लड़के के गफ़ बनाने, और सेक्स के लिए पूछने की कहानी

हेलो फ्रेंड्स तीस इस अयान फ्रॉम कराची. मैं फिरसे हाज़िर हो हू आपकी खिदमत में एक नयी स्टोरी लेके.

जैसे की मैने अपनी पिछली स्टोरी में बताया अपनी ममो की बेटी अलीशा का ज़िकार किया, और उसके बारे में बताया था.

मुझे काफ़ी लोगों की मेल्स आई उसके रेस्पॉन्स में. थॅंक योउ गाइस फॉर युवर सपोर्ट. एक लड़की ने अपनी मों की स्टोरी भी शेर की, जो मैं आपको सुनौँगा. मेरी नेक्स्ट स्टोरी वही होगी.

वाटेरपार्क जाने के लिए जब हम निकले, तो अलीशा मेरे साथ वाली सीट पर आ कर बैठ गयी. मैं खानदान में ज़्यादा किसी से बात नही करता था, तो अलीशा मुझसे इधर-उधर की बातें करने लगी.

अलीशा ने पिंक शर्ट और ब्लॅक जीन्स पहनी थी. अंदर उसने ब्लॅक ब्रा पहनी थी जिसमे उसके 34″ के बूब्स अलग ही शेप में दिख रहे थे.

अलीशा ने मुझसे कल स्टोर पर जो मैने देखा उस बारे में पूछा, और कहने लगी-

अलीशा: ब्रो कल आप ने स्टोर पर जिस लड़के को देखा था, उसका-मेरा कोई लिंक नही. आप प्लीज़ किसी से मत कहिएगा.

अलीज़ा ने शायद उसको सिर्फ़ यही बताया था, की मैने उन्हे उस लड़के के साथ देख लिया.

मैं: आपको किसने कहा ये?

अलीशा: अलीज़ा ने मुझे रात में बताया था. मैं उसको समझती हू, अब ऐसा नही होगा.

मैं: कोई बात नही, आयेंडा ख़याल रखना.

अलीशा: एस, वाइ नोट, आंड सॉरी अगेन.

मैं: इट्स ओक.

फिर वो इधर-उधर की बातें करने लगी, और मुझसे फ्रॅंक होने लगी.

अलीशा: आपकी कोई गफ़ नही है?

मैं: नही, क्यूँ आपको बनना है?

अलीशा: हहा नही, जस्ट आस्किंग, आप किसी से बात नही करते ना ज़्यादा.

मैं: आपका कोई ब्फ है?

अलीशा (हेस्ट हुए): क्यूँ, आपको बनना है?

मैं: वाइ नोट?

और मैं हासणे लगा.

ऐसे ही हस्सी मज़ाक करते-करते रास्ता गुज़र गया.

उसने कहा: आपका नंबर मेरे पास नही है, बाकी सब का तो है.

फिर मैने उसको नंबर दिया. उसने नोट किया, और सवे कर लिया.

पिक्निक से वापसी पर सब गाड़ी में जमा हो रहे थे. जब मैं समान रखवा के गाड़ी में चढ़ा, तो अलीज़ा सबसे पीछे वाली सीट पर अकेली बैठी मेरा इंतेज़ार कर रही थी. गाड़ी में एंटर होती ही मैने देखा, और मैं उस सीट पर बैठ गया.

मैने सीट पर बैठते ही मौका देख के अलीज़ा को किस कर दिया लिप्स पर. और वो मुस्कुराने लगी. सब तक चुके थे, तो गाड़ी की लाइट्स ऑफ थी. सब आँखें बंद करके बैठे थे. अलीशा की नज़र मुझपे थी.

अलीशा को सिर्फ़ मेरा हाफ हिस्सा नज़र आ रहा था. अलीज़ा वाली साइड सीट्स से कवर थी. अंधेरा था गाड़ी में तो मैं अलीज़ा के बूब्स दबाने लगा. उसकी सस्शह निकली, और वो बोली-

अलीज़ा: क्या है, सो रही हू.

मैं: सो जाओ, किसने माना किया तुम्हे?

अलीज़ा: ऐसे नींद आएगी?

फिर उसने मेरे हाथ को पकड़ा, और मेरे कंधे पर सो गयी.

अलीशा मुझे देख रही थी. उसने मोबाइल निकाला, और मेसेज टाइप करने लगी.

अलीशा: ही!

मैं: हेलो!

अलीशा: मेरा नंबर सवे कर लेना.

मैं: ओक जनाब, और कुछ?

अलीशा: नही बस अभी इतना ही.

