मा-बेटे की रोमॅन्स से भारी चुदाई की कहानी

थोड़ी देर में हम घर पहुँच गये. क्यूंकी रात के 12 बाज गये थे, तो रूपाली सो गयी थी. तो हमने दूसरी के से गाते ओपन किया, और अंदर चले गये. अंदर जाते ही मैने मैं डोर लॉक किया, और राज ने सारा समान वही हॉल में रखा.

फिर मुझे पीछे से पकड़ लिया, और मुझे पीछे से ही मेरी नेक पे किस करने लगा. सस्स आहह, क्या किस था वो, और मुझे पीछे से ही पकड़ के मेरे बूब्स दबाने लगा. मैं भी पागल हो रही थी, क्यूंकी एक तो उसकी नेक पर किस, और दूसरा उसका मोटा लंड मेरी गांद पर चुभ रहा था, जिसको मैं पूरा महसूस कर सकती थी.

फिर उसने मुझे वही गोद में उठाया और बोला: चलो मेरी जान, अब और इंतेज़ार नही होता.

मैने उसे बोला: मेरी जान, मुझे नीचे उतरो. और मुझे रूपाली को चेक करके आने दो. तुम मेरे रूम में चलो. मैं वही आती हू. यहा हॉल में नही. यहा रिस्क है क्यूंकी रूपाली हमे यहा देख लेगी.

लेकिन वो कहा सुन रहा था.

वो बोला: रूपाली सो गयी होगी मों.

और मुझे किस करने लगा.

मैं बोली: प्लीज़ मेरी जान, एक बार कन्फर्म करके आने दो, और तुम चलो रूम मैं. मैं अभी आती हू बस.

और मैने उसे लीप किस दी ज़ोर से. वो मान गया, और मुझे नीचे उतरा, और मैं भाग के गयी. रूपाली के रूम में देखा वो भी सो रही थी. ये कन्फर्म करने के बाद मैने उसका गाते क्लोज़ कर दिया, और आज मैं बहुत खुश थी. बिकॉज़ आज मैं अपने बेटे(मेरा बाय्फ्रेंड) से चूड़ने वाली थी.

मैं भाग के अपने रूम में गयी. रूम में मेरा बेटा मेरी वेट कर रहा था वही सर्प्राइज़ गिफ्ट लेके. मैं अंदर गयी और गाते लॉक किया, और सीधा उसके पास गयी और बोली-

मैं: लो आ गयी मैं मेरी जान. मेरे बाय्फ्रेंड.

उसने मुझे वो गिफ्ट दिया, और बोला: ये मेरी ट्राफ् से है आपके लिए. हम एक-दूसरे के गफ़ और ब्फ बने है उसके लिए.

मैं बहुत खुश हुई ये देख के बिकॉज़ ये सब चीज़ जो हो रही थी लीके मोविए, शॉपिंग, गिफ्ट, या मेरी तारीफ. ये सब तो जैसे मैं भूल ही गयी थी. मेरे बेटे ने ये सब मेरे लिए किया, तो उसे भी मैं सब कुछ देना चाहती थी.

मैने गिफ्ट लिया और उसको ओपन करने लगी. गिफ्ट ओपन करते ही देखा तो उसमे एक बहुत साबेर, छ्होटी ट्रॅन्स्परेंट निघट्य और ब्रा और पनटी थी. वो देख के मैं तोड़ा शरमाई, और उससे बोली-

मैं: ये कब लिया तुमने?

तो मेरा बेटा बोला: ये जब तुम ड्रेस ट्राइ कर रही थी, तब लिया, और सोचा बाद में दूँगा तुम्हे मेरी जान मेरी मों. चलो ट्राइ करो इसको.

फिर ओक जानू कह के मैं उसको लेके बातरूम में जाने लगी चेंज करने के लिए. तो उसने मुझे रोका और कहा-

बेटा: मेरी जान यही चेंज कर लो ना मेरे सामने. अब क्या शरम?

तो मैं बोली: मेरी जान, अभी कुछ तो प्राइवसी होनी छाईए ना. बाद में जब मुझे लगेगा तब मैं सब कुछ करूँगी.

