क्रतिका की पहली चुदाई

ये देसी सेक्स स्टोरी आज से करीब 3 साल पुरानी हैं जब मैं 12त क्लास मे पड़ता था, और रोज शाम को अपने फ्रेंड को कोचैंग के लिए बुलाने उसके घर जाता था, एक दिन मेरी नज़र उसके पड़ोस मे रहने वाली लड़की पे पड़ी, क्या बताउ बस चोदने का न. 1 माल था.

मैं उसे घूरता जा रहा था और एकदम से गेट से टकरा गया, इतने मे वो लड़की ह्स पड़ी. बस मेरे मन मे तो लाड़ू फूटने लग गये थे, और मैं अपने दोस्त को उसके घर से लेके चला गया.

बस रात होते ही वो लड़की मेरे दीमाख मे घूमने लग गयी और मैं बातरूम जाके उसे सोच के मूठ मारने लगा और झड़ गया मुझे बहुत मज़ा आ रहा था, बस ऐसेही बहुत दिन निकल गये, और एक दिन मेरा दोस्त मेरे पास आया और बोला भाई तेरी तो निकल पड़ी मैने पूछा क्या हुआ.

वो बोला भाई वो मेरी पड़ोस वाली लड़की तेरे बारे मे पुछ रही थी, मैने झट से पूछा क्या पूछ रही थी, बस तेरे बारे मे कहा रहता,क्या करता हा वगेरा वगेरा.

मेरे दिल की खुशी का कोई ठिकाना नही था, मैं सोचने लग गया की उससे कैसे बात करू, अगले दिन जब अपने दोस्त के घर गया तो अपने घर के सामने खड़ी थी मैने उसे देखते ही उसे स्माइल पास करदी, उसने भी रिप्लाइ मे स्माइल दी, मैं तो एकदम खुश हो गया था.

और अपने दोस्त को अंदर बुलाने चला गया और जब वापिस आया तो वो गेट पे खड़ी थी, और दोस्त से बात करने लगी, इतने मे मेरे दोस्त ने हमारा इंट्रो करवा दिया.

उसका नाम क्रितिका था एक दम गोरी मिल्क जैसी थी और एकदम पर्फेक्ट फिगर था उसका चुचि के बारे मे तो पूछो मत 32 की गोल गोल थी और ह्म ऐसे ही बाते करने लगे थोड़ी देर मे बाय बोलके चल गया, और उस रात को जब मैं सो रहा था.

करीब 12:30 बजे होंगे तभी मेरे फोन पे किसी अननोन नं से कॉल आया मैने बोला कोन वाहा से कोई लड़की बोली इतनी जल्दी भूल गये.

मैं:ओह क्रितिका तुम्हे मेरा नं कहा से मिला.

क्रितिका:वो तुम्हारे दोस्त से लिया.

मैं:इतनी रात को कॉल किया कोई प्राब्लम हैं क्या.

क्रितिका:नही बस तुमसे बात करने का मन कर रहा था.

ऐसेही बाते चलती रही और वो रोज मुझे कॉल करने लगी, वो बहुत आमीर घर की लड़की थी, एकदिन उसका कॉल आया वो बोली लेट्स गो टू डिस्को, मैने हा करदी .और वो शाम को मुझे लेने आई उसके साथ उसकी लेडी ड्राइवर भी थी.

यह कहानी भी पड़े  हीना की सेक्स कहानी ऑटो वाले से - २

और ह्म डिस्को निकल पड़े, रास्ते मे ह्मने बहुत सी बाते की और क्रितिका मुझे कुछ बोलना चाहती थी बट वो बोली नही, फिर ह्म डिस्को आ गये और ह्मने कुछ जादा ही वाइन पी ली थी उसके बाद ह्म डांस करने लगे वो मेरे एकदम करीब आ गई उसके चुचि मेरेसे टच होने लगी थी और मेरा लॅंड उसकी चुत पे.

बहुत मज़ा आ रहा था इतने मे क्रितिका कुछ बोली लेकिन मुझे सुना नही क्यूकी म्यूज़िक की आवाज़ तेज थी, इसलिए मैं उसे बाहर ले गया वाहा एक पार्क था वो एकदम सुंसान था वाहा जाके ह्म बेंच पे बैठ गये, मैने पूछा अब बोलो क्या बोलना चाहती थी, वो नशेली आँखो से मुझे देकने लगी, और मुझे आए लव यू बोल दिया.

इतने मैं कुछ बोलता उसने मुझे लीप टू लीप किस करदी, बस मैं पागलो की तरह उसका साथ देने लगा, 15 मीं के बाद वाइन का नशा कुछ जादा होने लगा था इसलिए मैने उसे उठा के कार मे बैठा दिया और ह्म अपने अपने घर चले गये.

