लंड की भूखी औरत की बार-बार चुदाई की कहानी

वो मेरे लंड को देखने लगी, और हम दोनो हासणे लगे. वो बहुत खुश थी. खुशी से वो मुझे हग करते हुए बोली-

सोनिया: तुमने मुझे आज बहुत खुश किया. ई लोवे योउ मेरे जान रोहित.

मैं: ई लोवे योउ टू मी बेबी.

अब आयेज-

हमे सेक्स करते हुए, और बातें करते हुए, बातरूम में बहुत टाइम हो गया था. हमने जल्दी से साथ में शवर लिया, और नंगे ही बाहर आ गये. हमने टाइम देखा तो दिन के 1 बाज गये थे.

सोनिया ने जल्दी से खाना ऑर्डर किया, और खाना खा के हमने रेस्ट करने की सोची. हम दोनो नंगे ही थे. सोनिया मेरे लंड को देखते हुए बोली-

सोनिया: बेबी तुम्हारा लंड देख कर मेरे मूह में पानी आ रहा है. इसे चूस लू क्या? फिर हम रेस्ट कर लेंगे, प्लीज़ बेबी.

मैं: एस मी बेबी. आओ, आपका ही तो है. मॅन करे तब मूह में ले लो.

वो खुश हो गयी. मैं बेड पेर लेट गया, और सोनिया ने मेरा लंड पकड़ा, और जल्दी से मूह में ले लिया. मेरा लंड अभी सोया हुआ था. वो मेरे लंड की चाँदी को हटाई, और टॉप को चाटने लगी. मुझे मज़ा आ रहा था. सोनिया की कोमल ज़ुबान लंड पर घूम रही थी. 5 मिनिट में लंड खड़ा हो गया. सोनिया खड़े लंड को देखने लगी, और बोली.

सोनिया: आह मेरी जान रोहित, मैने आज तक ऐसे लंड का मज़ा कभी नही लिया था. आज इसे देख कर मज़ा आ रहा है.

फिर वो हेस्ट हुए लंड को मूह में ले गयी, और गले तक लंड को ले रही थी. अंदर अपनी जीभ घुमा रही थी. मुझे बड़ा आनंद आ रहा था. एक हाथ से मेरे टट्टो को मसल रही थी. अब उसने अपनी ज़ुबान मेरे दोनो टट्टो पर रखी. फिर टट्टो को बड़े प्यार से अपनी आँखें बंद करके चाटने लगी.

करीब 25 मिनिट तक उसने बड़े प्यार से, मेरे लंड को आचे से चूसा. मुझे भी मज़ा आ रहा था. मेरे 7 इंच के लंबे मोटे लंड पर वो अपने दांतो से निशान बना रही थी. मुझे अछा लगा. अब मेरा पानी निकालने वाला था.

मैने कहा: या बेबी. ऑश मेरा निकालने वाला है.

ये सुन के वो अब ज़ोर-ज़ोर से अपना मूह लंड के अंदर-बाहर कर रही थी. लंड पूरा अंदर तक ले रही थी. मैने उसका सिर पकड़ा, और लंड का पानी मूह में झाड़ दिया.

सोनिया मेरे लंड की मलाई को बड़े प्यार से मुझे देखते हुए पी गयी. फिर मेरा लंड चाट-चाट के बाकी की बची हुई मलाई सॉफ कर दी. सोनिया उसके बाद मेरे पास आई. वो मेरे सीने से लग करके मुझे किस करने लगी, और बोली-

सोनिया: रोहित, सच बोलू तो आज मुझे तुम्हारे साथ बहुत मज़ा आया है. ऐसा लगा जैसे मैने, जो लाइफ में खुशी खोई थी वो वापस मिल गयी. मैं तो अपनी जवानी को भूल गयी थी. 2 साल से मैं तो सेक्स लाइफ भूल गयी थी. तुमसे मिल के मैने अछा डिसिशन लिया है. लोवे योउ बेबी मुझे खुशी देने के लिए. अब से हर बार के लिए, तुम मेरे हब्बी हो.

