मेरे भैया की बीवी की चुदाई

हेलो दोस्तों, कैसे हो आप सब. आज मैं फिर से मेरी एक नयी सेक्स की कहानी ले के आया हूँ.

ये कहानी मेरे और मेरी भाभी के सेक्स की है. जो की एकद्ूम सच है. तो चलिए कहानी सुरू करते हैं.

मेरा नाम अमृत है. मैं चत्तीसगर्ह के एक छोटे से गाओं से हूँ. मैं पढ़ाई के सिलसिले मे रायपुर मे ही रहता हूँ.

ये कहानी मे महीने से सुरू होती है जब मेरे भैया की शादी हुई. मेरी भाभी बहोट हॉट है. उसके दूध थोड़े छोटे हैं लेकिन एकद्ूम पर्फेक्ट साइज़ के हैं. उनका फिगर लगभग 32-24-34 की होगी. मैने जब से उन्हे देखा था तब से ही छोड़ना चाहता था.

उन्हे सोच सोच के मैं अक्सर हिला लिया करता था.

भाभी ने नर्स की ट्रैनिंग की हुई थी तो शादी के एक महीने बाद ही उनकी रायपुर मे ही जॉब लग गयी. तो उन्हे जॉब के लिए रायपुर जाना था तो घरवालों ने कहा की “अमृत वही रहता है तो तुम भी उसी के साथ रह लेना , ह्यूम फ़िक्र भी नही होगी तुमलोग दोनो साथ मे रहोगे तो”.

भैया:- “क्यू अमृत तुम्हे कोई दिक्कत तो नही है ना “

मे :- “नही भैया इसमे दिक्कत क्या है”

कुछ दिन बाद भाभी को चॉर्ने भैया रायपुर आए , फिर भैया अगले दिन ही सुबह चले गये क्यूंकी गाओं मे उनका अपना बिज़्नेस है तो वाहा चोर भी नही सकते.

भाभी के आने से मैं बहोट ही ज़्यादा खुश हो गया था. मैं मान ही मान सोच रहा था की अब तो भाभी को छोड़ने का अक्चा मौका है. मेरा फ्लॅट 1 भक का है तो भाभी के आने से मैं अब हॉल मे ही सोने लगा था.

हर दिन मैं भाभी के काम पे जाने के बाद ही अपने कॉलेज के लिए निकलता था , तो हर सुबह जब भी भाभी

नहाने जाने वाली रहती थी तब मैं चुपके से जाके बातरूम मे कॅमरा लगा देता था. और भाभी के जाने के बाद मैं उस कमेरे की रेकॉर्डिंग देख के मूठ मरता था. देखते देखते एक महीना ऐसे ही बीत गया.

एक दिन जब मैं रेकॉर्डिंग देख रहा था तब मैने देखा की भाभी अपने झांट के बाल सॉफ कर रही थी ये देख के मैं एक दूं जोश मे आ गया. फिर मैने उन्हे छोड़ने का प्लान बनाया .

भाभी रोज़ रात मे करीब 2 बजे के आसपास पेसाब करने के लिए बातरूम जाती है. क्यूंकी बातरूम हॉल मे ही है तो उन्हे मेरे बेड के पास से ही गुज़रना पड़ता है. मैं अब हर रोज़ अपने फोन मे पॉर्न प्ले करके सोने का नाटक करने लगा.

एक दो दिन तो हू नज़र अंदाज़ कर के चली गयी. तीसरे दिन वो मेरे बेड के पास आई और मेरा फोन उठाया उसके बाद उन्होने मुझे हिलाया और ‘अमृत.. अमृत’ बोली पर मैं सोने का ही नाटक करता रहा उन्होने मुझे नींद मे देख के फोन मे देखने लगी उन्होने तो पहले फोन का वॉल्यूम कम किया क्यूंकी फोन स्पीकर मे ही पॉर्न चल रा था.

फिर थोड़ी देर बाद वो फोन बंद करके अपने कमरे मे चली गयी,

मुझे समझ आ गया था की भाभी गीली हो चुकी है. क्यूंकी नयी-नयी शादी होने के बाद भी वो करीब 1.5 महीने से चूड़ी नही थी,

मैं 2 मीं बाद चुपके से उठा और उनके कमरे के के होल से अंदर झकने लगा. तो मैने देखा की वो अपने फोन मे देख के अपनी निघट्य को उपर कर के अपना हाथ अपनी पनटी मे डाली हुई थी औट अपनी छूट को सहला रही थी ये सब देख के मैं खुद भी गीला हो चुका था.