कुछ दिन ऐसेही चलता रहा, कभी ह्म मूवी देकने जाते वाहा किस करते ,कभी लिफ्ट मे किस करते, और किस के आगे बात नही बढ़ रही थी, मैं जब भी उसके बूब्स को छुने को सोचता वो मना कर देती, बट एक दिन मेरी ये भी मुराद पूरी हो गयी.

एक दिन जब मैं सुबह उठा तो उसका मेसेज आया था कॉल मी, तो मैने उसे कॉल किया और बोला की आज घर पे कोई नही हैं, तुम जल्दी से आ जाओ, बस मेरा लॅंड तो खड़ा हो गया क्यूकी मुझे आज चूत के दर्शन होने वाले थे.

मैं जल्दी से तैयार होके मार्केट गया और वाहा से अनवॉंटेड 72 और वायग्रा ले ली और सीधा उसके घर चला गया जब वो मेरे सामने मे आई तो उसे देखता ही रह गया, उसने स्लिवलेस टॉप और नीचे मिनी स्कर्ट पहनी थी एकदम माल लग रही थी, उसने मुझे बैठने को बोला और पानी लेकर आई.

तभी मैने वायग्रा की टॅबलेट ले ली.उसने पूछा क्या हुआ फीवर हैं क्या, मैने बोला नही सिर मे दर्द हैं, और मेरे पास आई और मेरा सिर दबाने लगी, थोड़ी देर मे वायग्रा का असर होने लगा और मैं जोश मे आ गया और एकदम से उसे किस करने लगा, वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी.
करीब 10मीं बाद मैंने उसे उठा के बेडरूम मे ले गया और जाते ही उसकी चुचि को दबाने और उपर से ही चूसने लग गया, उसके मूह से आवाज़ आ रही थी आह ह्म ह ह्म्‍म्म्मम मुज़मे और जोश आ गया था मैने जल्दी से टॉप और ब्रा उतारी तो देखा उसकी चुचि एकदम नुकीली हो गयी थी, मैं पागल सा हो गया और ज़ोर ज़ोर से चूसने और दबाने लग गया, इतने मे उसका हाथ मेरे लॅंड पे चल गया, और वो लॅंड को दबाने लगी.

यह कहानी भी पड़े  चुदाई का ट्यूशन की कहानी

फिर मैं उसे किस करते करते उसकी स्कर्ट भी उतार दी और मैने देखा उसकी पैंटी गीली हो चुकी थी, मैने टाइम ना लगाते हुए उसकी पैंटी भी उतार दी, उसकी चुत एकदम क्लीन शेव और गुलाबी रंग की थी.

उसमे से कुछ अजीब सी महक आ रही थी जो मुझे कुछ ज़्यादा ही आकर्षित कर रही थी, पर मैने जल्दी से अपनी जिब उसकी चुत मे डाल दी और चूसने लगा इतने मे वो झटपाटने लग गई थी आवाज़े निकल रही ह्म ह और करो अहह जल्दी आहह ह्म, .जब वो पूरी तरह से गरम हो गयी तब मैने अपना लॅंड निकाला और उसकी चुत पे रगड़ने लगा.

वो पागलो की तरह मचल रही थी बोली जल्दी डाल दो तड़पाव मत, मैने एक ज़ोर का झटका मारा और पूरा लॅंड उसकी कुवारि चुत को चीरते हुए अंदर चला गया, वो झटपटा गयी.

कहानी पढ़ने के बाद अपने विचार नीचे कॉमेंट सेक्षन मे ज़रूर लिखे, ताकि देसीकाहानी पर कहानियों का ये दौर आपके लिए यूँ ही चलता रहे.

और उसकी चीख निकल गयी मर गयी मैं जल्दी निकालो बाहर, और रोने लगी, मैं थोड़ी देर रुका और उसे किस करने लगा, थोड़ी देर बाद मैने झटके मरने शुरू कर दिया, उसे बहोत मज़ा आ रहा था और वो झड़ गयी और फिर मैं बेड पे लेट गया और उसे अपने अप्पर आने को बोला..

वो मेरे उपर आई और चुत मे लॅंड डालके उपर नीचे होने लगी बहुत मज़ा आ रहा था, फिर ह्म दोनो झड़ गये और मैने सारा पानी उसकी चुत मे ही निकाल दिया, उसके बाद ह्मने थोड़ा आराम किया और उसके बाद ह्म दोनो एक साथ बाथरूम जाके नहाने लगे इसी बीच मैने उसकी गॅंड भी मारी.और घर जाते वक्त उसे अनवॉंटेड 72 खिला दिया.

सो लॅंड की दीवानियो और चुत के दीवानो कैसी लगी मेरी देसी सेक्स स्टोरी , प्लीज़ कॉमेंट करो, और किसी लड़की या भाभी को मुजसे मज़ा लेना हैं तो मुझे मैल करे मेरी मैल आईडी है

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!