मम्मी का रंडीपन और अंकल के मज़े

मम्मी – आआहह उूुुुुउउम्म्म्मम उूुउऊहह रफ़ीक…

अंकल फिर से खड़ा हो गया और मम्मी के बॅलो को कासके पकड़ लिया. जिससे मम्मी का मूह घोड़ी की तरह उपर होने लगा. रफ़ीक मम्मी के बॅलो को एक हाथ की मुति मे पकड़ लिया और बॅलो को खींचता हुआ. दूसरे हाथ से गांद पर तपद मारता हुआ अपने लंड को गप्पगाप मम्मी की गांद मे डाले जेया रहा था.

मम्मी – आआआआआहह आआहह आ आआअहहुउूऊहफफफफफफ्फ़ रफिककक…

अंकल तो पागल ही हो गया था. उनका बिहेव जालिमो की तरह हो गया था. अंकल जालिम की तरह मम्मी की गांद मार रहा था.

अंकल – आआआहह मदारचोड़ रंडी उउउहह बहुत मज़ा आ रहा है तुझे ठोकने मे!

मम्मी – ऊऊऊऊऊहह रफिककककक मदारचोड़ कुछ तो रहम कर मेरे पर आअहह जान ले लेगा क्या मेरी…

अंकल – आआआआहह मई तो तेरी जान इसी तारा लेना चाहता हूँ हर डिन्न्णणन्.. और हासणे लगा.

मम्मी भी आअनह करती हुई हंस रही थी.

अंकल सच मे गड्राई घोड़ी की सवारी कर रहा था. कमरे मे फ़ुऊूचह गगग्गपप्प गप्प्प की आवाज़ आने लगी थी. अंकल एक हाथ से बॅलो को खींच रहा था और दूसरे हाथ से मम्मी के एक कंधे को पकड़ लिय्ाआअ और गप्पगाप गांद मारने लगा.

अंकल – आअहह मेरी रंडी उर्मिला उूुुउउँह साली तुझे कब से छोड़ना चाह रहा था आआहह आज मोका मिला है..

मम्मी – आअहह ओउुुउऊहचह ऊऊओह मदारचोड़ जालिम रफ़ीक फिर इतने साल क्यूँ इंतजार करवाया उूुुुउउँह…

दोनो हंसते हुए एक दूसरे को जलील कर गलिया दे रहे थे. मेरा लंड तो पहले ही सीन मे फुश हो गया था और मई बस देख ही रहा था.

फिर अंकल मम्मी के दोनो कंधो को पकड़ लिया और जबारजस्ट लंबे लंबे शॉर्ट मारने लगा.

मम्मी – आआअहह अओउुुुउउइईइमह…

मम्मी को बहुत दर्द हो रहा था. मेरी समझ मे ये नही आ रहा था की दोनो करीब आधे घंटे से इसी पोज़िशन मे सेक्स कर रहे है. लेकिन दोनो थकने का नाम ही नही ले रहे.

अंकल मे तो गजब का स्टॅमिना है लेकिन मम्मी मे भी कुछ कम नही थी. मम्मी मे भी बहुत स्टॅमिना है ये आज मुझे पता चल गया. मम्मी आधे घंटे से घोड़ी बनी है और उनको दर्द भी हो रहा है फिर भी वो अंकल का साथ दे रही है.

वाहह एम्म्म बहुत खूब साथ निभा रही हो अपने यार का… अंकल गांद से पूरा लंड निकलता और गप्पक से अंदर डाल देता. मम्मी को पसीना पसीना हो गया था.

मम्मी – आआहह उूुुुुउउम्म्म्मम रफिककककककक बस करो मई तक चुकी हुन्न्ञनननणणन्..

अंकल- बस थोड़ी देर और मेरी जान.

वो लंबे लंबे शॉर्ट मारने लगा फिर थोड़ी देर बाद रुक गया और अपना लंड मम्मी की गांद से निकल लिया. उहफफ्फ़ बप्रे मम्मी की गांद मे बड़ा छेड़ दिखने लगा.

अंकल का लंड तो और भी जाड़ा ताक़त वार हो रहा था. मम्मी मूह के बाल पलंग पर गिर गयी और ज़ोर ज़ोर से हफने लगी. अंकल भी मम्मी की बगल मे लेट गया और लंबी साँसे लेने लेगा.

अंकल – (हसन्ता हुआ) मज़ा आया?

