मा बेटी की एक साथ चुदाई

हेलो फ्रेंड्स तो कैसे है आप लोग. उम्मीद है होली मे अपनी पिचकारी सही जगह छोरे होगे और जिसको नही मिला वो बातरूम मे याद करके छोरा होगा.

यह स्टोरी मैने एक साल पहले सब्मिट की थी ऑलमोस्ट एक साल लग गयी पब्लिश होने मे इसलिए इसका पार्ट 2 मैने देर से लिखा. जैसे ही आज मुझे मेरे रीडर का फीडबॅक मैल आया. मैने मॅन बना लिया जल्दी से पार्ट 2 दे दूं..

तो बिना ज़्यादा टाइम वेस्ट किए.

पिछला पार्ट – लॉक्कडोवन् मेी ऑनलाइन क्लास-1

कैसे ही सब लंड वेल और छूट वाली. छोड़ते और चूड़ते रहो और सेक्स का मज़ा ले रहो. तो लंड वालों लंड पकड़ के रेडी हो जाओ और छूट वाली पनटी सरका के छूट पे उंगली सेट कर लो.

मेरा नाम आर्यन है और मैं कोलकाता से हू…

अब सीधे स्टोरी पे आता हूँ:-

नेहा की चुदाई मे इतने खो गया था के देखा नही कब उसकी मा (जिसने एकद्ूम सेक्सी ब्लॅक थाइस तक शॉर्ट्स और टाइट टू जैसमे उसकी चूची बाहर आने को बेताब थी. और ब्रा साफ दिख रही थी रेड कलर की है आएसए ड्रेस मे उसकी मा एकद्ूम ज़रीन ख़ान जैसे लग रही थी.) रूम मे आ गयी और हुमारा प्रोग्राम देखने लगी.

उसकी मा के बारे मे बीटीये डू. यह लोग मारवाड़ी फॅमिली से है और उसकी 37 की है पर देखने मे एकद्ूम कड़क माल ज़रीन ख़ान जैसे लगती 36सी- 30- 34. पतली कमर मोटी और भरे हुए बूब्स और हुमेशा जीन्स और टॉप ही पहनती है उसकी मा यहा तक शॉर्ट्स और मिनी स्कर्ट भी. तो अब साँझ ही गये होंगे कितनी बाड़ी माल है वो. अक्सर मैने उनको जिम से आते देखता था और मेरी नज़र उनपे थी.

नेहा मेरा लंड चूसने मे पूरी खोई हुई थी मेरे नीचे आके और सामने मिरर्स मे उसकी मा मुझे दिख गयी थी.

पर नेहा आहह सिर क्या लंड है आपका अहहह चूसने दो आ मज़ाअ आ गया. पॉर्न मोविए जैसा लंड है आपका. बरसो की प्यास बुझ गयी, अब रोज़ आना सिर मेरे घर आप मों के जाने के बाद.. आहह उउंम अहहह उम्म्म्मम उम्म्म सुउउउप्प्प सुउउप्प्प्प सूउप्प्प्प्प्प सूउप्प्प्प्प्प…

मैने भी इग्नोर किया और रिक्ट किया देखता हूँ उसकी मा कब तक नही टोकती है हुमको. और पूरे जोश मे उपर नीचे करके स्किन को टन के मेरा लंड चूसे जेया रही थी और मैं सातवे आसमान पे था.

फिर उसकी मा का फोन रिंग हुआ तो नेहा मूह उपर की तो सामने उसकी मा थी और उसके हाथ मे मेरा लंड और वो पूरी नंगी लंड के नीचे बैठी हुई.

नेहा अपना कपड़े खोजने लगी और बूब्स हाथ से च्छूपा ली.

मेरी थोड़ी गांद फटी थी कुछ कांड ना हो जाए. पर उसकी मा की आँखों मे हवस मैने नाप लिया था.

उसकी मा(काजल)- यह क्या कर रही है तू! रंडी बन ने का शौक है? साली पीठ पीछे यह सब करती है!

नेहा- माफ़ के दो मा ग़लती से हो गया, आयेज कुछ नही होगा प्लीज़ सोररय्यी.. और रोने लगी.

मैं शांत था.

काजल- मेरे तरफ आई और बोली आपको पोलीस मे दूँगी मेरी बेटी के साथ ज़बरदस्ती करते हो!

मैं दर गया- मैने कब ज़बरदस्ती की दोनो की मर्ज़ी से हुआ है.

अब मामला बाढ़ रहा था, मैने सोचा बाध्ता है तो बाधने दो. काजल को शॉर्ट और टॉप मे देख के आएसए ही मेरा लंड टन गया था और नंगा होने के कारण उसको भी लंड दिख रहा था.

