मॉडेल के साथ रोल-प्ले करके हवस शांत की

मैं एक भीड़ भारी बस में बैठ कर शाम को घर के लिए निकल गया. अंधेरा हो रहा था, और मेरे सामने एक औरत सारी में खड़ी थी. उसकी स्किन गोलडेन-ब्राउन रंग की थी, और उसने लाल रंग की लिपस्टिक लगाई हुई थी. उसके इयररिंग्स छ्होटे साइज़ के थे, लेकिन उसके पर्फ्यूम की खुश्बू जानलेवा थी.

मैं जितना हो सके डिस्टेन्स बना कर रख रहा था. लेकिन ड्राइवर था, की बार-बार ब्रेक लगाए जेया रहा था. उसके ब्रेक लगाने की वजह से मैं बार-बार उससे टकरा रहा था, और ना चाहते हुए भी मेरा लंड उसकी गांद को टच कर रहा था.

जब भी मेरा लंड उसकी गांद को टच होता, तो वो एक अजीब निगाह से मुझसे देखती थी. लेकिन मैं कुछ भी नही कर सकता था. फिर अगले स्टॉप पर काफ़ी और लोग बस में चढ़ गये.

और लोगो के आने की वजह से मुझे और आयेज होना पड़ा. उसने अपना हाथ पीछे किया, और मुझे आयेज होने की जगह दी. अब हम दोनो एक भीड़ भारी बस में फेस तो फेस खड़े थे. मेरी बाजू उसकी कमर पर लग रही थी, और मैं चाहते हुए भी उसको हटा नही पा रहा था. और वो लगातार मुझे अजीब नज़रो से देख रही थी. मैने उससे इसके लिए माफी भी माँगी.

फिर उसने मुझे एक स्माइल पास की. उसकी नज़र में एक अजीब सी कशिश थी. फिर दोबारा से ब्रेक लगी, और मेरा हाथ उसकी कमर पर लग गया. जैसे ही मेरा हाथ उसकी कमर पर गया, तो उसकी आँखें बंद हो गयी.

अब मैं अपने हाथ से उसकी कमर के कोमल माज़ को महसूस कर पा रहा था. फिर उसने एक आहह भारी और फिरसे मुझे देखने लग गयी. वो तो पक्का गरम हो गयी थी.

अब मैं कह सकता था, की मेरा बार-बार उसको टच करना उसको अछा लग रहा था. फिर जब दोबारा से ब्रेक लगी, तो मैने फिरसे उसको टच किया. और इस बार मैने जान-बूझ कर उसको टच किया था. इस्पे उसने अपने होंठ काटे, और मुझे सर हिला कर कुछ इशारा किया.

मैं चौंक गया, और मैने सर हिला कर उससे पूछा की क्या वो शुवर थी. इस बार उसने फिरसे अपना सर हिलाया. हमारे आस-पास जो लोग थे, उनके फेस या तो दूसरी तरफ थे, या वो सब खिड़कियो से बाहर देख रहे थे. एक भी बंदा ऐसा नही था, जो हमारी तरफ देख रहा हो. फिर मैने अपना हाथ बढ़ाया, और उसकी कमर को पकड़ लिया.

मैने उसको कमर को ज़ोर से मसला, और उसकी आ भारी साँस को महसूस किया. मुझे ध्यान नही था, की उसका एक हाथ नीचे मेरी टाँग पर टीका हुआ था. फिर जब मैने उसकी कमर को मसला, तो वो अपने हाथ को उपर की तरफ ले-जाने लग गयी.

उसके बाद जब बस मूडी, तो मैं उसके उपर लेट गया, और उस वक़्त उसकी गरम साँस मुझे मेरी गर्दन पर महसूस हुई. फिर मैं अपना हाथ उसकी कमर से उपर ले गया, और अब मैं उसके ब्लाउस को चू रहा था. उसने फिरसे आ भारी, और मुझे देखने लग गयी.

