मोम के साथ जंगल मे रास्ता भटक गया-2

सॉरी फ्रेंड्स बहोट टाइम लगाया 2न्ड पार्ट पोस्ट करने मे, तोड़ा बिज़ी था… पार्ट 1 यहा पढ़िए.

अब तक आपने पढ़ा की कैसे मे और मों जंगल मे रास्ता भटक गये और जंगल मे रात बितानी पढ़ी अब आयेज…

मों-बेटा तुम इनने नही छू सकते यहा सिर्फ़ तेरे पापा ही हाथ लगा सकते है

मे- पर ऐसा क्यू मों?

मों-वो तुमें शादी के बाद पता चलेगा अभी चुप छाप सो जेया.

फिर हम दोनो सो गये.सुबा होते ही मों ने मुझे जगाया और बोली

मों-बेटा जल्दी चलो टुमरे पापा बोहोट परेशान होंगे.उनको ये भी पता नही होगा की हम किस हालत मे है.

मे-लेकिन मों मुझे वॉटरफॉल देखना है

मों-बेटा समजने की कोशिश करो.टुमरे पापा को हुमारी चिंता सता रही होंगी उन्हे तो ये भी मालूम नही होगा की हम किस हालत मे है.

मे-मों मई वॉटरफॉल देखे बिना घर नही जौंगा तूमे जाना है तो जाओ.

मों-बेटा में तूमे अकेले छोड़ के नही जेया सकती और मुझे रास्ता भी मालूम नही है

मे-फिर चलते है ना वॉटरफॉल के पास

मों- टुमरे पापा बोहोट परेशन होंगे प्लीज़ समजने की कोशिश करो

मे- एक काम करते है यहा आस पास देखते है कही नेटवर्क है तो फिर पापा को कॉल करेंगे.फिर तो कोई परेशानी नही है ना आपको.

मों-लेकिन यहा नेटवर्क मिलेगा ना

मे-ट्राइ करते है.अगर नेटवर्क नही मिला तो फिर हम वापस चलते है घर.

मों- ठीक है

15 मीं भटकने के बाद हूमें एक जगह तोड़ा सा नेटवर्क मिला.मेने जल्दिसे पापा को कॉल किया और सारी बात बताडि फिर पापा बोले कोई बात नही तुम दोनो आराम से घूम के आजओ.

मे- मों अब तो कोई प्राब्लम नही है ना?अब पापा ने भी पर्मिशन दे दी है

मों-लेकिन हम वाहा कैसे जाएँगे ह्यूम तो रास्ता भी मालूम नही कही फिर से भटक गये तो?

मे- आप मेरे पीछे पीछे चलो जो होगा देख लेंगे

फिर 2 घंटे चलने के बाद हम वॉटरफॉल तक पहुच गये.वॉटरफॉल देख के हम दोनो खुशी से ज़ूम उठे.वॉटरफॉल बोहोट ही सनडर था.

मे- मों चलो ना वॉटरफॉल मे नहाते है

मों- लेकिन हुँने और कपड़े नही लाए फिर कैसे नहाएँगे

मे- मों यहा हम दोनो के अलावा कोई नही है.क्या हम कपड़े उतरके…

मों- पागल हो गये हो क्या? बिना कपड़े मे नही नहा सकती तूमे नहाना है तो नहलो

मे- मों प्लीज़ चलो ना

मों- में टुमरे सामने बिना कपड़ो मे नही नहा सकती संजा करो

मे- ठीक है अगर आपको मुझसे शरम आती है तो एक काम करते है मे अपनी आँखो पे पट्टी लगा लूँगा फिर तो कोई प्राब्लम नही है ना

मों- लेकिन मे तुमको भी बिना कपड़े नही देखना चाहती हूँ

मे- मों लेकिन आपने तो मुझे बिना कपड़ो के देखा है ना बचपन मे

मों- लेकिन अब तुम बच्चे नही रहे

मे- ठीक है तुमको नही नहाना है तो चलते है घर और बहाने मत बनाओ

मों- ठीक है नाराज़ मत हो मे नहाने चलती हूँ लेकिन तुम अपनी आँखो की पट्टी मत हटाना.

मे-ठीक है मों

फिर मैने पेड़ के कुछ पत्ते निकले और मों से कहा की पत्तो से मेरी आँखे बंद करो जिससे की में कुछ देख नही साकु

फिर मेने अपने सारे कपड़े निकले और मों के पास दे दिए रकने के लिए.मों ने भी सारे कपड़े निकले और मेरा हाथ पकड़के मुझे वॉटरफॉल के पास लेके जाने लगी.

वॉटरफॉल के पास पहुचते ही उपेर से तेज पानी की धार सीधे आके मेरे चेहरे पे गिर गयी और मेरे आँखो से पत्ते निकल गये.

