डिस्ट्रिक्ट लेडी महामंत्री की चुदाई की कहानी-1

ही. फ्रेंड्स मेरा नामे विकास है. प्यार से मुझे विकी कहते है. मेरी आगे 28. मेरी हाइट करीब 5. 8″ आवरेज बॉडी. लंड 7-7. 5″ लंबा 3-3. 5″ मोटा है. जो किसी भी भाभी और गर्ल्स की चीख निकल दे.

मैने काफ़ी भाभी की जाम कर चुदाई की है और गर्ल्स की सील तोड़ी है. मेरी ये कहानी सोनल मेडम यानी जो डिस्ट्रिक्ट लेवेल की महा मंत्री का एलेक्षन लड़ रही थी. जिसकी आगे अराउंड 35 होगी. जिसका फिगर 34-32-36 और 5. 6″ की हाइट थी. चलो अब स्टोरी पे आते है.

दोस्तो ये कहानी तब की है जब मेरी जॉब च्छुत गयी थी और मे बिल्कुल बेकार घर पे था. पापा जब 10 साल का था तब उनकी डेत हो गयी थी. मम्मी ने काफ़ी मेहनत करके मुझे और मेरी मुजसे 2 साल छ्होटी बहें हो बड़ा किया.

मम्मी की मुलाकात वो जहा जॉब करती थी वाहा के मॅनेजर से हुई. उन्होने हुमारी काफ़ी मदद की थी जिसके बदले वो और मम्मी दोनो का अफेर भी हो गया था. वो स्टोरी मे आपको बाद मे बतौँगा लेकिन मुझे आप लोग कॉमेंट्स कर के याद दिला देना.

मेरी जॉब च्छुत गयी थी और जब मे घर पे फ्री था. तब पड़ोसी अंकल ने कहा बेटा जॉब नही जाते?

मैने कहा अंकल जॉब नही अब मेरे पास. तब अंकल ने कहा बेटा तुम ड्राइविंग आक्ची करते हो, क्या तुम ड्राइविंग करोगे? हमारी मेडम को चुनाव प्रचार के लिए ड्राइवर चाहिए. चलो मेरे साथ मे आज ही मेडम से मिला देता हू.

और मई अंकल के साथ गया.

उसने मेडम को कहा मेडम ये लड़का मेरा पड़ोसी है और ड्राइविंग आक्ची करता है. मेडम हुमारी साइड घूमी तो देखता ही रह गया. उसने येल्लो कलर की सारी और ग्रीन कलर का ब्लाउस पहना था. हल्की सी लिपस्टिक और मक्कुप किया था. क्या फिगर है यार. मई तो देखता ही रह गया.

उसने भी नोटीस किया की मे उसे घूर रहा हू. इतनी ब्यूटिफुल थी की किसी का भी छोड़ने का मॅन करेगा उसे देख कर. मेडम ने ठीक है कहा और चली गयी.

उसी वक़्त मई जान गया ये गुस्से वाली है और आटिट्यूड भी है. लेकिन मुझे क्या मुझे तो ड्राइविंग करने से मतलब था. पार्टी वेल भी आ गये थे प्रचार मे जाने के लिए.

मेडम ने मुझे बुलाया और कहा इधर आओ और पूछा क्या नामे है तुम्हारा? मैने कहा विवेक. मेडम ने कहा ओक और कहा मेरी कार तुम चलाओ.

मई तुरंत ड्राइवर सीट पे बेत गया और गाड़ी स्टार्ट की. मेडम भी आयेज की सीट पे बेती थी. क्या पर्फ्यूम लगाया था उसने एकदम लाइट और बोहोट ही आक्ची खुसबू आ रही थी.

पीछे की सीट पे पार्टी के 2 आदमी ओर 1 लेडी बैठी जिसका हज़्बेंड भी उसके साथ हुमारी कार मे ही बैठा. मेडम ने कहा ह्यूम उस गाओं मे जाना है, और गाओं का नाम बताया.

