मा और बेटी दोनो निकली लेज़्बीयन-1

तो दोस्तो मैं नेहा आप सब के सामने फिर से हाज़िर हूँ अपनी एक और साची कहानी ले कर. तो आइए बिना टाइम वेस्ट किए सीधे कहानी पर आते है.

मई 18 साल की हू और रही बात मेरे फिगर की तो मेरा फिगर कुछ ऐसा है की लड़को का मुझे देख कर मूह मे पानी आ जाता है.

पर मुझे लड़के नही लड़किया ज़्यादा पसंद है. और वो कैसे हुआ ये मैं आपको अपनी आज की स्टोरी मे बटूँगी. मेरा साइज़ 32-28-32 है, और अब मैं आती हूँ अपनी मों पर.

मेरी मों का नाम शालिनी है और उनकी उमर 38 साल है, और उनका साइज़ बड़ा मस्त है. उनका सेक्सी फिगर साइज़ 36सी-34-36 है, क्यो है ना एक दम मस्त फिगर.

ये बात लॉक्कडोवन् की है जब मई और मेरी मों लॉक्कडोवन् मे घर मे थी और पापा घर सी दूर चेन्नई मे थे. हर दिन की तरह मई अपना काम कर ती और फोन उसे करती. एक दिन मैने एक टेलिग्रॅम मे चॅनेल देखा उसमे लेज़्बीयन इन्सेस्ट की बड़ी मेम्स और टिप्स दी जाती थी. फिर मेरी बात वाहा की आडमिन से हुई.

मे- ही.

आडमिन-ही.

मे- इफ़ इन्सेस्ट इस रॉंग?

आडमिन- ई वाना इनफॉर्म योउ तट इन्सेस्ट फॅंटेसी इस नोट रॉंग और इस नोट सीन.

मे-ओके.

आडमिन- कभी सेक्स किया है?

मे-नो कभी कोई मिला नही.

आडमिन- मिला नही या कोशिश नही की, कभी फिंगरिंग तो की होगी ना?

मे – नो.

आडमिन- ट्राइ करना, इट विल बूस्ट युवर पवर फॉर सेक्स.

मे- कैसे?

आदमी – अपनी फिंगर को अपनी छूट मे डालना और अंदर बाहर करना.

मे- दर्द तो नही होगा?

आडमिन- प्यार का दर्द मे मीठा मीठा प्यारा प्यारा.

मे- ओके ई विल ट्राइ.

आडमिन- एक बार काररोगी फिर तो करती ही रहोगी.

फिर मई अपने काम करने लग गयी. रात को 9 बजे डिन्नर करने की बाद मई मों से बोल के अपने रूम मे चली गयी. फिर रूम को लॉक कर की मैने अपनी पंत रिमूव की और फिर पनटी की और अपनी टॅंगो को खोला और अपनी उंगली अपनी छूट मे डाल दी.

ये करती ही मुझे भ्ोआत दर्द हुआ और मैने उंगली निकल दी. फिर मैने एक लास्ट ट्राइ सोचा और मैने उंगली डाल के और अंदर बाहर कर नि लगी गयी. दर्द तो हो रहा था पेर नेक्स्ट लेवेल आराम भी मिल रहा था.

फिर ये करते करते मेरा माल निकल गया, मैने उसे क्लीन किया और सो गयी. सुबा मैने अपनी फिर से किया मास्टरबेशन और फिर तो मई अपनी मों को सेक्स पार्ट्नर की नज़रो से देख रही थी.

मैने आडमिन तो कॉंटॅक्ट किया और मों को सिड्यूस्ड कर के सेक्स कर ने का प्लान बनाया.

फिर 3 दिन बाद मैने एग्ज़ाइटेड कर ना स्टार्ट किया प्लान बनाया और स्टेप नो वन था मों के क्लोज़ आयो. मई फिर शॉर्ट्स फेनने लगी और अपनी बूब्स को मों की साममे प्रेस और ब्रा पुश कर ती, पेर मों कुछ नही रेस्पॉन्स कर ती थी.

कुछ दीनो बाद मे पानी कम था वॉटर टांक मई और मुझे और मों को नहाना था. तो मों नि बोला की-

मों – नेहा उपर जेया के देख ना की टंकी मे पानी का कितना लेवेल है और बता ना मुझे.

