कहानी जिसमे लड़के ने अपने दोस्त की मा के साथ किए मज़े

ही फ्रेंड्स, मेरा नाम अभ है.

और ये स्टोरी मेरे और मेरे एक नेबर फ्रेंड मॉंटी की मम्मी की है. मॉंटी की मों का नाम मीना है, और उनका फिगर 36-32-38 का है. वो एक हाउसवाइफ है, और ज़्यादातर घर पर ही रहती है.

पहले हम लोग एक-दूसरे के घर पर आते-जाते थे, लेकिन 12त पास करने के बाद उसके पापा ने उसको देहरादून पढ़ने को भेज दिया. फिर उसके जाने के बाद मैने मॉंटी के घर जाना कम कर दिया. अब मैं होली पर उसके घर चला जाता था, और उससे मिल लेता था.

एक दिन सुबा जब मैं अपनी च्चत पर एक्सर्साइज़ कर रहा था, तो मैने मीना आंटी को ब्रा और पेटिकोट में देखा. वो कपड़े फैला रही थी. उनको इस हालत में देख कर मैं उनकी तरफ इतना अट्रॅक्ट हो गया, की अब मैं हर रोज़ उनका सुबा इंतेज़ार करने लगा.

क्यूंकी सुबा-सुबा आस-पास में कोई जागता नही होता था, इसलिए वो हमेशा ही ब्रा और पेटिकोट में कपड़े फैलने आती थी. उनको देख कर के मेरा पप्पू सलामी देता था, जिसके बाद मैं बातरूम में जेया कर के उसको शांत कर लेता था.

एक बार हमारे एक कामन नेबर के यहा शादी का फंक्षन था. मेरे 1स्ट्रीट सेमेस्टर एग्ज़ॅम्स थे तो मैं टुटीओन से लाते आया. तब तक फॅमिली मेंबर्ज़ जेया चुके थे, और मम्मी ने कॉल करके बताया की मैं मीना आंटी के साथ उनकी कार में आ जौ.

मैने उनको ओक बोल कर कॉल कट की, और अपने कमरे में जेया करके तैयार होने लगा. जब मैं बातरूम में जेया रहा था, तो मैने विंडो से बाहर देखा. तो आंटी आज अपनी च्चत पर बिना ब्रा के सिर्फ़ पनटी में कपड़े फैला रही थी.

मुझसे रहा नही गया, और मैं वही पर उनको देख के लंड सहलाने लगा. आंटी ने फिर वही पर ही अपनी पनटी को निकाल दिया. फिर वो च्चत की एक साइड में जेया कर, पेटिकोट को अपने बूब्स पर बाँध कर, नाल के नीचे बैठ कर नहाने लगी.

मैं उनको देख कर मूठ मारता रहा, और मुझे ये करते शायद उन्होने देख लिया था. और फिर वो अचानक से नीचे चली गयी. फिर थोड़ी देर बाद जब मैं बातरूम से बाहर आया तो देखा मेरे फोन पर उनकी 8 मिस्ड कॉल्स पड़ी थी.

मैने उन्हे कॉल की तो वो बोली: तुम्हारी मम्मी ने तुमको साथ चलने को बोला है, इसलिए कॉल की के तुम रेडी हो गये हो के नही.

मैं उनको 10 मिनिट का बोल कर रेडी होने लगा. अभी 5 मिनिट ही हुए थे की मेरे घर की डोरबेल बाजी. तो मैने जाके गाते ओपन किया. बाहर मीना आंटी खड़ी थी. उन्होने एक स्काइ-ब्लू कलर की सारी पहनी हुई थी, जिसमे वो एक-दूं बॉम्ब लग रही थी.

मैने उनको अंदर आने को बोला. वो अंदर आई और गाते लॉक करके सीधे मेरे रूम में चली आई. फिर वो विंडो से अपने घर की तरफ देखती हुई बोली-

आंटी: यहा से मेरी पूरी च्चत तुमको दिखती है?

मैने बोला: हा आंटी.

वो बोली: तुम मुझे रोज़ सुबा ब्रा में क्यूँ देखते हो?

मैने उनको कुछ जवाब नही दिया, और अपना काम करता रहा.

फिर उन्होने पूछा: आज तो तुमने मुझे पूरा नंगा ही देख लिया.

तो मैने उनको बोला: आप मुझे बहुत अची लगती है, और मैं आपको देख कर एग्ज़ाइटेड हो जाता हू.

इतना सुन कर वो मेरे पास आई और मेरे गालों पर एक प्यार भरा थप्पड़ लगा कर बोली-

आंटी: तेरी मम्मी की आगे की हू मैं. और तू मुझे देख कर एग्ज़ाइटेड होता है.

तो मैने उनको बोल दिया: तो क्या हुआ? आप मेरी मम्मी थोड़ी ना है.

वो बोली: तेरे दोस्त की मम्मी तो हू ना.

मैने बोला: आप इतने सेक्सी फिगर की है, की आपको देख कर मैं आउट ऑफ कंट्रोल हो जाता हू.

