इमरान ने चोदा मेरी छोटी बहन को

हेलो दोस्तो ई’म पालक ये मेरी स्टोरी का फिफ्थ (5) पार्ट है, उम्मीद है आपको मेरी ये रियल स्टोरी पसंद आएगी.

नॉवब के रूम पे दो रात को रुकने आंड इमरान आंड नॉवब से खूब चूड़ने के बाद. इमरान आंड नॉवब ने मुझे रेग्युलर बेसिस पे छोड़ना शुरू कर दिया.

मुझे भी दोनो से चूड़ना पसंद आ रहा था. एक रिश्ता जो मैने इमरान की गफ़ बन के शुरू किया था वो बहुत आयेज बढ़ चुका था.

काई बार तो मई अकेले जेया के नॉवब से छुड़वा आती थी. इस तरह से करीब 2 से 3 महीनो तक दोनो ने मुझे पहले के जैसे खूब छोड़ा बुत उसके बाद उन्होने मुझे छोड़ना कूम कर दिया.

सयद उनका मुझसे मॅन भर गया था साथ ही उनको दूसरी नयी नयी लड़किया भी मिल गयी थी. मैने भी अपनी स्टडीस पे फोकस करना शुरू कर दिया क्यूकी ये मेरे कॉलेज का लास्ट एअर था और मुझे प्ग के लिए अच्छे कॉलेज मे अड्मिशन के लिए एग्ज़ॅम की परेपरत्िओं भी करनी थी

पहले जहा मेरी चुदाई हफ्ते मे 2-3 बार होती थी वो महीने मे 1-2 बार ही होने लगी और धीरे धीरे वो भी काम होती गयी..

इमरान भी अब मुझसे अच्छे से बार नही करता था जिसके कारण हम दोनो की लड़ाई होने लगी और ऐसे ही एक दिन लड़ाई इतनी जयदा हो गयी की उसने मुझे बहुत बुरा बुरा बोला जो मई यहा भी शेर नही कर सकती.

इस लड़ाई के बाद मेरी इमरान से बार पूरी तरह से बंद हो गयी. मैं भी सिर्फ़ अपनी पढ़ाई पे फोकस करने लगी और दिन भर घर पे पड़ती रहती थी.

करीब 3 महीनो तक ना मई इमरान से मिली ना उससे बार की इसी बीच जब मई घर पे थी तो मैने देखा की भावना के मोबाइल पे म्स्ग का नोटिफिकेशन आया.

भावना मम्मी के साथ किचन मे थी और उसका मोबाइल मेरी स्टडी टेबल पे था तो मैने उसके मोबाइल को देखा की किसका म्स्ग आया है.

जब मैने वो म्स्ग और उसको भेजने वेल का नाम पढ़ा तो मेरे होंश उड़ गये. उसके मोबाइल पे इमरान के म्स्ग थे और वो आज शाम को मिलने का प्लान कर रहे थे. मई पूरी तरह से शॉक हो गयी. क्यूकी जिस लड़के ने मुझे उसे किया वो अब वो भावना से बाते कर रहा था.

(भावना (बदला हुआ नामे) मेरी छ्होटी बेहन है जिसने इसी साल स्कूल पास किया था. और वो एक साल का ड्रॉप ले के जी की परेपरत्िओं कर रही थी).

जब भावना मेरे पास अपना मोबाइल लेने आई तो मैने उससे इस बारे मे पूछा-

मई – भावना, ये इमरान कों है और क्या रिश्ता है उससे तुम्हारा?

भावना- (शॉक होते हुए) अरे दीदी कुछ नही वो पारूल दीदी का दोस्त है ना तो उससे थोड़ी बार हो जाती है. कभी कभी नॉर्मली मिल लेते है.

मई – पारूल ने ट्ंको उससे मिलवाया है.

भावना- हा. अब वो उनका दोस्त है तो काई बार दीदी के साथ मिल जाता था.

अब मई और जयदा शॉक हो गयी मैने लाइफ मे कभी ऐसा एक्सपेक्ट नही किया था.

पहले तो मैने मॅन ही मॅन पारूल को खूब गलिया दी फिर अपनी बेहन से बोली-

मई – भावना तू झुत मत बोल मई पारूल आंड इमरान दोनो को जानती हू. दोनो कॅरक्टरलेस है. और इमरान बहुत ही बुरा लड़का है तू उससे कोई दोस्ती नही रखेगी. (ऑर्डर देते हुए बोली).

भावना – पर दीदी…

मई – (गुस्से मे) पर वॉर कुछ नही. मैने जो बोला है वो कर. उससे कोई दोस्ती नही. मई उसी कॉलेज मे पड़ती हू जिसमे इमरान पढ़ा है. उसकी हरकते मुझे अच्छे से पता था.

(मई अपनी बेहन से ये नही कह सकती थी की मई इमरान से खुद चूड़ी हू.)

भावना- ठीक है दीदी सॉरी पर म्मी को कुछ मत बताना.

मई – हा हा ठीक है पर तू इन फालतू लोगो से दूर रहा कर. और ये पारूल से भी वो बहुत कॅरक्टरलेस लड़की है.

भावना – ठीक है दीदी.

ऐसे ही कुछ दिन निकल गये फिर एक दिन मेरे दिमाग़ मे आया क्यू ना इसका मोबाइल फिर चेक किया जाए और जब वो शुभाह नहाने गयी तो मैने ऐसा ही किया.

जब मैने उसका मोबाइल देखा तो वोही हुआ जिसका दर था उसने इमरान का नंबर लड़की के नामे से सवे किया था और कॉल हिस्टरी मे उसका नंबर था इसका मतलब् वो अभी भी इमरान से बार कर रही थी.

