मम्मी को गैर मर्दो ने चोदा

हेलो आज मई आप सबको अपने लाइफ की एक साची घटना के उपर है, इस घंटा ने मेरे लाइफ मे एक अजीब सा तुर्न लेके आया है जो मैने कभी भी नही सोचा था. ये स्टोरी मेरी मम्मी जिनका नाम रश्मि है उनके उपर है.

इस स्टोरी को बताते हुए मुझे शर्मिंदगी हो रही है लेकिन ये एक मेरे लाइफ की सचाई है, जो मई आप सबको बताना चाहता हू.

मेरे फॅमिली मे 3 लोग है मई मेरी मम्मी और मेरे पापा, मेरे पापा दुबई मे काम करते है और यहा बहुत कम आते है हार्ड्ली सा मे एक बार या 2 साल मे. सचाई ये है की उन्हे बहुत काम मतलब है हम लोगो से करछा के लिए भी बहुत कूम पैसे बेझते है.

मई और मेरी मम्मी एक घर मे रेंट लेके रहते है ओर चुकी घर का खर्चा चलाने मे दिक्कत होती थी इसी लिए मेरी मम्मी ने एक काम पकड़ लिया था. काम बहुत बड़ा नही था लेकिन कुछ पैसे आ जाते थे उससे.

मेरी मम्मी देखने मे बहुत ही सनडर है उनकी आगे 42 साल की है अभी. लेकिन देखने मे वो 36-37 साल की लगती है आंड जायदातर वो सारी और सलवार सूट ही पहेनटी है. उनका फिगर बहुत अछा है जिसके वजह से जब भी वो टाइट ब्लाउस या टिएघत सलवार सूट पहेनटी है. मोहल्ले के अंकल लोग उनके दीवाने बन जाते है और घूर घूर के मेरी मम्मी के क्लेआवेगा और मटकेते हुए चुतदो को देखते है.

कई इन्सिडेंट्स ऐसे भी हुए जब मई मेरी मम्मी के साथ बाहर मार्केट मे जाता था. तो देखता था की अंकल लोग घूर घूर के मेरी मम्मी के गरम शरीर को देख रहे है. उनलोगो को देख के ऐसा लग रहा था की वो लोग अभी मेरी मम्मी की सारी उठा देंगे यही पे.

नेबर मे लगबघ सबको मालूम था की मेरे पापा यहा नही रहते है. और इस बात का फयडा उठना चाहते थे वो लोग. हर ट्राइ करते थे की मेरी मम्मी से बस दोस्ती हो जाए ताकि उनके झंगो को खोल सके.

आप सब का ज़यादा समय ना लेते हुए मई आप सबको अपनी स्टोरी की तरफ ले चलता हू. स्टोरी आज से 2 साल पहले की है. मई जहा क्रिकेट खेलता था वाहा बहुत से लड़के और क्रिकेट खेलते थे. चुकी मई अछा खेलता था तो मुझसे लड़को की अची दोस्ती थी. क्यूकी मुझे अपनी टीम मे सब रखना चाहते थे.

उन लड़को मे 2 लड़के जिनका नाम विकी और सन्नी है दोनो बहुत ही बिगड़े हुए और मारपीट करने वालो मे से थे. उसका कारण ये था की दोनो के पापा पोलिटिकल पार्टी से कनेक्टेड थे.

विकी और सन्नी की आगे 30 के आस पास होगी. मुझे ज़यादा उमर होने के बबजूद मुझसे दोनो की अची दोस्ती हो गयी थी. क्यूकी मई अछा खेलता था और विकी हुमेशा मुझे अपनी टीम मे रखना चाहता था ताकि वो मॅच जीत सके.

मेरी दोस्ती दोनो से इतनी अची हो गयी थी की मॅच जिट्नी के बाद कई बार विकी और सन्नी ने मुझे बियर पिलाने साथ मे ले जाते थे. और एक बार मुझे विकी ने एक रेडमी का मोबाइल भी गिफ्ट मे दिया. ये बात मेरी मम्मी को बहुत नही अची लगी. क्यूकी मम्मी इनकम उतनी नही थी मुस्किल से घर चल पता था.

सब आचे से चल रा था एक सनडे के सुबह मई और मेरी मम्मी मंदिर के सीढ़ियो से नीचे उतार रहे थे. तभी अचानक सामने से विकी ने ने मुझे आवाज़ लगाई. विकी को अचानक से ऐसे देख मई भी सोक्केड हो गया. मैने मेरी मम्मी से कहा मम्मी ये विकी है हम लोग साथ मे क्रिकेट खेलते है.

