मॉं ने अपनी बेटी की चुदाई बाय्फ्रेंड से

हेलो फ्रेंड्स, करीब ५ साल पहले मैं अपने पति के साथ उनके दोस्त के भाई की शादी में गयी थी और वहां अक्सिदेंटली उस से चुद गयी. वैसे तो मैं अच्छी फॅमिली से हु, लेकिन मैं बहक गयी थी तब और मुझसे गलती हो गयी थी. उसके बाद तो मेरे यार यानि मेरे पति के दोस्त ने मुझे कई बार चोदा. हमारे घर आकर और कई बार उसने अपने घर पर बुलाकर मेरी चुदाई की, जब उसकी बीवी घर पर नहीं होती थी.

जब भी मेरे पति कहीं बाहर जाते, तो मेरा यार आ जाता था और मुझे चोद देता था. उस समय मेरे बच्चे ११ और १३ साल के थे और उन्हें सेक्स का ज्यादा ज्ञान नहीं था. जब भी वो आता था, तो मैं उन्हें बाहर भेज देती थी.. मिठाई लेने के लिए या गार्डन में घुमने के लिए. उनके जाने के बाद ही मेरा यार आता और मेरी चुदाई करता. फिर मेरे बच्चे बड़े होने लगे और उनको सब समझ में आने लगा, तो मेरे यार का आना कम हो गया. मेरा यार बार – बार कहता, सुषमा कुछ आईडिया कर. तुझे चोदने में बहुत मज़ा आता है मुझे. पर मैं क्या करती. सेफ्टी पहली चीज़ होती है. मेरा यार नाराज़ रहने लगा मुझसे. २ साल ऐसे ही निकल गए. बहुत कम चुदाई हुई मेरी.

अरे आप भी सोचेंगे कि कैसी औरत है अपने बारे मे तो कुछ बताया ही नही दोस्तो मेरा नाम सुषमा गुप्ता है और मैं एक हाउस वाइफ हु 42 साल की. मेरा साइज़ ३६ – ३२ – ३८ है और मेरी हाइट ५.३ है. मैं दिल्ली में रहती हु और मेरे हस्बैंड के टीचर है. हमारे २ बच्चे है एक लड़का और एक लड़की. लड़का 20 का है और बाहर हॉस्टल में रह कर पढाई कर रहा है पिछले दो साल से और बेटी 18 साल की है और वो भी स्टडी कर रही है.

यह कहानी भी पड़े  माँ के चुदाई के साथ भाभी फ्री मिली

फिर मेरा बेटा १२थ पास करके इंजीनियरिंग में चला गया और हॉस्टल में रहने लगा. अब बेटी 18 की हो चुकी थी और घर में ही रहती थी. उसे मैं कभी – कभी बाज़ार भेज देती थी और अपने यार को घर पर बुला लेती थी. मेरा यार आ जाता और मेरी चुदाई करके चले जाता था. पर बड़े लड़की को हर बार बाहर भेजना ठीक नहीं था. इसलिए मैंने उसे बहुत कम कर दिया बाहर भेजना. एक दिन सैटरडे को मेरा यार मेरी चुदाई कर रहा. मैंने उसके ऊपर थी और वो नीचे था.

कभी – कभी मैं सिर को नीचे करके उसको किस भी कर रही थी. फिर उसने मेरे सिर को अपने मुह के बिलकुल पास लाया और रुक गया और मेरे से बातें करने लगा. उस समय उसका लंड मेरी चूत के अन्दर ही था. वो बोला – सुषमा, बुरा मत मानना, तो एक बात कहू? मैंने उसको कहा – क्या? उसने कहा – एक आईडिया है. जिस से हम ज्यादा मिल सकते है. मैंने कहा – बताओ. उसने कहा – हम कम क्यों मिल पाते है, बताओ तो…

मैंने कहा – ताकि, मेरी बेटी को पता ना चले. उसे कुछ डाउट ना आ पाए. इसलिए हम कम मिलते है. तो यार बोला – अगर बेटी को पता हो जाए. तो फिर मिलने में क्या प्रॉब्लम. उसके रहते हुए भी मिलेंगे कभी भी. मैंने कहा – वो तो एक छोटी बच्ची है. अगर किसी को बता दिया तो? यार बोला – वो नहीं बताएगी. अगर थोड़ा सा और आईडिया किया तो. मैंने कहा – क्या? तो वो बोला – देख, तेरा ५- ६ साल से यार है. क्कभी कोई परेशानी हुई? या तेरा कोई नुक्सान किया? मैंने कहा – नहीं तो. फिर बोला – बात सीरियस है और नीचे से एक धक्का दिया और मुझे किस करके बोला – अच्छे से सुन. मैंने कहा – बताओ. यार ने कहा – देख तू बुरा मत मानना. ये आईडिया हम दोनों को बहुत चांस देगा.

यह कहानी भी पड़े  बहू की चुदाई की बूढ़े सासुर ने खेत मे

फिर बहुत मजा भी आएगा. बाद में मैंने कहा – ओके. मुझे बोलो तो सही. मैं बुरा नहीं मानूगी तुम्हारी बात का. उसने ३ -४ धक्के दिए और मुझे फिर किस करके बोला – तू १ दिन बेटी और मुझे अकेला छोड़ कर बाजार या किसी सहेली के घर चली जाना. मैं तेरी बेटी से बात करूँगा. मैंने गुस्से में कहा – क्या बात करोगे? कि मैं तेरी माँ से मिलना चाहता हु? फिर वो बोला – नहीं सुषमा, ऐसे नहीं करूँगा मैं. तू सुन तो ठन्डे दिमाग से. मैं बोली – ओके. सुनाओ. वो फिर बोला – मैं उसको करीब लेकर उसके बूब्स पर हाथ रखने की कोशिश करूँगा.

और फिर किस करके आगे बढूँगा. फिर वो मेरे बूब्स दबाने से और उसके साथ छेड़ने से वो गरम हो जायेगी और मैं धीरे – धीरे से उसे चोद दूंगा. वो १ बार चुद जायेगी, तो अपना काम हो जाएगा.. फिर कभी तुझे बेडरूम में ले जाऊंगा और वो भी घर पर ही रहेगी और फिर ये बात किसी को भी नहीं बता पाएगी. उसकी इस बात को सुनकर मैं सोच में पड़ गयी. इतने में उसने नीचे से हलके २ धक्के मार दिए और मुझे किस करने लगा. फिर उसने मुझसे पूछा – चुदाई में मज़ा आ रहा है ना? उस समय मैं बहुत हॉट थी, जैसे लोग नशे में हॉट होते है. मैंने कहा – बात तो ठीक है पर ऐसे कैसे होगा? मैं भी तो कर सकती हु.

Pages: 1 2 3 4

error: Content is protected !!