माँ को चोदने कि तमन्ना हुई पूरी

हेलो मेरा नाम यश है मैं कानपूर का रहने वाला हूँ मेरी उम्र 24 साल है। कानपूर कि किसी भी लड़की या लेडीज को किसी भी प्रकार कि जरुरत हो वो मुझे मेल कर सकती है आपका नाम पता गोपनिय रखा जाएगा। ज्यादा टाइम ना लेते हुए मैं सीधा कहानी पे आता हूँ।

ये कहानी आज से 1 साल पहले कि है मेरी मॉम बहुत हे सीधी साधी घरेलू औरत है लेकिन उनकी ख़ूबसूरती देख कर किसी का भी उनको चोदने का करने लगे रंग गोरा काले बाल और फिगर 36 34 36 का है मेरे पापा का बिज़नेस है वो अब ज्यादा टाइम माँ को नहीं देते अब उनके बीच सेक्स भी ज्यादा नहीं होता मैंने कई बार मॉम को अकेले उंगली करते देखा है जब से मैंने उन्हें ऊँगली करते देखा तभी से मैं उन्हें चोदने कि कोशिश करने लगा हूँ वो नहाते टाइम अपनी चुत मे उंगली किया करती थी और कभी कभी रात को पापा से लड़ते हुए भी देखा आप सभी लड़कों को तो पता ही होगा कि उनको सबसे पहले अपनी माँ पे ही हवस आती है।

अब मैं थोड़ा अपने बारे मे बता देता हूँ मैं फिट हूँ गोरा हूँ मेरा लण्ड का साइज 6 इंच है।

मेरी फॅमिली मे मेरी बहन राधिका, माँ अंजलि , पापा है 4 लोगों कि छोटी सी फॅमिली है।

मैं अपनी माँ को चोदना चाहता था मेरी हवस उसके लिए दिन पे दिन बढ़ती जा रही थी मुझे सपने मे भी उसकी गांड दिखाई देने लगी थी।

उसे मैंने कई बार उसे नहाते हुए देखा था जिस्से मै उसके दूध और गांड देख के वहीं बाथरूम के बाहर खड़े होके हिला लिया करता था लेकिन कभी ऐसा मौका नहीं मिला जिससे कि अपनी माँ कि चुत चोद पाऊ लेकिन कहते है न् कोशिश करते रहो तो मौका ज़रूर मिलता है।

मेरे बहन का चक्कर एक लड़के के साथ चलने लगा ये बात मुझे पता चल गई मैंने अपनी माँ पर बहुत गुस्सा किया बहुत ड्रामा किया लेकिन मेरी माँ ने पापा को नहीं बताने दिया क्योकि मेरे पापा से उन्हें बहुत डर लगता था वो बहुत मारते थे उन्हें इसी बात का मैंने फायदा उठाया।

मेने कुछ दिनों के बाद एक न्यू सिम लेके अपनी माँ को मैसेज किया कि मे तेरे पति को तेरी बेटी कि करतूत के बारे मे सब बता दुगा वरना जहां बता रहा उस जगह पे पहुच जा और् मै तुझे चोदुगा ये सुन के वो रोने लगी और मेसज करके हाथ पैर जोड़ने लगी।

मैं नहीं माना और उसे धमकी देता गया और आखिरी मे उसने हाँ कह दिआ और बोली मैं आ जाऊगी पर मेरी बदनामी ना करना मैं समझ गया कि मेरा काम हो गया। फिर मैंने 2 दिन बाद उसे अपने रूम मे बुलाया और बोला कि मेरे पास किसी ने तुम्हारी करतूत भेजी है कि कैसे तुम किसी से मिल के चुदवाने वाली थी।

उसने मुझे पूरी कहानी बताई और वो उसे देख के रोने लगी और कहने लगी ये गलत है और मैंने उसको थप्पड़ मारे बोला रंडी मदरचोद तू ही सब बर्बाद किए है बेज्जती करा रही छिनाल बाहर चुदाने जाएगी अब वो रोने लगी कहती मेरी गलती नहीं है।

मैंने बोला वोतो पापा बताएगे किसकी गलती है उसकी गांड फैट गई ये सुन के और मेरे पैर पे गिर गई फिर मेने उसके बाल पकड़ के उठा के बेड पे पटाक दिए और बोला बहुत चुदासी है ना आज देख कैसे तेरी चुत का भोसडा बनता हूँ।

वो मुझसे मांगी मागने लगी मैंने अपने कपड़े उतार के नंगा हो गया और उसे घसीट के उसको साड़ी उतार् दी उसका पेटिकोट भी फाड़ दिया ब्लाउज उतर दिया।