मैं: लोवे योउ टू, मी सेक्सी बेबी सोनिया. तुम मुझे कभी भी बुला सकती हो.

उसके बाद हम एक-दूसरे को रोमॅन्स करते हुए कब सो गये हमे पता नही चला. हम दोनो रात के 8 बजे उठे. सोनिया नींद में थी. मैने उसे लिप्स पर किस करते हुए काट लिया. वो ऑश करते हुए उठ गयी.

मुझे वो बोली: आह रोहित, क्या करते हो बेबी तुम. सोने दो ना, बहुत अची नींद आ रही है. आज मुझे सोने में भी मज़ा आया है.

मैं: बेबी उठ जाओ. 8 बाज गये है.

मैने सोनिया के बूब्स दबा दिए. वो सिसकी लेते हुए उठ गयी. फिर वो बातरूम गयी फ्रेश होने. मैने खाना ऑर्डर कर दिया. कुछ टाइम बाद वेटर खाना लाया. मैने सोनिया को कहा खाना लेले वेटर से. वो बोली-

सोनिया: तुम पागल हो क्या? मैं नंगी हू यार.

मैं: तो क्या हुआ बेबी? वेटर भी आपके हसीन जिस्म का दीदार कर लेगा.

सोनिया: नही बेबी प्लीज़. मुझे शरम आएगी.

मैं: अर्रे मेरी जान, कुछ नही करना है. उससे खाना लेना है बस. और डोर बंद कर देना.

सोनिया डरते हुए, डोर पर गयी. फिर डोर ओपन किया. उस टाइम वो फुल नंगी थी. बाल खुले हुए थे. 34″ की गांद और 32″ के बूब्स दिखा रही थी. डोर खोला तो सामने वेटर खाना लेके खड़ा था. उसने सोनिया को तिरछी नज़र से देखा था. सोनिया ने जल्दी से खाना लिया, और डोर बंद कर दिया. फिर मुझसे बोली-

सोनिया: रोहित, तुम ना किसी दिन मुझसे पितोगे. ऐसे कोई करता है?

मैं: चिल बेबी, एंजाय करो यार.

वो सीधा मेरी गोद में आके बैठ गयी, और मुझे अपने हाथो से खाना खिलाने लगी. मैने भी उसे खाना खिलाया. हमने खाना फिनिश किया. 9 बाज गये थे. वो अभी भी मेरी गोद में थी. मेरा लंड उसकी छूट के दबाव से खड़ा होने लगा था.

7 इंच का मोटा लंड सोनिया की गांद में चुभ रहा था. वो लंड पर छूट हिलने लगी, और गरम होने लगी. मैं उसके गले पर किस करने लगा. उसकी नेक को चाटने लगा. इससे सोनिया गरम हो गयी. वो मेरे बालों में किस करने लगी. उसके बाद मैं उसके बूब्स को चूसने लगा. एक बूब को पूरा मूह में लेके चूसने लगा. वो सिसकी लेते हुए बोली-

सोनिया: ऑश चूस ले राजा, ऑश बूब्स चूस, आहह मज़ा आ रहा है. रोहित, तुम क्या मस्त बूब्स चूस्टे हो. मेरे तंन-बदन में आग लग जाती है.

वो नीचे से अपनी छूट मसालने लगी. मैने दूसरे बूब्स को भी खूब मज़े से चूसा. करीब 30 मिनिट मैने बैठे-बैठे उसके बूब्स चूस-चूस कर उसके निपल खड़े कर दिए. वो पागल हुए जेया रही थी. अब सोनिया सोफे से उतरी, और नीचे बैठ गयी. फिर वो मेरे लंड को हाथ में लेके हिलने लगी ज़ोर से. फिर एक-दूं से मूह में ले लिया.

सोनिया मेरे 7.4 इंच के लंड को मेरी आँखों में देखते हुए चूस रही थी. सोनिया जब लंड को अपने गले तक लेती, तब लंड का टोपा उसके गले से लगता. इससे मुझे बड़ा मज़ा आता. वो पूरी मेहनत से लंड चूस रही थी. फिर लंड मूह से निकाल कर, मेरे टट्टो को मूह लेके भर लिया, और उन्हे चूसने लगी. टट्टो को लॉलिपोप की तरह चाटने लगी थी. मेरी भी सेक्सी आवाज़ निकल गयी.

