मम्मी के साथ पापा से मैंने भी बुर फड़वाई

दोस्तों मैं आपकी प्यारी रण्डी नेहा हूं। आज मैं आप सब के सामने अपनी और अपनी मां की खुली बुर की कहानी लेकर हाजिर हूं। उम्मीद करती हूं, कि आपको मेरी और मेरी मम्मी की चिकनी बुर बहुत पसंद आयेगी।

जैसा कि आप जानते है कि मैं अपने परिवार में चुदवाना बहुत पसंद करती हूं।और मेरी बुर तो मेरे भाई ने ना जाने कितनी बार खोली है। पर आज आप जानेंगे की मेरे पापा भी मेरी बुर फाड़ने में पीछे नहीं हटते और धक्कापेल चोदते हैं।

तो दोस्तों आइए चलते है जहा मेरी और मेरी मम्मी को चिकनी बुर के चीथड़े-चीथड़े हो रहे है, और बुर त्राहिमाम-त्राहिमाम कर रही है। पर मेरे पापा कहा छोड़ने वाले है।

मेरे पापा बहुत सालों बाद घर आए थे, इसलिए मम्मी की भी बुर पापा का लौड़ा लेने के लिए तड़प रही थी। वैसे भी मेरी मम्मी की बुर रोज चुदती है मेरे भाई के मोटे लौड़े से।

पर अब मैं और मम्मी भी भाई का लौड़ा लेते-लेते थक गए थे।‌ अब मुझे और मम्मी को कोई दूसरा लौड़ा चाहिए था। पापा भी घर आ गए थे, तो इससे अच्छा मौका क्या हो सकता था? मम्मी तो रात को पापा के पास गई और सो गई।

पर मैं तो भाई के पास ही सो गई।

मैंने भाई से कहा: भाई मैं आपका लौड़ा लेते-लेते थक गई हूं। अब मुझे नया लौड़ा चाहिए।

भाई ने कहा: पापा का लेले जान।

मैंने कहा: पर कैसे होगा यार?

भाई ने कहा: तू मम्मी से कह। वह तुम्हें जरूर चुदवाएगी पापा के लौड़े से।

मैंने अगले दिन मम्मी से कहा: क्या हुआ मम्मी? पापा ने चोदा तुम्हें रात को?

मम्मी ने कहा: नहीं नेहा, वो तो थके हुए थे, इसलिए सो गए। पर मैंने तेरे पापा का लौड़ा अपने मुंह में लिया था, जब वह सो रहे थे।

मैंने कहा: मम्मी मुझे भी पापा के खंभे से अपनी बुर फड़वानी है। मुझे भी चुदवाओ। मम्मी ने कहा: ठीक है, मैं पूछती हूं।

रात को फिर मम्मी ने पूछा पापा से: जी आपकी बेटी भी आपसे चुदना चाहती है, चोदोगे उसे?

पापा ने कहा: वह अब काफी बड़ी हो चुकी है। अब उसकी शादी करवा देनी चाहिए।

मम्मी ने कहा: उसकी शादी तो हो चुकी है उसके भाई के साथ।

पापा ने सोचा भाई के साथ। तब पूछे: भाई के साथ कैसे?

मम्मी ने कहा: हां यार, वह अपने भाई से रोज चुदती है। अभी भी वह अपने भाई से फड़वा रही होगी।

फिर पापा ने कहा: ठीक है, कल रात को लाना। मैं भी उसकी बुर तो जरा देखूं कितनी फट गई है।

अगली रात को मैं पापा के बेडरूम में गई, और पापा ने कहा: नेहा बेटा अपनी बुर दिखाओ।

मैंने कहा: पापा आप भी अपना 9 इंच का लौड़ा दिखाइए।

पापा ने तुरंत अपना लौड़ा निकाला और मेरे मुंह में डाल दिया।

फिर कहा: साली कितना चुदेगी बता आज। तेरा पेट मैं अपने बीज से ही भर देता हूं।

मैंने भी कहा’ हां पापा चोदिए मुझे, और आज इस चूत का भोंसड़ा बना दीजिए।

फिर पापा ने अपना 9 इंच का ताजा गरमा-गरम लौड़ा मेरी बुर पर सेट करके जोरदार धक्का मारा, और वह लौड़ा मेरी बुर को चीरते हुए सीधे मेरी बच्चेदानी छूने लगा।

फिर पापा ने लगभग मेरी बुर तीस मिनट तक खूब चोदी। और बाद के सारा माल अपनी ही सग्गी बेटी की बुर में डाल दिया, जिससे मैं प्रेगनेंट हो गई।

उसके बाद पापा ने मुझे इतना चोदा, इतना चोदा, इतना चोदा, कि मैं पस्त हो गई। फिर मम्मी को भी पापा ने खूब चोदा।

वो मेरे ही सामने उनकी बुर में अपना लौड़ा डालते-डालते कहे: साली कहां चुदती थी, जो भोसड़ा बना रखा है अपनी चिकनी बुर का?

