सोनाली मामी के साथ चुदाई की शुरुवात

सोनाली ममी ने मुझे बताया था के वो मेरे लुंड को फील करना चाहती थी. मैंने नींद का बहाना बनाते हुए बैडरूम में जाकर सो गया. कुछ देर बाद सोनाली भी मेरे साइड में आकर सो गयी.

अब आगे…

कुछ देर बाद मैंने देखा के ममी दूसरी तरफ फेस करके सो गयी थी. मैं थोड़ा मुस्कुराया. ममी को नाराज करने का मेरा कोई इरादा नहीं था. मामी ने ब्लैक कलर की एक सेक्सी निघ्त्य डाली हुई थी जिसमे वो बहुत हॉट लग रही थी.

ममी की फिगर और उनकी गोरी चिकनी कमर देखकर मेरा लुंड खड़ा हो गया. मैंने अपनी शॉर्ट्स और बॉक्सर को निचे करके लुंड को बहार निकला. लुंड पहले से ही खड़ा था और मैं उसे सहलाने लगा जिससे वो और भी लम्बा और सख्त बन गया.

मैंने ममी की तरफ फेस किया और उनकी कमर में हाथ दाल के उन्हें पीछे से हुग किया. ममी मुस्कुरायी उन्हें लगा के मैं नींद में हूँ. मैंने कुछ देर बाद उनकी नंगी कमर को सहलाना शुरू किया. फिर मैं ममी के और करीब गया और उनकी गर्दन पर किश करते हुए कहा

निल: आपको क्या लगा मैं आपकी विश पूरी किये बिना ही सो गया?

सोनाली: अरे तुम सोये नहीं?

निल: नहीं… ये तो आपको बैडरूम में बुलाने के लिए मैंने ऐसा किया

सोनाली: ओह वैरी स्मार्ट हाँ

मैं उनकी गर्दन पर किश करते हुए उनकी कमर को सहलाने लगा. ममी को मजा आने लगा और वो सिसकारियां लेने लगी. धीरे धीरे हम दोनों की साँसे तेज होने लगी.

मैंने अपने हाथ को उनके बड़े और मुलायम बूब्स पर रखा. ममी ने उन्हें झट से हटा दिया.

निल: क्या हुआ?

सोनाली: शादी के बाद पहली बार कोई मुझे इस तरह टच कर रहा है न इसलिए

निल: ठीक है… आपको पसंद नहीं तो मैं सो जाता हूँ

मैंने सोने का नाटक करने लगा के ममी ने झट से मेरा हाथ अपने बूब्स पर रखा और कहा

सोनाली: प्लीज निल मेरी बात का बुरा मत मन्ना. मैं तुम्हे रोकना नहीं चाहती थी लेकिन इतने सालो में पहली बार किसी ने मुझे ऐसी जगह टच किया इसलिए ये हो गया

निल: इतस ओके डिअर

मैंने उनके बूब्स को सहलाते हुए दबाने लगा. ममी के मुँह से कामुक शब्द निकल रहे थे. वो धीरे धीरे गरम होने लगी.

सोनाली: आह्हः आह्हः नीईलल उफ्फ्फ्फ़ आह्हः बहुत अच्छा लग रहा है बबयय

निल: आह्हः आपके बूब्स बहुत मस्त है ममी…

मैंने कुछ देर तक उनके बूब्स को दबाने के बाद दूसरे हाथ से अपने लुंड को सहलाने लगा. कुछ ही देर में वो पूरी तरह से लम्बा हो गया. मैंने ममी के कान में धीरे से कहा

निल: ममी आपको मेरा लुंड फील करना है?

ममी ने खुश होते हुए कहा

ममी: हाँ…

मैंने झट से लुंड को उनकी मादक गांड पर रखा और धीरे धीरे धक्के मरने लगा. मैं ममी को निघ्त्य के ऊपर से ही चोद रहा था. जैसे ही ममी ने लुंड को फील किया उनकी सिसकारियां निकलने लगी.