तो वो मान गया और मैं बातरूम में गयी चेंज करने. फिर मैने ब्रा, पनटी और निघट्य पहनी जो मेरे साइज़ से 1 नंबर छ्होटी थी, और मेरे बूब्स तो उसमे से क्लियर दिखाई दे रहे थे, और मेरी छूट भी क्लियर शो हो रही थी. मैं शरमाते हुए बाहर आई, और वो बेड पर बैठा था.

तो मैने बोला: लो देखो मुझे, कैसी लग रही हू बताओ?

जैसे ही मेरे सोन ने मुझे देखा, तो वो देखता ही रह गया.

उसने बोला: क्या खूबसूरत बाला हो तुम मों. एक-दूं पर्फेक्ट फिगर है तुम्हारा. एक-दूं पारी जैसी लग रही हो. मैं कितना लकी हू की तुमने मेरी गफ़ बनने के लिए हा कर दी. अब देखना मैं तुम्हे कैसे खुश करता हू.

मैं ये सब सुन के शर्मा गयी, और बोली: हॅट बदमाश, इतनी भी नही हू मैं.

तो वो मेरे और पास आया और मुझे हग किया टाइट से, और पहले मुझसे बोला-

बेटा: मेरी प्यारी गफ़, मेरी जान तुम सच में बहुत खूबसूरत लग रही हो. मॅन कर रहा है सारा दिन तुम्हे ऐसे ही देखता राहु और हमेशा तुम मेरी रहो.

इतना बोलते ही पहले उसने मेरी नेक पर किस किया. सस्स्सस्स आअहह दोस्तों क्या करेंट सा दौड़ गया मेरे पुर बदन में. और मैने भी उसको टाइट हग किया हुआ था और उसकी नेक पर किस किया. फिर उसने मेरे लिप्स को चूसा आचे से. हम लीप किस करते-करते पागल हो गये थे.

हम सब कुछ भूल गये, की हम मा बेटा है. हमने सारी हादे पार कर दी थी, और किस करते-करते उसने मेरे बूब्स दबाने स्टार्ट कर दिए, और एक हाथ मेरी छूट पर रख दिया, और एक उंगली छूट में डाल दी.

छूट पर हाथ पड़ते ही मैं पूरी काँप गयी. सस्सस्स आहह ससस्स आहह मी बॉय. फिर मेरा हाथ भी उसके 8 इंच मोटे, और लंबे लंड पर चला गया, जो अपनी पूरी औकात में खड़ा था. एक-दूं टाइट था लंड.

इधर हम दोनो किस करे जेया रहे थे. फिर उसने पहले मेरी निघट्य उतरी, और फिर ब्रा और पनटी. इधर मैने भी उसकी त-शर्ट और जीन्स उतार दी, और उसका मोटा और लंबा लंड ककचे में से ही इतना हॉट लग रहा था, एक-दूं गरम लोहे की तरह.

मैने ककचे के उपर से ही उसके लंड को पकड़ा और बोली: वाउ राज, तुम्हारा तो कितना बड़ा है.

हालाकी मैने पहले सब देखा हुआ था, लेकिन उसके सामने अंजान बन रही थी.

राज बोला: क्यूँ मों, दाद का इतना नही है क्या?

तो मैं तोड़ा उदास हुई और बोली: नही बेटा, तुम्हारे दाद का इससे काफ़ी छ्होटा है और जल्दी झाड़ भी जाते है. असली सुख तो मुझे आज मिलेगा.

फिर उसने मुझे नीचे बिताया, और मैने उसके ककचे के उपर से ही उसका लंड को किस किया, और उसका कक्चा उतार दिया. फिर उसका लंबा और मोटा लंड मेरी आँखों के सामने था, जो मैं कल तक डोर से देखा करती थी. और आज इतने करीब आ कर मैं बहुत खुश थी.

फिर उसने मेरा सर पकड़ा, और मेरा मूह खोला और सीधा लंड मेरे मूह में दे दिया. इससे मैं तोड़ा अचंभित हुई, और बोली-

मैं: वाउ, सो हॉट, लोंग आंड मोटा है तुम्हारा लंड मेरे बेटे. तुम तो काफ़ी जवान हो गये हो. पहले क्यूँ नही दिखाया तुमने ये मुझे? मैं तुमसे पहले ही छुड़वा लेती.