उसके बाद लगभग मम्मी को भी पापा ने बीस मिनट तक जम कर चोदा। अंत में सारा माल पापा ने मेरी ही बुर में झाड़ दिया। सुबह जब मैंने अपनी बुर मम्मी को दिखाई, तो मम्मी ने कहा-

मम्मी: तेरे पापा की चूदाई तो मस्त है।

फिर मैं और मम्मी दोनों किचन में ही नंगे होकर एक-दूसरे की बुर चूसने लगे, और उस बुर पर तेल की मालिश करने लगे।क्यूंकि मेरी और मम्मी की बुर पापा के हथियार से दुख रही थी।

मम्मी ने मेरी बुर की मालिश करते हुए कहा: बेटा हम आज के बाद अपनी बुर चुदवाने का पैसा भी लेंगे। आखिर वो सब इतना बड़ा-बड़ा लौड़ा हमारी बुर में घुसा देते है। हमको तो बहुत दर्द होता है ।

फिर मैंने कहा: मम्मी क्यों ना एक अपनी बुर चुदाने का भी धंधा खोला जाए? जिसमें हमारी अच्छी इनकम भी हो सकती है, और बहुत से मर्दों के साथ बुर फड़वाने का मजा भी आयेगा।

मम्मी ने कहा: ठीक है, पर ये सब के लिए तो तेरे पापा ही काफी हैं।

वो तो सबकी बुर फाड़ने में माहिर है। तुझे पता है तेरे पापा शादी के बाद मुझे कितनी बार चोदते थे? दिन में दो बार, और रात को तो पूरी रात ही। मेरी बुर में कभी अपना 9 इंच का लौड़ा, कभी मूली-गाजर और कभी-कभी तो अपने दोस्तों को भी बुला कर लाते और मेरा पेट भर देते थे।

मेरी बुर को जब मैंने भाई से दिखाई तो भाई ने कहा-

भाई: साली इतनी मस्त बुर फटी है तेरी। पापा ने फाड़ी है?

मैंने कहा: हां यार, पापा का लौड़ा तो खंभा है। और वो खंभा जिसकी बुर में घुस जाता है, उसकी तो हालत खराब हो जाती है।

तुझे पता है जब पापा मेरी बुर पर अपना लौड़ा रखे थे, तो मेरी बुर ऐसी सिकुड़ रही थी। फिर पापा ने पूछा ये क्या हो रहा है। तो मैंने कहा था पापा को आपको देख के डर रही है जरा धीरे-धीरे फाड़ना मेरी बुर तो पापा ने कहा था ठीक है।

दोस्तों चाहे जो भी हो, अगर वह अपनी मां या बहन को नंगी देख ले तो वह उन्हें चोद कर ही दम लेता है। और वहीं पापा ने मेरे साथ भी ऐसा ही किया।

दोस्तों अपनी मां या बहन की बुर चूसने और उसमे खंभा डालने का मजा ही अलग होता है, और मेरे भैया और पापा ने मिल कर मेरी मस्त बुर चूसी ।

आज मेरी बुर इतनी सस्ती हो गई‌ है,‌कि कोई चोदने को तैयार ही नहीं है । क्या आप मेरी बुर का भोसड़ा बनाना चाहते है? और उसका रस चूसना चाहते है? दोस्तों भले ही मेरी बुर को ना जाने कितनों ने चोदा है। पर आज भी उसका स्वाद वैसा ही है।

आप भी मुझे चोद सकते है अगर आपको चोदना हो तो। मेरी बुर अगर आप एक बार देखेंगे तो आपको भी जरूर चोदने का मन करेगा। भले ही मैंने आज तक ना जाने अनगिनत लौड़े चूसे है।

दोस्तों मैं आज तक लगभग 40 लौड़ों से चुद चुकी हूं। इसलिए मेरी बुर आज एक दम भोंसड़ा हो चुकी है ।

मैं आपको दिखाऊंगी कि मेरी बुर अभी कैसी दिखती है। अभी मेरी शादी हो चुकी है, पर फिर भी मैं आपसे सेक्स चैट जरूर करूंगी और आपको वो सब कुछ दिखाऊंगी जो आपको मेरे जिस्म में से देखना है। अपनी बुर, बूब्स, अपनी नंगी जांघ और बहुत कुछ।

अगर आपको भी मुझसे सेक्स चैट करना हो तो कमेंट और मेल जरूर करें।

मेरी मेल आईडी है-

यह कहानी भी पड़े  लड़की की अंकल से पहली चुदाई की सेक्सी कहानी


error: Content is protected !!