ममी: आह्हः ओह्ह्ह निल क्या लुंड है तुम्हारा आह्ह्ह्ह उफ्फ्फ OMG गॉड यी कितना बड़ा हीी. मुझे इसे हाथ में लेना है

इतना बोल के ममी झट से बीएड से उठी और मेरे लुंड को देखने लगी. उन्होंने लुंड को हाथ में लिया और उसे किश करने लगी. लुंड देखकर वो बहुत खुश दिख रही थी.

ममी: ये तो सच में काफी बड़ा है निल… मैंने आज तक इतना दमदार लुंड कभी नहीं देखा. पता नहीं दीदी तुम्हारा लुंड रोज रोज कैसे लेती होगी?

निल: क्या? क्या कहा आपने?

फिर ममी को याद आया के उन्होंने गलती से बोल दिया और उन्होंने मुझे सब बताया के दीपाली ममी ने उन्हें बताया है के वो मुझसे चुदवाती है. मुझे तो ये पता था क्यों के मैंने फ़ोन पर सब सुन लिया था लेकिन सोनाली के सामने मुझे ऐसा दिखाना था के मुझे कुछ नहीं पता.

सोनाली: निल दीदी को जब तुम छोड़ते हो तब क्या उन्हें दर्द नहीं होता?

निल: दर्द तो बहुत पहले होता था… लेकिन जब मैंने उन्हें ३ – ४ बार छोड़ा उसके बाद उन्हें मजा आने लगा था

सोनाली: अच्छा. मैं तुम्हारा लुंड चूसना चाहती हूँ

इतना बोलकर उन्होंने लुंड को हिलाते हुए मुँह में लिया और जोर जोर से चूसने लगी. ममी को देखकर लग रहा था जैसे वो एक्सपर्ट थी वो बिलकुल ऐसे चूस रही थी जैसे वो रोज लुंड चुस्ती थी. उनके ब्लोजॉब ने तो मुझे जन्नत की सैर करा दी. ममी लुंड के टोपे को अपने होंठों में पकड़ कर उसे चूस रही थी तो कभी लुंड को आधा मुँह में लेकर चूस रही थी. लुंड को मुँह में लेते ही उनकी आँखें चमकने लगी थी.

मैंने भी उन्हें जोश दिलाने के लिए उनके बालो को खोल दिया और उन्हें सहलाते हुए अपनी कमर उठायी और ज्यादा से ज्यादा लुंड उनके मुँह में डालने लगा. ममी मेरा इशारा समझ गयी और उन्होंने मुझे देखते हुए स्माइल पास की देखते ही देखते उन्होंने लुंड को पूरी तरह से अपने मुँह में लिया. मेरा लुंड लम्बा होने की वजह से उनके गले तक आ रहा था और वो उसे अंदर बहार करके चूस रही थी.

कुछ देर बाद मुझे जोश आने लगा और मैंने उनके बालो को पकड़ा और धीरे धीरे धक्के मरने लगा. ममी मेरी आँखों में देख रही थी. उनकी आँखों से साफ़ पता चल रहा था के उन्हें ये सब कितना पसंद आ रहा था. मैं कभी धीरे धीरे धक्के मरता तो कभी जोश के साथ जोर जोर से उनका मुँह छोड़ता था. ममी दोनों तरफ से मेरा साथ देते हुए लुंड के मजे ले रही थी. कुछ देर बाद मैंने लुंड बहार निकला.

ममी (ख़ुशी से): निल मैं बता नहीं सकती के मुझे कितना मजा आया… जब मैं कॉलेज में थी तब मेरा बॉयफ्रेंड ऐसे ही मेरा मुँह छोड़ता था. उसकी उस आदत की वजह से ही मुझे लुंड चूसने का चस्का लग गया.