मैं: आह बेबी, क्या चूस्टी हो तुम. कही मूह में ना झाड़ डू.

वो मुझे स्माइल देते हुए लंड चूसने लगी. 25 मिनिट लंड चूसा उसने. मैने लंड मूह से निकाला, और उसे सोफे पर बैठने को बोला. वो समझ गयी. सोनिया सोफे पर अपनी टांगे फैला कर छूट को मसालते हुए मुझे लंड डालने का इन्वाइट दे रही थी.

मैने लंड छूट पेर रखा, और एक हाथ उसके बूब्स पर. दूसरे हाथ से उसकी एक टाँग पकड़ कर फैलाई. फिर एक धक्का दिया, जिससे लंड पूरा एक बार में छूट में समा गया. सोनिया की चीख निकल गयी मस्ती में. क्यूकी उसकी छूट ने पहले पानी निकाल दिया था, जिससे छूट गीली थी.

सोनिया: आ आ अफ अफ.

मैने अब सोनिया को छोड़ना स्टार्ट किया. लंड पूरा छूट में जाता, और बाहर निकलता, जिससे उसके बूब्स हिलने लगते. वो भी सोफे पर हिल रही थी. मैं उसे ज़बरदस्त मस्ती लेके छोड़े जेया रहा था. 15 मिनिट ऐसे छोड़ने के बाद वो मस्ती में आ गयी. फिर वो बोली-

सोनिया: ऑश आअहह आहह ईयीई मा दोनो बूब्स पकड़ कर छोड़ो मेरी छूट ऑश यार.

मैने उसके दोनो बूब्स पकड़ लिए, और ज़ोर-ज़ोर से हर झटके के साथ बूब्स कस्स कर दबा देता था. वो मज़े ले रही थी. नीचे से अपनी कमर हिलने लगी थी. 10 मिनिट इसी पोज़िशन में छोड़ा उसे.

फिर मैने सोनिया को सोफे पर घोड़ी बना दिया. उसका मूह सोफे के पीछे की तरफ था, और मैं खड़ा था. मैने उसकी गांद पकड़ी, और लंड छूट में दबा दिया. एक ही बार में छूट ने लंड को अंदर तक पकड़ लिया, और मैं सोनिया के बाल पकड़ कर उसकी हॉर्स राइडिंग करने लगा.

मेरे हर झटके से सोनिया के बूब्स, और उसका पूरा मादक बदन हिलने लगता. वो भी मस्ती में चुड़े जेया रही थी. चूड़ते हुए ज़ोर-ज़ोर से सिसकियाँ लेते हुए बोली-

सोनिया: अयाया… आहह… ऑश… और तेज़ रोहित आअहह… और तेज़ करो आहह… क्या मस्त लोड्‍ा आअहह… है तेरा आहह… मॅर गयी मैं आअहह… आहह.. ऐसे ही करो आहह.

मैं: एस, आह मेरे जान. मज़ा आ रहा है ना?

सोनिया: ऑश मेरे राजा, बहुत मज़ा आ रहा है.

20 मिनिट ज़ोरदार चूड़ने के बाद वो बोली-

सोनिया: ऑश मॅर गयी यार, ऊ हो आहह होने वाला है मेरा. मेरी छूट ऑश तेरा लोड्‍ा लेकर ही मानेगी. आहह मॅर गयी.

मेरा मोटा लोड्‍ा उसकी चूत को फाड़ रहा था. सोनिया ज़ोरदार चीखते हुए झाड़ गयी. उसका पक़्नी लंड से होके निकल रहा था. मैं उसकी लगातार चुदाई करे जेया रहा था. वो थकने लगी. मैने उसे उठाया सोफे से, और लंड के उपर बैठने को बोला. सोनिया लंड को छूट में लेके, बैठ गयी.

