डिस्ट्रिक्ट लेडी महामंत्री की चुदाई-3

हेलो फ्रेंड्स, मेरा नामे विकास है. मैने सोनल मेडम की चुदाई की स्टोरी पार्ट 1 और 2 मे बताया, शायद आपको पसंद आई होगी.

लेकिन मेरे एक दोस्त ने मम्मी की चुदाई स्टोरी कहने के लिए रिक्वेस्ट किया है. तो मे मम्मी की चुदाई स्टोरी पहले बताता हू जो मेरी मम्मी और उनके मॅनेजर बिमल सिर की है. मे इसके बाद मेरी और सोनल मेडम की आयेज की चुदाई स्टोरी बतौँगा जो बोहोट ही ज़्यादा इंट्रेस्टिंग है.

अब मे स्टोरी पे आता हू.

दोस्तो ये बात तब की जब मई 12-15 साल का था. तब मेरे पापा की ऑफीस से आते वक़्त आक्सिडेंट मे डेत हो गयी और हुंपे जैसे दुखो का पहाड़ टूट पड़ा.

घर पापा से ही चलता था और कोई इनकम का सहारा नही था. पापा की डेत के बाद मम्मी गुमसूँ सी रहने लगी और चेहरा भी उतार गया था चेहरे की रोनक जेया चुकी थी.

करीब 1 महीना होने का था तब पापा की ऑफीस से एक आदमी आया जो देखने मे हॅंडसम और जवान था. करीब 35-38 साल का लग रहा था, 5.7″ हाइट बोहोट आक्ची पर्सनॅलिटी.

उसने हमारे घर पे आके पूछा आनंद जी का घर यही है? दीदी ने बताया हन यही है. और दीदी ने पूछा आप कों हो और कहा से आए हो?

तब उसने बताया की आनंद जी जहाँ जॉब कर रहे थे वाहा से आया हू. मे उस कंपनी का असिस्टेंट मॅनेजर हू.

दीदी ने उन्हे अंदर आने को कहा तो वो अंडर आए और दीदी ने मम्मी को कहा पापा की ऑफीस से एक आदमी आया है. तो मम्मी तुरंत आई.

दोस्तो मे मम्मी के बारे मे बताना भूल गया. मम्मी की आगे उस वक़्त 32-33 साल की होगी. एकदम जवान गोरी गोरी कसा हुआ बदन, 5.5″की हाइट और 34+ बूब्स, 32 की कमर और 36 के चूतड़ थे.

वो मॅनेजर मम्मी आते ही उसको देखता ही रह गया और मम्मी ने आके पूछा जी बोलिए कों हो, आप कहा से आए हो?

तब उसने बताया और कहा आनंद जी के इन्षुरेन्स का पैसा देने आया हू जो हुमारी कंपनी ने उनके लिए करवाया था.

हम सब (मम्मी, दीदी और मे) खुश हो गये और मम्मी की आँखो मे आँसू आ गये. और कहने लगी बोहोट अक्चा किया आपकी कंपनी ने हुमारे लिए, ये बोहोट आक्ची बात है. ये दोनो छोटे है और हुमारे पास उतना पैसा भी नही था जो इनके परवरिश कर साकु.

उसने मम्मी को सांत्वना दी और कहा कोई बात नही, और वो चला गया.

4-5 दिन बाद वो वापस आया और कहा ये 50000/- आनंद जी के बोनस का है. मम्मी और वो बाते करने लगे और उसने पूछा आप कितनी पढ़ी हो?

मम्मी ने बताया मे सिर्फ़ 12त तक पढ़ी हू.

तब उसने कहा आपको कंप्यूटर पे काम करना आता है?

मम्मी ने कहा मुझे कंप्यूटर चलना आता है लेकिन कभी काम नही किया.

तो उसने कहा मे असिस्टेंट मॅनेजर हू, मुझे मेरे अंदर मे काम करने के लिए एक एंप्लायी की ज़रूरत है. क्या आप मेरे अंडर मे काम करोगी? आपकी फाइनान्षियल प्रॉब्लम्स भी थी हो जाएगी और आपका मॅन भी लगा रहेगा.

