देसी लड़की फासी आफ्रिकन लड़को मे

ही मेरा नामे रणनी है, मैं फ्रॅन्स में रहती हूँ. मैं यहाँ की बोर्न हूँ और मेरे पापा का अछा काम है. हम लोग इंडिया, देल्ही के रहने वेल है.

जैसा की मैने बताया की मैं फ्रॅन्स में रहती हूँ और मेरा स्कूल भी यहाँ पर हुआ. मेरा रंग बहोट फेर है और मेरा साइज़ 34, 30, 36 है. जो भी कोई मुझे देखे बस देखता रह जाए.

स्कूल के दीनो से ही मैं काफ़ी ओपन माइंड थी. मों दाद जॉब करते थे जिसकी वजह से मैं और मेरा स्माल ब्रदर दोनो घर पर अकेले होते सारा दिन.

मेरा स्कूल मे 1 बाय्फ्रेंड था, फ्रेंच बॉय. उसके साथ मैं काफ़ी घुल मिल गयी थी. मों दाद जब घर ना होते तो मैं उसे घर ले आती और हम दोनो फिर रोमॅन्स करते.

आपका टाइम ना खराब करते मैं मॅटर पर आती हूँ. जैसा की मैने बताया मैं ओपन माइंड थी इसकी वजह से मेरे ब्फ ने मेरे साथ सेक्स लार लिया था. मगर उसका कॉक कुछ ख़ास ना था.

जैसे ही मेरी स्कूल लाइफ ख़तम हुई मैं यहाँ के कोल्लहे मैं अड्मिशन ले ली. आपको बता डून की मेरे कोल्लहे मे ज़्यादा आफ्रिकन और आरबिक लड़के थे, फ्रेंच कम ही थे. जैसे तैसे मैं वहाँ जाने लगी.

मेरी दोस्ती कुछ लड़को से हो गयी, वो सब ड्रग्स लेते और मुझे भी उन्होने ड्रग्स पर लगा लिया. कभी कभी मेरे बट्स पर हाथ लगते और कभी मेरे गॅलन पर. ओपन माइंड होने की वजह से मैं यह सब इग्नोर कर देती.

फिर 1 दिन मैं कॉलेज गयी तो मेरा कोई फ्रेंड नही आया वहाँ. और मुझे नशे की आदत की वजह से कमज़ोरी फील होने लगी, मेरा सिर दर्द हो रहा था.

मैने वहाँ पर खड़े 5 लड़के जिनमे 3 आफ्रिकन और 2 आरबिक थे. जो हमारे कोल्लहे मे नशा सप्लाइ करते और लड़कियों से मस्ती करते थे. मैं उनके पास गयी और चरस के लिए बोला. मगर वो मुझे नही दे रहे थे जिससे मेरी हालत और खराब हो गयी. मैने बोला प्लीज़ डेडॉ मुझे ज़रूरत है इसके बदले जो मर्ज़ी तुम ले लो.

उनमे से 1 हट कर बोला जो मर्ज़ी क्या, कुछ भी? मैने हन मैं सिर हिला दिया. तभी उसने कहा की हमारे साथ थोड़े मज़े करो फिर हम तुम्हे देंगे. मैं नशे की टूटी हुई थी जिसकी वजह सर मैने हन करदी.

वो लोग मुझे कार मे अपने किसी घर मैं ले गये. और वहाँ ले जा कर मुझे पहले उन्होने नशा दिया जिससे मेरी हालत कुछ ठीक हुई. तभी उन लड़को ने बोला चलो अब अपना प्रॉमिस पूरा करो की तुम कुछ भी कर सकती हो.

मैने पूछा की क्या चाहिए तुमको?

तभी 1 लड़का जिसका नामे अब्दुल था, उसने बोला की तुम्हारी बॉडी से हम खेलना चाहते है. मैं अकेली और वो 5 थे. मैं तोड़ा दर गयी मगर मुझे भी सेक्स किए बड़े दिन हो गये थे सो मैने हन कर दी. इससे वो सब खुश हो गये.