मैं: ओक डियर.

उसने स्माइल वाला एमोजी भेजा, और आँखें बंद करके बैठी-बैठी सो गयी. सब घर पहुँचते-पहुँचते बुरी तरह से तक चुके थे. फिर घर पहुँच कर सब फ्रेश हुए, खाना खाया, छाई पी, और सोने के लिए जाने लगे.

अलीज़ा भी अपने घर चली गयी. रात हो गयी, लेकिन उसका कोई मेसेज नही आया, ना उसने मेसेजस का जवाब दिया.

यहा मुझे नींद नही आ रही थी. फिर रात 2 बजे मैं सिगरेट पीने च्चत पर गया तो अलीशा का मेसेज आया.

अलीशा: ही.

मैं: हेलो.

अलीशा: आप जाग रहे है, सोए नही?

मैं: नही यार, नींद नही आ रही. आप क्यूँ जाग रही हो अब तक?

अलीशा: सेम प्राब्लम, नींद नही आ रही.

मैं: अछा, क्या कर रही हो?

अलीशा: मैं लेती हुई हू. बोर हो रही थी, सोचा आप से बात कर लू.

मैं: अछा जी, चलो अछा किया, मुझे कंपनी मिल जाएगी

अलीशा: मैं आज कैसी लग रही थी?

मैं: बहुत प्यारी, खूबसूरत, और हॉट.

अलीशा: हाहाहा, हॉट कहा से?

मैं: सब जगह से.

अलीशा: अछा तो आपने सब जगह से देखा मुझे?

मैं: ज़ाहिर है, ऐसी हॉट सेक्सी लड़की को कों इग्नोर करेगा?

अलीशा: ओहो! सेक्सी भी हो गयी मैं, और कुछ बाकी है?

मैं: नही-नही, और कुछ नही. वैसे वो ब्फ वाली बात मज़ाक थी या ऑफर?

अलीशा: गफ़ वाली बात मज़ाक थी तो ब्फ वाली भी मज़ाक समझो.

मैं: नही वो तो ऑफर था ( वित स्माइल एमोजी).

अलीशा: सोचूँगी इस बारे में, कल बतौँगी.

मैं: ओक डियर.

नॉर्मल बात चली और गुड नाइट कह के वो सो गयी. मैं भी सो गया च्चत से आ कर. सुबा मैं लाते उठा. फिर मोबाइल देखा तो अलीज़ा के मेसेजस थे. उससे मेरी बात हुई. उसके बाद शाम को अलीशा के मेसेजस आए, और उससे बात शुरू हुई.

अलीशा: हेलो कज़िन.

मैं: हेलो डियर. हाउ अरे योउ? आपकी ही वेट थी.

अलीशा: फाइन, वॉट अबौट योउ? और क्यूँ मेरी वेट?

मैं: आज आपने जवाब देना था.

अलीशा: हहा, तभी तो मेसेज किया. वैसे मुझे कोई प्राब्लम नही.

मैं: इट मीन्स आपका जवाब हा है.

अलीशा: एस, बुत इस बारे में किसी को पता ना चले. इट इस आ सीक्रेट.

मैं: ओक, आप भी किसी को ना बताना ( अलीज़ा को मेन्षन करते हुए).

अलीशा: ओक डन.

फिर इधर-उधर की बातें हुई. मैने उसकी तारीफों के पुल बाँध दिए. वो मुझसे आहिस्ता-आहिस्ता फ्रॅंक होने लगी. वक़्त गुज़रता गया, और अलीशा काफ़ी फ्री हो गयी थी.

अलीज़ा भी मुझे कॉल करती. मैं उसको वीडियो पर न्यूड देख के मूठ मारता था, और उसको फिंगर करवाता था. अलीशा मुझसे प्यार मोहोब्बत की बातें करती थी, पर अभी तक सेक्स टॉपिक पर बात नही चिढ़ि थी. मैं एक रात में अलीशा से बात कर रहा था. मैने उसको नॉर्मल बात करते हुए अचानक पूछा-

मैं: एक बात काहु, बुरा तो नही मानोगी?

अलीशा: जी बोले, मैं आपकी किसी बात का बुरा नही मानूँगी.

मैं: तुम्हारा फिगर मुझे बहुत पसंद है. अछा मेनटेन किया है. साइज़ क्या है?

अलीशा: शरम करे, कैसी बातें कर रहे है, और हासणे लगी.

मैं: प्लीज़ बताओ ना.

5 मिनिट कोई मेसेज नही आया, तो मैं समझा वो बुरा मान गयी.