विकी ने मेरी मम्मी को देखा और नमस्ते किया. मम्मी ने मुस्कुराते हुए उसके नमस्ते का जवाब दिया. मैने नोटीस किया की विकी बड़े अजीब नज़र से मेरी मम्मी को देख रहा था.

मैने गौर से देखा मेरी मम्मी का ब्लाउस तोड़ा ट्रॅन्स्परेंट जैसा था. और उनकी ब्लाउस से उनकी ब्रा झलक रही थी और क्लीवेज साफ साफ दिखाई दे रहा था. विकी को ऐसे देखते हुए मम्मी ने भी नोटीस कर लिया था. इसीलिए उन्होने सारी के पल्लू को नीचे करते हुए अपने स्थूण को छुपा लिया.

विकी जैसे मेरी मम्मी के क्लीवेज को देख रहा था. मुझे लग रहा था जैसे वो यही मेरी मम्मी की ब्लाउस फाड़ के निकल देगा. मुझे तोड़ा अजीब लगा लेकिन मैने इस बात को नॉर्मली लिया और बात करने लगा.

कुछ देर मे मई और मेरी मम्मी वाहा से निकल गये अपने घर के लिए. रास्ते मे मेरी मम्मी ने मुझसे पूछा की लड़का कौन है मैने बताया की हुमलोग क्रिकेट खेलते है साथ मे. मम्मी ने मुझसे कहा की ये तो बहुत बड़ा है तुझसे फिर दोस्त कैसे हुई देखने से ही बदमस लगता है.

मई जनता था की मम्मी सच ही कह रही है लेकिन मई कर क्या सकता था. मुझे भी नही मालूम था की अचानक आज विकी मिल जाएगा.

2 दिन हो चुके थे इस घंटा को हुए. विकी मुझे अपने साथ एक पार्टी मे लेके गया विकी ड्रिंक करते हुए मुझसे बाते कर रहा था.विकी ने बात करते हुए पूछा तेरी मम्मी कैसी है.

मैने उसके रिप्लाइ मे नॉर्मली कहा की वो अची है. उसके बाद उसने मुझसे मेरे पापा के बारे मे पूछा की वो कहा रहते है. मैने उसे बताया की वो यहा नही रहते है.

एक दिन कुछ ऐसा हुआ जिसका मुझे बिलीव नही हुआ. सुबह के 9:30 बाज रहे होंगे मेरी मम्मी नहा रही थी, उन्हे कम पे जाना था. उसी टाइम विकी घर पे अचानक से आ गया मैने उसे बैठा दिया ओर हम दोनो बाते करने लगे. मैने नोटीस किया की विकी लगातार इधर उंधर देख रहा था और शायद मई ये समझ रहा था की वो मम्मी को ढूंड रहा है.

मुझे लगा की विकी 5-10 मीं बैठ के चला जाएगा लेकिन ऐसा हुआ नही वो बैठा ही हुआ था. अचानक मेरी मम्मी ने बातरूम का गाते खोल दिया ओर बाहर आ गयी. मेरी मम्मी ने सिर्फ़ पेटीकोआट पहें रखा था और पेटिकोट का नडा बूब्स पे बाँध के रखा था. मतलब मेरी मम्मी की नंगी झाग झलक के दिख रही थी.

विकी घूर घूर के मेरी मम्मी के बदन को देखने लगा. मेरी मम्मी की नज़र अचानक से विकी पे पड़ी और वो पीछे घूम के रूम मे जाने लगी. विकी ने अपनी निगाहे बस मम्मी के बदन पे टीका ली थी. मम्मी झटक के आंदेर की तरफ जेया रही औट उनका चूतड़ मटक रहा था विकी ने आचे से इस नज़ारे को देख के अपने आँखो को सेका.

विकी जैसे हवस से मेरी मम्मी के मटकती हुए चुतदो को देख रहा था ऐसा लग रहा था. जैसे वो अभी मेरी मम्मी के पेटीकोआट को उठा देगा.

आयेज जो होने वाला था उसके बारे मे मई कभी सोच भी नही सकता था. मेरी मम्मी ने रूम का गाते चिपका तो दिया था लेकिन वो पूरी तरीके से बंद नही हुआ. जिस जगह मेरी मम्मी खड़ी थी वो जगह मुझे और मेरे दोस्त को साफ साफ दिखने लगी.

मम्मी ने बेड पे पड़ी अपनी काली कक़ची को हाथ मे लिया और नीचे झुक के टॅंगो मे दल लिया. इस वक़्त मेरी मम्मी का पेटीकोआट तोड़ा सा उपर उठ गया. ओर विकी ने वो देख लिया जिससे देखने के लिए कई कई मर्द बेचैन थे.

