खेत मे मौसी की गांद मारी

पिछले पार्ट मे अपने पढ़ा की चाची उपर से नंगी हो गयी और अपने चुचे बाहर निकल कर मेरे हाथो मे दे कर दबाने लगी.

अब आयेज..

चाची- जी सुनो ना…

मई- उम्म्म्ममममम… मज़ा आ गया.. हन बोल?

चाची- आज से गाओ मे 1 हफ्ते के लिए रोज मेला लगेगा, ह्यूम भी उसमे जाना है अगर हुमारे मर्द की इज़ाज़्ज़्त हो तो.

मैने चाची का निपल मरोड़ दिया और खिचने लगा.

चाची- आआआआाआउऊचह..हुहह..हुहह….आहह..आहह..

मई- आछा अब मेला जाएगी तू मेरी इज़ाज़्ज़त के बिना..?

तभी गत्री मेरी लूँगी मे हाथ डाल कर लंड मसालने लगी.

मा- जी नही आपसे पूछ कर जाएँगे आपके साथ. अगर आपकी पर्मिशन हो तो.

चाची- आप तो मर्द हो हमारे आपके बिना कैसे जेया सकते है.

मई- हन सोचना भी मत जाने की मेरे बिना.

दोनो मेले मे जाने के लिए मुझे रिझाने लगी तो मेरा भी मूड बनने लगा. तभी मा ने चाची को इशारा किया और चाची यूयेसेस तरफ मुउद गयी और उनकी मोटी चींकी गांद मेरी तरफ आ गयी जिसको चाची मसालने गयी.

चाची- अपने मर्द को खुश कर देती हू, तभी वो हुमको जाने देंगे.

उम्म्म्ममम मेरा मोटा लंड चाची के मुलयूं छ्होटे से गांद के च्छेद को चीरने के लिए फड़कने लगा. चाची ने अपना घग्रा नीचे कर दिया और जैसे ही मेरा टोपा उनकी गांद मे घुसा वो तभी से काप गयी.

चाची- आआआआआआआआआआआआहह…म्मर्र जवँगा……उउम्म्म्मममम..

पर क्या करे अपने मर्द को खुश करने के लिए कुछ तो करना पड़ेगा उउम्म्म्म…

मैने चाची की कमर पकड़ी और लंड घुसाने लगा.

मई- उउम्म्म्ममम..भेंचोड़ तेरी गांद मारे हुए बहोट टाइम हो गया, आज तेरी खेर नही.

चाची- आआआआआआआआआआआआआआआआआआआआआआआआआअहह..फटत जाएगीइ…..आराम से म्मुम्मय्ी…आआआआआआआआआआआआआआआआअहह..

पीछे से मा भी मुझे चुऊँ कर गरम कर रही थी. चाची दर्द से आयेज भागने लगी की तभी मैने पकड़ा और फफककककककककककककचह लंड घुसेड डाला. चाची की सास रुक गयी, छूट का पानी निकल पड़ा और बहोट तेज चीख पड़ी.

चाची-आआआआआआआआआआआआआआआआआआआआआआआआआआआआआआआआआआआआआआवउम्म्म्म..म्ृर गयी….मेरी गांद…..आआआआआआअहहूऊम्म्म्म..उम्म्म्ममममम..उउम्म्म्मम..

मई- चिल्ला साली, मेरी रांड़ तेरी गांद का भोसड़ा बना दूँगा ले भेंचोड़!

और मैने चाची की गांद मे झटका मारा और फक्च से कुत्ते की तरह छोड़ना शुरू कर दिया..

ग्घहप्प्प्प…ग्घप्प्प..ग्घप्प्प…आआआआआअ….ग्घप्प्प..ग्घप्प..

फचह…फच..फच्छ..फच्छ..आआआआआआआआआअहह…मॅर गयी…उउंमाआआआआआआआआआआहह..

फच..फच..फच्छ..फच..फच….फचककककककच….फफफककक्चह..

