मों के सेक्सी सरप्राइज़स ने बेटे का लंड खड़ा किया

यदि आप डाइरेक्ट ये स्टोरी पढ़ रहे है हो तो पहले के 2 पार्ट जररूर पढ़ ले ताकि आपको अपने लंड हिलने और छूट मे उंगली करने मे ज़्यादा ही मज़ा आए.

ऑल ऑफ मी डियर फ्रेंड’स अपना लंड ओर छूट को सम्हल लो मेरी कोशिश रहेगी की मेरे ओर मेरे मों की हरकतों से आपका लंड और छूट का पानी निकल जाए.

आपने लास्ट पार्ट मे पढ़ा की – कैसे मेरी मों मेरे लिए झुक कर अपना बूब्स दिखा कर मुझे पागल बना रही थी और अब आयेज…

जल्दी से मैं अपने रूम मे गया. फ्रेश होकर चेंज कर लिया. फिर किचन की और चला गया. मों किचन मे नही थी. तो मैने आवाज़ लगाया तो मों अपने रूम से बाहर आ गयी.

मों ने सारी और ब्लाउस पहना हुआ था. ब्लू सारी और ब्लू ब्लाउस जो उनके पीठ(बॅक अप्पर शोल्डर) को मॅग्ज़िमम एक्सपोज़ कर रहा था.

सारी एकद्ूम सेक्सी सी पहनी हुई थी आंड ब्लाउस भी लो नेक था. स्लीव्ले आछा ख़ासा शो हो रहा था. मों बॉम्ब लग रही थी बुत मैं नीरस हो गया की बूब्स के उपर मों का पल्लू था तो क्लियर व्यू नही आ रहा था. मुझसे रहा नही गया तो लास्ट्ली मैने मों को कॉमेंट किया.

मैं: मों आप एकदम सेक्सी दिख रही हो, पूरी हॉट लग रही हो!

मों: (स्माइल करते हुए) तांकष बुत तुम्हे देख के नही लग रहा है की तुम्हे पसंद आया?

मैं: नही मों ऐसा नही है. सच मे तुम सेक्सी लग रही हो बुत आपके सारी का पल्लू मुझे डिस्टर्ब कर रहे है ना.

मों को पता चल गया था की मई नाराज़ हो गया हूँ.

(तो मों हेस्ट हुए)

मों: नॉटी बॉय. सबर करो सबर का फल मीठा होता है. चलो खाना टेबल पे लाने मे मदात करो मेरी.

हमने खाना टेबल पे रख लिया. मों मेरे आयेज वेल चेर पे बैठ गई तो मों ने मुझे सब्जी आंड एक रोटी सर्व की.

मों: चलो चालू करो.

मैं: हन मों. बुत खाने मे मज़ा नही आएगा.

तो मों ने अपना पल्लू तोड़ा सा साइड कर दिया.

मों: अब?

मैं: हन. अब तोड़ा मान लग रहा है.

मों: रूको मई पानी लेकर आती हूँ और एक नॉटी स्माइल देते हुए पानी लेने चली गयी. और अंदर से आवाज़ आई.

“आराव तुमने कितनी छपती ली है?”

मैं: मों एक ही तो अपने दी.

थोड़ी देर बाद मों पानी लेके बाहर आई तो मैने देखा की मों ने अपना पल्लू पूरा कमर पे ही सेट कर दिया और गौर देखने मे साँझ आ गया की उनके ब्लाउस का एक बोट्तों खुला हुआ था. तो मैं समाज गया की मों छपती के बारे मे क्यू पूछ रही थी?

या हो सकता है मों ने जानबूझकर एक खुला छोड़ दिया होगा पर क्या दिख रहे थे उनके बूब्स!

और ये नज़ारा देखते ही मेरा लंड मेरे पैंट के आंदार खड़ा होगया.

मों: अब ठीक है?

मैं: योउ अरे ग्रेट मों. तुम्हे पता है खाना कैसे खिलते है.

मों: तू तो मेरा बेटा है. तुझे नही खिलौंगी तो किससे खिलौंगी.

मैं: मों आपके बूब्स बहुत ही मस्त है (मैने डाइरेक्ट कॉमेंट कर दिया).

मों: (नीचे देखते हुए. हल्की आवाज़ मे बोली) तांख्षकश.

मैने कन्फर्म करने के लिए झट से रोटी ख़तम करके दूसरी देने को मों को कहा.

मों रोटी देनी झुक गयी. मों के बड़े-बड़े बूब्स दिख रहे थे. अब मैं वेट कर रहा था की मों बटन खोलेगी या नही?

थोड़ी देर हो गयी बुत मों ने नही खोला. मेरी पूरी नज़र मों के बूब्स पे थी बुत वो बटन नही खोल रही थी तभी.

मेरा फोन पे म्स्ग का नोटिफिकेशन आया तो देखने केलिए मैने फोन उठा लिया. ऑफीस का म्स्ग था तो मैने फोन रख दिया.