हड़बड़ाहट मे मेने आँखे खोली और मुझे एक ज़टका सा लगा…मों मेरे सामने बिल्कुल नंगी खड़ी थी.पहली बार मेने किसी औरत को नंगी देखा था.मों को देख के ना चाहते हुवे भी मेरा लंड खड़ा हो गया.

मों ने मेरी तरफ देखते ही अपना शरीर ढकनेकी कोशिश की और वाहा से भाग के पट्तर के पीछे चुप गयी.

मों-(गुस्से से)तूमे कहा था ना आँखे मत खोलो फिर तुमने आँखे क्यू खोली.

मे-मों मैने जान भुज के नही खोली ई आम सॉरी….

मों-मुझे कुछ नही सुनना में जेया रही हूँ कपड़े पहनने तुम नहलो..

मों कपड़े लेने के लिए जैसे ही आयेज बड़ी तो वाहा पे 1 आदमी हमारा बाग हाथ मे पकड़े खड़ा था.मों को नंगी देख के वो हासणे लगा और बोला

आदमी-वाह क्या मस्त माल है यार…आज तो बहुत मज़ा आने वाला है…आजा मेरी रानी…

मों उसको देख के बोहोट दर गयी और मेरी तरफ भाग के आ गयी.मे भी बोहोट दर गया क्यू की वो एक बहुत हटता कटता आदमी था.

मेने मों का हाथ पकड़ा और जंगल के रास्ते भागने लगा

आदमी-आबे साले बिना कपड़े कहा भाग रहे हो (और हुमारा पीछा करने लगा)

हम दो- तीन काइलामीटर नंगे ही भाग गये फिर हम बोहोट तक गये. लेकिन वो आदमी अभी भी हुमारा पीछा कर रहा था…

मों-बेटा में और नही भाग सकती

मे- में भी तक गया हूँ लेकिन हम रुक गये तो वो सांड पता नही क्या करेगा टुमरे साथ.

फिर कुछ देर और भागने के बाद ह्यूम घने ज़दीयो मे एक जगहा मिली छुपने के लिए.

मे- मों यहा चूपते है

मों-लेकिन ये जगह तो बोहोट छोटी है.मुश्किल से एक आदमी जेया पाएगा.

मे-हम दोनो तक गये है और भागने लगे तो वो ह्यूम पकड़ लेगा इससे अक्चा यही चूपते है.तुम नीचे लेट जाओ और मे टुमरे उपेर लेट जौंगा.

मों-लेकिन हुँने कपड़े नही पहने है और ऐसी हालत मे एक दूसरे के उपेर….

मे-मों सोचने का टाइम नही है जल्दी चुप जाओ वो आदमी आता ही होगा.

मों जल्दिसे उन ज़दीयो मे लेट गयी मे भी बिना कुछ सोचे मों के उपेर लेट गया.

कुछ ही देर मे यूयेसेस आदमी का वाहा से दौड़ने का आवाज़ आया.

मों-लगता है वो चला गया ह्यूम अभी जाना चाहिए.

मे-अभी नही मों अगर वो आदमी फिर से लौट के आया तो…ह्यूम कुछ देर और रुकना होगा.

मों- हन शायद तुम ठीक कह रहे हो.

छुपने के समय हम दोनो घबराहट मे तह इश्स लिए कुछ सोच नही पाए लेकिन अब हम दोनो को शर्म आने लगी.

एक मा-बेटा वो भी बिल्कुल नंगे एक दूसरे के उपेर लेते हुवे थे.

मों के नंगे जिस्म पे टच करने के कारण मेरा लंड खड़ा हो गया था और शायद मों को चुभ रहा था लेकिन मों कुछ बोल नही पाई.

कल रात मों के जिस बूब्स को मे टच करना चाहता था आज वोही बूब्स पे मेरा सर था.

मे- मों ई आम सॉरी

मों- क्यू

मे- वो मेरा आपको चब रहा होगा…सॉरी मों मेरे मान मे आपके बारे मे कुछ ग़लत नही है लेकिन.

मों-कोई बात नही बेटा टुमरी उमर मे हो जाता है ऐसा और तुम तो मेरा बेटा है मुझे मालूम है तू मेरे बारे मे कभी ग़लत नही सोच सकता.

मे-मों अब हम इश्स हालत मे घर कैसे जाएँगे

मों- वो बाद मे सोचेंगे पहले इश्स मुसीबत से निपटते है..वो आदमी इतनी आसानी से नही जाएगा.

आयेज क्या हुआ ये नेक्स्ट पार्ट मे…

आपको स्टोरी कैसी लगी मैल करके ज़रूर बताना

यह कहानी भी पड़े  प्यासी चाची को चोद कर प्यास बुझाई

error: Content is protected !!