लड़के के पड़ोस की बहन को पटाने की कहानी

पिछले पार्ट में आपने पढ़ा था, की कैसे सब कुछ मेरे प्लान के हिसाब से चल रहा था. मगर फिर अचानक से शिखा ने शादी का गरम सालिया मेरे खड़े लंड पर मार दिया.

आपको याद होगा वो नीट पी रही थी, और उसको नशा हो रहा था. और मैं कम पी रहा था इसलिए मेरा दिमाग़ सही काम कर रहा था. मैने बिना हड़बदाए, बिना घबराए उसको देखा और एक टक्क देखता रहा.

शिखा: ऐसे क्या देख रहे हो भैया?

विवेक: तुझे ही देख रहा हू.

शिखा: अर्रे हा, वो तो दिख रहा है की आप मुझे देख रहे हो. पर ऐसे क्यूँ देख रहे हो, जैसे पहले नही देखा? एक टक्क लगा कर.

विवेक: हा तो पहले तुझे ऐसे नही देखा कभी, जैसे अब देख रहा हू. अब तुझसे अगर शादी करूँगा तो तुझे उस नज़र से देखना पड़ेगा ना.

मैं देखु तो, की जो मुझे मेरी वाइफ की बॉडी में चाहिए, वो तेरे पास है या नही. वरना कैसे बनौगा तुझे अपनी वाइफ?

शिखा: अछा जी. ऐसा क्या चाहिए आपको आपकी वाइफ में?

विवेक: देख तू पूच रही है तो मैं बता रहा हू. फिर माइंड मत करना.

शिखा: अर्रे हा भैया, बोलो आप क्या चाहिए आपको मुझमे?

विवेक: तुझमे नही, अपनी होने वाली वाइफ में.

शिखा तोड़ा शरमाई.

विवेक: देख मेरी वाइफ की हाइट मेरे कंधे तक तो हो कम से कम. उसके होंठ लाल, आँखें ना ज़्यादा बड़ी ना ज़्यादा छ्होटी. उसके बूब्स आम की तरह होने चाहिए, जो मेरे हाथो की पकड़ में आए जब मैं उसको प्यार करू. और उसकी गांद गोल-गोल मोटी जिसको देख कर मेरा लंड तंन से खड़ा हो जया करे. छूट उसकी गोरी गुलाबी जिसको छोड़ने से कभी जी ना भरे.

ये सब मैं शिखा को एक टक्क देख कर बोले जेया रहा था, हाथो के इशारे कर-कर के. वो मेरी बातें सुन कर तोड़ा शरमाई, और अपना सर नीचे किया, और तोड़ा सा सिमट कर बैठने लगी.

विवेक: क्या हुआ? तुम्हे बुरा लगा क्या मैने ऐसे बोला?

शिखा: नही-नही भैया, बस वो आप के मूह से पहली बार ऐसे वर्ड्स सुने ना, तो. अछा तो आपको बड़े बूब्स बड़ी गांद वाली वाइफ चाहिए.

विवेक: हा बिल्कुल यार. लड़की के बूब्स इतने तो बड़े होने ही चाहिए की जब उसको छोड़ा जाए, तो उसके बूब्स आचे से पकड़ कर ग्रिप बनाई जाए, और धना-धन उसकी छूट को लंड खिलाया जाए. और जब गांद मारी जाए, उसकी तो गांद को पकड़ कर लंड पेला जाए ज़ोरो से.

मैं अब जान-बूझ कर ऐसे वर्ड्स उसे करने लगा, क्यूंकी मुझे उसके फेस पर गरम होने के हाव-भाव सॉफ दिख रहे थे.

विवेक: क्यूँ शिखा, बता मैं ग़लत बोल रहा हू क्या?

शिखा: मुझे नही पता भैया. सब की अपनी-अपनी पसंद होती है.

विवेक: अछा तो तुम लड़कियों को भी तो बड़े लंड पसंद होते है.

शिखा: मुझे नही पता भैया. मैने कभी नही देखा लंड ( नीचे मूह करके स्माइल करते हुए बोला).

विवेक: क्या? क्या बोला? मेरी होने वाली बीवी ने अभी तक लंड नही देखा.

(मैने जान-बूझ कर अब उसको बीवी बोला)

शिखा (तोड़ा स्माइल के साथ): अछा जी, तो आप ने मुझे बीवी बना भी लिया? पर आपकी डिमॅंड्स का क्या फिर, जो आपको अपनी वाइफ में चाहिए थी?

विवेक: वो सारी डिमॅंड्स तूने फुलफिल कर दी, इसलिए तो तुझे अपनी बीवी बोला है. तुझे आचे से देखा अभी, तब देखा तेरे बूब्स कितने पर्फेक्ट साइज़ के है.

शिखा: पर गांद तो देखी नही ना भैया (शर्मा कर).

विवेक: हा सो तो है. तू बैठी है ना इसलिए नही समझ आ रही. ज़रा खड़ी हो कर घूम कर दिखा अपनी गांद. तभी बनौँगा तुझे अपनी वाइफ, वरना रिश्ता कॅन्सल.

शिखा शरमाते हुए उठी. लड़खड़ा कर शराब के नशे में, और घूम गयी. मैने जान-बूझ कर उसकी गांद को हाथ से पकड़ कर दबा कर देखा, और फिर उसको झुका कर और आचे से दबाया गांद को. फिर मैने अपनी उंगलियों को उसकी छूट के एरिया के पास ले जेया कर घुमाया.

वो झटपटा गयी, और सीधी खड़ी हो गयी. और एक मिनिट बाद वो पलट कर बैठ गयी.