निल: ओह लेकिन मुझे लगा के आप मेरा लुंड नहीं ले पाएंगी लेकिन आपने तो इसे झट से पूरा अंदर ले लिया

ममी (नॉटी स्माइल के साथ): कॉलेज के बाद इतने सालो बाद पहली बार लुंड मुँह में ले रही थी इसलिए मैं कोई भी मौका नहीं छोड़ना चाहती थी. लुंड बड़ा था लेकिन उसे चूसने की मेरी भूक उससे भी ज्यादा थी इसलिए मुझे कोई फरक नहीं पड़ा

निल: वाह लगता है दीपाली ममी की तरह आप भी रोज मेरा लुंड चूसने वाली हो

सोनाली: हाँ बिलकुल… पहले मेरे पास कोई ऑप्शन नहीं था लेकिन अब तुम हो न. जब मैं करेगा तुम्हे बुला लुंगी या फिर मैं खुद आ जाउंगी.

निल: आप खुद आओगी?

सोनाली: हाँ… सालो से बहुत भूखी हूँ और तुम्हारे मां को सलौली सलौली छोड़ना बड़ा पसंद है. वो मुझे छोड़ते वक़्त बहुत रोमांटिक हो जाते है. मुझे वो पसंद है लेकिन जो मजा वाइल्ड सेक्स में है वो रोमांटिक में कहा

निल (मजाक करते हुए): हाँ ये तो सही कहा आप ने. चलो आपने लुंड चूस लिया न अब सो जाते है

इतना बोल के मैं सोने लगा तो ममी ने रोकते हुए कहा

सोनाली: मैंने अभी तुम्हारे लुंड को टास्ते किया है इसलिए जब तक मैं तुमसे छुडवाउंगी नहीं तब तक तुम्हे सोने नहीं दूंगी. वेट मैं अभी आयी

सोनाली ममी वाशरूम जाकर अपना मुँह धोकर आ गयी. वो दरवाजा लॉक करने ही वाली थी के दीपाली ममी बैडरूम में आयी.

दीपाली ममी (दोनों को हाथों को अपनी कमर पर रख के सेक्सी ाड़ाः के साथ): क्या बात है निल तुमने तो हम दोनों बहनो को झट से पता लिया हाँ. और सोनाली को तो एक ही दिन में अपना लुंड चूसने पर मजबूर कर दिया

निल (शरमाते हुए): हाँ वो…

सोनाली: दीदी ये सब बातें बाद में कर लेना अभी मुझे इससे छुड़वाना है आप बहार जाओ जल्दी

दीपाली (सोनाली को छेड़ते हुए): हाँ हाँ मुझे ही बहार निकालो… लेकिन निल आज इसे ऐसे छोड़ना के पुरे घर में आवाजे सुनाई देनी चाहिए. इसके अंदर बहुत आग है रात भर इसे सोने मत देना

इतना बोलकर वो चली गयी और सोनाली ममी ने रूम लॉक कर दी. ममी मेरे पास आकर फिर से मुझे किश करने लगी उन्हें छुड़वाने का मूड था इसलिए वो मुझे गरम कर रही थी. मैंने उनकी निघ्त्य में हाथ डालते हुए सेहला रहा था. कुछ देर बाद मैंने उनकी निघ्त्य को उतर दिया. ममी ने अंदर सिर्फ पंतय डाली हुई थी. उनके बूब्स मेरे सामने आते ही मेरी आँखें बड़ी बड़ी होकर बूब्स को घूरने लगी. मैंने झट से अपने दोनों हाथों से बूब्स को पकड़ लिया और सहलाने लगा.

ममी (सिसकारियां लेते हुए): आह्हः अह्ह्ह्ह अच्छे से दबाओ इन्हे…आह्हः उम्म्म एस्सस

ममी के बूब्स बहुत ही खूबसूरत थे और गोर भी. उनके बूब्स पर लगे हुए निप्पल्स चेरी की तरह लग रहे थे. बूब्स को दबाते हुए मैं उनकी गर्दन पर किश और लीक कर रहा था.

