कहानी जिसमे लड़के ने अपनी गर्लफ्रेंड की सील तोड़ी

सुबा मैं 8-9 बजे तक उठ जाता हू, क्यूंकी ऑफीस जाना होता है. मैं उठा तो वो सो रही थी. फिर मैं ऑफीस चला गया. उसने उठ के मुझे मेसेज किया.
अलीशा: गुड मॉर्निंग.
मैं: गुड मॉर्निंग, उठ गयी हॉर्नी बेबी?
अलीशा: हहा, हा उठ गयी. यार कल मुझे नही पता था मेरा ये हाल होगा.
मैं: मुझे भी अंदाज़ा नही था सिचुयेशन ऐसी थी, वरना कल मैं लंड डाल देता. तुम माना भी नही करती.
अलीशा: तो अब डाल दे ना, मैं रेडी हो उसके लिए.
मैं: किसके लिए?
अलीशा: आपके लंड के लिए मिसटर, खुश अब?
मैं: हाहाहा, खुश तो तुम करोगी मुझे.
अलीशा: ऐसा खुश करूँगी, की याद रखोगे.
मैं: ओक, शाम में तुम्हे घर छ्चोढने जौंगा, तो मुझे सब के सामने ये कहना की तोड़ा समान लेना है मार्केट से, तो लेते हुए चलेंगे. इससे हमे टाइम मिल जाएगा.
अलीशा: ओक बेबी.

फिर मैने उसको बाइ कहा, और काम ख़तम करके घर आया. शाम में खाना खा के छाई पी, और थोड़ी देर में अलीशा को लेके निकल गया. उसने प्लान के मुताबिक मार्केट जाने का कहा, और मैने मूह बना के कहा ओक.
फिर हम घर से निकले. मैने ऑफीस से आते वक़्त एक ट्रॅन्स्परेंट निघट्य और बिकिनी ली थी ब्लॅक कलर में. मैने उसको बाग दिया.
उसने कहा: इसमे क्या है?
मैने कहा: बाद में खोल के देख लेना.
फिर हम फ्लॅट पर पहुँचे, और अंदर गये. मैने गाते लॉक किया, और हम रूम में एंटर हुए. उसने निघट्य खोली, तो देख कर खुश हो गयी.
फिर मैने कहा: ये पहन के आओ.
वो दूसरे रूम में गयी, और चेंज करके 5 मिनिट में चादर पहन के आ गयी. वो मुझे देख के शरमाने लगी. मैं बेड से उठा, उसका पास गया, और चादर खींच के हटा दी.
फिर मैं आँखें फाड़-फाड़ के उसको देखने लगा. वाउ, क्या सेक्स बॉम्ब लग रही थी वो. उसके बूब्स एक-दूं टाइट थे, और हिप्स मेंटेंड गोल गोल. पेट बिल्कुल प्लैइन था उसका. वो मुझे देख के मूह च्छुपाने लगी, और बोली-

अलीशा: क्या देख रहे हो? मुझे शरम आ रही है.
मैं: देख रहा हू तुम इतनी सेक्सी हो यार. पहले क्यूँ तुम पर नज़र नही पड़ी मेरी.
फिर मैं उसके करीब गया, और उसकी हाथ फेस से हटाए. उसने मूह फेर लिया, और पलट गयी. मैने उसको पीछे से पकड़ा, और लंड उसकी गांद में फ़ासस गया. फिर मैं उसकी नेक पर चूमने चाटने लगा, और बूब्स पकड़ के मसालने लगा.
अलीशा: स्शह अयान, मुझे आज सब करना है. प्लीज़ जैसा दिल हो करना, मैं नही रोकूंगी आज आपको. मुझे पता होता इतना मज़ा आता है, तो मैं कब से करवा लेती आप से.
मैं पागलों की तरह उसके शोल्डर्स को चूमने लगा. कभी मैं नेक पर चूमता, कभी बूब्स ज़ोर से दबाता, और उसकी आ निकल जाती.
मैने कहा: आज मैं तुम्हे हर स्टाइल में छोड़ूँगा.
अलीशा: सस्स्सह, जैसा दिल करे छोड़ना. मैं तैयार हू बेबी.
फिर मैने उसकी निघट्य उतार दी. वो ब्रा और पनटी में ग़ज़ब लग रही थी. एक -दूं मॉडेल फिगर था उसका. मैने उसको लिप्स पर किस्सिंग करी, और उसके होंठ चूमे-चाटने लगा. उसकी हिप्स पकड़ के मैं ज़ोर से दबाने लगा, और थप्पड़ मारने लगा.