शिखा: क्या हुआ भैया? कैसी लगी मेरी गांद?

ये कह कर उसने अपना चेहरा हाथो से धक लिया. मैं उसके पास खिसका, और उसके हाथो को पकड़ कर चेहरे से हटाया.

विवेक: अर्रे ये क्या? तुम शर्मा रही हो. तुम्हारी मस्त गांद देख कर तो मैने पक्का इरादा कर लिया है, की तुम्हे ही अपनी बीवी बनौँगा, और तुम्हे ही सारी उमर पूरी-पूरी रात नंगा करके छोड़ूँगा. अब जब सब कुछ उतारने का टाइम आया है, सब शरम छ्चोढनी है, तब तुम शर्मा रही हो.

और मैं आयेज बढ़ कर उसके चेहरे के पास अपना चेहरा ले गया. फिर उसके चेहरे को हाथो में भर कर अपनी तरफ उपर की तरफ किया, और उसकी आँखों में देखते हुए धीरे-धीरे अपने होंठ उसके होंठो के पास ले जाने लगा.

वो भी मेरी बातों से गरम हो चुकी थी, और उसकी साँसे मुझे भारी होती हुई महसूस हो रही थी. मैने धीरे से उसके होंठो को एक छ्होटा सा चुंबन दिया, और उसने अपनी आँखें बंद कर ली.

मैने फिर तोड़ा पॅशनेट्ली किस किया उसके होंठो पर, और उसके पास खिसक कर उसको बिल्कुल अपने से चिपका लिया, और उसको अपने दोनो पैरों के बीच फ़ससा लिया.

उसने आँखें बंद रखी, और मूह तोड़ा ढीला छ्चोढ़ दिया. मैं अब मज़े से उसके होंठ चूस रहा था. कभी उपर का होंठ, तो कभी नीचे का. आहह, क्या बतौ यार, उसके नरम-नरम होंठो का स्वाद उम्म्म मज़ा आ गया.

वो भी मेरा पूरा साथ देने लगी. उसने अपनी आँखें खोली, और हम दोनो की नज़र एक-दूसरे से मिली. उसने तोड़ा शर्मा कर नज़रे झुकाई, और तोड़ा सा मुस्कुराइ. हमने एक-दूसरे को बहुत पॅशनेट्ली किस करना कंटिन्यू रखा.

हमारी जीभ एक-दूसरे से एक-दूसरे के मूह में लड़ाई कर रही थी. कभी मैं उसकी जीभ को चूस्टा, कभी वो मेरी जीभ को. अब हमारी साँसे फूलने लगी थी. हमने किस की स्पीड थोड़ी कम की, और फिर लास्ट में उसके होंठो को धीरे से बीते करते हुए मैं उसके होंठो से अलग हुआ.

फिर मैने एक चुंबन दिया होंठो पर, और उसका नीचे का होंठ दांतो में दबा लिया, और तोड़ा खींच लिया बाहर. 2 मिनिट तक ऐसे ही रुके रहे हम, और हमारी तेज़ सांसो को महसूस करते रहे. वो मुझे हग किए थी, और स्माइल कर रही थी.

2 मिनिट बाद उसने इशारे से होंठो को छ्चोढने को कहा. मैने ना में इशारा कर दिया. उसने तोड़ा स्माइल करते हुए अपनी मंडी घुमाई जैसे कह रही हो “अर्रे छ्चोढो प्लीज़”.

मैने भी फिर स्माइल करते हुए छ्चोढ़ दिए उसके होंठ. उसने चेहरा पीछे किया, और अपने होंठ को हाथ से च्छुआ, और फिर प्यार से मेरे सीने पर मारने लगी.

शिखा: कितने गंदे हो आप. मेरा होंठ काट खाया.

विवेक: मैं क्या करू, अब मेरी बीवी है ही इतनी मस्त. मुझसे तो कंट्रोल नही होता. मैं तो हर बार ऐसे ही कातूंगा हर जगह. तू देख ले अगर तुझे नही करना है ऐसे, तो मत करना मुझसे शादी.

शिखा तोड़ा स्माइल करके अपना मूह नीचे करते हुए मेरे सीने से आ लगी. फिर वो बोली-

शिखा: नही, मुझे तो मेरा हज़्बेंड जैसे प्यार करेगा, वैसे ही करने दूँगी.

मुझे तो अपने हब्बी की हर बात पसंद है, हर बात मंज़ूर है.

विवेक: अछा तो हज़्बेंड के साथ फर्स्ट किस कैसा लगा मेरी बीवी?

शिखा: बहुत अछा लगा हज़्बेंड जी.

और अपने मूह को और ज़ोर से मेरे सीने में दबा कर मुझे ज़ोर से हग कर लिया.

विवेक: तो बाकी सुहग्रात यही फ्लोर पर माननी है? या बेड पर चले बीवी?

शिखा: अर्रे अभी कैसी सुहग्रात? अभी सिर्फ़ रिश्ता पक्का हुआ है. सुहग्रात माननी है तो पहले शादी करनी पड़ेगी मेरे हज़्बेंड जी. वरना तो नही मिल रहे मेरे पर्फेक्ट बूब्स और गोल-गोल मोटी गांद हज़्बेंड जी को प्यार करने को.

यार फिरसे शादी! वत्फ़! अब तो लंड कंट्रोल में नही है यार. अब तो इसको छोड़ना ही है, और आज ही अभी छोड़ना है.

अगले पार्ट में चुदाई करते है फिर मेरी मूह बोली बेहन और लंड पेली बीवी की.

यह कहानी भी पड़े  मेरी पसंदीदा चुदक्कड़ घोड़ी


error: Content is protected !!