पड़ोस की कुंवारी लड़की चुदना चाहती थी

यह सेक्स कहानी मेरे पड़ोस में एक लड़की की है। उसका नाम रूबल है। उसकी उम्र लगभग 20 की होगी। रंग एकदम गोरा, साइज़ 34-30-34 का है।
मुझे पहले उसमें कोई इंटरेस्ट नहीं था.. मगर उस एक दिन की बात क्या हुई है कि तब से मेरी जिन्दगी बदल गई।
जब उसके डॅडी का वहाँ पर ट्रांसफर हो गया था, वो अकेले वहाँ गये थे।

एक बार उसके घर के सब लोग कुछ दिन के लिये अहमदाबाद चले गए तब से मेरी ये कहानी शुरू हो गई थी।

जब मैं टयूशन के बाद घर आया तो वो बोली- तुम अगर बिज़ी नहीं हो.. तो क्या मैं तुम्हारे घर पर आ सकती हूँ।

मैंने उसको ‘ना’ बोल दिया मुझे कुछ काम था।

कुछ दिन बाद जब मैंने उसको मना करने के लिए ‘सॉरी’ बोला.. तो उसके बाद हम दोनों में दोस्ती हो गई। हम दोनों साथ में बैठते और बातें करते।

बाथरूम में नंगी लड़की
एक दिन जब मैं उसके घर गया.. दरवाजा खुला था। मैंने जब आवाज़ लगाई तो बाथरूम में से आवाज़ आई- मैं नहा रही हूँ।

मैंने जाकर टीवी चला लिया.. तब टीवी में एक सेक्सी गाना आ रहा था। उस सीन में भी एक लड़की टीवी में बाथरूम में नहाते हुए गाना गा रही थी।

मेरा दिमाग़ खराब हो गया और मैं बाथरूम की तरफ चल पड़ा।
मैंने दरवाजे में दरार में से देखा तो वो पूरी नंगी हो कर नहा रही थी।

वो कभी अपने बूब्स दबा रही थी.. और कभी बुर यानि चूत में उंगली डाल रही थी।
वो धीमे स्वर में बोल रही थी- समर आई लव यू.. समर फक मी.. फक मी प्लीज़।

यह कहानी भी पड़े  प्रोफेसर की बेटी की चुदाई

एक हाथ से बूब्स ओर एक हाथ से चूत में उंगली डाले जा रही थी.. तो मैं ये देख कर दंग रह गया।

उसके बाद मैं वापस टीवी के पास जाकर बैठ गया।

कुछ देर बाद वो तैयार हो कर आ गई और मेरे पास आकर बैठ गई।

मेरा लंड बुरी तरह से खड़ा हो गया था, मेरा दिमाग़ काम ही नहीं कर रहा था, क्या करूँ कुछ समझ में ही नहीं आ रहा था।

कुछ पल और रुकने के बाद मैं वहाँ से चला आया।

दो दिन तक मैंने उससे कुछ बात नहीं की।

फिर एक रात को मैं छत पर खड़ा था, वो छत पर आ गई और मेरे पास आकर खड़ी हो गई, मुझसे बोली- तुम मुझसे क्यों कोई बात नहीं करते.. मुझसे कुछ ग़लती हो गई है क्या?
तो मैं बोला- नहीं ग़लती मुझसे हुई है।
वो बोली- क्या गलती हो गई है?

मैं बोला- मैंने तुम्हें नंगी नहाते हुए देख लिया था और तुम्हारी बातें भी सुन ली थीं।
वो एकदम से शर्मा गई और अपने घर चली गई।

कुछ ही पलों के बाद वो अपने घर की छत पर आकर मुझे इशारा करने लगी और मुझे अपने घर बुलाने लगी।
मैंने घर पर मम्मी को बोला- मेरे दोस्त के घर पर आज कोई नहीं है.. मैं वहाँ पर सोने जा रहा हूँ।

इसके बाद मैं तकरीबन 12 बजे तक घूमता रहा। इसके बाद मैंने उसको फोन किया और पूछा- घर के आजू-बाजू में कोई है तो नहीं.. जरा देख?
तो बोली- कोई नहीं है.. तुम जल्दी से आ जाओ।

यह कहानी भी पड़े  सर की बीवी की चुदाई

रात को करीबन एक बजे मैं उसके घर पर गया और जल्दी से दरवाज़ा बन्द करके अन्दर चला गया।

मैं कमरे में बैठ गया उसका टीवी चल रहा था मैं वो देखने लगा। तभी वो भी वो मेरे पास आकर बैठ गई। मैं उसकी गर्म जवानी को देखते ही रह गया।

Pages: 1 2

error: Content is protected !!