मेरी और मेरी मा की चुदाई

ही फ्रेंड्स मेरा नाम जेनिशा हैं और आप सब मुझे रंडी जेनिशा के नाम से जानते हैं और मैं हूँ वी एक बहुत बड़ी रंडी. मैं अभी 25 साल की हूँ. मेरी पिछली कहानियाँ तो आपने पड़ी होगी की कैसे मैं अपनी छूट की भूक अपने बाय्फ्रेंड के दोस्तों से शांत करवाती हूँ.

पर ये चुदाई बाय्फ्रेंड के दोस्त से नही पर मेरा बाप का दोस्त प्रबेश अंकल के साथ हैं. मेरा बाप और प्रबेश अंकल बिज़्नेस पार्ट्नर्स हैं. मेरा बाप कभी घर नही रहता हैं. वो 15-20 दिन मैं एक बार ही घर आता हैं. वो कभी हमारे साथ अकचे से टाइम स्पेंड नही करता. इसलिए मेरी अपने बाप के नही जमती थी.

पर प्रबेश अंकल हमारे घर आते रहते थे और हमारी केर भी अकचे से करते थे. वेसए प्रबेश अंकल दिखे में बहुत टॉल हैं अपने बॉडी को बाड़िया मेनटेन किया हुवा हैं. वो जब वी हमारी घर आते हैं हमेशा मुझे कुछ ना कुछ लेके देते हैं और अपनी बेटी की तरह ट्रीट करते हैं.

पर मैं तो एक रंडी ठहेरी तो मुझे अंकल से छुड़वाने का बहुत मॅन था. क्यूँ की मुझे पता हैं की मेरी मा उनसे चुड़वति हैं. क्यूँ की मैने बहुत बार रात को आ आ की आवाज़ सुनी थी. वेसए मेरी मा का नाम भाग्या हैं और वो भी एक रंडी ही हैं जो 3 4 मर्दों से चुड़वति थी.

एक दिन प्रबेश अंकल हमारे घर आए हुवे थे. वो यूयेसेस दिन हमारी घर पे ही रहने बाले थे. वेसए अंकल बहुत रिच हैं और मेरी मा को बहुत पैसे भी देता था.

रात का खाना खाने के बाद मेरी मा ने एक पेग दारू अंकल को दी और खुद भी पीने लगी. अंकल ने कहा की जेनिशा तुम भी पियो और एक पेग मुझ को भी दी. मैं सोच चुकी थी की आज हर हाल में अंकल से चुड़वंगी. तो मैने भी घटा घाट दारू पी लिया और अब हम इधर उधर की बातें करने लगे.

तभी प्रबेश अंकल और मेरी मा मेरी ही सामने किस करने लगे. मैं यह देखके हैरान हो गयी पर खुश भी हुई की अब मैं भी अंकल से चुड़वंगी. तभी अंकल ने मेरी मा से बोला-

प्रबेश अंकल :भाग्या तेरे साथ तेरी बेटी को भी छोड़लु आज?

मेरी मा : छोड़लो यह साली भी मेरी तरह एक रंडी ही है, साली यह बहुत लुंडो से चुड़वति हैं.

यह सुनके मैं बहुत खुश हो गयी और सीधा अंकल के लंड को सहलाने लगी. जब मैने अंकल की लंड अंडरवेर से बाहर निकली तो वो बहुत बड़ा था 8 इंच. मैं बहुत गरम हो गयी और अंकल का लंड चूसने लगी.

मेरी मा भी मुझे जाय्न करने लगी और हम दोनो मिलके अंकल का लंड चूसने लगी. अंकल बहुत मज़ा ले रहे थे. मैं अंकल की लंड अकचे से चूस रही थी और भाग्या अंकल की बॉल्स चूस रही थी.