उसकी सिसकियाँ बढ़ने लगी थी. वो मुझे पागलों की तरह चूमने लगी, और लेग्स खोल के मेरी कमर पर घुमा ली. मैं उसको बेड पर ले गया, और लिटा दिया.
फिर मैं उसके उपर लेट गया और होंठो को चूमने लगा. एक हाथ से मैं उसकी बूब्स दबाने लगा. वो पागल हो गयी थी. उसने मुझे पकड़ा, और लिटा के मेरे उपर आ गयी लेग्स खोल के. फिर उसने मेरी शर्ट उतरी, और पंत खोलने लगी, और पंत भी उतार दी.
फिर वो मेरी चेस्ट पर ज़ुबान फेरने लगी और चूमने लगी. सस्स्शह मेरा लंड फुल हार्ड था, और उसकी छूट से लग रहा था. वो नीचे से गांद मूव करते हुए अपनी छूट को मेरे लंड पर मसल रही थी, और मुझे चाटने-चूमने लगी.
मैं उसको अपने करीब करके किस करने लगा, और उसके लिप्स सक करने लगा. उसके हिप्स पर हाथ फेरते हुए मैं मसालने लगा. फिर मैने उसकी ब्रा का हुक खोला, और ब्रा निकाल के उसके दोनो बूब्स को एक-एक करके चूसने लगा.
अलीशा: आआआआः अयान काटो, निशान पड़ना चाहिए, अया बेबी.
मैं ज़ोर-ज़ोर से चूसने लगा, और दबाते हुए काटने लगा. फिर मैने उसको बेड पर लिटाया, और उसकी उपर आ गया. मैं उसके जिस्म को काटने लगा और चाटने लगा. वो मस्ती में मचल रही थी, और मोन कर रही थी.

अलीशा: आआआः बेबी, ओह मी गोद, अब मुझसे कंट्रोल नही हो रहा. प्लीज़ मत तड़पाव अयान. ओह प्लीज़ अयान, अब अपना लंड डाल दो मेरी छूट में. अयान आआआः मेरी छूट में आग लग रही है. इस आग को ठंडा कर दो.
मैने अपना अंडरवेर उतरा, उसकी पनटी भी उतार दी. फिर मैने कहा-
मैं: जानू 69 करे? मैं लेट जाता हू, और तुम अपनी छूट मेरे मूह पर रख दो, और मेरा लंड चूसो.
वो फ़ौरन मेरे मूह पर छूट रख के मेरा लंड पकड़ के मूह में लेने लगी. मैं उसके हिप्स पकड़ के उसकी छूट से लेके गांद तक ज़ुबान फेरने लगा. आज उसकी छूट में से अलग ही महक आ रही थी.
वो मेरा लंड हलाक तक मूह में ले रही थी. मैं भी उसकी छूट को अंदर तक चाट रहा था. कभी मैं उसकी गांद के होल को चाट-ता, कभी छूट में एक उंगली, और गांद में उंगली डालता. जब उसकी गांद में उंगली गयी, तो उसने सुराख टाइट कर लिया.
अलीशा: आआआः अयान तुम्हे मेरे हिप्स इतने पसंद है? (मोन करते हुए) अया छातो ना, जो करना है करो. अया बेबी, मेरी छूट छातो, सक इट बेबी. खा लो इसको, बहुत मचल रही है रात से. आआआः अयान छातो, एस कम ओं. मैं आने वाली हू, एस, ऑश अयान योउ अरे टू गुड बेबी.
थोड़ी देर में वो फारिघ् हो गयी मेरे मूह पर. फिर मैने उसको लिटाया, और उसको किस करने लगा. मैं उसके बूब्स मसालने लगा, और एक हाथ से उसकी छूट में उंगली करने लगा.

