मेरे और दीदी के बूब्स

हम तीन बहनों में से मेरी और मेरी बड़ी बहिन आरती की बहुत जमती है. हम दोनों कई बातें शेयर करते थे, और एक दिन दीदी ने बताया की वो अपने ऑफिस के एक लड़के के साथ प्यार करती हैं और वो दोनों शादी करने चाहते हैं. फिर क्या था, २ महीने के अन्दर सब कुछ तय हो गया. मम्मी पापा भी तयार थे, आख़िर अमन जीजू थे भी smart और अच्छी नौकरी भी. दिसंबर २००६ में दोनों की शादी हुयी.उस दिन जीजाजी २ दिन के लिए बंगलोर जा रहे थे, कोई ऑफिस की मीटिंग थी वहाँ पर. मैं और आरती दीदी ही घर पर

अकेले थे. दीदी अपने रूम में थीं और मैं अपने रूम में थी. कुछ देर बाद दीदी ने मुझे अपने रूम से आवाज दी. मैं

उनके रूम में पहुँची तो देखा की वो बाथरूम में थीं, वहीँ से बोली, नेहा, यहाँ आना और जरा अपनी कोई एक ब्रा

मेरे को देदे. मेरी वाली साड़ी कसने लगीं हैं. मेरे बूब्स दीदी के बूब्स से शुरू से बड़े रहें है और मेरा

ब्रा का नम्बर उनकी ब्रा से बड़ा था, मैंने अपने कमरे मे से एक ब्रा निकाल कर बाथरूम के दरवाजे को खटखटाया.

दीदी ने दरवाजा पूरा खोल दिया. दीदी पूरी नंगी खड़ी थी. में थोड़ा सकपका गयी. शादी के बाद पहली बार उन्हें पूरा

बिना कपड़ों के देखा था. शादी से पहले तो हम लोग कपड़े बदलते समय या नहाते समय एक दुसरे को कई बार देख ही

चुके थे, यहाँ तक की मैं और आरती दीदी तो साथ ही नहाते थे. पर आज उन्हें शादी के बाद ऐसे देख कर मुझे ही शर्म

सी लग रही थी और दीदी इस बात को पहचान गयीं और कमेंट मारते हुए बोलीं, क्या हुआ नेहा, शर्म आ रही है क्या,

पहले कभी ऐसे नही देखा क्या?मैंने कहा, “नही दीदी , ऎसी कोई बात नही , बस ऐसे ही….अब तो वैसे भी जिजू की प्रोपेर्टी हो आप तो…!” और

यह कहानी भी पड़े  चचेरी बहन के साथ रंगरेलियाँ

वो हँसने लगीं. चलते समय मैंने महसूस किया की दीदी के स्तनों मैं काफ़ी बदलाव आ गया था, वो पहले से काफ़ी

उन्नत और अच्छे दिख रहे थे और चुचुक भी बड़ी हो गयी थीं…मन मे आया और दीदी से पूछ ही डाला, “दीदी ये आपके

बूब्स में अन्तर कैसे आ गया..?

“अरे जब तेरे जिजू इन्हे रोजाना दबा दबा कर मालिश करेनेगे तो ऐसे ही हो जायेंगे न..! तेरे जिजू को बहुत पसंद

हैं यह..! और जब वो इनको दबाते हैं तो मजा भी बहुत आता है.” दीदी ने पानी के फव्वारे को चालू करते हुए

बोला…मैंने पूछा “तो इसका मतलब दीदी , मेरी शादी के बाद मेरे भी बड़े हो जायेंगे?”

“हो सकता है…दीदी ने जवाब दिया. इसके बाद मैं उनके कमरे से वापस आ गयी. अपने कमरे मैं आकर मैंने अपना टॉप उतार और ब्रा भी, उसके बाद शीशे के सामने जाकर गौर से अपने बूब्स पर नजर डाली, मैं सोचने लगी की जब अभी इतने हैं तो शादी के बाद क्या होगा, जैसा की दीदी ने बताया..जब मेरा पति इन्हे दबाया करेगा तो क्या यह भी बड़े हो जायेंगे.?”

तभी अचानक पूजा का फ़ोन आ गया..उसका जन्मदिन था और उसने शाम को पार्टी मैं बुलाया था.पूजा की जन्मदिन पार्टी में आने से पहले मैंने दीदी से उनका डिजिटल केमरा ले लिया था और समय से थोड़ा पहले ही पूजा के घर पहुँच गयी. पूजा के कमरे मैं हम तीन फ्रेंड बैठे थे. मैं, पूजा और मानसी. हम तीनो अपने कॉलेज के बारे मैं बातें कर रहे थे और मैंने अचानक उन लोगों को दीदी वाली बात बता दी कि शादी के बाद बूब्स पर क्या असर होता है, और तभी मानसी तपाक से बोली, “अरे तेरे जिजू रोजाना उन्हें मसलते होंगे, दबाते होंगे, अगर अच्छी तरह मसाज हो जाए तो बदेंगे हीं!”मैंने उस से पूछा कि तुझे कैसे पता? तो उसने बताया कि उसका boyfriend अनिल ऐसे ही करता है. मैंने कहा, तुम लोगों को ये सब करने का समय कब मिल जाता है? पूजा बोली, लो समय का क्या है, जब मैं कॉलेज से लौट ती हूँ उसके साथ कार में, तो हम दोनों अकेले ही तो होते हैं..!”

यह कहानी भी पड़े  ज़मींदार और मेरी मॉं की रंग रलियान

“तो क्या तुम लोग रोजाना सेक्स करते हो?” मैंने आश्चर्य से पूछा, और उसने कहा, “अरे नही…में उसे ज्यादा कुछ नही करने देती, अगर एक दो बार उसने पूरी तरह से मेरे साथ सेक्स कर लिया तो क्या पता कल को मेरे को छोड़ किसी दूसरी को पकड़ लिया तो ?” और उसकी यह बात सुनकर हम तीनो हँसने लगे.

खैर पूजा के जन्मदिन पर मैंने कई सारे फोटो खींच डाले॥और फिर ज्यादा रात होने से पहले मुझे घर पर भी पहुंचना था।में पूजा के घर से ९ बजे निकल ली. घर पहुँच कर खाना खा पीकर मैं और दीदी मेरे कमरे में ही लेट गए थे. दीदी ने कहा , “नेहा जरा पूजा के जन्मदिन के फोटो तो दिखाओ !” मेने केमरा पर्स मे से निकला और ओन करके टीवी में जोड़ दिया. और रिमोट कंट्रोल से केमरा operate करने लगी. और मेरे होश जब उड़ गए जब उसमे फोटो कि शुरुआत दीदी के हनीमून के फोटो दिखने लगे. असल में दीदी को जिजू ने कहा था कि वो फोटो डिलीट कर देनेगे कैमरे में से…पर ऑफिस जाते समय ऐसा करना भूल गए और केमरा में पूजा के यहाँ ले गयी और अब वो सारे फोटो सामने टीवी पर दिख रहे थे. दीदी बेचारी शर्म से लाल हो गयी थीं और जोर जोर से हँसे जा रही थी… और में बिल्कुल मूर्ती कि तरह जड़ हो गयी थी.

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!