आज मेरे दोस्त को मम्मी की फुददी का नज़ारा दिखा, मेरी मम्मी के फुददी पे झांट के बाल थे. मेरी मम्मी कच्ची को चाड़ते हुए उपर ले गयी. ओर मम्मी का पेटीकोआट अब और उपर हो चुका था. इस समय मेरे दोस्त को मेरी मम्मी की नंगी चूतड़ ओर फुददी आचे से दिख गयी.

मई विकी के तरफ देख रहा था, उसके आँखो मे एक हवस की लहर दौड़ रही थी. ऐसा लग रहा था अभी वो आंदेर जाके मेरी मम्मी को नंगा कर देगा.

अचानक विकी की नज़र मुझपे पड़ी ओर उसने उस तरफ देखना बंद कर दिया .उसने कहा की वो जेया रहा है अब. कुछ देर मे मेरी मम्मी भी तैयार होके बाहर आई. उन्होने मुझसे पूछा ये यहा क्यू आया था? मैने कहा ऐसे ही मिलने आया था.

मम्मी ने मुझसे कहा दूर रहा करो ऐसे लड़को से. मई मेरी मम्मी की बात चुप होके सुन रहा था. मम्मी ने नास्टा किया और वो निकल गयी.

मेरे दिमाग़ मे अब वो सीन चलने लगा जब मेरे दोस्त की आँखो ने मेरी मम्मी के उस हिस्से को देख लिया था. जिसे मम्मी सबसे छुपा के रखती है.

उसी दिन शाम को मई विकी के रूम मे किसी काम से मिलने गया. जब मई वाहा पहुचा तो देखा की सन्नी की बिके नीचे खड़ी है.

मई विकी के घर के गाते पे पहुचा मुझे विकी और सन्नी के बात करने की आवाज़ आ रही थी. और मुझे बतो से ऐसा लगा जैसे ये कॉन्वर्सेशन मेरे से रिलेटेड है.

विकी सन्नी को बता रहा था उसके कोवेर्स्टाईओं मे नीचे लिख रहा हू.

विकी: भाई लकी की मम्मी को देखा है?

सन्नी: नही क्यू?

विकी: ओफफफ्फ़ गजब की है.

सन्नी: तूने कहा देखा है?

विकी: एक दिन बाहर देखा था ओर आज मई उसके घर गया था.

सन्नी: पिक दिखा ना.

विकी: पिक नही है भाई लेकिन बहुत मस्त है, आज मुझे उसकी मम्मी की फुददी दिखी है.

सन्नी: बकवास झुत बोल रहा है तू.

विकी: मा कसम यार आज मेरा किस्मत बोल या कुछ सोचा नही था ऐसा होगा लेकिन दिखा है.

सन्नी: लेकिन ये हुआ कैसे यार?

विकी: भाई कक़ची पहें रही थी मई बाहर ही बैठा था ऑफ क्या नज़ारा था.

सन्नी: भाई सुनके खड़ा हो गया है मेरा तो.

विकी: तेरा सुन के खड़ा हो गया मई 2 बार मूठ मार चुका हू उसकी मम्मी को याद करके.

उसकी बर पे बाल थे मज़ा आ गया मान कर रहा था उनके घुँगेरएले झांतो को हटा के उनकी लाल फुददी देखु. उसने ये तक कह दिया की उसकी फुददी देख के लगता है बहुत दिन से बर मे लंड नही गया है.

सन्नी: तू ये कैसे कह सकता है?

विकी: मैने लकी से एक बार पूछा था उसने बताया की उसके पापा कहीं बाहर रहते है ओर कसम से कसी हुई फुददी थी उसकी मम्मी की.

सन्नी:तुझे लगता है चुड़कर होगी?

विकी: भाई ये नही पता लेकिन कसम से काहु छूट बहुत गरम होगा उसका कसम से भाई पहली बार ही जब देखा तन मान कर रहा था उसकी सारी उठा डू रोड पे ही.

साली का गांद बहुत शेप मे है मटक मटक के चलती है.

मुझे ये बाते सुन के आक आना लग रहा था मई वाहा से रिटर्न अपने घर आ गया. इस बात को हुए लगबघ 1 वीक हुए थे एक दिन अचानक विकी मेरे घर पे आ गया मम्मी बाहर थी उस टाइम.