मैं उसकी गांद पकड़ कर, बूब्स मूह में लेके नीचे से धक्के देने लगा. हर धक्के पर उसके बाल और वो उछाल जाती. वो अपनी आँखें बंद करके मेरे झटको को से रही थी. सिसकते हुए मस्ती में बोली-

सोनिया: ऑश रोहित, आहह बहुत आचे से पेल रहे हो आहह. क्या लंड है तेरा. ऑश मेरी छूट चिकनी हो गयी. ऊहह आ कम ओं यार. आअहह लंड के लिए तो मैं तड़प रही थी.

मैं: मेरी रानी, तेरी भी छूट बहुत रसीली है. मेरा पूरा लंड अंदर तक ले रही है.

लगभग मैने सोनिया को अपने लंड पेर 25 मिनिट तक उछाल-उछाल कर छोड़ा. उसके बाद मेरा निकालने वाला था. तो मैने कहा-

मैं: आह मेरी जान, मेरा होने वाला है.

सोनिया: मेरा भी निकालने वाला है बेबी. तुम साथ में झड़ना प्लीज़ मेरे जान.

5 मिनिट ज़ोरदार तरीके से झटके देने लगा. वो भी मेरे लंड पर उछाल रही थी. बूब्स को मैने मूह ले लिया. ज़ोर-ज़ोर से निपल को चूसने और काटने लगा. एक लास्ट ज़ोरदार धक्के के साथ मैं सोनिया की छूट में झाड़ गया. वो भी मेरी बॅक को कस्स के पकड़ते हुए मुझसे लिपट कर झाड़ गयी.

रूम में बस हमारी सांसो की आवाज़ आ रही थी. दोनो तक चुके थे. वो मेरे कंडे पर सर रख कर साँसे ले रही थी. और फिर वो बोली;

सोनिया: आह आह उहह. मेरे हब्बी क्या मज़ा दिया है तुमने. पूरा बदन तोड़ दिया है. देखो मेरे निपल लाल हो गये.

मैं: ऑश मेरी जान. ये तो प्यार में चलता है. जब तक बूब्स लाल ना हो जाए. सेक्स में मज़ा ही क्या है?

सोनिया: हा, दर्द तुम्हे थोड़ी ना होता है. तुम्हे तो मज़ा आएगा ना. हालत मेरी खराब हुई है. लेकिन मुझे मेरी जान मज़ा बहुत आया है. ई लोवे योउ.

ये बोल के उसमे मुझे किस किया. मैने भी सोनिया को डीप किस दिया.

फिर मैने उसे गोद में ऐसे ही उठाया, और बेड पेर ले गया. वो मुझसे लिपटी रही. दोनो टांगे कमर में बाँध दी. मुझसे डोर होना नही चाह रही थी. बेड पर हम एक-दूसरे से लिपट कर लेते हुए थे. सोनिया मेरी चेस्ट पर किस करने लगी थी. मैं उसके बालों में हाथ घूमने लगा. वो मेरी पूरी चेस्ट को चाटने लगी. मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. मैने उसे बोला.

मैं: आह मेरे रानी. अब मैं आपकी गांद मारूगा ओक.

सोनिया: नही बेबी आज नही. कल कर लेना. कल कुछ स्पेशल करेंगे.

हम कल मार्केट जाएँगे और शॉपिंग करेंगे. आंड उसके बाद रात को मुझे तुम्हारे सुहग्रात माननी है. रात को ही तुम गांद मार लेना, ओक हब्बी?

मैं: ओक बेबी.

सोनिया अब किस करते हुए, लंड पर आ गयी, और उसे मूह में भर लिया. 10 मिनिट तक खूब दबा-दबा के चूसा, जिससे लंड फिरसे खड़ा हो गया.

दोस्तों नेक्स्ट पार्ट में पढ़े की कैसे, हमने सुहग्रात में मज़े किए. किसी को मेरे साथ सोनिया की जैसे सुहग्रात माना कर मज़ा चाहिए, तो मैल करे. मेरे मैल ईद गम0288580@गमाल.कॉम है. आप गूगले छत भी कर सकते हो.

थॅंक्स ड्के.

यह कहानी भी पड़े  पड़ोसी लड़की ने जन्मदिन के तोहफे में लंड लिया


error: Content is protected !!