मैं: लंड चाहिए बेबी को?
अलीशा: एस, कब से कह रही हू डाल दो, सुनते ही नही हो तुम.
फिर मैने लंड उसकी छूट पर रखा, और मसालने लगा.
अलीशा: डालो ना भाछोड़, कब से तडपा रहे हो.
मुझे गाली सुन के गुस्सा आया, और लंड सेट किया. फिर एक ज़ोर का झटका मारा, और लंड स्लिप हो गया. उसकी छूट बहुत टाइट थी.
फिर मैं उठा, अलमारी से एक वॅसलीन निकली, और अपने लंड पर लगाई, और उसकी छूट पर भी लगाई.
उसके बाद मैने दोबारा से लंड सेट किया, और उसके उपर लेट गया. उसने आँखें बंद कर ली, औड मैने गुस्से में कहा-
मैं: अब आँखें खोल भाडवी.
और एक ज़ोर का झटका मारा. मेरा आधा लंड छूट को चीरता हुआ अंदर चला गया.
उसकी ज़ोरदार चीख निकली, और वो बोली-

अलीशा: प्लीज़ आराम से करो ना अयान. बहुत दर्द हो रहा है, रुक जाओ प्लीज़, आआआः अम्मी.
मैने कहा: अब डोगी गाली?
और एक ज़ोर का झटका मारा. इस बार लंड पूरा उसकी छूट में जड़ तक चला गया. उसको तकलीफ़ होने लगी, और वो रोने लगी.
अलीशा: निकालो प्लीज़, मैं मॅर जौंगी. बहुत पाईं है.
उसकी सील फटत चुकी थी, और वो बोली-
अलीशा: सॉरी, अब कभी गाली नही दूँगी.
फिर मुझे तोड़ा तरस आया, और मैं रुक गया. मैने लंड वही रखा, और उसको चूमने लगा. फिर मैने बोला-
मैं: सॉरी, गुस्से में हो गया.
उसको अभी भी पाईं थी बहुत.
अलीशा: प्लीज़ हिलना मत, दर्द हो रहा है. ऐसे ही रहो.
मैं 5 मिनिट तक राका, तो उसको सुकून मिला तोड़ा. फिर मैं उसकी लिप्स चूमने लगा, और बोला-
मैं: सॉरी बेबी.
ये बोल कर मैं उसके बूब्स दबाने लगा. उसको मज़ा आने लगा. मैं स्लो-स्लो हिलने लगा, और लंड इन-आउट करने लगा.

अलीशा: सस्सह आहह स्लो-स्लो करो. मज़ा आ रहा है. अब सुकून है, आराम से करो. अयान एस, स्लोली मूव करो बेबी, एस ऑश एस.
और वो मुझे किस करने लगी.
उसको सुकून मिल गया था. अब वो वाइल्ड होने लगी, और मेरे होंठो पर काटने लगी. वो मेरी कमर पर नाख़ून मारने लगी, और अपनी गांद उठा-उठा के लंड लेने लगी.
अलीशा: अयाया अंदर तक करो पूरा. एस, पूरा अंदर डालो अयान. तेज़, एस और तेज़ करो. अयान फक मे बेबी, छोड़ो मुझे आअहह, छोड़ो एस, अयान दो इट फास्टर एस, मज़ा आ रहा है.
मैने लंड निकाला, और उसको उल्टा लिटा दिया. ये मेरा फॅवुरेट स्टाइल है. फिर मैने तकिया नीचे रखा, जिससे उसके हिप्स बाहर को निकल आए. फिर मैने पीछे से लंड सेट किया और एक झटके में पूरा डाल दिया, और उसके उपर लेट गया.
अलीशा: आआहह बेबी, अब ज़ोर से करो एस आआआः. अयान फक मे, कम ओं फक मे.
मैं पूरा उसके उपर लेता था, और तेज़-तेज़ मूव कर रहा था लंड को. 20 मिनिट ऐसे ही छोड़ा मैने उसको.