बेटा: हा तो मुझे पता नही था की तुम इतनी जल्दी मान जाओगी. खैर छोड़तो, और आओ नीचे बैठो, और मेरा लंड चूसो. मैने फिर उसका लंड अपने मूह में लिया और पहले उसके लंड के उपर के हिस्से को चूसा. फिर धीरे-धीरे उसका लंड मूह में लिया, और ज़ोर-ज़ोर से चूसने लग गयी. मैं लंड अंदर-बाहर करने लगी.

वो बोला: सच में मों ये सपना तो नही. की तुम इतनी खूबसूरत औरत मेरा लंड चूस रही हो.

और वो आअहह आअहह की आवाज़े निकालने लगा. काफ़ी देर तक मैने उसका लंड चूसा. उसके बाद उसने मुझे खड़ा किया, और पहले तो ज़ोर से लीप किस किया वाइल्ड वाला. फिर एक हाथ मेरे बूब्स पर और एक मेरी छूट पर रख कर सहलाने लगा.मैं भी पागल हो गयी थी. फिर किस के बाद उसने मेरी नेक और फिर बूब्स को सक किया और बोला-

बेटा: वाउ मों, युवर बूब्स अरे ऑल्सो वेरी ब्यूटिफुल, बिग आंड सेक्सी. पहली बार देखे है इतने बड़े और खूबसूरत बूब्स मों.

और फिर सक करने लग गया, और एक हाथ से लगातार मेरी छूट को सहलाए जेया रहा था. फिर उसने 1 उंगली मेरी छूट में डाली, और उसकी उंगली अंदर जाते ही मैं पूरी हिल गयी, और सस्सस्स आअहह फक ससस्स की आवाज़ मेरी मूह से निकली.

फिर मेरे बेटे ने मेरे निपल को सक किया, और बीच में वो तोड़ा-तोड़ा निपल्स को काट भी रहा था, जिससे मैं और सिड्यूस हो रही थी, और साथ ही साथ उसने अपनी एक और उंगली यानी अब 2 उंगलियाँ मेरी छूट में डाली. मैं तो जैसे अब पागल सी हो रही थी. थोड़ी देर मेरे बूब्स चूसने के बाद उसने मेरी नाभि को सक किया.

वाह यार सस्सस्स आअहह, क्या करेंट लगा मुझे. और फिर वो मेरी छूट पर आ गया. अपना मूह वो मेरी छूट के पास लाया, और बोला-

बेटा: वाउ मों, क्या छूट है तुम्हारी. एक-दूं क्लियर और सुंदर.

तो मैने कहा: फिर बोला मों? मैं तेरी मों सब के सामने हू, और अकेले में तेरी गर्लफ्रेंड. तब वो बोला: मेरी जान, मेरी गर्लफ्रेंड, क्या करू, बीच-बीच में भूल जाता हू. और आख़िर हो तुम मेरी मों ही ना, इसलिए निकल जाता है.

फिर मैं बोली: चल कोई नही. अब चाट मेरी छूट. देर मत कर, और बुझा दे मेरी छूट की आग.

फिर उसने पहले मेरी छूट पर धीरे से फूँक मारी, जिससे मैं पागल हो रही थी, और फिर उसने अपने दोनो हाथो से मेरी छूट को फैलाया और फिर पहले अपनी जीभ को मेरी उपर वाले छूट के दाने पर रखा. वो उस दाने को हल्का से चाटने लगा. उसके ये करते ही मैं तो पूरी हिल गयी थी, और मेरी पूरी बॉडी में करेंट सा दौड़ रहा था.

मैं आ आ फक फक करने लगी, और वो धीरे से मेरी छूट पर चाट रहा था. वाह यार, क्या छूट चाट रहा था मेरा बेटा मेरी. मैं तो जैसे सातवे आसमान में थी. मैने एक हाथ से बेडशीट पकड़ रखी थी, और दूसरा हाथ मेरा उसके सर के उपर था, जिसको मैं अपनी छूट मैं दबा रही थी.