कुछ देर बाद मैंने बूब्स को किश करना शुरू किया. बूब्स बड़े ही मजेदार थे मुझे उन्हें किश करने में मजा आने लगा था. बूब्स को दबाते हुए मैंने उन्हें मुँह में लेकर चूसना चालू कर दिया और ममी जोर जोर से सिसकारियां लेने लगी. वो अपनी कामवासना को एन्जॉय कर रही थी. जब मैं बूब्स को चूस रहा था तब वो मेरे बालो को सेहला रही थी.

कुछ देर तक बूब्स को चूसने के बाद मैंने उन्हें बीएड पर लिटा दिया और उनके गोर चिकने पेट पर हल्ला बोल दिया. ममी बहुत गोरी थी और उनका पेट भी चमक रहा था. मैंने उनके पेट को किश करते हुए जीभ से चाटने लगा. ममी मेरी हरकतों को बर्दाश नहीं कर प् रही थी. उन्होंने अपने दोनों हाथों से बेडशीट को कास के पकड़ रखा था और मेरा नाम ले रही थी.

ममी: आह्हः नील उफ्फ्फ बड़ा मजा आ रहा हैई मुझी आह्हः ऐसे ही करते रहो आह्हः मीय बाबीयीय आह्हः ओह्ह्ह गोड्ढ यू ारी ामजीनगगगग आह्हः.

उनकी नाभि में मैंने जीभ दाल दी और उसे चाटने लगा था. एक हाथ को उनके तइस पर रखा और सहलाने लगा. ममी की तो हालत ख़राब हो चुकी थी वो बिलकुल मछली की तरह तड़प रही थी. मैंने उनकी पंतय की तरफ देखा तो वो बिलकुल गीली हो चुकी थी.

ममी: आह्ह्ह्ह प्लीज मुझे और मत तड़पाओ निल आह्हः मुझे जल्दी छोड़ो आह्हः मैं और रुक नहीं सकतीई आह्ह्ह्ह डाल्दो अपना लुंड मेरे अंदर और जोर जोर से छोड़ो मुझी.

मैंने उनकी पंतय को उतर के फेक दिया. ममी की छूट से कामर्स की नदी बह रही थी. मैंने अपनी उँगलियों से छूट के होंठों को सहलाने लगा तो ममी ने कास के मेरा हाथ पकड़ लिया. वो कितना एन्जॉय कर रही थी वो साफ़ समझ आ रहा था.

ममी: आह्हः बबयय प्लीज मुझे छोड़ो ना आह्हः और कितना तडपाओगी डाल्दो अपना लोहे जैसा लुंड मेरे अंदर और बना लो मुझे अपनी बीइइइ आह्हः आज मुझे रात भर चोद के अपनी बीवी बना लो ना

मैं समझ गया था के ममी कामवासना के नशे में डूब चुकी है और उन्हें पता ही के वो क्या बोल रही है. उनकी ये हालत मुझसे देखि नहीं जा रही थी और उनकी नाजुक सी छूट को देखने के बाद मैं रुकना चाहता था. मेरा लुंड भी लोहे की तरह सख्त बन चूका था.

आज मैं ममी को अपने लुंड की ताक़त दिखा के छोड़ना चाहता था. वो खुद मुझसे छुड़वाने की ज़िद करे मैं ऐसे उन्हें छोड़ना चाहता था.

मैंने ममी को देखते हुए अपने लुंड को सेहला रहा था. मेरा हथियार बिलकुल तैयार था और ममी को इस तरह नंगा देखकर मेरे अंदर का जोश आग की तरह बहार आ रहा था.

अगले पार्ट में पढ़िए मैंने सोनाली ममी को चोद के उनकी हवस को शांत किया.

इस पार्ट में सोनाली ममी और मेरा रोमांस आपको कैसा लगा मुझे मेल करके जरूर.

लड़कियां और मैरिड लेडीज भी मुझे मेल करे आपकी प्राइवेसी का ख्याल रखा जायेगा.

तो बे कॉन्टिनोएड…

[email protected]

यह कहानी भी पड़े  दिल्ली की मच्योर लेडी मीनल की चुदाई

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!