तभी अब्दुल ने मेरे पास आ कर मुझे लिप्स किस कर ली और मेरे बूब्स को दबाने लगा. उसके साथ जो दूसरे लड़के थे उनका नामे अली, मॉडारेटेड, मॅक्स, युसुफ था.

जब अब्दुल मुझे किस कर रहा था वो भी पास मेरे आ गये और मेरे बूब्स और मेरी गांद को दबाने लगे. इतने मे मेरी कमर पर मुझे कुछ फील हुआ जैसे किसी ने मुझे कोई इंजेक्षन लगा दिया हो. मैने जैसे पीछे देखा तो अब्दुल के हाथ इंजेक्षन था. मैने पूछा की क्या किया? तभी सब हासणे लगे.

अब्दुल – अभी तुम नशे में रहोगी और तुझे मज़ा भी आएगा छुड़वाने मे.

मेरे साथ ऐसा ही हुआ, उस इंजेक्षन की वजह से मुझे मेरी बॉडी मैं गर्मी होने लगी और मुझे पसीना आने लगा. तभी किसी ने मुझे पकड़ कर अपनी गोद मैं बिता लिया और मेरे बूब्स को मसालने लगा.

इसके बाद दूसरा लड़का मेरी जीन्स को उतरने लगा. ऐसे सब ने मुझे नंगी कर दिया. अब उन 3 आफ्रिकन और अरबी भी नंगे हो गये. उन सब के डिक बड़े बड़े थे. मैं यह देख पागल हो रही थी और इंजेक्षन के नशे से मेरे अंदर आग लगी थी.

उन लोगो के सामने मैं बिल्कुल नंगी और मेरी पुसी पर कोई हेर भी नही था. सभी मेरे पास आ गये, कोई मेरे बूब्स के साथ खेलने लग गया. तो कोई मेरी गांद और कोई पुसी मे फिंगर करने लगा. 1 ने मेरे मूह मे अपना लंड दे दिया. मुझे मेडिसिन और सेक्स का नशा हो रहा था, मैं भी यूयेसेस लड़के का लोड्‍ा चूस रही थी.

तभी उन सब ने मुझे बेड पर पटक दिया. अभी 1 का लोड्‍ा मेरे मूह मे था और 2 मेरे बूब्स चूसने लगे. 1 मेरी पुसी को छत रहा था और 1 को मैं हाथ से उसका लंड मसल रही थी.

मैं अपने माइंड मे यह भी सोच रही थी की आज मुझे चलने लायक नही छोड़ेंगे. क्यूकी सभी के डिक बड़े बड़े थे, मगर अब इसका कोई फयडा नही था सोचने का. क्यूकी मैं इनके जाल मैं फस चुकी थी.

तभी अब्दुल मेरे मूह मैं ज़ोर ज़ोर धक्के लगाने लगा. मैं समाज गयी की अब वो डिसचार्ज होने वाला. मैने अपना मूह हटाने की कोशिश की मगर उसने ज़बरदस्ती सारा स्पर्म मेरे मूह मैं निकल दिया जिसे मुझे पीना पड़ा.

फिर मॅक्स मेरे मूह की तरफ आ गया और उसने मेरे मूह मैं अपना डिक डाल दिया. अभी मैं संबली थी की युसुफ ने मेरी पुसी पर अपना कॉक रख दिया और 1 ही झटके मे 2 इंच अंदर डाल दिया. मुझे दर्द हुआ और मैं चिल्ला पड़ी, जिस वजह से वो हासणे लगे और कहने लगे की लगता इसकी कभी असली ठुकाई नही हुई.

अभी मैं संभाल ही पति की युसुफ ने दूसरा झटका मारा तो अपना लंड मेरे अंदर सारा डाल दिया. मेरी दर्द से बुरी हालत हो गयी मगर वो ऐसे ही मेरे उपेर पड़ा रहा. मेरे मूह मे भी एक का डिक था जिसकी वजह से मैं चिल्ला भी नही सकती थी. मेरी आँखो मे आँसू आ गये दर्द की वजह से. मगर उन लोगो को कोई फराक ना था, वो भी पूरा नशा कर के मेरे उपेर चड़े थे.

