बॉटेनी वाली माँ की चूत और गांद माल से भारी

28 अक्टोबर 2022 की बात है. उस दिन मैं कॉलेज में था. बाल्कनी में खड़े हुए हवा खा रहा था, की मैने 2 सीनियर्स के लिपलोक्क करते हुए देखा, और मेरा लंड खड़ा हो गया. मैं ज़्यादा कंट्रोल ना करते हुए मूठ मारने के लिए बातरूम की और चल पड़ा. बातरूम जाते रास्ते में बॉटेनी लब आती है.

बॉटेनी माँ का नाम है स्मिता. वो कॉलेज की सबसे स्ट्रिक्ट टीचर है. उनकी आगे 30 के आस-पास है. वो शादी शुदा है, लेकिन कोई बच्चे नही है उनके. मीडियम से थोड़े बड़े बूब्स है उनके, और स्लिम फिगर है.

बॉटेनी माँ ने मुझे बुला के कहा: बॉटेनी डिपार्टमेंट रूम से सिंपल माइक्रोस्कोप लाना.

मैं एक हाथ में लेकर आया तो माँ बोली: दो हाथ में पाकड़ो, वरना गिर जाएगा.

मैं च्छूपा रहा था लंड को तो मैने हाथ नही हटाया.

माँ फिर बोले: हाथ वाहा से क्यूँ नही उठा रहे हो? क्या हुआ है?

माँ ने ज़बरदस्ती मेरा हाथ हटा दिया तो मेरा खड़ा लंड पंत के उपर से नज़र आया.

फिर माँ बोली: बेशरम!

मैने खा: थोड़ी ना आपको मेरा हाथ हटाने को कहा था वाहा से. मैं तो बातरूम जेया रहा था, मूठ मार कर वापस आ जाता. लेकिन आपने यहा बुला लिया. फिर मुझे ही बेशर्म कह रही है. अब मेरा बैठ रहा है. मूठ मार दीजिए मेरी, वरना यही लब में हिलौँगा.

माँ बोली: बेशरम, टीचर के सामने ऐसे बोल रहा है.

मैने कहा: कॉलेज है ये, स्कूल नही जो आप लोगों की बातें सुनू.

मैने डोर लॉक कर दिया.

माँ बोले: ये क्या कर रहे हो? फिर मैने अपना पंत उतार दी, और माँ के पास जेया कर खड़ा हुआ.

माँ बोले: मैं कुछ नही करूँगी. तुम बाहर निकलो यहा से.

मैने कहा: बिल्कुल नही.

फिर माँ के हाथ में मेरे लंड को पकड़ाया.

माँ बोले: ठीक है, बस मूठ मार दूँगी, और कुछ नही.

फिर माँ मेरा लंड पकड़ कर हिलना शुरू की. मैं बस आ आ आहह कर रहा था.

माँ फिर बोले: जब स्पर्म निकालने वाला हो बताना, वरना मेरे मूह में…

माँ आधा ही बोले थे, की मेरा स्पर्म माँ के फेस पे निकल गया.

फिर उन्होने मुझे गुस्से से देखा और बोली: पहले से नही कह सकते थे?

सारा स्पर्म मेरे मूह में निकाल दिया.

मैं कहा: जब निकल चुका है, तो चूस कर सॉफ भी कर दीजिए.

माँ बोले: और कुछ नही, माना किया था ना. टीचर हू तेरी, तेरे साथ मूह लगी, आर्ग्युमेंट किया, ग़लती हो गयी. इसलिए मूठ मार दी. किसी से नही कहना. अब फिर चूसने बोलॉगे तो चूस लूँगी, तुम ये सोच रहे हो.

माँ ने फिर टिश्यू पेपर से स्पर्म सॉफ कर रही थी अपने फेस से. तभी मैने एक-दूं से मेरा लंड माँ के मूह में डाल दिया, और उनके बालों को पकड़ कर आयेज-पीछे करते हुए चुस्वता रहा. माँ कुछ कर भी नही पाई.