हम दोनो बैठ के बाते कर रहे थे मई देख रहा था विकी बार बार एक जगह देख रहा है. कुछ देर ऐसा हुआ मुझे अजीब लगा मैने हल्के आँखो से देखा तो शॉक्ड हो गया. उसकी नज़र बातरूम मे थी जहा पेर मेरी मम्मी की फ्लवर प्रिंटेड कच्ची लटकी हुई थी.

विकी कुछ देर बैठने के बाद चला गया लेकिन उसके बाद वो फिरसे नेक्स्ट दे मेरे घर आया. उसने आते ही मुझसे कहा की लकी जाके कोल्ड्रींक लाना पीते है. मई उससे कहा ठीक है चल लेके आते है. लेकिन उसने मुझसे कहा की तू जाके लेके आ मई बैठ ता हू तक गया हू.

कुछ देर मे जैसे मई कोल्ड्रींक लेके आया मई सीधा घर मे घुस गया. मेरा दोस्त हॉल मे नही था मई जैसे आयेज बढ़ा मेरे पाओ के नीचे से ज़मीन खिसक गयी. मैने देखा वो बातरूम मे खड़ा है उसके हाथ मे मेरी मम्मी की कच्ची थी. जो शायद मेरी मम्मी ने अभी धोके तंगी थी.

विकी आँखे बंद करके मेरी मम्मी की कच्ची को सूंघ रहा था. ओर नीचे हाथ से अपने लंड को जीन्स के उपर से छू रहा था. मई शांत होके वही खड़ा था. अचानक से मैने देखा उसने मेरी मम्मी की कच्ची को अपने जीव से छत लिया. फिर 1-2 मीं मे कक़ची को वापस से तंग क एवो बातरूम से निकल के बाहर आ गया.

विकी का मेरे घर अब आना जाना बढ़ चुका था किसी ना किस बहाने से वो मेरी मम्मी की कक़ची को सूंघटा था. यही नही विकी और सन्नी मेरी मम्मी के बारे मे एक दूसरे से ज़यादा बाते करने लगे थे शायद.

दोनो अक्सर मेरी मम्मी के बारे मे पूछते थे, कैसी है आंटी जी या कुछ छाईए तो बताना शरमाना मत हुंसे. विकी ने मुझसे ये तक कहा की आंटी जी को फोन छाईए मई दिलौ.. मैने तुरंत उसे माना कर दिया.

एक दिन मुझसे विकी ने कहा की कल मेरा बर्तडे है उसने एक जगह का मुझे बताया जहा सेलेब्रेशन रखी है. उसने मुझसे कहा की ज़यादा लोगो को नही बुलाया है आंटी को भी लेके आ जाना तू.

मैने उससे कहा मम्मी को क्यू बुलाना है? विकी ने रिप्लाइ मे कहा की तू अकेला आएगा आंटी को भी लेना आना साथ मे ,वैसे भी अकेले ही रहेगी ना. दोनो बहुत ज़िद करने लगे तो मैने घर पे जाके मम्मी से कहा. मम्मी ने साफ माना कर दिया लेकिन मेरे बहुत कहने पे मम्मी ने कहा ठीक है.

शाम को मम्मी जब घर आई तो वो रेडी हो गयी. मेरी मम्मी ने ब्लॅक रंग की सारी और ब्लाउस पहना बहुत ही सनडर लग रही थी वो. विकी के बताए हुए जगह पे मई और मेरी मम्मी पहुच गये वाहा सन्नी और विकी पहले से थे.

विकी ने ऑटो से उतरते हुए देखा तो आगे आके रिसीव किया जब हम लोग अंदर गये. तो बहुत खाली था वो जगह सन्नी आंदेर ही था वो आया. फिर मैने मम्मी से सन्नी को इंट्रोड्यूस कराया. सन्नी ने पहली बार मम्मी को देखा था वो भी मम्मी को देख के उसी तरह शॉक्ड हो गया जैसे की विकी हुआ था.

मम्मी ने पहले विकी को बर्तडे विश किया इस दौरान वो आयेज बढ़ा. और उसने मेरी मम्मी को गले लगा के बोला थॅंक योउ आंटी जी. मेरी मम्मी को अछा नही लगा ये. लेकिन उसका बर्तडे था तो मम्मी ने रिक्ट नही किया.

गले लगते वक़्त जो विकी ने जो महसूस किया जो सॉफ उसके चेहरे से दिख रहा था. आज उसने पहली बार मेरी मम्मी के शरीर को छुआ था और उसकी गर्मी का अहसास किया था.

यह कहानी भी पड़े  आंटी के सोने के बाद उनके जिस्म के मज़े लिए

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!