अलीशा: 34-28-36, वैसे क्या करना है जान के.

मैं: वाउ! करना बहुत कुछ है, लेकिन वक़्त आने पर.

अलीशा: अछा जी, तो वो वक़्त कब आएगा?

मैं: जब तुम अकेले में मिलॉगी.

अलीशा: क्या करोगे आप मिल के मुझसे अकेले में?

मैं: रोमॅन्स, सेक्स.

अलीशा: क्या सेक्स? आप पागल है? मैं ऐसी-वैसी लड़की नही हू. आप ऐसा सोचते है मेरे बारे में? मुझसे अब बात मत करिएगा.

मैने उसको मेसेजस किए, लेकिन उसने कोई जवाब नही दिया. मैने उसको सॉरी भी कहा, बुत नो रेस्पॉन्स. मुझे लगा मैने शायद जल्द-बाज़ी कर दी थी. फिर 3 दिन तक मैने भी कोई मेसेज नही किया, ना उसका कोई मेसेज आया. मैने सोचा हाथ से निकल गयी.

4 दिन बाद रात में उसका मेसेज आया. लंबी छत है, लेकिन में शॉर्ट में बतौँगा. काफ़ी नखरे करने के बाद वो मान गयी, पर उपर-उपर से.

अलीशा: आपने उस दिन ऐसा क्यूँ बोला?

मैं: सॉरी मुझे नही पता था आपको बुरा लगेगा. बुत मैने जब से पार्क में आपको पूल में देखा है, मुझसे सच में कंट्रोल नही हो रहा था.

अलीशा: मैने कभी नही किया, बुत फॉर योउ ट्राइ करूँगी. बुत उपर-उपर से, ज़्यादा नही.

मैं: थॅंक योउ, लोवे योउ. हम उपर-उपर से करेंगे, जब तक तुम नही कहोगी, मैं आयेज नही बढ़ुंगा.

अलीशा: ठीक है, पर कैसे और कहा मिलना है?

मैं: तुम मेरे घर आ जाओ.

अलीशा और मेरे सिस की अची दोस्ती थी.

अलीशा: ट्राइ करूँगी, कन्फर्म नही पता की पापा आने देंगे या नही.

मैं: वरना कॉलेज बंक करके मेरे फ्लॅट पर चलेंगे.

अलीशा: अछा आप लोगों का फ्लॅट जो अभी लिया है?

मैं: हा वही, वो बंद है. वाहा मैं अक्सर स्टे करता हू. सारी ज़रूरत की चीज़े मौजूद है, बेड भी हहा.

अलीशा: ह्म, चलो ठीक है. नेक्स्ट वीक सॅटर्डे मैं आपके घर आने का ट्राइ करती हू. वरना मंडे फ्लॅट पर ही मिलेंगे.

मैं: ठीक है बेबी. वैसे क्या-क्या करने की इजाज़त है?

अलीशा: ह्म, उपर-उपर से. वैसे आपको मेरे फिगर इतना पसंद है?

मैं: सच में यार, क्या फिगर है तुम्हारा. दिल करता है…

अलीशा: क्या दिल करता है?

मैं: वॉंट तो सक योउ, फक योउ, ऑल दे ऑल नाइट.

अलीशा: हहा रियली? बुत जो डिसाइड हुआ है वो याद रखना. और सबसे ज़्यादा क्या पसंद है फिगर में?

मैं: याद है बेबी. मुझे ज़्यादा तुम्हारे बूब्स और हिप्स आचे लगते है. जब चलती हो तो ऐसे हिलते है, की दिल करता है पकड़ के दबा दो.

अलीशा: दबा देना. वैसे वाक़ई मेरे हिप्स इतने आचे है?

मैं: रियली यार, एक बार आ जाओ बस.

अलीशा: ओक, नेक्स्ट वीक. अब सोते है, बाइ, गुड नाइट

मैं: गुड नाइट, बाइ बेबी.

इसके आयेज क्या हुआ, वो आपको अगले पार्ट में पता चलेगा. स्टोरी पसंद आए तो फीडबॅक ज़रूर देना. ताकि नेक्स्ट स्टोरी मैं जल्दी सेंड करू. जिसको मुझसे बात करनी हो, टिप्स लेनी हो, या कोई रिलेशन्षिप में इंट्रेस्टेड हो, तो वो मुझे एमाइल करे. मेरी एमाइल ईद है:

यह कहानी भी पड़े  भाई ने बाय्फ्रेंड से सेक्स करने मई मदद की

error: Content is protected !!