हम निकल पड़े और शाम को घर आए. रोज ह्यूम एलेक्षन का प्रचार के लिए जाना था. काई बार पार्टी के आदमी सोनल मेडम के बारे मे बात करते थे. की क्या फिगर है साली का बिल्कुल सोनाकशी सिन्हा जैसा फिगर है और उसके जैसी ही दिखती है. लेकिन किसी को भाव नही देती. पति सला एक नंबर का बेवड़ा है कुछ नही करता होगा. एकदम टाइट चूत होगी साली की.

एक दिन मुझे उसने दांता भी था किसी कारण की वजह से और शायद मे उसे कभी कभी घूरता था इसलिए भी हो सकता है. शायद वो मुझे डाइरेक्ट्ली ना गुस्सा हो सकती हो.

4-5 दिन बाद पार्टी का एक आदमी और एक कार ले आया था. उसने कहा तुम वो गाड़ी ले लो हम मेडम के साथ जाएँगे. सोनल मेडम ने कहा मेरी कार विकी ही ड्राइव करेगा. और उसने ठीक है कहा और चला गया.

उसकी कार चलाई, हुमारी कार मे मई और सोनल मेडम. आज मेडम ने डार्क पिंक कलर की सारी पहनी थी. क्या लग रही थी, रोज की तरहा लिपस्टिक और हल्का मक्कुप किया था और अक्चा वाला पर्फ्यूम.

हम कार मे जेया रहे थे और जब मे गियर चेंज करता था तब उनकी जाँघो से मेरा हाथ लगता था. एक दम मुलायम जंघे थी उसकी. लेकिन वो इग्नोर कर देती थी.

आज सफ़र लंबा था और कार मे हम दोनो ही थे. धीरे धीरे मेडम ने बात शुरू की. कहा कों कों है घर मे विकी? मैने कहा मेडम मई मेरी मम्मी और बहें की पिच्छले साल ही शादी हुई है.

उसने कहा अक्चा और क्या करती है मम्मी? मैने कहा जॉब. और मैने अभी जॉब चोरी है प्राइवेट कंपनी मे ऑफीस स्टाफ मे जॉब करता था. उसने कहा और मामा बन गये तुम? मैने कहा नही मम्मी ने बताया दीदी अभी अभी प्रेग्नेंट हुई है.

फिर मैने पूछा मेडम आपके कितने बाकछे है? तब उसने कहा एक भी नही. तब मैने स्माइल करते हुए कहा. आपकी भी अभी अभी शादी हुई है? तब उसने कहा क्यू?

मैने कहा आपकी आगे कम ही है ना इसलिए पूछा. उसने कहा मेरी शादी को 10 साल हो गये. मैने कहा सॉरी मेडम बुत आपको अभी तक बेबी नही?

तब उसकी आँखों में नामी आ गयी और कहने लगी हज़्बेंड ही ऐसा ड्रिंक करने वाला मिला है. क्या करेंगे बेबी ला के, कों संभाल रख पाएगा? मई अकेले कैसे संभालूंगी. चलो संभाल भी लूँगी लेकिन… फिर वो रुक गयी और आँखे भर आई उसकी.

तब मैने कहा सॉरी मेडम तब मेडम ने कहा इट’स ओक विवेक. मैने तुरंत कहा मेडम आप मुझे विकी ही कहो मुझे अक्चा लगता है. सब मुझे विकी ही कहते है. उसने स्माइल देके ओक कहा.

मैने कहा मेडम एक बात कहना चाहता हू. उसने कहा क्या कहना है कहो. मैने कहा मेडम आप सोनाकशी सिन्हा जैसी दिखती हो और… उसने कहा और क्या?

तो मैने कहा कुछ नही. तब उसने कहा क्या बोलो? मैने कहा आपका फिगर भी सोनाकशी सिन्हा जैसा है. वो ज़ोर ज़ोर से हासणे लगी और कहा पागल हो विकी.