उसने अपनी आँखें मेरी आँखों से मिलाई, मेरे लंड पर अपना हाथ डाला, और उसको हल्के-हल्के से सहलाना शुरू कर दिया. बस फिरसे मूडी, और इस बार मैने उसकी गर्दन को चूम लिया.

उसने फिरसे अपना होंठ काटा. अब वो मेरे लंड को दबा रही थी, और मैं उसके बूब्स को दबा रहा था. हम दोनो एक-दूसरे की आँखों में देख रहे थे, और हम दोनो को ही ये परवाह नही थी, की कोई देख सकता था. वो बड़े ही सही ढंग से मेरा लंड दबा रही थी, और उसकी तेज़ साँसे बड़ी मीठी थी.

बस ने फिरसे ब्रेक मारी, और मैं फिरसे उस पर लेट गया. इस बार उसने मेरे कान के पास आके मोन किया. इससे पहले मैं पीछे होता, मैने उसके होंठो को चूम लिया, और फिर रिलॅक्स होके पीछे हो गया. वो लगातार मेरे लंड को मसालती रही. वो इतना अछा कर रही थी, की मैं पंत में ही झाड़ गया.

मैने चैन की साँस ली, और उसने अपना होंठ काटा. फिर मैने भीड़ में उसके बूब्स दबाए, और वो भी मज़ा लेने लगी. उसके बाद मैं उसकी नाभि पर वापस गया, और मैने उसकी कमर के हर एक इंच को मसला. उसने अपनी आँखें बंद की, और उसने पीछे लगे पोले पर टेक लगा ली, और मज़ा लेने लगी.

फिर अगला स्टॉप आ गया, और काफ़ी सारे पॅसेंजर्स बस से उतार गये. उनके उतरने से बस काफ़ी खाली हो गयी, और हम दोनो को आसानी से एक सीट मिल गयी. मैने अपना बाग अपनी गोद में रख लिया, ताकि झड़ने के निशान ना दिखे. उसने उसी जगह पर हाथ लगाया, और स्माइल करने लगी.

मैने उसके बूब्स को फिरसे दबाया, और उसने मेरे शोल्डर पे किस किया. फिर मैने उससे उसका नंबर माँगा, तो उसने अपनी शादी की अंगूठी मुझे दिखा दी. उसकी अंगूठी देख कर मैं मायूस हो गया.

फिर वो खड़ी हुई, क्यूकी उसका स्टॉप आ गया था. जाते-जाते वो रुकी, और उसने मुझे कहा-

वो औरत: बहुत अछा था ये सब. आपसे मिल कर मुझे बहुत खुशी हुई. शुक्रिया आपका.

और ये बोल कर वो चली गयी. उसके जाने के बाद मेरे लिए बस का आयेज का सफ़र बेकार हो गया. फिर मैने अपने दोस्त को टेक्स्ट किया, और उसको सब कुछ बताया. उसने मेरी बातो का यकीन जब नही किया, तो मैने उसको पिक क्लिक करके अपनी पंत पर लगा दाग दिखाया. मैने उसको बोला, की मुझे कैसे भी करके चुदाई करनी थी.

उसने मुझे कहा की बाहर जाके रंडियो की चुदाई करने से भी बेहतर कुछ है. और उस वक़्त मुझे देल्ही सेक्स छत के बारे में पता चला. इस साइट पर आपको एक से एक हसीना मिलेगी, जो आपके कहने पर कुछ भी करेगी. ये तो सुनने में ही बहुत अछा लग रहा था.

फिर मैने इस साइट पर अकाउंट बनाया, और क्रेडिट खरीदे. मैं तब तक स्क्रीन स्क्रोल करता रहा जब तक की मुझे आबिगेल नाम की एक लड़की नही मिली. ये लड़की हू-बा-हू बस में मिली उस औरत की तरह दिख रही थी. फिर मैने उसकी प्रोफाइल पे क्लिक किया, और उसको मीटिंग शेड्यूल करने के लिए मेसेज भेज दिया.

मैने उसको जो मेरे साथ हुआ वो सब बताया, और उसको मेरा ये एक्सपीरियेन्स बहुत अछा लगा. मैने उसको सारी पहनने को बोला, ताकि मैं उसी बस टाइप वाली फीलिंग ले साकु, और उसने वैसा ही किया.