अब वो सिर्फ ब्रा और पैंटी मे थी अब वो भी समझ चुकी थी कि उसकी चुत से निकला लण्ड उसकी चुत फाड़ के हे रहेगा। अब उसने रोना बंद कर दिए था मैंने उसको इसारा किया और लण्ड चूसने को कहा।

वो चुप चाप एक रंडी कि तरह मेरा लण्ड चूसने लगी। उस टाइम जो फीलिंग आ रही थी बता नहीं सकता यारों।

फिर मैंने उसको होठों को चूमना शुरू किया वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी। उसकी ब्रा उतार के मैंने इसके गोरे दूध दबाना शुरू किया वो पागल हुई जा रही थी। फिर मैंने उसको लिटाया और पैंटी फाड़ के हटा दी जाटों से भरी चुत चाटने लगा वो और तेज आवाज़ निकालने लगी आह आह।।। बेटा यश मर गई अब चोद दे मेरी प्यास तूने जागा दी।।। आज तेरे बाप ने तो चोदना बंद ही कर दिए अब मत तडपा आह आह ऊह आह ऊह चोद दे अपनी माँ को।

मैं उसकी चुत चाट रहा था और उसकी चुत मे उंगली डाल रहा था बीच बीच मे उसकी झांट के बाल खींच देता। जिससे कि वो चिल्लाने लगती दर्द कि वज़ह से फिर मे उठा और अपना 6 इंच का लण्ड माँ कि चुत मे डाल दिया और ज़ोर ज़ोर से झटके मरने लगा ।

वो चिल्ला रही थी बेटा मर गई धीरे धीरे कर और मुझे कसके पकड़े थी मे उसे चोदे जा रहा था और साथ ही साथ उसके दूध दबा रहा था।

20 मिनट के बाद् मेरा जब निकलने को हुआ तो मे उठा और उसके मुँह मे लण्ड डाल के उसका सर पकड़ के कसके उसके मुँह मे डालने लगा। जिससे मेरा पानी उसके मुँह मे निकल गया।

फिर हम थोड़ी देर लेते रहे उसके बाद मैंने उसको लण्ड चूसने को बोला और वो दोबारा मेरा लण्ड चूसने लगी मेरा लण्ड खड़ा हो गया। फिर मैंने उसकी गांड मरने कि बात कहीं जिसपे वो मना करने लगी तो मैंने जबरजस्ती करके उसे मना लिया।

उसको कुतिया बना के उसकी गांड कि छेद मैं उंगली डाली उसे हल्का दर्द हुआ। उसने फिर मना किया पर मैं नहीं मना और सरसों का तेल लेके आया और उसकी गांड पे लगाया और उसमें खूब मार मार के लाल कर दिआ।

फिर मैंने अपने लण्ड पे तेल लगा के धीरे धीरे करके माँ कि गांड मे डाल दिआ वो दर्द कि वजह से चिल्लाने रोने लगी। मे लगातार उसकी गांड चोदे जा रहा था।

थोड़ी देर बाद उसे भी मज़ा आने लगा और वो भी मज़े लेने लगी। आज तक मेरी गांड मार के ये मज़ा तेरे बाप ने नहीं दिए था और तेज तेज चोद कसके गांड मार मेरी जिससे कि मुझे हमेशा इस दिन कि याद आए मुझे जब मन चाहे चोद दिआ कर बेटे आज से मैं तेरी रखैल हूँ।

तेरी रंडी बहन कि वजह से मुझे तेरा लण्ड मिल गया और चोद मुझे बेटा फिर मे उसे और तेज उसकी गांड मरने लगा 25 मिनट गांड मरने के बाद मेरा पानी उसकी गांड मे हे निकल गया फिर हम वाशरुम जा के नहा के कपड़े पहन के सो गए शाम को उठा तो देखा मेरी माँ पहली बार गांड मरवानी के वजह से अभी भी लंगडा के चल रही थी।

इस्के बाद मैंने कैसे अपनी बहन मौसी और मम्मी कि सहेली को चोदा आगे कहानियो मे बताउगा आप मुझे मेल करके बताए कि पहले किसकी स्टोरी बताऊ आपको

इसके बाद से तो जब मन होता मे उसे चोद देता आगे कहानियो मे आपको बताउगा कैसे मैंने किसको किसको चोदा मेरी फर्स्ट स्टोरी है कई गलतियां हुई होगी उसके लिए माफ़ करना और mail करके बताए स्टोरी कैसी लगी और क्या गलती कि आपका प्यार मिला तो अपनी बहन और कई रिस्तेदारो कि कहानी भी लेके आऊं।

यह कहानी भी पड़े  अंतर्वसना सेक्स स्टोरीस- इतना प्यारा सपना

error: Content is protected !!