सभी मुझे मसालते जा रहे थे. युसुफ अब मेरी पुसी छोड़ रहा था. अब मेरा दर्द मज़े मे बदल गया. इधर मॅक्स भी मेरा मूह छोड़ रहा था.

तभी युसुफ मेरे नीचे आ गया और मेरी छूट पर अपना लंड सेट किया और मॅक्स मेरे पीछे खड़ा हो गया, उसके हाथ मे ड्यूर्क्स गेल थी.

मॅक्स ने गेल खोली और मेरे अशोल पर भर कर लगा दी और अपनी उंगलियो से अशोल के अंदर तक वो गेल लगा दी. मैं समाज गयी की यह लोग मेरी गांद भी छोड़ेंगे.

तभी मॅक्स ने अपना लंड मेरी गांद पर टीकाया और धक्का मारा. जो की मेरी गांद को फाड़ता हुआ कुछ इंच अंदर चला गया. मैं दर्द से चिल्ला उठी मगर नशे की हालत मे वो कुछ ना सुनने वेल थे. दूसरे धक्के में उसने अपना सारा लंड मेरी गांद में डाल दिया.

अब मेरी फूल ठुकाई हो रही थी, नीचे से युसुफ और पीछे से मॅक्स. उनके बड़े बड़े लंड मुझे ठोके जा रहे थे. मैं भी झरने वाली थी तभी मेरी बॉडी टाइट हो गयी और मेरा पानी निकल गया. पानी के साथ मेरा ब्लड भी नीचे फ्लोर पर गिरा.

मगर युसुफ और मॅक्स मुझे छोड़े जेया रहे थे. अभी जो 2 लड़के मॉडारेटेड और अली डोर खड़े लंड हिला रहे थे. और साथ में चरस की सिगरेट लगा रहे थे.

मैं मॅक्स और युसुफ दोनो में चुड रही थी. तभी मुझे फील हुआ की दोनो ने अपना पानी मेरे अंदर छोड़ दिया और उनका लंड बाहर आ गया. उनका स्पर्म मेरी छूट और गांद से बाहर निकालने लगा.

मई इस खेल से तक गयी थी क्यूकी मैं भी उनके छोड़ने से 2-3 बार झार गयी थी. अभी मैं संबल कर उठने ही लगी की पीछे से अली ने मुझे पकड़ लिया और मुझे सिगरेट दी.

मैने वो चरस की सिगरेतटे पी जिसकी वजह से मैं फिर नशे में हो गयी. तभी मॉडारेटेड ने मुझे ई ग्लास दिया जिसमे पानी था. मैने जैसे ही वो पिया मुझे उसका टेस्ट अलग लगा. उसमे उन लोगो ने कुछ मिलाया था जिसकी वजह से मैं पूरी नशे में आ गयी. अब मुझे सिर्फ़ सेक्स ही सूझ रहा था.

तभी अली सोफे पर बैठ गया और मुझे इशारा किया की मैं उसके लंड पर बैठ जाओं. मैने ऐसा ही किया, अली का लंड काफ़ी लंबा और मोटा था. मुझे तोड़ा दर्द हुआ पर धीरे धीरे मैं अड्जस्ट हो गयी.

अली मेरी फुददी में पूरा अंदर डालता और फिर बाहर निकाल लेता. उसका लंड मेरे बछेड़नी को टच करता और मुझे अलग सा एहसास होता, मुझे मज़ा आ रहा था.

मगर मैं अगले हमले से अंजान थी. वही पर मॉडारेटेड बैठा मेरी पिंक पुसी को चूड़ते देख रहा था. उसका भी अली की तरह काफ़ी बड़ा लंड था.