आबिगेल: मैने बहुत वक़्त से सारी नही बाँधी है. मज़ा आएगा, जब सारी में कोई मुझे स्पायिल करेगा. मैं एग्ज़ाइटेड हू काफ़ी.

मैं: मज़ा आएगा मुझे भी तुम्हारी सारी उतारने में. मिलते है फिर जल्दी ही.

आबिगेल: मैं बहुत गरम हो गयी हू. मुझसे अब और वेट नही होती जब मैं खुद के साथ खेलूँगी, और तुम मुझे देखोगे.

फिर मैं घर आया, और उससे मिलने के लिए फ्रेश हुआ. फिर मैने लोग इन किया, और लोग इन करते ही वो मेरे सामने थी. वो पहले से मेरी वेट कर रही थी. उसने ब्लॅक कलर की सारी पहनी हुई थी, जिसमे वो बहुत सेक्सी लग रही थी. फिर वो कॅमरा की तरफ आई. उसके लिप्स पर लगी ग्लॉसी लिपस्टिक से उसके लिप्स रस्स से भरे और स्ट्रॉबेरी की तरह फ्रेश लग रहे थे.

मैं: तुम बहुत सेक्सी लग रही हो.

आबिगेल: मैं भी बहुत हॉट फील कर रही हू.

मैं: मैं तुम्हारी सारी उतार कर यही तुम्हे छोड़ना चाहता हू.

आबिगेल: क्यू ना पहले तुम मुझे तुम्हे तोड़ा तंग कर लेने दो सेक्सी बॉय.

ये बोल कर उसने अपने बूब्स दबाए, और कॅमरा में एक ज़ोर की साँस भारी. मैने अपना लंड बाहर निकाल लिया, और उसको सहलाने लगा. साथ ही मैने एक हाथ से शर्ट के बटन खोलना शुरू किया.

आबिगेल: ओह फक! अपनी शर्ट को उतारो मॅट, ऐसे ही खुला रहने दो. तुम्हारा लंड बहुत अछा लग रहा है.

फिर उसने दोबारा से अपने बूब्स को दबाया, और अपनी जीभ बाहर निकाल कर मुझे एक किस दी. फिर वो मुझे अपनी बॅक और साइड्स दिखाने के लिए घूम गयी. उसके बाद उसने अपनी सारी खोली, ताकि मैं उसकी गोरी और मुलायम कमर देख साकु. उसकी सेक्सी कमर देख कर मैने लंड हिलने की स्पीड तेज़ कर दी.

आबिगेल: ओह, तुम्हे ये अछा लगा. ऊप्स!

और उसकी सारी उसके कंधे से गिर गयी. अब वो ब्लाउस में मेरे सामने थी, हालाकी उसकी सारी उसकी कमर पर अभी भी अटकी हुई थी. उसका गोरा बदन उस सारी में कहर ढा रहा था, और मैं ज़ोर-ज़ोर से लंड हिला रहा था. लंड हिलाते हुए मज़े से मेरे मूह से ज़ोर की आहह निकल गयी.

आबिगेल: मेरे इस ब्लाउस में काससे हुए बूब्स तुम्हे आचे लगते है हीरो?

मैं: फक! ये तो जन्नत है मेरे लिए.

आबिगेल: देखना चाहोगे इनको? (और ये बोलते हुए उसने मुझे आँख मार दी, और कॅमरा पर किस कर दिया)

मैं: आहह फक!

फिर उसने अपने ब्लाउस का हुक खोला, और अपने जन्नत जैसे मोटे बूब्स को आज़ाद कर दिया. मैं ये देख कर अपने आप पर कंट्रोल नही कर पा रहा था. मेरे लंड की स्किन बिल्कुल पीछे हो गयी, और लंड पूरा तन्ना हुआ था. लंड की वेन्स अपने पुर तनाव पर थी. मैने पीछे टेक लगा ली, और उसको देख कर लंड हिलता रहा.

