मा बनी घर की पालतू कुत्तिया

लेट’स स्टार्ट 3र्ड पार्ट.

देखते हैं कैसे बड़ी और छोटी बुआ मा को अपनी पालतू कुट्टिया बनती हैं और क्या क्या करती, कैसे अपने इशारो पर नाचती हैं.

फिर हम असलम के घर लौट आते हैं.

बड़ी बुआ असलम के लिए पानी लाती बुत ग़लती से वो फिसल जाती हैं उनके बड़े बड़े चुचे जबरदस्त हिल जाते हैं.

मम्मी: हाहहहहः… काफ़ी ज़ोर से हास देती हैं.

दादी जी : सुनो सुमन मेरे को तुम्हारे मलिक को थोड़े दिन के लिए कश्मीर जाना होगा, वाहा पर अब्दुल के मामू अकरम भैसब के 6त बेगम को 2न्ड बचा हुआ हैं.

मा की गांद फट के चार हो जाती की कों हैं अकरम मामू जिसके इतने बचे और बीवियाँ हैं.

मा: मालकिन यॅ अकरम जी की उमर किया हैं? उनके बारे मे तोड़ा बतिया ना.

दादी : सुनो फिर अकरम मेरे से 16 साल छोटा हैं, मैं और अकरम अपने अब्बा और आमी के दो बचे थे. पर अकरम की पहले शादी 3 शादिया 23 साल के आगे मे हो गयी थी और बाकी 3, 30 मे. उसकी उमर 56 हैं.

फिर असलम और दादी जाने वाले होते हैं तभी दादी जी मेरे को बोलती हैं.

दादी: मेरे और असलम के गैर हज़ारी मे तेरी दोनो बुआ इश्स घर के मालकिन और तेरी मा उनकी नौकरानी, अगर इसने कुछ बात नही मानी तो हुमको बता देना.

छोटी बुआ: आमी चिंता मत करो हाँ इसकी वो हालत करेंगे जो इसने सोची भी नही होगी.

फिर असलम मा को सबके सामने किस करता हैं और उनकी गांद पर चुटकी लेता हैं और मा भी आचे किस करती हैं फिर दादी और अब्दुल चले जाते हैं.

बड़ी बुआ मा की गांद पर थप्पड़ मार्टी हैं और बोलती हैं कल को मिलना कुटिया.

अब बस मेरे को कल का इंतेज़ार था की दोनो बुआ मा के साथ किया किया करती हैं. सच बोलू तो मेरे को मज़ा आता था मा के ऐसी हालत हो जाने पर.

क्यूंकी मा मेरी पढ़ाई को लेकर काफ़ी स्ट्रिक्ट थी. थोड़े से कम मार्क्स आने पर खूब पिटाई करती थी. पनिशमेंट देती थी, भूका रहकती थी.

इसलिए अब मेरे को मज़ा आता हैं उनको ऐसी हालत मैं देख कर. जहा पर हर वक़्त कोई भी उनकी गांद फाड़ने पर रहता हैं.

अगली सुबे जब मैं उठा हूँ और देहकता हू मा कहा पर है. मेने देखा मा ने येल्लो कलर का पलटा पेट्तीकोत पहना हैं बस और वो बड़ी बुआ के पाव चाट रही हैं.

बड़ी बुआ मेरे को दहक लेती है और कहती है-

बड़ी बुआ: आजा बेटा बैठ, दहक कैसे तेरी मा चटाई कर रही है.

मा मेरी तरफ देहकती हैं तभी उनके गाल पर थप्पड़ पड़ता हैं खिछा के.

बड़ी बुआ: भें के लोदी चुपचाप पाव चाट, अभी तो तेरे को कल के हासणे की भी पनिशमेंट देनी हैं.

फिर पनिशमेंट का डिसाइड होता हैं, एक बोल मे चिट होती हैं उसमे पनिशमेंट लिखी होती हैं.

1स्ट्रीट चिट: 20 सीट उप.

20 सीट उप कंप्लीट करने के बाद मम्मी के हाथ रस्सी से चाट वाले फेन से बांड दिए जाते हैं और वो अब नंगे चुचे के साथ येल्लो कलर का पेट्तीकोत पहने खड़ी होती हैं.

तभी छोटी बुआ भी आ जाती हैं-

छोटी बुआ: दीदी नौकरानी पर कडपे आचे नही लगते.

और झट से मम्मी का पेट्तीकोत का निकाल देती हैं.

अब मम्मी बिल्कुल नंगी खड़ी होती हैं, अब उनके काली झट के बाल और बगल के काले बाल दिख रहे होते हैं. हम तीनो सोफे पर बेते होते है और मम्मी हमारे सामने खड़ी होती हैं.