धप्प्प्पाा..द्धप्प्प्प..द्धप्प्पाा…द्धप्प्प…द्धपााअ…द्धप्प्प

आआआआआआआआआआआआआआआआअहह..बस..आ..आआआआआआआआआआआआआआआअ…..आअहह..

आहह..आहह.आ.आहह..फफचह..फक्चफ़.सी.च्च्छ…फचह..

चाची का चेहरा लाल पड़ा गया और जिस्म काप्ता जा रहा था. अपनी चींकी नाज़ुक गांद मे मेरा लंड लेना कोई मज़ाक नही था. और जेसे ही मेरा लंड बाहर निकलता चाची की गांद से मा उसको एकद्ूम से चूसने लगती मूह मे लेके.

मा- उम्म्म्म…प्पुच्छ..उउंम्म..उम्म्म्ममममम..उम्म्म्मम…उम्म्म्म..स्पस्र..स्परर.स्पपररर

आल्लग्ग….गग्ग्ग.ग.ग्ग्ग.अललग्ग..उउंम..स्पस्र..स्परर..स्परर…आल्लगगज्गग…आलागग्ग…स्सपप्ररर..स्पररालालगग्ज्ग..

उम्म्म..पुच्छ..प्पुच..स्परर..स्परर..उम्म्म..

मई- क्या चुस्ती है तू…उम्म्म्म..आहहुउम्म्म्म..

आल्लग्ग…उउंम्म..स्प्सरर..स्परर..पुउच्च…

ले साली अंदर तक…आआआहह..

और फिर मेरा लंड खड़ा हो जाता और चाची की गांद को रग़ाद कर छोड़ देता, मज़ा आ गया. यूयेसेस झोपडे मे मैने चाची की गांद को छोड़ छोड़ कर अंदर तक खोल दिया. और अब शाम को मेले मे जाने के लिए मई रेडी था. अपनी दोनो चींकी बीवियो को घग्रा चोली मे लेके मई मेले मे निकल पड़ा.

दोनो की चिकनी कमर मसलता हुए मई हम मेले मे आ गये.

मई- तुम दोनो का जो मॅन करे खरीद लेना.

यूयेसेस गाओ मे औरतो की क्या औकात थी ये तो आप जानते ही हो. उपर से 2-2 बिव्यो का होना यूयेसेस गाओ मे बड़ा मर्द होने की निशानी मानी जाती थी. तो मेरे हाथो मे 2 चिकनी औरतो की कमर देख कर काफ़ी मर्द मेरी खुशकिस्मत होने का मज़ा ले रहे थे.

और सभी इन्न दोनो के मुलयूं पेट और चोली मे आधे भर निकले चुचे भी मजे लेके घूर रहे थे.

मई- हन भाई क्या बेच रहा है?

मेरे पास दोनो चिकनी औरतो को देख कर वो भी जोश मे आ गया.

लेलो भैसाब रात भर पलंग टॉड कर रख दोगे.

मई- अरे वो तो मई अभी भी टॉड कर रख देता हू.

चाची और गत्री दोनो ने शर्मा कर मूह झुका लिया. तभी मैने मा की कमर पकड़ कर खिच ली और उसके सामने ही उसका मुआलयूं पेट और कमर रग़ाद कर मसालने लगा.

मई- कुछ ऐसा दिखा जो इसकी ये चिकनी कमर और चिकनी हो जाए, साली को कच्चा चबा जौंगा.

मा- हुहह..आहूहह.हुहहुह..उम्म्म्म..

लो भैसाब ये लो, ऐसा आयिल है भाभी की कमर पर लगा दो तो माखन जैसी हो जाएगी

मई- ये हुई ना बात!

मैने वो आयिल लिया और वी मा के आधे भर निकले चुचो पर मसालने लगा. मा की सास तेज हो गयी और वो दुकानदार भी मज़े लेने लगा.

“अरे भैसाब यहा अंदर आके लगा दो आचे से भाभी के और चेक भी कर लेना.”

मई- सही बोला तू.

