पजी में रहने वाली लड़की के साथ दोस्ती और चुदाई की कहानी

ही दोस्तों, मेरा नाम अम्मी है. आपने मेरी पिछली स्टोरी तो पढ़ ही रखी होगी. तो चलिए एक नयी स्टोरी शेर करते है.

दोस्तों आपको पता है की मैं कॅब का काम करता था. मैं एक प्ग में रहता था ज़ीरकपुर. ये बात तब की है, जब हमारे प्ग में रूम्स में कपल्स, बॅच्लर्स सब अलोड थे.

वाहा पे एक लड़की रहती थी, जो नहन से थी. सॉरी दोस्तों नाम नही शेर कर सकता. ये कहानी उसके और मेरे बीच की है

मेरा उसके साथ तोड़ा हेलो-ही था. एक दिन हमने प्ग में आंटी की लड़की का बर्तडे सेलेब्रेट किया, और उस दिन से हमारी दोस्ती हो गयी. मैं बता डू, की उसकी हाइट करीब 5’3″ थी, रंग सावला, और बूब्स 36″ होंगे करीब. एक-दूं मस्त दिखती थी. एक दिन मेरे होमटाउन से कुछ लड़के आए थे.

रूम कंजेस्टेड था तो मैं कंबल लेके नीचे जेया रहा था कार में सोने के लिए. वो नीचे से उपर आ रही थी, और बोली-

वो: कहा जेया रहे हो?

मैने बताया: मैं कार में सोने जेया रहा हू.

वो झट से बोली: पागल, मैं अकेली तो हू. तुम भी मेरे रूम में ही रह लो.

मैने भी ठीक समझा और मैं भी उसके रूम में चला गया, जो की मेरे रूम से 2 रूम छ्चोढ़ के ही था. उसका ब्फ था, पर वो मिल नही पाते थे, क्यूंकी वो कही डोर रहता था. हम रात को एक-दूसरे से बातें करने लगे. हमने मोमॉस वग़ैरा ऑर्डर किए, खाए, और लेट गये.

लेट-ते हुए मैने उसे मज़ाक में बोला: अगर मैं टुमरे उपर अपना पैर रख डू, तो बुरा मत मानना.

वो हासणे लगी और बोली: तुम रहने दो. मैं ही रखती हू.

मुझे लगा की वो भी पास आना चाहती थी. बस बोल ही नही पा रही थी. मैने उसे कुछ नही बोला और उसके साथ छिपकने लगा. वो कुछ नही बोल रही थी. मैने फेस को आयेज किया और किस कर दिया.

शिवि: ये क्या था?

मैं: वही जो तुम समझ रही हो.

शिवि: यार मेरा ब्फ है, किसी को पता लग गया तो?

मैं: किसी को नही लगेगा.

और मैं उसके और करीब जाने लगा. मैं उसके लिप्स पे किस करने लगा. वो मेरा साथ देने लगी, और गरम होने लगी.

शिवि: यार आराम से करो, कही भागी नही जेया रही मैं.

मैं: हा पता है, चुप रहो.

और मैं किस करता रहा कभी नेक पे, कभी इयर्स पे. लड़कियाँ इयर्स पे किस्सिंग से बहुत एग्ज़ाइट होती है. मैने किस करते-करते उसके कपड़े उतारने स्टार्ट कर दिए. उसके बूब्स देख कर मेरा दिमाग़ ही चकरा गया. क्या चीज़ थी वो. मैने उसके निपल्स मूह में लिए और चूसने लगा.

शिवि ह ह की आवाज़ कर रही थी. उसकी बॉडी अकड़ रही थी. मुझे पता था वो झाड़ रही थी. मैने उसे ब्लॅक ब्रा और पनटी उतारने को बोला और लेग्स ओपन कर दी. दोस्तों अकेला छोड़ना ही सब कुछ नही होता, लड़की को खुशी पूरी देने के लिए छूट ज़रूर चाटनी चाहिए. मैने वैसे ही किया. अपनी जीभ से शिवि की छूट चाटने लगा.