तभी छोटी बुआ बेल्ट लेके आती और बड़ी बुआ बोलती हैं-

बड़ी बुआ: इट’स क़्ना टाइम, ई आस्क्ड क्वेस्चन्स इफ़ योउ रिप्लाइ लाते ओर इफ़ वी फील की तुम ग़लत जवाब दे रही हो तब ही छोटी तेरी गांद पर खिछा के बेल्ट मारेगी.

बड़ी बुआ: हम दोनो तेरी किया हैं?

मम्मी: बड़ी और छोटी नननद.

तभी किचा के स्टाक से 4-5 बेल्ट लगती हैं.

अयाया ओउउऊफ़ चाआत के आवाज़ आती..

मम्मी: सॉरी आप दोनो मेरी बड़ी और छोटी मालकिन हो.

तभी बड़ी बुआ उनके चुचे पर थूक देती है.

बड़ी बुआ: अगर तू सही जवाब देगी तो हम तेरी चुचे पर थूक देंगे.

मम्मी: थॅंक योउ मालकिन.

बड़ी बुआ: शादी से पहले कितने चक्कर रहे तेरे?

मम्मी: कोई भी नही.

बड़ी बुआ गुस्से मे बोली, मार साली के चुतूदो पर बेल्ट जब तक ये सच ना बोले तब तक मार!!

फिर किया था, अगले 5-7 मीं ताक जो बेल्ट पड़ी हैं मा की गांद पर.

आआआहह उम्म्म्मममममम ओज्ज्ज हूऊऊओ उऊऊऊ ईईहह य्ाआआ

लगता हैं मा को अंदाज़ा नही था की उनके साथ इतना बुरा हो सकता हैं.

मम्मी: चीकते हुए बोली : टीईएं टीईं…

1स्ट्रीट धोबी (कपड़े ढोने वाला) जिसने मेरी गांद के वर्जिनिटी तोड़ी.

2न्ड पड़ोस का एक मेरा यार जिसने मेरी गांद की सील तोड़ी.

3र्ड अंकल (40) आगे के जिन्होने मेरे को फर्स्ट टाइम चूसाया.

बड़ी बुआ: मेरे को पता था तू एक रंडी हैं.

छोटी बुआ: हाहहहाहा

बड़ी बुआ: इट’स टाइम तो थर्ड पनिशमेंट.

फिर बड़ी बुआ अपनी सलवार निकाल देती और रेड पेंटी भी और उनकी काली हल्के बाल वाली छूट दिखने लगती है. फेले वो छूट चत्वती हैं फिर मा के मूह में पिसाब कर देती हैं, मा को वो सारा पीना पड़ता हैं. आंड देन बस फिर बाकी दिन नॉर्मल जाता हैं.

अब शाम हो जाती हैं.

मैं देखता मा किया कर रही हैं.

मा छोटी बुआ के गांद चाट रही होती है. फिर मुझे देख कर छोटी बुआ बोलती ज़रा अपनी मा की गांद मे से पनटी निकालना मेरी.

फिर मैं मा येल्लो कलर पेट्तीकोत उठता हू और उनकी गांद मे से ढेरे ढेरे अंदर घुसी हुई ग्रीन पनटी निकालता हू. पर पेंटी पर मम्मी के तोड़ी पॉटी लग जाती हैं.

छोटी बुआ: साली इसको तेरी मा सॉफ करेगी,?!

यॅ बोल कर वो पेंटी मा के मूह मे डाल देती हैं. मा भी आचे से चाट कर बाहर निकालती हैं. तभी बड़ी बुआ आ जाती हैं और बोलती हैं-

आज नाइट मे किटी पार्टी हैं, हमारे दोस्त आ रही और कुट्टिया तू उनकी भी स्लेव हैं और आज तेरे को एक नया टॅग भी मिलने वाला हैं. आज से तू हमारी टाय्लेट स्लेव भी हैं.

मा: प्लीज़ ऐसा मत करो मैं आपकी सारी बाते मानती हूँ प्लीज़..

छोटी बुआ: चुप साली अभी तो अपनी पॉटी चाट चाट कर सॉफ करी हैं तू. ज़्यादा बोली तो नंगी के घर के बाहर निकल देंगे.

देखते हैं आयेज नाइट पार्टी मे क्या क्या होता है, कैसे मम्मी अची टाय्लेट स्लेव बनी और भी बहोट कुछ हुआ.

अभी तो असलम और दादी जी के घर आने मे 6 दिन बाकी हैं. आयेज आयेज देखते क्या क्या होता है मा के साथ.

यह कहानी भी पड़े  दीदी के साथ हनीमून

error: Content is protected !!