फिर जब मों की तरफ देखा तो मों की ब्लाउस का दूसरा बटन भी कूला हुआ था. मुझे समझ गया की मैं देख रहा था इसीलिए वो नही खोल रही थी. अब मुझे पता चला की मों ने इश्स लिए चेंज किया और सारी ब्लाउस पहें के आ गयी.

मैं: थॅंक योउ मों.

मों: किस लिए?

मैं: आप सारी पहें के आई.

मों: सब्र का फल मीठा होता है.

तो मैने मों के आँखो मे आँख दल कर स्माइल की और अपने लीप से जीभ फेर जैसे की मैं उन्हे खाना चाहता हूँ तो मों ने भी नॉटी स्माइल दे दी. मों के ब्लाउस मे 4 बटन्स थे. और 2 खुल चुके थे.

मों की बूब्स उनके ब्लाउस के दो बटन खुलने के बाद मों की बूब्स बाहर आने को बेताब था और मेरा लंड का हाल बहुत बुरा था बस दिल कर रहा था की अपने मों का बूब्स को पकड़ लू ओर उशे खूब मसलने लागू यही सब मेरे दिमाग़ मे चल रहा था और मैं अपना लंड बार बार अपने पैंट मे अड्जस्ट कर रहा था.

इतने देर मे. मों मुझसे बोली…

मों: लगता है पेट भर गया.

मैं: पेट के लिए नही मैं तो मान भरने के लिए खा रहा हूँ और मों को आँख मार दी.

मों: अक्चा

और हम दोनो हासणे लगी.

मैं: आज तो काँसे कम 4 रोटी को खा ही लूँगा.

मों: (इन आ नॉटी वे)अछा है. बच गयी मैं.

मैं: मतलब?

मों: कुछ नही आंड विंक्ड अट मे.

मैने तो सोचा ही नही था मों ने तो आयेज का सब कुछ सोच लिया था. मों पुर प्लॅनिंग के साथ आई थी. मैं सोचने लगा की 4 रोटी खाने के बाद क्या होगा बुत मैने कभी 5 रोटी भी नही खाई थी. तो मैं जल्दी-जल्दी खाने लगा.

मैं: मों जल्दी से और एक रोटी देना.

बोलते ही मैने अपने आँखे बंद कर ली तो मों तोड़ा सा हँसी.

जब मैने ने आँखे खोली तो मई देखता ही रह गया. मों ने ब्लाउस का 3र्ड बटन भी खोल दी थी. अब मों के बूब्स मेरे सामने करीब करीब पूरे ओपन ही थे. मुझे ऐसा फील हो रहा था की मों तोड़ा ज़्यादा हिल्ली तो मों का बूब्स बाहर आजाएगा वैसे भी मों की बूब्स का निपल्स पार्ट ही मेरे से छुपा हुआ है.

मेरे आँखों मे अब बस हवस आगाय थी मेरा एक हंत अपने लंड पे था जो पैंट के उपर से ही अपने लंड को सहलाए जेया रहा था.

ओर सोच रहा था की… बस अब एक ओर रोटी आंड मेरी मों मेरे सामने बूब्स ओपन करके बैठी होगी.

इतने मे मेरी मों बोली…

मों: आराम से खाओ इतनी भी क्या जल्दी है.

मैं: तुम्हे सब पता है. मों.

मों हेस्ट हुए

मैं: जल्दी से और एक रोटी दो.

मों ने रोटी परोस दी और मैने आँखे बंद कर दी. मान मे खुश था की अपनी आँखें खोलूँगा तो मों के बड़े बड़े पूरे ओपन बूब्स देखने मिलेंगे.

कुछ 10-15 सेकेंड्स के बाद मैने आँखें खोल दिया और देखा तो मों के अभी भी 3 ही बटन्स खुले थे. तो तोड़ा शॉक लगा मुझे. मुझे ऐसे डांग देख के मों के फेस पे स्माइल थी

मैं: मों. ये तो चीटिंग है.

मों: बस तुम्हारी आँखें खुलने का ही इंतजार कर रही थी.

मैं: हन अभी आयेज.

मों: कुछ तो कम हुआ है.

फिर मों अपनी एक उंगली अपनी पनटी की तरफ करते हुए मों ने अपनी पनटी निकल दी थी. और टेबल के साइड मे रख दी थी. मैने अपनी मों का पनटी देखते ही डांग रह गया. एकदम शॉक होने लगा उनकी वाइट पनटी देख कर.

अपनी मों की पनटी के बारे मे की बतौन फ्रेंड्स पनटी पूरी सेक्सी टाइप थी जिसे ब्स देख कर लंड से पानी निकल जाए और मेरे पूरे शरीर में खून गर्म हो गया था.

अभी बस मों को पकड़ के उनकी छूट मे अपना लंड दल कर छोड़ लू. पर जो हो रहा था इस्श मे बहुत ही ज़्यादा एंजाय्मेंट आ रहा था सो मैने वैसे ही कंटिन्यू किया.

