कमसिन भाभी की चूत और मेरा गरम लंड

हैल्लो दोस्तों मैं रवीश अपनी पहली स्टोरी के साथ हाजिर हुआ हूँ आप लोगों के सामने | कैसे हैं आप सभी उम्मीद करता हूँ सब कुशल मंगल हो कर अपनी चुदाई कर रहे होंगे और करवा रहे होंगे | ये मेरी पहली कहानी है अगर आप लोगों को इसमें कोई गलती नजर आती है तो कृपया मुझे माफ़ करना | ये कहानी मेरे और मेरी भाभी के बीच हुई चुदाई के बारे में हैं | इस कहानी में मैं आप लोगों को बताऊंगा कि कैसे मैंने अपनी भाभी की चुदाई की और कैसे उनकी उबलती चूत की प्यासा बुझाया | अब मैं कहानी शुरू करता हूँ |

मेरे घर में मैं, मम्मी पापा मेरे भैया भाभी रहते हैं | हमारा घर बहुत बड़ा है और ये घर हमारे दादा जी ने बनवाया था इस वजह से ये तबसे ही बहुत बड़ा है और इसमें हम लोगो ने कुछ नहीं करवाया | ये जो मैं कहानी आप लोगों को बताने जा रहा हूँ ये पिछले गर्मी की बात है | मेरे भैया एक बहुत ही सुन्दर और सुशील लड़के है वो बहुत सीधे सादे हैं और उनका ध्यान कभी गलत काम में नहीं लगता | वो प्राइवेट जॉब करते हैं और मुंबई में उनकी पोस्टिंग है | मेरे भैया की शादी पिछले साल ठंड के महीने में हुई थी जनवरी में | फिर जब से वो मुंबई गए चले गए मतलब अभी गर्मी की अप्रैल में तब से मेरी गर्मी की छुट्टियां चल रही थी | और गर्मी के दिनों में हम सब खाना खाने के बाद छत में टहलते रहते थे | मैं शुरू से ही बिगड़ा लड़का था पर मैं कभी किसी के साथ गलत नहीं करता था | मैं अपने दोस्तों के साथ कई बार अश्लील फिल्म देख चूका हूँ | एक दिन मेरे एक दोस्त ने मुझे एक ब्लू फिल्म के बारे में बताया था जिसका नाम था “उबलती ज्वाला” |

रोज की तरह सब छत पर टहल रहे थे कि अचानक मुझे उस फिल्म के बारे में याद आया और मैंने सोचा की सब तो ऊपर हैं चल रवीश देख ले अभी मौका है | मैं नीचे आ गया और अपने रूम में आ कर दरवाजा बंद करके कंप्यूटर में फिल्म देखने लगा और फिल्म देखते देखते मैं बहुत जोश में आ गया था | मैं गर्मी के टाइम में सिर्फ हाफ पेंट है पहनता था | फिर मैं फिल्म देखते हुए अपना लंड सहलाने लगा सहलाते सहलाते वो एक दम से खड़ा हो गया तो मैंने सोचा की चलो मुठ ही मार ली जाये | तो मैं अपना लंड निकाल कर उसमे आयल लगा कर मुठ मारने लगा | उतने में भाभी ने मुझे आवाज़ दी कि रवीश क्या कर रहा है ? मम्मी तुझे बुला रही हैं मैं झट से उठा अपना पेंट पहना और सिस्टम ऐसे ही बंद कर दिया और दरवाजा खोला तो भाभी मुझसे बोल पड़ी तू क्या कर रहा था रे अन्दर ? मैंने कहा कुछ नहीं भाभी ऐसे ही लेटा था फिर उनकी नजर मेरे पेंट पर पड़ी जो तम्बू बन के खड़ा था | भाभी ये देख कर मेरी तरफ मुस्कुराते हुए देख रही थी तो मैं कुछ समझ नहीं पाया और फिर ऊपर छत चला गया | वहाँ सामने से एक बरात जा रही थी | तो मम्मी मुझे वो दिखाने के लिए बुला रही थी | ये देख के मैंने मम्मी से कहा कि मम्मी मैं बच्चा हूँ क्या ? जो मुझे आप बारात देखने के लिए बुला रहे हो और फिर मैं नीचे आ गया | और सब लोग हंस रहे थे मेरी इन बचकानी बातों से | फिर आधे घंटे के बाद सब नीचे आ आ गये थे |

यह कहानी भी पड़े  बुआ को लंड चुसाया और उसकी चूत मारी

रात के करीब 11 बजे रहे होंगे उस टाइम | फिर सब सोने के लिए चले गए मेरा रूम और मेरे भैया भाभी का रूम आजू बाजु है | मैं रात को 1 बजे नींद से उठा और फिर से वो फिल्म लगा के देखने लगा देखते देखते फिर से मैं जोश में आ कर अपने पूरे कपडे उतर कर नंगा हो के मुठ मारने लगा और 10 मिनट के बाद मेरा वीर्य नीचे जमीन पर गिर गया | फिर तुरंत ही भाभी ने मेरे दरवाजे पे दस्तक दी मैं घबरा गया और जल्दी से कंप्यूटर बंद करके अपना पेंट पहना और दरवाजा खोला | भाभी ने मुझसे पूछा कि तू क्या कर रहा है इतनी रात में तेरे कमरे में लाइट कैसे चालू थी | मैं एक दम से घबरा गया था | मैंने भाभी से कहा की भाभी कुछ नहीं कर रहा था मैं क्यूँ क्या हुआ ? तो उन्होंने कहा की तेरे कमरे में से लाइट क्यूँ जल रही थी रात में और वो अन्दर चली आई | मैंने बोला भाभी सच में मेरा यकीन करो मैं कुछ भी नहीं कर रहा था और फिर उनका पेर मेरे वीर्य पर पड़ा तो वो बोली कि ये चिपचिपा सा क्या है ? मैं कुछ नहीं बोला पाया और उतने में भाभी ने लाइट जला दी और उन्हें समझते देर न लगी की ये क्या है ? वो बोली क्यूँ रे क्या करा रहा था सच बता मैंने बोला भाभी कि मैं ब्लू फिल्म देख रहा था और मैं भी जवान हो गया हूँ और मेरे अन्दर की अनातार्वसना बाहर आने लगी है | तो मैं मुठ मार रहा था और वीर्य यहीं निकल गया और मैं इसे साफ भी नहीं कर पाया और आप आ गए उतने में | तो वो बोली कि रुक मैं अभी मम्मी को बताती हूँ कि तू आज कल बड़ा हो गया है और ये आज कल गन्दी गन्दी पिक्चरे देखने लग गया है | मैं डर गया और भाभी से माफ़ी मांगने लगा पर भाभी थी कि सुन ही नहीं रही थी |

यह कहानी भी पड़े  कॉलेज गर्ल का बुर चोदन

Pages: 1 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!