और फिर उन्होने बात को चेंज करते हुए मुझसे मेरा पर्फ्यूम माँगा. मैने उन्हे अपना पर्फ्यूम लगाने को दिया, तो उन्होने सारी का पल्लू हटा करके अपने ब्लाउस के उपर से उसको लगाया.

ये देख कर मैं कुछ ज़्यादा ही एग्ज़ाइटेड हो गया, और मैं उनके करीब जाने को हुआ. तो उन्होने अपने कपड़ों को ठीक कर लिया, और मुझसे बोली-

आंटी: बहुत शैतान हो गया है. गर्लफ्रेंड नही है क्या कोई तेरी?

मैने उनको बोला: अभी तो नही है, पर नेक्स्ट एअर में जाते ही बनौँगा कोई.

तो वो बोली: तब तक तेरे इस बॅमबू का क्या होगा?

मैने भी कह दिया: तब तक ये आपको देख कर ही काम चलाएगा.

फिर वो मुस्कुरा दी, और रूम से बाहर चली गयी. और मैं अपना ग्रूमिंग करके बाहर गया तो वो मेरा ही वेट कर रही थी. फिर घर को लॉक करने के बाद जब मैं ड्रॉयिंग रूम में आया, तो मैने उनको एक सेल्फिे लेने को बोला.

वो उठ कर मेरे पास आई, और तभी उनके फोन पर उनके हज़्बेंड की कॉल आई. तो वो उनसे बात करने लग गयी. शायद वो कार लेकर के हमारे घर के बाहर आ गये होंगे, इसलिए उन्होने कॉल की थी.

तो आंटी मेरे को बोली: सेल्फिे बाद में ले लेना, अभी अंकल बुला रहे है.

मैं बाहर आ गया, और कार में बैठ गया. जब मैं घर लॉक कर रहा था, तभी वो फिरसे मेरे पास आई और बोली-

आंटी: अंकल ने वॉटर बॉटल के लिए बोला है.

मैने फिरसे गाते का लॉक खोला और अंदर गया, और मेरे पीछे वो भी आ गयी. फिर वो आते ही मेरे को बोली-

आंटी: चलो-चलो सेल्फिे लेते है.

मैने अपना फोन निकाला, और उनको अपने करीब लाके एक सेल्फिे क्लिक की. सेल्फिे करते वक़्त अपने हाथ से मैं उनकी कमर को पकड़े हुए था. हम दोनो इतना करीब थे की साँसे भी एक-दूसरे से टकरा रही थी.

मैने अछा मौका देख कर उनके लिप्स पर एक किस कर लिया. मैं दर्र रहा था की वो कुछ रिक्ट करेंगी, पर उन्होने मेरा पूरा साथ दिया.

फिर मेरे हाथ उनकी सारी के उपर से ही उनके बूब्स प्रेस कर रहे थे. तभी उन्होने मुझे खुद से अलग किया और बोली-

आंटी: अंकल बाहर गाड़ी में इंतेज़ार कर रहे है. कही उनको शक़ हो गया तो हम लोग पकड़े जाएँगे.

और वो एक किस देकर बाहर चली गयी. फिर मैं गाते को फिरसे लॉक करने लगा. जब मैं कार में बैठा, तो आंटी आयेज वाली सीट पर बैठी थी, और पीछे मैं अकेला था.

मेरे मॅन में उन्होने जो आग लगाई हुई थी, वो अब और भी तेज़ हो गयी थी. होटेल जहा शादी थी, वाहा हम कब पहुँचे पता ही नही चला. शादी में जाके अंकल कॉलोनी के और लोगों के साथ एंजाय करने लगे, और मैं अपने फ्रेंड्स के साथ, और आंटी मम्मी और बाकी आंटीस के साथ एंजाय कर रही थी. तभी मेरे फोन पर अंकल की कॉल आई-

अंकल: अभ ज़रा बार सेक्षन में आना.

फिर मैं जब वाहा गया तो अंकल ने मुझे बोला-

अंकल: अभ तू अपनी आंटी को लेकर के उपर के कमरे में चले जाओ. उनको बातरूम जाना है.

मैं तुरंत समझ गया की ये आंटी की ही कोई चाल थी. क्यूंकी घर पर हम दोनो के किस से जो आग लगी थी, उसको शांत करने का उनका भी मॅन रहा होगा. फिर जैसे ही मैं 2न्ड फ्लोर पर दुल्हन वाले हॉल में गया, तो मम्मी मेरे को बोली-

मम्मी: आज हम लोग पिंटू अंकल के साथ ही घर निकल चलेंगे.

मैने भी उनकी ओक बोल दिया. और इतने में ही आंटी आ गयी और बोली-

आंटी: अभ तू ज़रा मेरे साथ बातरूम तक चल चलेगा क्या?

मैने बोला: ठीक है चलो.