मई मा को अंदर ले गया और 5 मिनिट बाद मा हफ्ती हुई बाहर निकली. पूरी छ्चाटी मेरे लाल दाँत के चबाने के निशान, दुकानवला देख कर लंड मसालने लगा.

मा- चाची वो आपको अंदर बुला रहे है.

चाची शरमाती हुई अंदर चली गयी और मा बाहर वेट करने लगी. अंदर की सिसकिया सुन्न कर मा साँझ गयी की चाची का भी बुरा हाल हो रहा है. 10 मिनिट्स बाद चाची बाहर आई मा देख कर शॉक हो गयी. उनका एक चुचा पुउरा नीला पद गया था.

चाची की छूट गीली पड़ी थी और चुप छाप आके खड़ी हो गयी.

चाची- जेया तुझे बुलाया है उन्होने अंदर.

मा साँझ गयी मेरा शैतान बाहर आ गया है वो चुप छाप अंदर गयी. 10 मिनिट्स बाद मई और मा बाहर आए तो चाची ने देखा मा की चोली मे अंदर खून की बूँद है. मा ने इशारो मे बताया की सुनील ने निपल उखाड़ लिया उसका और चबा कर खा गया. चाची ने शर्मा कर मूह झुका लिया और फिर मैने वो 10 बॉटल लेली और मेले मे आगे घूमने लगा.

अपनी दोनो चिकनी औरतो की कमर पकड़ कर मई मेला मज़े से घूम रहा था और मेरा रोब भी आछा पद रहा था. तभी गाओ एक चौधरी भी अपनी 2 बीवियो के साथ घूमता हुआ आया.

अरे लगता है रामपाल के जैल जाने के बाद अब कोई बचा नही.

मई- (चाची और मा की कमर माल्टे हुए) अरे चौधरी रामपाल नही है तो क्या हुआ. हम है ना उसके खेत और लुगाई के लिए. अब ये दोनो लुगाई मेरी है.

तभी चौधरी के साइड मे खड़ी उसकी 40 साल की बीवी मुझे घूर कर देखने लगी कैसे मैने उन्न दोनो की कमर पकड़ रखी है नोच कर. चौधरी मेरी 2 बीविया का रोब देख कर खुश ना हुआ उसको लगता था वो ही सबसे ब्डा चौधरी है गाओ मे.

पर मेरा रोब देख कर वो चिद्ड़ गया और बोला-

आछा हुआ टुउने पकड़ लिया इसको वरना रामपाल की बीवी को कोई और उठा कर ले जाता, और वो ज़ोर से हासणे लगा.

मई- टेन्षन ना ले चौधरी अब तो कोई हाथ भी ना लगा सकता. दोनो को रात भर रग़ाद कर पानी निकलता हू और दिन भर सेवा करवाता हू. तू अपनी देख.

चौधरी का मूह बंद हो गया. तभी मैने देखा उसकी बीवी जो साइड मे खड़ी थी मुझे देख कर होंठ चबाने लगी और पेट मसालने लगी. मई आयेज बढ़ गया और चौधरी किलस गया. फिर हम बेत गये, मा कुछ खाने को लेने चली गयी और चाची मेरे पेर दबाने लगी. उम्म्म मेले की ठंडी ठंडी हवा और नीचे मादक जिस्म वाली चाची अपने चुचो से मसल कर मेरे पेर दबाती हुई.

कुछ देर बाद मा कुछ खाने को कचोड़ी और लस्सी लेके आ गयी.

मई- अरे लस्सी क्यू ले आई वो तो मई तुम दोनो के चुचो के दूध से बना कर पीऊँगा.

दोनो मुस्कुराने लगी और फिर हुँने मज़ा करा और रात को वापस घर आ गये. मेले घूमने के बाद अब थकान सिर पर चड़ड गयी थी तो-

मई- कहा गयी मेरी कुटिया?

चाची- जी आई…

मई- चल ज़रा मेरा खड़ा कर्दे फिर गत्री के अंदर डाल कर आराम से सौंगा.