वो अपने हाथ मारे सिर में घुमा रही थी, और तेज़-तेज़ साँस ले रही थी. मैने उसे बोला की 69 करते है पहले. तो उसने माना किया. पर मैने छूट चाट कर गरम ही इतना कर दिया की वो मान गयी.

फिर उसने झट से मेरे मूह पे अपनी छूट रख दी, और अपना मूह मेरे लंड पे रख दिया. लंड उसके गले तक जेया रहा. उसने सारा थूक से गीला कर दिया था. उसकी छूट की स्मेल बहुत मज़ेदार थी दोस्तों. क्या चूसा लंड उसने मज़ा आने लगा मुझे भी.

मैने बोला: मैं तेरे मूह में झदूँगा.

वो बोली: पागल मैं रंडी नही हू. मैं नही कर सकती.

पर मैं नही माना और उसके मूह में, और तोड़ा उसके मूह के उपर झाड़ दिया. फिर मैने उसे लिटा लिया, और लेग्स को अपने कंधे पे रख लिया. लंड को छूट पे लगा के धक्का दिया एक बार, तो तोड़ा सा गया. दूसरी बार सारा का सारा अंदर चला गया.

उसकी आवाज़ आई: नही उहह मा मॅर जौंगी मैं. लंड निकाल बीसी बाहर.

उसके मूह से गली सुन के मैं पागला गया, और धक्के मारने लगा. आओ आ आह करती रही बस. मैने उसकी टांगे पूरी ओपन करके 20 मिनिट तक धक्के मारे. उसकी आहें मेरा और भी ज़ोर बढ़ा देती. वो फक मे फक मे बोलने लगी. कभी बोलती प्लीज़ और छोड़ो मुझे, और छोड़ो. एक-दूं रंडी बन चुकी थी वो.

उसने बोला की मैं उसके थप्पड़ मारु. वो रंडी की तरह वाइल्ड सेक्स करना चाहती थी. मैने देर ना करते हुए 2-3 थप्पड़ मारे. उसके निशान पद चुके थे, पर उसकी आहें बंद नही हो रही थी.

वो बोलती: छोड़ मेरे अंदर छ्चोढ़ पानी. मा बना मुझे अपने बच्चे की.

उसकी छूट बहुत टाइट थी यार. कसम से सारा लंड जब गया उसके अंदर क्या मज़ा ले रही थी. वो खुद हिलती, कभी पुसी रगड़ती अपनी. अब उसका पानी निकल चुका था. वो आह आ कर रही थी, और भी मज़ा आया जब मुझे उसने बताया की उसने छूट फर्स्ट टाइम चटवाई थी. उसने कहा उसको छूट चटवा के जो सुकून मिला, वो कभी नही भूल पाएगी.

मैने उसे घोड़ी बनाया, और पीछे से भी उसकी छूट मारता रहा. हमने 3 बात सेक्स किया. वो जब झड़ती पानी-पानी कर देती. फिर मैने शिवि को बोला की वो मेरे उपर आए. वो फिर मेरे उपर आई, और मैं नीचे लेता और वो उपर-नीचे होने लगी. कसम से सारा लंड उसकी छूट में था, और उसके बूब्स उपर-नीचे हो रहे थे. मेरा भी होने वाला था. मैने उसके अंदर ही झाड़ दिया.

वो हासणे लग गयी. रात को मैने उसको कपड़े पहनने ही नही दिए. उसकी गांद पे बहुत थप्पड़ मारे. सारी लाल हुई पड़ी थी. शिवि ने बताया की वो बहुत टाइम से चूड़ी नही थी. उसका ब्फ डोर था, और अब वो भी आसानी से लंड ले पाएगी जब उसका मॅन करेगा

मैने बोला: जो हुकुम आपका. जब मॅन करे अपनी छूट और गांद मरवओ रानी जी.

दोस्तों कोई भी भाभी या आंटी लड़की चंडीगार्ह के नियर्बाइ एरिया से हो, और चूड़ना चाहती हो, मुझे मैल कर सकती है [email protected] पर. सब सीक्रेट रहेगा.

यह कहानी भी पड़े  देसी लड़की फासी आफ्रिकन लड़को मे


error: Content is protected !!