उसने गांद हवा में उठा ली, और डॉगी स्टाइल में आ गयी. मैं उसको स्पीड में छोड़ रहा था.
अलीशा: अयाया अयआंज़ फक मे लीके आ बिच. एस अयान, दो इट बेबी, कम ओं फास्ट एस अयान तेज़ करो, और तेज़, और तेज़, अया बेबी एस मोरे हार्डर.
मैं थप्पड़ भी मार रहा था उसको. उसकी आस और उसकी कमर पर काट रहा था, जिससे वो और वाइल्ड हो रही थी.
अलीशा: ओह गोद अयान, आ अयाया आ अया बेबी एस, बेबी दो इट अयान, एस ई आम कमिंग अयान, फक मे हार्ड.
वो डिसचार्ज हो गयी, और मैं भी करीब था.
मैने उसको कहा: अंदर गिरा डू?
उसने कहा: नही बाहर गिराव.
फिर मैने लंड निकाला, और सारा कम उसके उपर छ्चोढ़ दिया. उसने टिश्यू से सॉफ किया सब. फिर मैं लेट गया, और वो मेरे उपर आ गयी.
मैने कहा: मज़ा आया?
अलीशा: हा बहुत ज़्यादा.
मैं: वन मोरे रौंद?

और मैं उसको पकड़ के किस करने लगा. अब वो मेरे उपर थी. मेरा लंड फिर हार्ड हो गया, और वो मेरा लंड पकड़ कर उसको छूट पर सेट करके बैठ गये.
लंड अंदर चला गया पूरा. फिर उसने हिप्स मूव किए. ये पोज़िशन ऐसी है, की हर मर्द हार मान लेता है इस पोज़िशन में. वो जड़ तक लंड लेके सिर्फ़ हिप्स मूव करने लगी. ऑश मी गोद, क्या मज़ा आ रहा था यार. वो अपने बूब्स सीने पर मसल रही थी मेरे उफफफ्फ़.
साथ में उसकी मोनिंग पूरा माहौल बना रही थी.
मैने उसको इस पोज़िशन में 25 मिनिट तक छोड़ा. वो 2 बार झाड़ चुकी थी. मैं भी झड़ने वाला था, और वो तीसरी बार झाड़ रही थी. हम दोनो साथ में झाड़ गये. फिर वो मेरे उपर लेट गयी. लंड छूट में नरम पद गया, लेकिन बाहर नही निकला.
ऐसे ही लेते रहे हम. फिर हम नहाए साथ में. एक बार मैने उसको नहाते हुए खड़े-खड़े छोड़ा. नहा के हमने कपड़े पहने, रेडी हुए, निघट्य उसने अपने पास रख ली.

फिर मैने उसको घर छ्चोढा, और अपने घर आ गया. मैं आ कर सो गया. उस रात मेरी उससे बात नही हुई. और दूसरे दिन मेसेज पर बात हुई.
थोड़े टाइम तक मैं अलीशा और अलीज़ा को अक्सर छोड़ा करता था. अलीशा और अलीज़ा की गांद का मज़ा लेना बाकी था, वो मैं नेक्स्ट स्टोरी में बतौँगा. मैने अलीशा और अलीज़ा को एक साथ भी छोड़ा है, और उनकी गांद भी मारी है.
स्टोरी पसंद आए तो फीडबॅक ज़रूर देना, ताकि नेक्स्ट स्टोरी मैं जल्दी सेंड करू. जिसको मुझसे बात करनी हो, टिप्स लेनी हो, या कोई रिलेशन्षिप में इंट्रेस्टेड हो, तो वो मुझे एमाइल करे.

यह कहानी भी पड़े  मेरी सहेली की मम्मी की चुत चुदाइयों की दास्तान-3

error: Content is protected !!