आबिगेल: गुड! तुम पुर जोश में अपना लंड हिला रहे हो. मुझे तुम्हारे माल की पिचकारी चाहिए, और मुझे ये बहुत पसंद है. लगता है तुम्हारी बंदूक की गोली किसी भी वक़्त चल सकती है.

मैं: शीत! ये बहुत जल्दी हो रहा है. और तुम बहुत हॉट हो. मैं कंट्रोल नही कर पा रहा हू.

आबिगेल: मैं हेल्प कर सकती हू. (और ये बोलते हुए वो खिखलाई, और कोकनट आयिल की बॉटल उसने हाथ में लेली)

फिर उसने उसमे से आयिल अपने हाथ पर लिया, और बूब्स पर मसालने लगी. साथ ही वो मोन भी करने लगी. उसने अपनी फिंगर्स से अपने निपल्स को मसला, और उनकी मालिश की.

मैं: आ फक!

आबिगेल: तुम बहुत अछा कर रहे हो. तुम्हे देख कर मेरे निपल्स हार्ड हो रहे है.

फिर वो आयेज हुई, और अपने बूब्स को कॅमरा के आयेज कर दिया. उसके बाद उसने अपने निपल्स खींचे और छ्चोढ़ दिए, और ज़ोर की आहह भारी. उसके निपल्स काफ़ी हार्ड हो चुके थे. ऐसा लग रहा था, जैसे चॉक्लेट के बने हो.

उसने अपने निपल्स को मसला और खींचा, और साथ-साथ मोन करती रही. फिर वो अपने होंठ काट-ते हुए खिखलने लगी, और बोली-

आबिगेल: मैं जानती हू की तुम मेरे इन निप्पल्सेस को चूसना चाहते हो, और उस भारी बस में मुझे घोड़ी बनाना चाहते हो.

मैं: ओह शीत! बिल्कुल सही.

आबिगेल: बस में ऐसी ही पोज़िशन में राहु, और तुम सब के सामने मुझे मज़े से छोड़ो.

अब मेरी ज़ोर की अया निकली, और मेरे लंड ने माल की पिचकारी छ्चोढ़ दी. माल की कुछ बूंदे मेरी चेस्ट पर चली गयी, और बाकी की नीचे समीन पर गिर गयी. मेरी बॉडी चिपचिपी हो गयी, क्यूकी पसीने से भीगी थी.

आबिगेल: डॅम! तुम्हरी बॉडी तो पसीने से भर कर चिपचिपी हो गयी है. अगर मैं वाहा होती, और अपनी सारी उतार कर तुम्हारा पसीना पोंछ देती.

फिर वो अपने बूब्स के साथ खेलती रही, और मेरी तरफ देखती रही. उसने अपना एक हाथ अपनी स्कर्ट में डाला, और अपनी छूट को छूटे हुए मोन किया, और मुझे देखा.

आबिगेल: दोबारा ज़रूर आना. मुझे तुम्हे लंड हिलाते हुए ज़रूर देखना है, और साथ में फिंगरिंग करनी है.

और ये कहते हुए वो हस्स पड़ी, और मुझे आँख मार दी.

फिर आबिगेल ने लोगौट कर दिया, और मैं अपने आप को क्लीन करने के लिए चला गया.

मुझे तो सीस्क मॉडेल्स से प्यार ही हो गया है. वो सब बहुत हॉट है. लाते नाइट फिरसे मैं अनिगैल से मिला, और उसको देख कर मैने फिरसे अपने लंड को सुरक्षित किया.

अगर कोई भी इन खूबसूरत लड़कियो के साथ मज़े करना चाहता है. उनसे जो चाहो वो करवना चाहता है. तो जाइए मिलिए आबिगेल से यहा पर क्लिक करके. वो हिन्दी, पंजाबी, इंग्लीश आंड हरयान्वी में बात कर सकती है.

यह कहानी भी पड़े  डर्टी - हॉर्नी लेज़्बीयन सेक्स अपने दोस्त के साथ -1

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!