मैं इतना गरम हो चुकी थी की अपनी मा को भी भाग्या कह के नाम से बुला रही थी. अभी मैं अंकल की बॉल्स चूसने लगी और भाग्या लंड चूसने लगी और कभी दोनो साइड से मैं और भाग्या लंड चूस्ते. अंकल ने कहा की भाग्या तेरी बेटी तो तुझसे भी बहुत बड़ी रंडी हैं.

मैने भी चिल्लाके कहा की हन मैं सबसे बड़ी रंडी हूँ, छोड़ मेरे मूह को..!

उसके बाद अंकल ने मुझे सोफा पे लिटा दिया और मेरे मूह के उपर चाड़के मेरे मूह को छोड़ने लगे. इससे मेरी मूह पूरा खुल गया और अंकल पूरा ज़ोर से मेरे मूह को छोड़ने लगे. और भाग्या मेरी छूट को चाट रही थी. मुझे बहुत मज़ा आ रहा था.

कुछ देर बाद अंकल ने मेरे मूह से लंड निकाला और भाग्या की मूह मे लंड दस दिया और भाग्या की मूह को छोड़ने लगा. और मैं नीचे से भाग्या की छूट चाटने लगी. कुछ देर के अंकल ने मुझे सोफा पे लिटा दिया और अपना लंड मेरी छूट पे घुसा दिया.

आ उनका बड़ा लंड घुसते ही मज़ा आगेया. अब वो मुझे ज़ोर्से छोड़ने लगे. वो मुझे मिशनरी पोज़िशन मैं छोड़ रहे थे. और मैं आ आ आ एस एस अंकल छोड़ो मुझे करके चिल्ला रही थी.

भाग्या मेरी मूह के उपर बेत्के अपनी छूट मुझे चटवा रही थी. कुछ देर बाद अंकल ने मेरी छूट से लंड निकाला और उसी पोज़िशन में भाग्या की छूट में दल्दिया. भाग्या भी आ आ छोड़ो प्रबेश एस एस करने लगी. मैं भी भाग्या की मूह के उपर बेत गयी और अपनी छूट चटवाने लगी.

कुछ दर्र बाद अंकल ने लंड निकाला. और मैं और भाग्या मिलके फिरसे लंड चूसने लगे. फिर उसके बाद अंकल ने मुझे डॉगी पोज़िशन मैं बिताया और मेरी छूट को छोड़ने लगे. और भाग्या मेरे सामने लेट गयी और मैं उसकी छूट चाटने लगी.

अंकल मेरी गांद को स्पॅंक कर रहे थे और ज़ोर से छोड़ रहे थे. मैं भी आक्ची बेटी की तरह आ अंकल फक प्लीज़ फक आ आआआअ कर रही थी. फिर उसके बाद सेम डॉगी पोज़िशन में अंकल ने भाग्या को छोड़ना चालू किया और में भाग्या को अपनी छूट चटवाने लगी. भाग्या भी आ आ आ फक कार रही थी.

उसके बाद अंकल सोफा पे बैठ गये और मैं उनका लंड चूसने लगी मैं और भाग्या दोनो उनको डीप थ्रोट दे रहे थे. फिर मैं अंकल के उपर बैठ गयी और कोबाय पोज़िशन में उनके लंड को राइड करने लगी. और भाग्या अंकल के मूह के उपर बेतगाई और अपनी छूट चटवाने लगी.

कुछ देर बाद भाग्या लंड पे बेत गयी और मैं अपनी छूट अंकल को चटवाने लगी.. अंकल ने मेरी क्लिट को इतना चटा की मैं एक बार वही झाड़ गयी.

फिर कुछ दर्र के बाद अंकल ने मुझे डॉगी पोज़िशन में लिया और मेरी गांद को चाटने लगे. अंकल और भाग्या दोनो मिलके मेरी गांद चाटने लगे.

मैं बहुत खुश हो गयी की अंकल मेरी गांद भी मारेंगे. और अंकल ने मेरी गांद पे अपनी लंड घुसा दिया. उनका बड़ा लंड घुसने में मुश्किल हो रही थी पर अंकल एक ज़ोर का झटका दिया और पूरा घुसा दिया.