वो भी फिर आँखें बंद करके ब्लो जॉब करने लगी. माँ को अब जोश चढ़ गया था. उन्होने फिर मेरी आधी खुली पंत को पूरा खोल दिया, और मेरी शर्ट भी खोल कर पूरा नंगा कर दिया. फिर माँ की सारी को भी मैने खोल दिया.

माँ का ब्लाउस और पेटिकोट भी खोल दिया. वो अब बस ब्लॅक ब्रा और पनटी में थी. माँ बहुत सेक्सी लग रही थी. मैं अपना फोन का कॅमरा ओं किया, और माँ के साथ वैसी ही हालत में फोटो ली, माँ के दूध दबाते हुए.

माँ बोली: फोटो का क्या करोगे?

मैं कहा: आपके साथ सेक्स करूँगा. मेमोरी के लिए तो रखना पड़ेगा ना.

फिर मैने वीडियो रेकॉर्डर ओं करके मोबाइल इस तरह से सामने रख दिया, माँ को जिससे पता ना चले, की रेकॉर्ड हो रहा था. माँ की ब्रा को मैने खोला, और पनटी को भी खोल दिया. उनके दूध मीडियम से थोड़े बड़े थे.

मैने माँ को टेबल के उपर बिता दिया, और उनके साथ लीप किस करना शुरू किया. माँ भी बहुत ही जोश के साथ किस कर रही थी. फिर माँ के दोनो दूध के बीच लंड रखते हुए रगड़ते रहा, उपर-नीचे उपर-नीचे. माँ को भी मज़ा आ रहा था. फिर माँ के दूध को दबाते-दबाते पीने लगा.

कम से कम 10-15 मिनिट उनके दूध के साथ खेलने के बाद, मैने माँ को पीछे की और पलताया, और माँ की गांद में एक स्पॅंक शॉट मारा. माँ चीख पड़ी, और माँ की गोरी गांद लाल हो गयी. मैने फिर माँ की गांद में लॉडा डाल कर धक्के मारना शुरू किया. माँ ने धीरे-धीरे आहह आ की आवाज़े निकलनी शुरू की. मैं और ज़ोर से धक्के देते रहा.

माँ बोली: स्पर्म बाहर छ्चोढना. गांद में, या छूट में, कही मत डालना.

माँ बोलती रही, लेकिन मैने फिर भी माँ की गांद में स्पर्म निकाला.

वो बोली: माना करने के बाद भी स्पर्म निकाल दिया ना. जेया अब और छोड़ने नही दूँगी. छ्चोढ़ मुझे.

माँ उठने वाली थी, की मेरा लंड माँ की गांद में होने के कारण मैने उन्हे कस्स के पकड़ के रखा, और अपने लंड को और प्रेशर दिया ताकि माँ को दर्द हो.

माँ बोले: क्या कर रहे हो? छ्चोढो मुझे.

मैने उनकी बात नही सुनी, और ज़ोर से धक्के मारे.

माँ ने कहा: इतना ज़ोर से क्यूँ छोड़ रहे हो? मेरी गांद फटत जाएगी. छ्चोढ़ दो मुझे.

मैने कहा: तू स्टूडेंट्स पे इतना गुस्सा क्यूँ करती है?

माँ ने कहा: सॉरी, मैं और कभी गुस्सा नही करूँगी. रात भर पति मुझे सुख नही दे पाते, इसलिए उनके गुस्से को स्टूडेंट्स पर उतारती हू.

मैने कहा: मैं भी तुझे तब तक छोड़ूँगा, जब तक मेरा गुस्सा शांत नही होता.

माँ बोले: छ्चोढ़ दो अब, बहुत दर्द हो रहा है.

मैने कहा: तेरे पति जो सुख नही देते, वो तो मिल रहा है ना, फिर भी माना कर रही है.