चाची ने अपने चुचे बाहर निकल लिए और मेरे लंड पर अपने निपल मसालते हुए बोली-

चाची- (शरमाते हुए) उसको क्यू प्रेशान करते हो, मेरी फाक भी बहोट गरम है रात भर आराम देगी आपको.

मैने चाची को घूरा तो शर्मा कर मुस्कुरा दी और लंड मूह मे लेके चूसने लगी.

उम्म्म्म…प्पुच्छ..उउंम्म..उम्म्म्ममममम..उम्म्म्मम…उम्म्म्म..स्पस्र..स्परर.स्पपररर

आल्लग्ग….गग्ग्ग.ग.ग्ग्ग.अललग्ग..उउंम..स्पस्र..स्परर..स्परर…आल्लगगज्गग…आलागग्ग…स्सपप्ररर..स्पररालालगग्ज्ग

उम्म्म्म…प्पुच्छ..उउंम्म..उम्म्म्ममममम..उम्म्म्मम…उम्म्म्म..स्पस्र..स्परर.स्पपररर

आल्लग्ग….गग्ग्ग.ग.ग्ग्ग.अललग्ग..उउंम..स्पस्र..स्परर..स्परर…आल्लगगज्गग…आलागग्ग…स्सपप्ररर..स्पररालालगग्ज्ग

मई- उउम्म्म्मम.भेंचोड़…मज़ा आ गया.. आहह..आअहह….आहह..आहह..

इससे फेले मई मा की तरफ जाो, चाची मेरे नीचे आ गयी और मेरा खड़ा हो चुका लंड अपनी छूट पर मसालने लगी. उसकी सास तेज हूने लगी, वो जानती थी ये घोड़े जैसा लंड अंदर घुसेगा तो उसको चियर कर रख देगा.

मैने चाची की छूट पर लंड लगाया और फफककककककककककककककचह…

चाची- आआआआआआआआआआआआआआआआआआआआआआआआअहम्म..म्माररर…गयी..

चाची अकड़ गयी लेकिन अंदर तक लंड ले लिया. उम्म्म्म उनकी गरम छूट मे लंड घुसेड कर मज़ा आ गया और फिर वही सो गया. काप्ते हुई चाची लाल पद गयी उनकी छूट को ऐसे झटके मिलते रहते थे पर ये वाला ज़्यादा तगड़ा था. और फिर दोनो सो गये.

सुबह मई उठा तो चाची की गरम छूट से लंड बाहर निकाला और मा भी साइड मे नंगी लेती हुई थी. फिर मैने दोनो की छूट को रग़ाद कर जगा दिया और दोनो काम पर लग गयी. गाओ का महॉल तो आची ही चल रहा था. पर राजनीति तो हर जगह होती है और यहा भी थी. चाचजी गाओ के प्रधान थे काफ़ी सालो से और उनके ऑपोसिशन मे हुमेशा ही चौधरी खड़ा होता था.

गाओ के ये 2 बाहुबली थे पैसे और ज़मीन के लिए भी. चौधरी हुमेशा से ही प्रधान बनना चाहता था पर चाचजी ने कभी बनने नही दिया. अब प्रधान के एलेक्षन पास मे थे और चौधरी भी रेडी हो रहा था. लेकिन चाचजी तो जैल मे थे. तो उन्होने मुझे एलेक्षन लड़ने को बोला.

मई- अरे चाचजी मई कैसे?

चाची- अरे मैने सब सेट्टिंग करदी है, मेरे लोग तुझे सपोर्ट करेंगे और बाकी काम तू देख लियो. अब तो देख मेरी जगह तू ही है सुनील. तुझे सब कुछ संभालना है.

चाचजी का इतना बड़ा स्मराज्या मेरे हाथो मे था. . तो थी पर मेरे पास 2 चिकनी मादक जिस्म वाली पर्सनल रंडिया भी तो थी मेरी. जो जब मॅन करे मेरा लंड चूस कर या फिर अपनी कसी हुई फाक मे मेरा लंड लेके मुझे खुश रखती थी.

यह कहानी भी पड़े  कर्जदार की बीवी से मिला चुदाई का सुख

error: Content is protected !!