मम्मी ने कहा बिमल जी अगर आप मुझे दिखाओगे तो मई काम करने के लिए माना नही करूँगी.

तब उसने कहा कल इंटरव्यू के लिए आ जाना, वैसे आपकी जॉब पक्की है सिर्फ़ फॉरमॅलिटी के लिए आना पड़ेगा.

मम्मी ने ठीक है ऐसा कहा.

2 दिन मे मम्मी की जॉब शुरू हो गयी, 1 वीक मे मम्मी के चेहरे पे रोनक आने लगी.

हमारा घर बड़ा था, ग्राउंड फ्लोर पे एक रूम और 2न्ड फ्लोर पे 2 रूम थे. मे और दीदी उपर के रूम मे सोते थे और मम्मी नीचे के रूम मे.

अब रात को और च्छुतटी के दिन काफ़ी टाइम तक मम्मी मोबाइल पे बाते करती रहती थी.

करीब 15 दिन हुए होंगे और एक दिन रत को करीब 11 बजे दरवाजा खुलने की आवाज़ आई. लेकिन मैने इग्नोर किया लेकिन 10-15 दिन बाद मे पानी पीने के लिए नीचे उतरा तो मम्मी के रूम से बात करने की आवाज़ आई. आज 2 आवाज़ आ रही थी रोज मम्मी की ही आती थी.

तब मैने पीछे का दरवाजा धीरे से खोला और मम्मी के रूम की खिड़की पे गया. खिड़की मे एक छोटा सा होल था जो मम्मी के बेड से सिर्फ़ 3-4 फिट ही दूर था. उस होल से पूरा रूम दिखता था.

जब मैने उस होल से रूम मे देखा तो मम्मी को बिमल जी ने गोद मे बिता रखा था. और वो मम्मी की नाभि और मम्मी के पेट और बूब्स पे हाथ घुमा रहा था और मम्मी के बूब्स भी दबा रहा था.

अब उसने मम्मी को किस किया, वो ये सब कर रहे थे तो मम्मी शर्मा रही थी. लेकिन वो अब किस करते हुए बूब्स भी दबा रहा था. मम्मी की साँसे तेज हो रही थी और वो भी उनका साथ देने लगी.

उन्हे पता चला की मम्मी गरम हो चुकी है तो वो मम्मी को बाहें पकड़ के खड़ा हुआ. और मम्मी को कमर मे पकड़ के उसकी तरफ खिच लिया और किस करने लगा और मम्मी के चूटर भी दबाने लगा.

मम्मी ने अपने आपको जैसे उनको समर्पित कर दिया और वो भी उनको बाहों मे भर के किस करने मे साथ देने लगी.

ये सब करते हुए मम्मी की सारी का पल्लू गिर गया. और जो मेरी मा छोड़ने वाला था उसने सारी निकल दी और धीरे धीरे मम्मी की ब्लाउस और ब्रा उतार दी और मम्मी के गोरे गोरे बॉल उसके और उसपे ब्राउन कलर के करीब 1 सीयेम जीतने ही निपल्स थे जो उसके सामने आ गये जिसे वो देखता ही रह गया.

क्यूकी बॉल ज़्यादा ढीले नही और ज़्यादा कड़क भी नही. क्यू की जब पापा थे तब वो शायद डेली बूब्स मसाज आयिल से मसाज करती थी जो मैने काफ़ी बार उनके रूम मे ड्रेसिंग टेबल पे देखा था. और अब पिछले एक वीक से ही देखा क्यू की पापा की डेत के बाद मुझे नही दिखा. लेकिन शायद 1 वीक से मम्मी ने फिर मसाज करना शुरू किया था इसलिए मम्मी के बॉल इतने सेक्सी और कसे हुए थे.

अब उसने बॉल के निपल चूसे और धीरे धीरे नीचे जाकर नाभि को चूमने लगे. मम्मी की सिसकारियाँ लेने लगी. अब उसने पेटीकोत का नडा खोल दिया और अपने आप नीचे गिर गया और मम्मी की ब्लू कलर की चड्डी सामने आ गयी और उसने वो भी उतार दी और किस करने लगा.