मैं: फक मे मी बॉय, और छातो मेरी छूट को. चाट-चाट के खा जेया मेरी छूट. बहुत दीनो से प्यासी हू मैं मेरे राज. आज मुझे तू वो चरमसुख दे दे.

आ आ की वाय्स मेरे मूह से निकलने लगी. और छूट चाट-ते चाट-ते मैं अब झड़ने की कगार पर थी. मैने उसका सिर और ज़ोर से अपनी छूट में दबा दिया, और उसको बोला-

मैं: और ज़ोर से मी बॉय. और तेज़. मैं झड़ने वाली हू. रुकना मत अब आहह आ. और तेज़.

फिर आ करते-करते मैं झाड़ गयी, और उसने मेरा सारा पानी पी लिया. ऐसा सुख मुझे सालों से नही मिला था. मैं जैसे अब तो अपने बेटे की दीवानी सी हो गयी थी. क्या छूट चाट-ता था वो. और अभी तो उसने मुझे छोड़ा ही नही था.

फिर मैने उसको बोला: राज, अब देर मत कर. डाल दे अपना मोटा लंड मेरी छूट में. अब रहा नही जेया रहा.

ये सुनते ही वो उपर आया, और पहले तो उसने किस की ज़ोरदार, और फिर अपना लंड पकड़ा और मेरी छूट पर रखा पहले तो. फिर उपर से ही मेरी छूट पर टच कर रहा था, जिससे मैं और पागल हो रही थी. क्या तरीके से सेक्स करता था मेरा बेटा. मैं तो जैसे उसकी दीवानी सी हो गयी थी.

तो अब वो मेरी छूट में लंड डालने ही वाला था, की तभी मेरे दरवाज़े पर नॉक-नॉक हुई. हम दो पहले तो हिल गये, और इस टाइम तो हम दोनो ही चरम सीमा पर थे. बस मैं उससे चूड़ने ही वाली थी. फिर हमने एक-दूसरे को देखा, और बाहर से आवाज़ आई-

आवाज़: मों, मों, गाते खोलो.

वो रूपाली थी, बुत रात को 2 बाज रहे थे. वो इस टाइम क्या कर रही थी? मैने राज को जल्दी से उपर से हटाया और बोला-

मैं: तुम गाते के पीछे च्छूप जाओ. मैं जाके देखती हू. और जल्दी से मैने बिना ब्रा और पनटी के बस निघट्य डाल ली. क्यूंकी वो ट्रॅन्स्परेंट थी, तो मेरे बूब्स और बॉडी तो वैसे ही दिख रही थी. फिर मैने डोर ओपन किया, और उसी डोर के पीछे मेरा बेटा बिल्कुल नंगा खड़ा था. मैने डोर आधा ही ओपन किया, और तोड़ा नींद में होने का बहाना किया.

फिर मैं बोली: क्या है बेटा? इतनी रात को क्यूँ चिल्ला रही है बोल?

तो वो बोली: मों मुझे भूख लग रही है. क्यूंकी आप और भाई बाहर गये थे तो मैने भी ज़्यादा कुछ नही खाया, और थके होने के कारण मैं सो गयी. मुझे कुछ दो ना खाने को.

मेरा बेटा तो पीछे खड़ा था. और हम दोनो के उपर तो सेक्स का . . था, तो वो पीछे से मेरी गांद को सहला रहा था, और फिर उसने पीछे से ही मेरी गांद पर अपनी जीभ लगा दी और चाटने लगा. इससे मैं तो पूरी हिल गयी, और मेरी आँखें बड़ी-बड़ी हो गयी, और मेरे मूह से आहह निकल गयी, और मैं भूल गयी मेरी . सामने खड़ी थी.

फिर मैने ज़्यादा रिक्ट नही किया और अपने आप को संभाला. बुत वो बोली-

बेटी: क्या हुआ मों, आपने ऐसे क्यूँ किया? कुछ हुआ क्या?

तो मैने बात पलट दी: कुछ नही बेटा, बस एक-दूं से नींद में उठी हू ना, तो तोड़ा पैर मूड गया. चल देती हू तुझे मैं कुछ खाने को.

फिर वो आयेज चलने लगी. तभी मैने अपने बेटे को पीछे से इशारा करा, और जल्दी बोला-

मैं: जान अभी आती हू 5 मिनिट में.