मैने कहा जो है वो कह रहा हू. आप पे तो बोहोट सारे मरते होंगे. कोई भी अक्चा इंसान प्रपोज़ करता होगा. उसने कहा विकी बोहोट सारे मरते है और प्रपोज़ भी बोहोट सारे करते है. लेकिन मई ज़्यादा इंटेरेस्ट नही रखती, आयेज जाके बदमानी होती है. और वो ही ह्यूम बदनाम करते है प्यार मे धोका दे के.

ऐसे बात करते करते हम जेया रहे थे और आयेज जाके तोड़ा कक्चा राष्टा आया. तो कार स्लो चला रहा था लेकिन एक जगह खड्‍डा आया. कार थोड़ी मेरे साइड झुकी तो सोनल मेडम मुझसे टकराई. और उसने मेरा शोल्डर पकड़ लिया और उसका एक बूब मेरी कोहनी पे लगा जो मुलायम लगा.

मैने सॉरी कहा तो उसने कहा इसमे तुम्हारी ग़लती है ही नही. रास्ता ही ऐसा है. बस अब हम थोड़ी देर मे पहुँच गये.

वाहा पहुँचे तो बोहोट ज़्यादा भीड़ थी. हुमारे साथ जो पार्टी वेल आए थे वो आयेज पहुँच गये थे. और मेडम को रास्ता देने के लिए पब्लिक को साइड कर रहे थे.

मई मेडम के बाजू मे चल रहा था. अचानक मेडम का पैर फिसला तो मेडम गिरने ही वाली थी तो मैने मेडम को पकड़ लिया. और अंजाने मे मेरा हाथ मेडम के लेफ्ट साइड के बूब्स पे चला गया. मेडम को गिरते हुए बचाने से प्रेस भी हो गया.

भीड़ की वजह से किसी ने इस्पे ध्यान नही दिया. सिर्फ़ मई और मेडम ही जानते थे की उसका पूरा बूब मेरे हाथ मे आ गया था. और हम लोग स्टेज पे गये और मीटिंग ख़तम करके हम घर को लौट गये.

सिर्फ़ भीड़ के बारे मे और मेडम सिर्फ़ थकान के बारे मे ही बात की. उस बात को च्छेदा ही नही क्यू की मेडम जानती थी की जान बुझ के नही किया.

एलेक्षन ख़तम हुआ और मेडम अकचे वोट से जीत गयी. मई अब घर पे ही था. एक दिन उस अंकल को मेडम ने कहा विकी कहा है, दिखता नही? तो अंकल कहा घर पे ही है मेडम.

तब मेडम ने कहा उसे मेरे घर पे भेजना उसको ड्राइविंग की सॅलरी देनी है. तो अंकल ने मुझे बताया की मेडम ने बुलाया है. मई शाम को मेडम के घर पे गया.

जाते ही मेडम मुझ पे भड़क गयी. आते क्यू नही, सब यहा आए मुझे विश करने के लिए! मैने कहा सॉरी मेडम इतने लोगो मे अक्चा नही लगता अनेका इसलिए.

तब मेडम ने कहा पागल हो! तब मैने मेडम को कहा कंग्रॅजुलेशन्स मेडम और हाथ मिलने को मैने हाथ बढ़ाया. मेडम ने भी हाथ बढ़ाया और थॅंक्स कहा.

मई हाथ पकड़े ही रहा. क्यू की नरम नरम हाथ लग रहे थे. मेडम ने कहा क्या हुआ विकी मेरा हाथ… और मेडम ने हाथ की तरफ इशारा करते हुए कहा.

मई हड़बड़ते हुए सॉरी मेडम कहके हाथ छोरा. मेडम ने कहा आओ विकी मई तुम्हे अपना घर दिखती हू… कह के घर दिखाया. उसका घर बड़ा था, 5-6 रूम थे.

एक रूम मे उसका हज़्बेंड सोया हुआ था. शायद वो काफ़ी ड्रिंक किया हुआ था. मैने पूछा मेडम आपका रूम यही है? तो उसने कहा नही मई अलग सोती हू. इसमे सिर्फ़ ये ही सोता है… कह के हम बाहर निकल गये.