ये सब जैसे मेरे बिल्कुल करीब हो रहा था. क्यू की उस होल से मुझे सब दिखाई दे रहा था. अब उसने मम्मी को दीवार से सटके खड़ी रखी और एक पेर उसके कंधे पे लेके छूट को चाटने लगा. 5 मीं तक उसने छूट छाती और खड़ा हो गया और अपना शर्ट और पेंट के साथ अंडरवेर भी उतार दी.

मम्मी उसके लंड को देखा और जैसे घबरा के शर्मा गयी. लेकिन मम्मी की घबराहट उसके चेहरे पे दिखाई दे रही थी. क्यू की उसका लंड करीब 7″ और मोटा था.

अब उसने मम्मी को कमर मे पकड़ के उसकी तरफ खिच लिया और चिपका लिया. थोड़ी देर वो एसए किपके रहे उसका लंड नाभि को टच हो गया था. उसने किस करना शुरू किया और लंड मम्मी के पेट और झंगो पे रगड़ने लगा.

फिर उसने मम्मी का हाथ पकड़ के लंड पकड़ाया मम्मी लंड को सहलाने लगी. और कहा कितना बड़ा और मोटा है आपका. उसने कहा, आनंद जी का कैसा था? तो वो कुछ नही बोली .तब उसने फिर पूछा तो मम्मी ने कहा आपसे छोटा. उसने पूछा कैसा लगा मेरा? वो बोली एकदम स्ट्रॉंग लग रहा है जैसे कोई बड़ा केला पकड़ा हो.

तब उसने कहा तुम्हे इसे चूसना है और मम्मी शर्मा गयी. उसने मम्मी के होत चूमने शुरू किए इस बार वो काफ़ी देर तक मम्मी के होत को उसके मूह से निकल ही नही रहा था.

फिर उसने मम्मी को घुमाया और मम्मी की छूट मेरे सामने थी. दोस्तो क्या छूट थी मम्मी की एकदम फूली हुई कचोरी जैसी और एकदम चिकनी. शायद मम्मी 8 बजे नःने गयी थी तब ही सवे की होगी. क्यू की मम्मी पापा की डेत के बाद शायद ही रत को नहती थी.

ब्राउन कलर की छूट का शेप एसी दिख रही थी जैसे कभी चूड़ी ही नही हो. अब वो छूट की क्रॅक मे उंगली रग़ाद रहा था और एक हाथ से बूब्स दबा रहा था, मम्मी भी जैसे कामुक हो गयी थी.

अब उसने मम्मी को अपनी बाहों मे उठाया और बेड पे लेता दिया और वो मम्मी के उपर जाके किस करने लगा. धीरे धीरे नीचे आते हुए मम्मी के बॉल चूसना शुरू किया और बूब्स के निपल्स को दंटो के बीच दबके जीभ फेरने लगा.

मम्मी आहह करणके उछाल पड़ी और उसके सर को पकड़के बूब्स पे चिपका लिया.

फिर वो धीरे धीरे नीचे जाकर मम्मी के पेर फेलके छूट चाटने लगा. मम्मी भी सस्शह सस्शह उउउंम्म की आवाज़े निकल रही थी. करीब 10 मीं तक उसने छूट छाती. अब वो लेट गया और लंड चूसने को कहा.

मम्मी भी उसको किस करते हुए नीचे जाकर लंड को पकड़ा और मूह मे ले लिया और चूसने लगी. वो एसए चूस रही थी जैसे वो लंड काफ़ी टाइम से चूसने की आदत हो लेकिन वो आधा ही लंड मूह के अंदर ले पति थी.

वो मम्मी का सर पकड़ के दबा रहा था लेकिन मम्मी माना कर रही थी .थोड़ी देर बाद मम्मी उसके बाजू मे सो गयी. और वो मम्मी पे आया, उसके आते ही मम्मी ने दोनो टाँगे फेलडी. वो भी जान गया की वो छुड़वाने के लिए एकदम रेडी है.