करीब 2 मीं बाद वो अपनी पनटी से हाथ निकल के अपनी निघट्य मे ही पॉच ली और निघट्य नीचे कर करवट बदल कर सो गयी, ये सब देख कर अब मुझसे बिल्कुल भी रहा नही जेया रहा था

करीब 3 बजे के आसपास मैं चुपके से उनके कमरे मे घुस गया. तब तक वो गहरी नींद मे सो चुकी थी मैं चुपके से जाके उनके बगल मे ही लेट गया और अपना लंड अपनी लोवर से निकल कर उनके गंद के उपर निघट्य के उपर ही रगार्ने लगा. लेकिन अभी भी वो नींद मे ही थी मुझसे कंट्रोल ही नही हो रहा था. तो मैने ज़ोर से उनके निघट्य के उपर से ही उनके दूध दबा दिए इस्पे वो अचानक से जाग गई.

भाभी :- ‘अमृत..!!! तुम यहा क्या कर रहे हो’.

मे:- भाभी वो मुझसे रहा ही नही जेया रहा था मैं बस तुम्हे छोड़ना चाहता हूँ.

इतना सुनते वो भड़क गयी और चिल्ला कर बोली.

ये क्या बोल रहे हो पता है मैं तुम्हारी भाभी हूँ , तुम होश मे तो हो. तुम्हारे भैया को पता चलेगा तो क्या होगा सोच है.

मैने कहा आप नि बताॉगी तो किसी को भी पता नही चलेगा इतना कहकर मैं उनके तरफ बढ़ा और उनके दूध दबाने लगा पर वो मुझसे चुराने की कॉसिश कर रही थी पर मैं उनके हाथ को पकड़ के अपने लॅंड पर ले जेया रहा था जो की छूट मरने के लिए पूरी तरह रेडी था. काफ़ी देर समझने के बाद वो छुड़वाने के लिए मान ही गयी.

मैने उनकी निघट्य उतरी और उसके ब्रा के उपर से ही उसके दूध को ज़ोर ज़ोर से दबाने लगा तो हू चीख रही थी पर मैं फिर भी नही रुक रहा था. फिर मैने उनको गोदी मे उठाकर बेड मे फेक दिया और अपने सारे कपड़े उतार दिए और उनकी टांगे फैलने लगा अभी भी वो अपनी छूट को अपने हाथ से धक रही थी.

फिर मैने उनकी छूट से हाथ हटाया तो देख के पागल हो गया इतने प्यारी छूट मैने पहली बार देखी थी. मैने देर ना करते हुए अपनी एक उंगली उनकी छूट मे घुसा दी तो वो चीख उठी अहह!

ये क्या कर रहे हो ये सही नही है. पर मैने उनकी एक ना सुने और उंगली अंदर बाहर करने लगा वो चिल्लती रही ओह आआआअहह उम्म्म्ममह.

फिर मैने अपनी उंगली निकली और और अपना लंड उनके छूट पे रख दिया.

मैने ज़ोर से धक्का मारा पर मेरा लंड सिर्फ़ तोड़ा ही अंदर गया पर भाभी चिल्ला उठी अहह!!!! पर मैं रुका नही और ज़ोर से धक्का मारा इस बार मेरा पूरा लंड अंदर चला गया.

अब मैं आराम से धक्का मरने लगा अब भाभी को भी मज़ा आने लगा. वो आहहहा उम्म्मह ईईहह आअनन्नह करने लगी. उस दिन मैने उन्हे सुबह के 6 बजे तक छोड़ा

मैने सारे सेक्स पोज़िशन्स एक ही दिन मे ट्राइ कर दिए..

उस दिन से मुझे बातरूम मे कॅमरा छुपाने की ज़रूरत नही पड़ती. अभी भी मैं और भाभी साथ मे ही रहते हैं और मैं उन्हे समय समय प्लार छोड़ता रहता हूँ. ऐसा लगता है की वो मेरे भाई की नही मेरी ही वाइफ है.

उसके दूध भी दबा दबा के मैने बड़े कर दिए. आज कल वो और भी माल लगती हैं.

यह कहानी भी पड़े  मौसेरी बहन सविता की चुदाई

error: Content is protected !!