और उसने खुद का रूम बताया. काफ़ी अकचे से सजाया था उसका रूम. आक्ची खुसबू आ रही थी उसके रूम से. मैने उसके रूम की तारीफ की. उसने थॅंक्स कहा और उन्होने उसका ग्राउंड फ्लोर वाला रूम दिखाया. और कहा मई यहा भी सो जाती हू आस डिपेंडेड ओं मूड.

फिर उसने मुझे छाई पिलाई और ड्राइविंग के पैसे दिए. मैने माना किया और कहा मेडम मई पैसे के लिए ड्राइविंग करने आया था. लेकिन अपने मुझे ड्राइवर जैसे नही रखा, सो मुझे नही चाहिए.

तब उसने कहा विकी तुम्हारे घर मे कमाने वाला मम्मी के अलावा कोई नही. तो प्लीज़ ले लो ऐसा कह के उसने मेरा हाथ पकड़ा और मेरे हाथ मे पैसे रख दिए.

फिर हम बाते करने लगे. तब मैने पूछा मेडम आप दो लोग ही रहते हो? तो उसने कहा हन, पिछले साल ही सास सरूर गुजर गये. मैने कहा मेडम आपको बेबी के लिए आपके हज़्बेंड को समझना चाहिए.

तब उसने कहा उसको कुछ पड़ी नही मेरी, मई क्यू करू. फिर थोड़ी बात करके मई बाइ कहते हुए घर को निकल गया. और मेडम ने आते रहना ऐसा कहा.

सब पार्टी के लिए बोल रहे थे. तो एक वीक बाद मेडम ने तौर पे जाने का प्रोग्राम बनाया और अंकल से मेरा नंबर लिया. मुझे मेडम का कॉल आया.

विकी कहा हो? मैने कहा मेडम घर पे हू. तो कहा अभी मेरे घर पे आओ और मई गया. उसने कहा हम लोग पार्टी वेल सब 1 दिन के तौर पे जाने वेल है और तुम्हे भी आना है. और ड्राइविंग तुम करोगे मेरी कार की.

मई खुश हो गया और ठीक है मेडम कहा. तो मेडम ने कहा कल आके कार सर्विस करवाई और हम तौर पे निकल गये. आक्ची बात तो ये थी की मेडम की कार मई मेडम और मे दो ही थे.

पूरा दिन घूमे फिरे मस्ती और शाम को लाते हो गया. मेडम ने कहा आज की रात यही कही होटेल मे रुक जाते है, सब अग्री हो गये.

होटेल ढूनदा तब बड़ी मुस्किल से एक होटेल मिला. जिसमे 10 रूम ही हमारे लिए मिले, बाकी सब फुल थे. सब रूम 2न्ड फ्लोर पे थे. सिर्फ़ एक रूम ग्राउंड फ्लोर पे था. जो मेडम ने कहा मई इस रूम मे रहूंगी. बाकी तुम सब लोग अड्जस्ट कर लो.

क्यू की मेडम ने रूम पसंद किया था. वो अक्चा था लेकिन सिंगल बेड वाला था. मई कही पे अड्जस्ट नही हो पा रहा था. तो मैने कार मे या फिर एक पेड़ के चोरहे पे सोने का डिसाइड किया.

करीब 12 बाज रहे थे और मे चोरहे पे सोते हुए मोबाइल मे ग़मे खेल रहा था. शायद मेडम ने मुझे चोरहे पे सोता हुआ देखा. और फिर उन्होने मुझे कॉल किया.

इश्स पार्ट मे बस इतना ही, अगले पार्ट मे बतौँगा की आगे क्या क्या हुआ.

आगे की कहानी अगले पार्ट मे जल्दी ही आएगी. ओर भी जवान भाभी लड़किया ओर आंटी को हॉट बाते करना ही तो आप मैल करे [email protected] आप की सारी डीटेल्स एक दम सीक्रेट रहेंगी उससे आप लोग बेफ़िक्र रहे.

यह कहानी भी पड़े  बेहन के साथ हनिमून ओर सेक्स का मज़्ज़ा

error: Content is protected !!