मई उपर गयी और देख की वॉटर लेवेल 40 सीयेम है पेर मेरा मूड कुछ और ही था और मैने मों से बोल की-

मे – मों वॉटर लेवेल तो 20 सीयेम है.

मों – अब क्या करे, नहाना भी है और बाकी काम भी है.

मे – मों हम दोनो साथ मई नहाते है फिर.

मों – (गुस्से सी बोली) तू पागल है!!

मे – मों कूम पानी मे काम भी हो जाएगा और टाइम भी बचेगा.

मों-बेटा तू बड़ी हो गयी है, आछा नही लगता.

मे – मों सब करती है मेरी फ्रेंड्स ये और ये तो बस 10 मिन्स की बात है.

मों – ठीक है ओके.

फिर मई खुश हो गयी की आज मोका मिल ही गया मों के बूब्स और छूट को देखने का.

10 मिन्स बाद मों बातरूम मे आती है और मुझे भी बुलाती है. जब मई बातरूम मे जाती हू तो देखती हू की मों ने रेड कलर की ब्रा और पनटी फेणी है.

मों – बेटा पानी गरम कर दिया है आजा और मेरी ब्रा भी अनहुक कर दे.

मई तब मों का बार अनहुक करती हू और उनकी गोल गोल फुटबॉल सी बड़ी बूब्स देखती हू. और बोलती हू वाहा क्या भावाल है ये. मों हस्ती है और बोलती है चुप हो जेया तेरी भी होगी इतनी बड़ी शादी के बाद, तब तक रूको ज़रा सबर करो.. और हासणे लग गयी.

फिर मई अपनी पनटी निकलती हू और ब्रा भी और मों के सामने खड़ी हो जाती हू. मों भी मुझे देखती है.

मों- ऐसे स्टॅच्यू ऑफ लिबर्टी क्या बनी है, चल आ..

मे – ठीक है..

फिर मई और मों शवर ले रही होती है और उस टाइम मों जब अपने बूब्स पेर सोप लगती है तो वो शाइन करती है, ऐसा लगता है की मून है उनके बूब्स. और फिर मों अपनी पनटी निकलती है और उनकी हरी छूट देख के मेरी तो होश उडद जाते है.

मों- तुझे तो ये सब लगाना भी नही आता है, ला शॅमपू दे मई लगती हू तुझे.

फिर मों मेरे बूब्स पेर सोप लगा के उनको बूब्स की हर जगह लगा रही होती है. और मुझे और गरम कर देते है वो. फिर मई मों से बोलती हू की-

मे- आप के प्राइवेट पार्ट मे तो भ्ोआत बाल (हेर) है.

मों – तुझे क्या है मेरी पार्ट है.

मे – मों मई पीछे लगा डू सोप?

मों – हन लगा दे.

और फिर वो तुर्न करती है और उनकी बिग फॅटी आस देख के तो लग रहा था की खूब मज़ा आता होगा पापा को.

मई सोप लगा देती हू और फिर मों शवर ओं कर देती है. और बोलती है की आज शवर ले ले जल्दी. फिर मई और मों एक दूसरे से चिपक जाती है और शवर लेना स्टार्ट करती है.

फिर मई अपने बूब्स को मों के बूब्स से टच कर रही होती हू. और उनकी छूट को मेरी छूट से. मों मुझे रोकती है और बोलती है ये क्या कर रही है तू?

पेर मई पागल हो जाती हू और मों को पुश करती हू और उनको नीचे गिरा देती हू. और फिर मई उन पर बैठ के उनके बूब्स दबाती हू और उनकी छूट मे टूतब्रश डाल देती हू.

ऐसा 5 मिन्स करने के बाद मों भी गरम हो जाती है और मेरा साथ देती है. और बोलती है 69 पोज़िशन मे तो आ और मज़े लेनी दे मुझे तेरी छूट का. मई मों की छूट को चाट ही रही थी की मों बोलती है की मेरी बेटी मेरी तरह ही है.

फिर मुझे पता चलता है की मेरी मों भी लेज़्बीयन है.

दोस्तो नेक्स्ट पार्ट भ्ोआत जल्दी आएगा तब तक के लिए गुड बाइ. किसी को कोई सजेशन्स, आइडिया और सेक्स एक्सपीरियेन्स शेर करना है

यह कहानी भी पड़े  मेरी और मेरी मा की चुदाई

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!