मैने बिना देर किए उसकी चूची पकड़ लिया.

काजल- यह क्या रहा है तू, शरीफ समझती थी तुझे!

मुझे थापर मारने का ट्राइ की मैने उसको बेड पे गिरा दिया और सीधा उसके मूह पे बैठ गया.

काजल- आहह लग गया चोर मुझे बचाओ बचाओ…!

नेहा को इशारा किया इसकी पंत उतार, नेहा ने एक झटका मे उतार दिया और उसकी छूट चाटने लगी. फिर काजल धीरे धीरे मदहोश हो गयी और मूह खोल के लंड मेरा अपने आप लेके चूसने लगी.

फिर क्या था, काजल मुझे धक्का देके उठा दी.

काजल- अब देख लंड कैसे चूस्ते नेहा तुझे दिखती हूँ.

और वो मीया खलीफा जैसे मेरा लंड चूसने लगी.

काजल- आहह क्या लंड है तेरा है भत दीनो की प्यासी है बुझा दे मुझे अहाहमम्म्म उम्म्म ह्म्‍म्म्म…

नेहा- आहह बॉल्स को चुस्ती हुई मा चूस ले पूरा मस्त लंड है रंडी बन जेया मा तू अब.

काजल- चुप कर चूसने दे.

नेहा- उफफफ्फ़ क्या चूस रही है यह रंडी..

मैं- दोनो रखैल मेरी ठीक से चूड़ी बॉल्स को छत आचे से.

नेहा ने उसपे चॉक्लेट सरप लाके पूरा लंड और बॉल्स पे डाल दिया.

नेहा- उम्म्म्म उम्म्मा उम्म्म उम्म्म चोकॉलती बॉल्स.. उफफफफफफ्फ़ सिर देखो आपकी रंडी कैसे चूस रही है.. अपनी मा को देख के बोल रही थी.

फिर उसके टॉप और ब्रा उतार दिया मैने, उसकी चूची उफ़फ्फ़.. एक हाथ मे उसकी मा की चूची और एक हाथ मे बेटी की क्या महॉल था.. और दोनो के मूह से छींख अहह ह ह आह आह निपल्स को काश के मोर दे रहा था.

मैं- काजल रंडी चाड मेरे लंड पे.

काजल- ह आ नही नही जेया रहा है आराम से दर्द हो रहा है 7 महीने से नही चूड़ी हो..ह…

मैने एक झटका मे पूरा पेल दिया और 8.6 इंच लंड अंदर जाते है रोने लगी चिल्ला चिल्ला के. मैने बहाराँ की तरह पेल जेया रहा था एकद्ूम फुल स्पीड पे. वो बस ज़ोर ज़ोर से से रो रही थी.

काजल- रुक रुक जेया जेया बहनचोड़ रुक जाआ आहह मार गयी मैं… रुक जेया दर्द हो रहा है.. हरामी निकल लंड.. मार गयी मैंन्ननणणन्.. नेहा इस हरामी को निकालने बोल लुंड़हह अहह अहह अहह अहह आह अहह ह ह अहह अहह…

फिर धीरे धीरे और चिल्लाने लगी और छोड़ छोड़ पर दे मेरी छूट!

मैने बहाराँ तरीके से छोड़ने मे इतना खो गया की उसके अंदर ही अपना माल पूरा भर दिया और उसको पकड़ के लेता. फिर नेहा उठी और लंड को चाट चाट के साथ करके टायारी करने लगी चढ़ने का खुद.

उसके बाद काजल और नेहा को लेता के पूरी शाम छोड़ा और घर पे बहाना बना के मैं उनके घर रहा गया.

वो हफ़्ता भत चुदाई हुई और अभी उसकी मा प्रेग्नेंट भी है, मेरे बचे की मा बनेगी. बीच मे उसका पति आया था तो उसको लगा उसने किया है.. और उसकी बेटी लॉक्कडोवन् के बाद बंगलोरे चली गयी पढ़ने पर टीन महीने भत चुदाई हुई अपनी.

और इस होली मे भी एक मस्त हसीन खेल हुआ, ज़रूर शेर करूँगा आपके साथ बने रहे और प्यार दे.

मुझे प्लीज़ फीडबॅक ज़रूर दे.

और कोई कोलकाता की सीक्रेट मज़े लेना चाहती या कोई अपनी बेहन को छोड़ना चाहिए है तो मैल या ड्म कर स्कता हा. ई विल्ल्ल हेल्प देम.

यह कहानी भी पड़े  क्या नजारा था !

error: Content is protected !!