मम्मी – ( स्माइल करती हुई) क्या खाते हो आप जो इतनी ताक़त भर चुकी है आपके अंदर.

मम्मी अपनी गांद पर हाथ रख गांद की छेड़ को चेक करने लगी. फिर करहती हुई सीधी लेट गयी और ज़ोर ज़ोर से साँसे लेने लगी. अंकल मम्मी को धीरे धीरे किस करने लगा.

थोड़ी देर मे मम्मी नॉर्मल हुई. अंकल मम्मी को अपने लंड पर बिता लिया. और लंड मम्मी की छूट मे सेट करने लगा और लंड छूट मे डाल दिया. मम्मी अपनी गांद अंकल के लंड पर रखी थी.

मम्मी – उुउऊहह…

अंकल मम्मी के बूब्स को दबाने लगा और अपनी कमर उपर नीचे कर लंड छूट मे डालने लगा. मम्मी अपनी गांद को उपर नीचे कर लंड अपनी छूट मे लेने लगी और अंकल चुपचाप लेता हुआ था.

थोड़ी देर अंकल मम्मी को अपने नीचे किया और मम्मी की गांद के नीचे तकिया लगा दिया. और फिर मम्मी की टॅंगो को पूरा उपर की तरफ कर टॅंगो को उनके कंधो तक मोड़ दिया. जिससे मम्मी की छूट के साथ साथ गांद भी खुल गयी.

मम्मी – ऊऊऊऊऊहह

और फिर लंड छूट पर सेट कर एक धक्का मारकर लंड छूट मे दल दिए. मम्मी दर्द के मारे अपनी गांद उछाल कर चीलाई.

मम्मी – आआआआअ आआआहह

लेकिन अंकल मम्मी की टॅंगो को मजबूती से पकड़ रखा था. इसीलिए मम्मी हिल नही सकती. अब रफ़ीक अंकल मम्मी को जबारजस्ट शॉट मारकर छोड़ने लगा.

मम्मी – आआआहह उ उउउहमम्म्म ऊऊऊहह करने लगी.

रफ़ीक अंकल पूरे जोश मे लग रहा था. और गप्पगाप मम्मी को छोड़ने लगा.

तभी मुझे नीचे से किसी के आने की आहत हुई तो मई दर गया. और चुपके से नीचे की तरफ देखने लगा.

ज़ोया दीदी का हज़्बेंड चोरी चुपके उपर की तरफ आ रहा था. मुझे दर लगने लगा की जीजू उपर की तरफ क्यूँ आ रहे है. मई जल्दी से चुप गया.

फिर ज़ोया का हज़्बेंड धीरे धीरे उपर आया और पहले मेरा कमरा चेक किए. फिर बाद वेल कमरा चेक करना लगा जिसमे अंकल मम्मी को छोड़ रहे थे. मुझे समझ नही आया की ज़ोया का हज़्बेंड क्या करने आया है.

ज़ोया का हज़्बेंड धीरे से दरवाजे की कड़ी को नीचे करने की कोसिस किया और ये किया दरवाजा खुल भी गया. ज़ोया का हज़्बेंड तोड़ा डोर खोल अंदर देखने लगा. मतलब अंदर से दरवाजा बंद नही था.

मुझे दर लगने लगा की अब क्या होगा अंदर मम्मी और अंकल दोनो नंगे…

मैने देखा ज़ोया का हज़्बेंड अंदर का नज़ारा देख खुश हो गया और मॅन ही मॅन हासणे लगा. और ये क्या वो तो अपने फोन से वीडियो बनाने लगा. बप्रे अब क्या होगा!

ज़ोया का हज़्बेंड कही मम्मी को ब्लॅकमेल तो नही करना चाहता. ये वीडियो क्यूँ बना रहा है ये मुझे कुछ समझ नही आया.

ज़ोया का हज़्बेंड भी अपना लंड निकल मूठ मरने लगा. करीब 15 मिंट तक ज़ोया का हज़्बेंड मम्मी और अंकल का वीडियो बनाया और फिर नीचे जाने लगा.

उनके जाने के बाद मई फिरे से अंदर कमरे मे देखने लगा. अंकल अब भी मम्मी को उससी पोज़िशन मे छोड़ रहा था. दर्द के मारे मम्मी का बुरा हाल हो चुका था.

और ज़ोया का हज़्बेंड वीडियो बनाकर ले गया है. कही मम्मी के लिए नयी मूषिबट तो नही खड़ी होने वाली.

