना जी!! क्या मैं भी आपके साथ कार्टून शो देखू??
नाना: अरे बेटी !! इसमें पूछना क्या है। तुम्हारा अपना घर है, आओ देखो!
उसक बाद मैं नाना के साथ रजाई में बैठकर कार्टून देखने लगी। मेरो को पूरा भरोसा था की नाना कुछ शरारत जरुर करेंगे। फिर ऐसा ही हुआ। नाना जी काफी सेक्सी मर्द थे। रजाई के अंदर से उन्होंने अपना हाथ मेरी पैर की तरफ बढ़ा दिया और जांघो को सहलाने लगे। आज मैंने हाफ स्लीव वाली टी शर्ट और लाल रंग की लैगी पहनी थी। धीरे धीरे नाना ने अपना हाथ मेरी लैगी में डाल दिया और पेंटी तक पहुच गये और चूत को घिसने लगे। मैं “..अहहह्ह्ह्हह स्सीईईईइ..अअअअअ..आहा .हा हा हा” करने लगी। कुछ ही देर में मैं भी सेक्सी फील करने लगी। नाना तो जैसे पहले से मूड बनाये रखे थे। मैंने भी नही रोका उनको क्यूंकि मेरे को अच्छा लग रहा था। नाना भी मजा लेते रहे और फिर रजाई के अंदर ही अंदर पेंटी में अपना हाथ घुसा दिया और अब चूत में जल्दी जल्दी ऊँगली करने लगी। 5 मिनट में मैं पागल होने लगी।

यह कहानी भी पड़े  फेसबुक फ्रेंड की दोस्ती और चुदाई

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!