मेरी मूह से बहुत ज़ोर की आआआआः निकलगया क्यूँ की मुझे बहुत दर्द हुवा हसीन दर्द पर थोड़ी दर्र बाद मुझे बहुत मज़ा आने लगा और मैं चिल्लाने लगी. एस अंकल एस छोड़ो छोड़ो मुझे मेरी गांद को मेरी गांद का आचार बनडो मेरी गांद की भोसड़ी बनडो मुझे कल सुबह चलने लायक मत छोड़ो. अयाया अयाया.

कुछ दर्र बाद अंकल ने भाग्या को डॉगी पोज़िशन में आने को कहा और भाग्या भी अच्छी बीवी की तरह डॉगी पोज़िशन में आगाय. मैं और अंकल दोनो मिलके भाग्या की गांद अच्छे से चाटने लगे. और कुछ दर्र बाद अंकल ने भाग्या की गांद में लंड घुसा दिया और भाग्या भी बहुत मज़े लेह रही थी. अंकल भाग्या की गांद को स्पॅंक कार रहे थे और भाग्या आ अया छोड़ो छोड़ो कार के चिल्ला रही थी

उसके बाद फिरसे मैं और मेरी मा मिलके लंड चूसने लगे. और अंकल ने फिरसे मुझे मिशनरी पोज़िशन मे लिटाया और मेरी गांद को छोड़ने लगे.

करीब 10 मीं छोड़ने के बाद उन्होने मुझे वेसए ही उठा दिया और हवा में छोड़ने लगे. मैं भी अपने हाथ उनके बाहो में डालके मज़े लेह रही थी. उसके बाद अंकल ने भाग्या को भी उसी मिशनरी पोज़िशन में छोड़ा और हवा में उठाकर छोड़ा और मैं नीचे से अंकल की बॉल्स चूस रही थी.

उसके बाद अंकल ने भाग्या को नीचे किया और हम दोनो मा बेटी फिर से लंड चूसने लग गये. अंकल का मोटा लंड चूसने में बहुत मज़ा आ रहा था.

अंकल ने फिर से मुझे डॉगी पोज़िशन में आने को कहा. और मैं भी एस डॅडी कह के आ गयी. वो मुझे पीछे से बाल पकड़ के ज़ोर से छोड़ने लगे.

कुछ दर्र बाद अंकल ने कहा की मैं झड़ने वाला हूँ. तो मैने कहा अंकल प्ल्ज़ माल मेरी मूह में घिरा दो, मुझे माल पीनी है.

अंकल ने झट से निकल के लंड मेरे मूह में दिया और पूरा माल मेरे मूह मे दिया. मैने माल अपनी मूह पे लिया और प्ले करने लगी. फिर मैने वो माल भाग्या की मूह पे दिया और भाग्या को मेरी रंडी मा माल फिर से मेरी मूह पे डालडो कहा. और भाग्या ने वेसए ही किया और में पूरा माल पी गयी.

मेरी रणदीपना देख कर प्रबेश अंकल और मेरी मा दोनो हैरान थे. वो कह रहे थे की मैं बहुत बड़ी रंडी हूँ. रंडी की बेटी और बड़ी रंडी. मैने भी हन मैने रंडी छीनाल गस्ति हूँ कहा.

उसके बाद प्रबेश अंकल मुझे रोज छोड़ने आते थे. और में अंकल से जहा मॅन करे वही चुदाई करती हूँ. कभी बातरूम में कभी उनकी कार में.

मेरे पास एसए बहुत कहानियाँ हैं जो मैं उपलोआड करती रहूंगी. और जो मेरी प्रोफाइल में पिक्चर हैं वो मेरी रियल पिक्चर.

यह कहानी भी पड़े  मुस्लिम घर मे एक साथ तीन चुदाई

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *


error: Content is protected !!