माँ ने कहा: मज़ा तो आ रहा है. लेकिन इतना मोटा लंड से नही पा रही हू. मेरी गांद फाड़ दी तूने आज.

मैने कहा: ओह, जितना दर्द होगा, उतना मज़ा आएगा. बस मेरा साथ दे, और गांद हिला. ताकि लंड घुस कर निकले.

तो मैने और ज़ोर-ज़ोर से माँ की गांद में धक्के मारे, और सारी बॉटेनी लब बस सिसकियों से गूँज रही थी. फिर थोड़ी देर बाद मैने कहा-

मैं: बस छूट में डालने दे, फिर छ्चोढ़ दूँगा.

माँ बोले: मुझे पता है तू फिर मेरी छूट में स्पर्म निकालेगा. आज मत कर, कल कॉंडम लेके आना. तो कल छूट में डालने दूँगी.

मैं बोला: मेरे साथ एक बच्चा कर ले, क्या हो जाएगा?

माँ बोले: मैं थोड़ी ना तेरी पत्नी हू, जो तेरे बच्चे को मैं जानम डू.

मैं कहा: मैं थोड़ी ना तेरा पति हू. लेकिन छोड़ तो रहा हू. वैसे भी तेरा कोई बच्चे नही है. बच्चे कर लेना, तेरा पति ही तो बाप होगा उसका. मुझे कॉंडम लगा के करना अछा नही लगता.

माँ बोले: ठीक है ठीक है. मैने फिर माँ को पलताया, और उनकी छूट में मेरे लंड को रग़ाद कर झट से अंदर डाल दिया. माँ आ आ करके चीख पड़ी.

वो बोले: कितना मोटा है रे तेरा. छूट फाड़ देगा.

माँ बोले: ज़रा धीरे मार.

मैने कहा: धीरे मारने से थोड़ी ना मज़ा आएगा.

कहते-कहते मैने लंड को माँ की बर में धकेल दिया. मैने फिर धक्के मारना शुरू किया. माँ अब आ आ श चिल्ला रही थी. वो जितनी सिसकियाँ ले रही थी, मैं उतनी तेज़ छोड़ रहा था.

माँ से पूछा: अब कभी स्टूडेंट्स के उपर गुस्सा नही करेंगी ना.

उन्होने कहा: नही, अगर किसी दिन कर लिया, तो वो गुस्सा मेरी गांद पर उतार लेना तुम. मेरी गांद तुम्हारे लिए है.

10-15 मिनिट छोड़ने के बाद मैने सारा स्पर्म माँ की रसीली छूट में निकाल दिया.

माँ ने फिर बोला: आख़िर-कार मुझे मा बना के ही छ्चोढेगा.

फिर माँ के उपर कुछ समय के लिए लेट गया. उसके बाद माँ के मूह में मेरे लंड को डाल दिया, और माँ ने पुर मज़े से चूसा, और मेरा स्पर्म भी पिया.

माँ बोले: 5 साल हो गये कॉलेज में पढ़ा रही हू. आज तक किसी ने ऐसा नही किया था. पहली बार किसी स्टूडेंट ने ऐसा किया है. मेरे घर पे आ सकते हो बॉटेनी कोचैंग के लिए? आज तूने बहुत मेहनत की है. आज मेरे घर चल, लंच करके जाना.

मैने फिर उठ कर वीडियो रेकॉर्डर ऑफ कर दिया.

माँ फिर बोले: अंदर बातरूम है, जेया कर फ्रेश हो जाओ, और ड्रेस पहन लो.

फिर मैं और माँ दोनो बातरूम जेया कर फ्रेश हो कर आए, और न्यूड्स में दोनो ने सेल्फिे ली. फिर ड्रेस पहन के हम दोनो कॉलेज से चले गये. लोवे योउ स्मिता माँ.

यह कहानी भी पड़े  भाभी को चोद कर उसका अकेलापन डोर करने की कहानी


error: Content is protected !!