फिर मैने तोड़ा नौघत्यपन से मों से सवाल पूछा-

मैं: क्या प्रूफ है मों की ये पनटी अभी अपने पहनी हुई थी?

मों: इसके लिए तो तुम और 3-4 रोटी खाओगे तो तुम्हे पता चल जाएगा.

मैं: नही. मुझे अभी के अभी प्रूफ मिलना चाहिए.

मों पूरी अपने ही जाल में फस गयी थी. अभी मों को मुझे अपनी छूट दिखानी ही पड़ेगी. मैं बहुत एग्ज़ाइटेड था. शायद मों का लगा होगा की अब मैं और रोटी नही खा पौँगा. इतने में ही चल जौंगा और ये सच भी था मेरा पेट भर चुका था

शायद मों ऐसा ना करती तो बस बूब्स ही देख के आज मैं बस कर देता. पर मों ने एक कदम आयेज बढ़कर मुझे वो सर्प्राइज़ देने की सोची बुत मैने मों को उन्हके ही जाल मे फासने के वजह से मों को मुझे छूट दिखानी ही पड़ेगी.

मों: अक्चा प्रूफ चाहिए?

ऐसे बोल के मों ने नॉटी सी स्माइल दे दी. मुझे आँख मरते हुए अपनी पनटी मेरी तरफ़ फेंक दी.

मैं: मों. मेरे साथ ऐसे खेलो मत. ये थोड़ी प्रूफ है. मुझे दिखाओ अपने अपनी पनटी निकली कैसे.

मों: इसमे ही प्रूफ है तुम उठा लो तुम्हे समझ जाएगा.

मैने मों की पनटी उठा ली. मुझे कुछ समझ नही आ रहा था.

तो मैने हैरान होते हुए पूछा-

मैं: अब?

मों: अभी भी समझ नही आया? ठीक से चेक कर लो.

मैं: इसमे क्या चेक करना?

मों: (हंसते हुए) लगता है कभी किसी की पनटी…

इतना बोल के मों फिर चुप हो गयी.

मैं: बोलो ना मों.

मों: आयेज वाली साइड…

इतना बोल के मों फिर चुप हो गयी. मुझे इतना तो समझ आगया था की मों क्या कहना चाहती है. तो मैने मों की पनटी को टेबल पे फैला दिया आयेज वाली साइड से और मों की तरफ देखा तो मों टेबल पे हाथ फेर रही थी.

मों का इशारा समझ गया मैं भी धीरे से मों के पनटी के उपर से हाथ घूमना चालू कर दिया पहले तो सब नॉर्मल था. पर बीच में बहुत गीली और थोड़ी चिप छिपी सी थी.

ऑम्ग!! ये तो मों का छूट का पानी था. मेरी धड़कन एकद्ूम से तेज़ हो गयी और मेरा लंड और भी टाइट हो गया सांस एक दम से तेज हो गयी थी. मेरे साथ क्या चल रहा है कुछ समझ नही आ रहा था.

मेरा लंड पागल हो रहा था मों का छूट का पानी को टच करके ब्स मुझे लग रहा था की मों की पनटी को उठा कर सीधा चाटने लागू अब मुझे रहा नही जेया रहा था और

फिर मैं मों की छूट देखने का प्लान बना रहा था. पर मों जीश तरह से मुझे लेके जा रही थी बहुत ही मज़ा आ रहा था. मों की छूट मेरे लंड के लिए रेडी थी.

और हम अब इश् खेल मे इतना आयेज बढ़ चुका थे की चाहे तो मों को मैं वही टेबल पे सुला कर अपनी मों के छूट को अपने टंग से छत सकता था उनकी छूट के अंदर अपने टंग डाल कर छोड़ सकता था और उनकी बूब्स को अपने मूह मे भर कर चूस सकता था ओर अपना लंड से अपनी मों की प्यासी छूट का गरमी निकल सकता था.

बुत क्या करू समझ नही आ रहा था. वही मों को छोड़ डू या जैसे मों चला रही है वैसे इश् लंड को पागल बनाने वाली ग़मे का मज़े लू.

और यही सब सोचते हुए मेरा खुशी वाला फेस तोड़ा सा चेंज हो गया मेरे फेस पे हवस बन कर दिखने लगी थी और मों ने ये सब नोटीस कर ली थी.

तो बे कंटिन्यूड…

ऑल मी डियर फ्रेंड्स नेक्स्ट पार्ट बहुत जल्द ही आएगा. आप पढ़ोगे की कैसे मों अपने बेटे को वो मज़ा देती है जिसे आप भी लेना चाहोगे. तो फ्रेंड्स, कैसा लगा ये मेरी ओर मेरी मों के बीच मे हुए मस्ती भरा खेल.

यदि आप सभी को ये स्टोरी पसंद आ रही हो तो लीके और कॉमेंट्स ज़रूर कीजिएगा.

किसी भी लड़की या औरत को मुझसे छुड़वाने या सेक्स छत करने के लिए कॉंटॅक्ट करे :-

यह कहानी भी पड़े  भाई के साथ नखरे प्यार शादी

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!