तभी वो मेरे पीछे आया और अली मुझे छोड़ते हुए रुक गया. मैं कुछ समाज पाती तभी अली ने अपना आधा लंड बाहर निकाला और मॉडरात ने भी अपना लंड मेरी छूट पर टीका दिया.

मैं नशे की हालत में थी और तभी दोनो ने ढाका दिया जिसकी वजह से अली और मॉडर्ात्द दोनो का लंड मेरी छूट मैं जेया फसा.

मुझे दर्द होने लगा पर शराब और चरस की वजह से वो मुझे नही चॉर्ने वेल थे. 2 लंड मेरी छूट में अंदर बाहर हो रहे थे. मेरी दर्द से फट रही थी.

तभी अब्दुल भी आ गया और मेरे मूह को छोड़ने लगा. अभी सिर्फ़ मेरा अशोल खाली था और मेरी ज़ोर ज़ोर से ठुकाई चल रही थी.

अब मुझे भी मज़ा आने लगा, चरस का नाश सिर चाड बोल रहा था. मेरे मूह से फक फक की आवाज़ आ रही थी, वो भी मुझे जोरो ज़ोर छोड़ रहे थे.

तभी युसुफ मेरे पीछे आ गया और उसने अपने डिक पर कोई रेड कलर का प्रॉडक्ट लगाया. फिर मेरी अशोल मैं अपना लंड डालने लगा. उसकी इस हरक़त से मेरी गांद में आग लग गयी. और मैं फिर 5 वी बार झार गयी. मेरी बॉडी दुखने लग गयी थी मगर उन्हे सिर्फ़ अपने पैसे वसूल करने थे जो मुझे चरस दी थी.

अब अली, मॉडारेटेड, युसुफ मेरी चुदाई कर रहे थे. 2 लंड मेरी छूट और 1 गांद में और 1 मौत में मुझे छोड़े जेया रहे थे. तभी मॅक्स भी डिसचार्ज हो गया. अब मॉडारेटेड और युसुफ मुझे छोड़ रहे थे.

तभी अब्दुल भी पीछे आ गया और सोफे पर बैठ गया. उसने भी युसुफ के साथ मेरी गांद में अपना लंड डाल दिया. मैं तो मरने वाली हो गयी थी और युसुफ के वो लाल रंग से मेरे अंदर आग लगी पड़ी थी. मेरे मूह से बस ह एहह उहह आह ही निकल रहा था.

कुछ टाइम के बाद मॉडारेटेड भी मेरे अंदर खाली हो गया. अब युसुफ और अब्दुल मुझे छोड़ रहे थे और मैं भी अंदर से झार चुकी थी. मेरी स्किन भी कसने लगी पर उनके लंड मुझे चिली जेया रहे थे.

मैं बस ह्म्‍म्म्म अहह अहह्ा हह उहच्छुहछ कर रही थी.

तभी अब्दुल ने लंड निकल कर मेरी छूट में डाल दिया. थोड़ी देर बाद वो दोनो भी झार गये और अपना लंड मेरे मूह से सॉफ करवाया.

इसके बाद मैं बेड पर आदमारी पड़ी हुई थी. उन लोगो ने मुझे उल्टा कर मेरी पुसी और अशोल की पिक ली. मैने जब वो पिक देखी मेरी आँखे फट गयी. उस पिक में दोनो तरफ मेरी गांद और छूट खुल गयी थी 2-2 लंड लेने से और वो लाल हो गये थे सूज कर. उन लोगो का पानी अभी भी बाहर तपाक रहा था.

मुझमे खड़े होने की हिम्मत नही थी. तभी मैं किसी तरह बातरूम तक गयी और गरम पानी से फ्रेश हुई जिससे मुझे कुछ आराम मिला. इसके बाद मैं अपने घर आके सो गयी.

मेरी स्टोरी कैसे लगी प्लीज़ बताना ज़रूर, मैं फिर वापिस ओंगी न्यू स्टोरी के साथ, बाइ त्क.

यह कहानी भी पड़े  दोनो कज़िन भाई के साथ सामूहिक चुदाई

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!