मम्मी और अंकल दोनो जोश मे चुदाई कर रहे थे उनको ज़रा भी नही पता था की कोई उनकी वीडियो बनाकर ले गया है. मम्मी पर चेहरे पर पसीना दिखने लगा. बॉल भी भिखरे हुए थे. अंकल लंबे तगड़े तगड़े शॉट मार रहा था. हर शॉट मे मम्मी की आआहह निकल रही थी.

अंकल तो दरिंदे की तरह चुदाई कर रहा था. मुझे ये समझ नही आ रहा था की मम्मी कैसे इतना दर्द सहन कर रही है.

अंकल – आअहह मेरी रांड़ उर्मिला उउउहह…

मम्मी – आआअहह उूुउउँह रफ़ीक…

अंकल को भी पसीना हो गया था. और फिर रुक गया और एक ज़ोर धक्का मारा.

मम्मी – आआआहह उूुुुउउँह…

अंकल फिर एक धक्का मारा.

मम्मी – आआआआअ आआआहह…

फिर जल्दी से अपना लंड निकाला और लंड का कॉंडम निकल मम्मी के बूब्स पर बेत आआहह करते हुए मूठ मरने लगा.अंकल का लंड मम्मी के मूह के पास था. इसका मतलब अंकल अपनी पिचकारी आज मम्मी के मूह पर मारना चाहता है. तभी अंकल के लंड से चिपचिला पानी मम्मी के चेहरे पर आकर गिरने लगा.

अंकल – आआहह…

मम्मी अपना मूह बिगड़ती हुई अपनी आँखे बंद कर ली. अंकल के लंड के पानी से मम्मी का फेस गंदा हो गया.

अंकल अपने लंड की एक एक बूँद मम्मी के फेस पर गिरा रहा था. वाइट स्पर्म से मम्मी का फेस गंदा हो गया. अंकल मम्मी के होंठो पर लंड का टोपा घुमा दिया और फिर मम्मी की बगल मे सो गया.

मम्मी रंडी की तरह पड़ी थी और हाँफती हुई साँसे ले रही थी और कपड़े से अपने फेस को सॉफ करने लगी. फिर छूट मे कपड़ा डालकर छूट को भी सॉफ करने लगी.

मम्मी – ( हँसती हुई) आज तो आप हालत ही खराब कर दिए.

मम्मी अंकल के लंड को सॉफ की और उनका कॉंडम उठाकर बातरूम चली गयी.

मई भी अपने कमरे मे जाकर सो गया. मई बस यही सोच रहा था की ज़ोया का हज़्बेंड क्या करने वाला है.

दूसरे दिन सनडे था इसीलिए ज़ोया दीदी और उनके हज़्बेंड घर पर ही थे. सुबह काफ़ी देर तक मम्मी और अंकल सोए हुए थे. ज़ोया दीदी 2 बार उठाने चली गयी.

उसके बाद मम्मी नीचे आने लगी. मम्मी ठीक से नीचे भी नही उतार पा रही थी क्यूँ की रात मे उनकी जबारजस्ट चुदाई जो हुई थी. उनकी हालत देख कोई भी बोल सकता है की उनकी रात मे तबीयत किसने खराब की. ज़ोया का हज़्बेंड मम्मी को बहुत गंदी नज़ारो देखने लगा.

मम्मी उनको इश्स तरह घूरते हुए देख मम्मी थोड़ी दर गयी.

ज़ोया का हज़्बेंड – लगता है ससुर जी आपको पूरी रात सोने नही दिए.

उनके बोलने से मम्मी उनको देखने लगी और फिर हल्की सी स्माइल की. ज़ोया का हज़्बेंड भी मम्मी को कातिल नज़ारो से देख स्माइल किया.

तो दोस्तो ये थी मेरी सेक्स कहानी. मेरी कहानी आप पढ़िए और अपने लंड की मूठ मरते हुए एंजाय कीजिए. इसके आयेज की कहानी भी है जो की आपको कहानी के लास्ट मे पता चल ही जाएगा.

कहानी पढ़ने के बाद मुझे कॉमेंट्स जारू करना ताकि मुझे भी पता चले की मेरे रीडर्स मेरी कहानी से कितने एंजाय कर रहे है. आप अपने कॉमेंट्स मुझे मैल भी कर सकते है इश्स ईद पर

यह कहानी भी पड़े  ब्फ और डेलिवरी ने एक सस्ती रंडी बना दिया

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!