तो वो बोला: ये कहा से आ गयी मों?

मैं बोली: तोड़ा और रुक जाओ बस. मुझसे भी तो नही रहा जेया रहा ना, और मैं भी तो तुम्हारे इस लंड के लिए तड़प रही हू. लेकिन है तो वो भी मेरी बेटी ना. आती हू उसे देके, बस तुम रेडी रहना.

फिर मैने डोर क्लोज़ किया, और उसी निघट्य में बाहर आ गयी. नीचे किचन में जाके लाइट ओपन की, तो मेरी बेटी ने मेरी तरफ ध्यान से देखा, और देखती रही.

फिर वो बोली: वाउ मों, ये आपने कब लिया? पहले तो कभी नही देखा.

मैं उससे झूठ बोली: पहले का रखा हुआ था, बुत कभी पहना नही. क्यूँ, अछा नही लग रहा क्या?

तो वो बोली: नही-नही मों, बहुत अची लग रही हो तुम इसमे. एक-दूं हेरोयिन जैसी. और मों आपके तो बूब्स भी और आस भी क्लियर दिख रहे है इसमे, जो की बहुत आसम है.

मैं बोली: थॅंक योउ बेटा.

और फिर मैने उसको कुछ खाने को दिया जल्दी से, और मैं बस उपर जाने का वेट कर रही थी, की कब मैं उपर जौ, और अपने बेटे का लंड लू.

फिर मेरी बेटी बोली: थोड़ी देर बैठो ना मों.

शायद उसको भी कुछ हुआ था मुझे ऐसे देख कर. लेकिन मैने उस टाइम वो इग्नोर किया और बोला-

मैं: बेटा अब तू खा ले, और सो जाना जल्दी से. मुझे भी नींद आ रही है बहुत तेज़. कल बात कर लेंगे.

और मैं ये बोल के जाने लगी.

तभी वो बोली: ओक मों, कल करते है.

और मैने नोटीस किया की वो मेरे बूब्स और आस पर ही देख रही थी. फिर मैने उसको हग किया, तो उस दिन मेरी बेटी का हग मुझे कुछ अलग लगा. उसने मुझे एक ज़ोरदार हग किया, और गुड नाइट किस किया चीक्स पर.

पर मुझे तो अपने बेटे का लंड दिख रहा था. तो मैने वो सब इग्नोर किया, और गुड नाइट बेटा बोल के मैं अपने रूम में जाने लगी.

बस इस पार्ट में इतना ही. अब नेक्स्ट पार्ट में सीधा आप सब को पता चलेगा की कैसे हम दोनो ने चुदाई की उस रात, और कितनी बार और किस-किस पोज़िशन में की, और घर के हर कोने-कोने में चुदाई करी.

और हा दोस्तों, जब इस कहानी के पार्ट कंप्लीट हो जाएँगे, तो आपको एक और सॅकी घटना के बारे में बतौँगी, जो की मेरे, मेरे बेटे, और मेरी बेटी के बीच की है. की कैसे हम दोनो ने एक बहुत तगड़ा लेज़्बीयन सेक्स किया, और फिर कैसे मेरे बेटे ने हम दोनो को एक साथ छोड़ा. मतलब कैसे अपनी मा और बहन की एक साथ चुदाई करी.

मेरी जैसी बहुत मोम्स और हाउसवाइफ चूड़ना चाहती है, बिकॉज़ उनके हज़्बेंड बाहर रहते है, या है ही नही. तो वो संतुष्ट नही हो पाती. कुछ अपनी उंगली कर लेती है, और कुछ अपने अरमानो को दबा लेती है.

तो मेरा उन सभी से निवेदन है, की अगर आपको चुदाई करवानी है खुल के, तो आप मेरी मैल ईद पर मुझे मैल करे. मैं अपने बेटे से चुदाई कार्ओौनगी सब की, और अगर कोई औरत अपने ही घर में चूड़ना चाहती है अपने बेटे या किसी और से, तो भी मुझे मैल करे. मैं उनकी भी हेल्प करूँगी.

यह कहानी भी पड़े  बहनो में वासना भारी तबाद-तोड़ चुदाई की कहानी


error: Content is protected !!