तभी हम लोग लिफ्ट से 4त फ्लोर पर चले गये, जहा पर लड़के वालो के रुकने का इंतेज़ां किया गया था. मैं सबसे पहले वाले रूम में गया, तो वाहा पर दूल्हे के फ्रेंड्स बैठे हुए थे. फिर नेक्स्ट रूम में गया, तो वो भी बिज़ी था.

ऐसे ही मैने चेक किया तो 5-6त रूम मुझे फ्री मिल गया, जिसमे देखने से लग रहा था की वाहा पर कोई भी नही रुका हुआ था. मैने रूम अंदर से चेक करने के बाद आंटी को बुलाया, और उनको वॉशरूम जाने को बोला.

उन्होने अंदर आते ही रूम को लॉक किया, और मेरे को अपने पास खींच कर मुझे किस करने लगी. 5 मिनिट बाद जब उन्होने मेरे लिप्स को छ्चोढा, तो हम दोनो ही गहरी-गहरी साँसे ले रहे थे.

मैने उनको बोला: आपको तो टाय्लेट जाना था.

वो बोली: ये तो एक बहाना था तुमको अकेले में लाने का. वरना टाय्लेट तो मैं नीचे हॉल में भी जेया सकती थी.

उनकी बातें सुन कर मैने उनको बेड पर गिरा दिया, और फिरसे उनको लिपलोक्क किस करने लगा. साथ ही साथ मैं उनके ब्लाउस के हुक खोले लगा, तो उन्होने मेरे हाथ ब्लाउस पर से हटा दिए और मेरे को बोली-

आंटी: जो भी करना है उपर-उपर से कर ले. अगर कपड़े खराब हो गये तो सब को शक़ हो सकता है. अभी हम लोगों के पास बहुत से मौके आएँगे चुदाई करने के.

लेकिन मेरे पर सेक्स का बुखार चढ़ चुका था. मैने उनके होंठो को अपने होंठो से बंद किया, और अपने लेफ्ट हॅंड से उनके बूब्स ब्लाउस के उपर से ही प्रेस करने लगा. मैं रिघ्त हॅंड नीचे ले-जेया करके उनकी सारी को उपर करने लगा.

जैसे ही मैने अपना हाथ उनकी पनटी के अंदर डाला, मुझे उनकी बालों से घिरी छूट पर गीला-गीला महसूस हो रहा था. लेकिन फिर भी मैं अपनी 2 उंगलियों को उनकी छूट में करना जारी रखा. इसी बीच पता नही उनको क्या हुआ, की उन्होने मेरा नीचे वाला होंठ अपने दांतो से काट लिया, और उनका शरीर वाइब्रट करने लगा.

शायद जब मुझसे दर्द सहन नही हुआ, तो मैं उनसे अलग हो गया, और अपना हाथ उनकी पनटी से निकाल लिया. देखा तो मेरी उंगलियाँ उनकी छूट के रस्स से एक-दूं भीग चुकी थी, और जब मैने अपना फेस शीशे में देखा तो मेरे होंठ से ब्लड आ रहा था.

आंटी जब रिलॅक्स हुई तो उन्होने आँखें खोली, और मेरी हालत देख के वो घबरा गयी और बोली-

आंटी: सॉरी अभ, मैं इतना ज़्यादा एग्ज़ाइटेड हो गयी की तुमको बीते दे दी.

वो मुझसे माफी माँगे लगी. लेकिन मेरे लंड का हाल तो बहुत बुरा हो रखा था, और मेरे अंदर तो आग लगी हुई थी. मैने उनको बोला-

मैं: इट’स ओक, बुत मैने आपको रिलॅक्स कर दिया. अब आपकी बारी है.

तो अब उन्होने मेरी पंत की ज़िप खोल के मेरे लंड को हिलना शुरू किया. तभी उनके फोन पर किसी की कॉल आई. “10 मिनिट में आती हू बोल कर उन्होने कॉल कट कर दी”.

फॉर वो मुझसे बोली: सविता आंटी की कॉल है. वो बुला रही है, तो मैं जेया रही हू. तू अपना करके वही आ जाना.

फिर वो जाने लगी तो मैने उन्हे हाथ पकड़ कर अपनी तरफ खींच कर उनको बिताया.

मैं बोला: आंटी मैने आपको शांत किया है. अब आपको भी मुझे शांत करना पड़ेगा.

तो फिर उन्होने मेरे लंड को मूह में लेकर चूसना शुरू कर दिया. फिर 5 मिनिट बाद ही मैं उनके हाथो पर झाड़ गया. उसके बाद वो बातरूम में जेया कर फ्रेश हुई, और फिर नीचे चली गयी. थोड़ी देर बाद फ्रेश होके मैं भी नीचे गया.

ये थी गाइस मेरी और मीना आंटी की फर्स्ट मीट की सॅकी कहानी. आयेज की कहानी मैं आपको नेक्स्ट पार्ट में बतौँगा. आप अपने कॉँमेंटा मुझे अरावराज786@गमाल.कॉम पर बता सकते है.

थॅंक योउ.

यह कहानी भी पड़े  लड़की ने चुदाई देख कर अपनी चूत भी शांत की

error: Content is protected !!