लेकिन मम्मी के चेहरे पे घबराहट थी. क्यू की उसने बताया था की पापा का लंड इतना बड़ा नही था तो उसको केसे से पाएगी. और वो ही हुआ, उसने छूट मे लंड घुसाया तो मम्मी चीख पड़ी आआहह बिमलल्ल्ल्ल्ल… और उसकी कमर पकड़ ली.

तब तक उसने पूरा लंड घुसा दिया था और वो दर्द के मारे तड़प के रो पड़ी और कहने लगी.. बिमल निकल लो बोहोट दर्द हो रहा है.

ये देख के मुझे मम्मी पे बोहोट तरस आया.

वो भी रुक गया और मम्मी के माथे पे हाथ फेरने लगा और होत चूमने लगा. फिर उसने मम्मी को धीरे धीरे छोड़ना शुरू किया .मम्मी आआहह आअहह उउंम्माआअ एसा कर रही थी. लेकिन थोड़ी देर की चुदाई के बाद वो उसके झटके से पा रही थी.

5 मीं की चुदाई के बाद उसने मम्मी को घोड़ी बनने को कहा. मम्मी तुरंत शरमाते और हल्की सी मुस्कान के साथ घोड़ी बन गयी. फिर बिमल ने लंड पकड़ के मम्मी की छूट मे डाला डालते ही मम्मी धीरे से आहह एसी आवाज़ निकली और वो भी हल्के हल्के पीछे झटके दे रही थी.

शायद उसको भी अब मज़ा आ रहा था. वो भी कमर पकड़ के झाम कर चुदाई कर रहा था. मम्मी की चुदाई देखते हुए मेरा भी छोटा सा लंड खड़ा हो गया था.

अब उसने मम्मी को लेटया और मम्मी ने टाँगे फेलडी जैसे कह रही हो चुदाई करो मेरी. और उसने लंड छूट मे डाला और चुदाई चालू की. अब वो ज़ोर ज़ोर से छोड़ रहा. मम्मी का दर्द ख़तम हो गया था और वो मज़े से आहह आहह उउंम्म करके छुड़वा रही थी.

पूरे रूम मे फट फट फट फट फट एसी सरीर टकराने की आवाज़ आ रही थी. अब उसने स्पीड दुगनी की और एकदम से लंड निकाला और लंड को 2-3 बार हिलाया. और उसके लंड से सफेद और चिकना और घड़ा रस की पिचकारी निकल के मम्मी के बूब्स तक गयी उसके लंड से 5-6 बार पिचकारी निकली.

मैने पहली बार देखा था की लंड से एसा रस निकलता है क्यू की मे ये सब पहली बार देख रहा था और मम्मी पे ढेर हो गया. फिर माथे पे हाथ फेरते हुए मम्मी के माथे पे किस किया गालो को चूमा फिर होत पे होत लगाके किस करने लगा. और मम्मी भी प्यार से उसके बालो मे हाथ फेरते हुए किस करने लगी.

फिर वो मम्मी के बगल मे सो गया.

थोड़ी देर बाद मम्मी खड़ी होकर बातरूम मे जा रही थी. लेकिन वो एक बार गिरते हुए संभाल गयी और बेड पे बेत गयी. थोड़ी देर बाद फिर वो धीरे धीरे बातरूम मे गयी और वीर्या पानी से साफ करके बेड पे आके लेट गयी.

फिर वो भी बातरूम मे जाकर लंड धो कर आया और मम्मी की बगल मे आके मम्मी को उससे चिपका लिया.

मुझे नींद आ रही थी क्यूकी करीब 12 बाज रहे थे और करीब आधा घंटा बेता रहा. फिर मे अपने रूम मे जाने ही वाला था की बिमल जी ने मम्मी को किस किया मम्मी ने कहा बिमल प्लीज़ मे तक गयी हू अब सोने दो…

आयेज की कहानी अगले पार्ट मे. आपको ये स्टोरी कैसी लगी प्लीज़ कॉमेंट्स कर के बताना.

यह कहानी भी पड़े  अजब ग़ज़ब परिवारिक रिवाज-1

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!