मुझे बहुत जयदा गुस्सा आया मई अपनी छ्होटी बेहन को इस तरह उसे होने नही दे सकती थी.वो अभी छ्होटी थी ये सब नही समझती थी इसलिए मैने सीधा इमरान को कॉल किया.

उसके कॉल पिक करते ही मैने 5मीं तक उसको बिना रुके वोही सब गलिया दी जो मैने उससे ही सीखी थी. और उससे मेरी बेहन से दूर रहने को बोला जिसके बाद इमरान बोला.

इमरान – मुझे कोई इंटेरेस्ट नही है तेरी बेहन मे वो खुद आती है और जब यडी खुद कोई छुड़वाने आएगा तो मई तो छोड़ुगा.

मई – (गलिया देते हुए) दूर रह उससे.

इमरान – एक काम कर तू मिल. मिल के तुझ से बार करता हू.

मई – बोल कहा आना है?

इमरान – वही जहा तेरी सील टूटी थी.

मई – (गुस्से मे) रुक अबी आती हू तुझसे तो सामने ही बार करूगी.

इमरान – आ जेया, यही हू मई.

मई पहले ही इमरान से बहुत गुस्से मे थी और अपनी छ्होटी बेहन के बारे मे जान के और जयदा गुस्सा आ गया.

मैने भी तुरंत अपनी स्कूटी उठाई और गुस्से मे सीधा नॉवब के रूम पे पहुँच गयी वाहा इमरान अकेला बड़ी मस्ती मे बेता था.

मई गुस्से मे अंदर गयी और सीधा इमरान के गाल पर एक जोरदार थप्पड़ मारा और बोली.

मई – कुत्ते तेरी हिम्मत कैसे हुई इतनी. ज़रा शरम तो कर ली होती.

इमरान – (मेरा गुस्सा देख के वो भी तोड़ा हिल गया था) कुत्टो को कोई शर्म नही होती.

मई – जो भी हो तू उससे दूर रह.

इमरान – क्यू राहु?

मई – बस मई नही चाहती की तुम जैसे लड़के उसको उसे करे.

जब जयदा गुस्सा आता है तो लड़किया यूष्यूयली रोने ल्गती है मेरे साथ भी यही हुआ मई भी ल्गभग रोने लगी थी. आँखो मे अंशु आ गये थे.

तभी इमरान मेरे पास आया और उसने मुझे गले ल्गया.और पास बिता लिया

इमरान – तू जैसा सोच रही है ऐसा कुछ नही है.

मई – तो कैसा है इमरान? (गुस्से और आँखो मे आँसू लिए उसको देख के बोला).

इमरान- देख तुझे बुरा लगेगा बुत तेरी छ्होटी बेहन बहुत बड़ी वाली है.

मई – क्या है?

इमरान – .. उसकी सील तो बहुत पहले टूट चुकी है. उसके एक . वेल . ने उसको खूब . के छोड़ा है और छ्चोड़ दिया. लेकिन तेरी बेहन मे सेक्स की बहुत . थी इसलिए जब पारूल के साथ उसने मुझे देखा तो लाइन देने लगी.

मई – अब झुत तो मत बोलो.

इमरान – मई क्यू झुत .. वो इतनी लाइन दे रही थी तो मैने भी ले ली. अब . को मुझ से चूड़ने का इतना नशा हो तो मई क्यू माना करूँगा.

मैने इमरान को एक नज़र देखा. इमरान आयेज बोला-

इमरान – वो खुद ही मिलने का . है. और मई इस बार से माना नही कर रहा की मैने उसको नही छोड़ा. मई और नॉवब दोनो उसको . दो महीने से खूब छोड़ रहे है. और वो इतनी बड़ी चुड़ाकड़ है की हम दोनो के लंड आराम से ले लेती है पर अब मेरा भी उसको छोड़ने का मॅन नही करता फिर भी वो यहा चूड़ने आ जाती है.

मई इतना तो जानती थी की इमरान कितना भी हरामी हो बुत झुत तो नही बोलता है इसलिए ये सब सुन के मेरे पास बोलने को कुछ नही . और बस इतना बोली.

मई – वो छ्होटी . थी तुम तो उससे 8 साल बड़े हो उससे और . हो.

इमरान – कहा की .? कॉलेज जाने की उमर हो गयी है है उसकी और जिस तरीके से वो लंड लेती है ना ऐसा कोई . ही ले सकता है. . तो मैने ही . था की लंड कैसे लेते है पर वो पहले ही सब सीखी हुई थी.

इतना सुन के मेरे पास बोलने को कुछ नही बचा मई बस चुप छाप बेती रही.

तभी इमरान ने मेरे गले मे हाथ डालते हुए मुझे अपनी तरह खिछा. मई कुछ नही बोली बस सर नीचे किए बेती रही.फिर इमरान ने मेरी त शर्ट के उपर से ही मेरे बूब्स सहलना शुरू कर दिया.

मई – ये क्या कर रहे हो?

इमरान – अब तू यहा आ गयी है तो बिना चुड़े तो जाएगी नही.

मई – बकवास मत करो.

इमरान – बकवास नही कर रहा हू मेरी जान. यदि तुझे चूड़ना ना होता तो तू यहा कभी नही आती.

मई – ऐसा कुछ नही है..

इमरान – अच्छा, तो जेया बेती क्यू है, निकल यहा से..

मई वही बेती रही पता नही मेरे दिमाग़ मे क्या चल रहा था. एक तरफ छ्होटी बेहन के बारे मे ये सुन के मूड ऑफ हो गया था वही दूसरी तरफ इमरान के साथ होने से मेरे सेक्षुयल डिज़ाइर जाग रहे थे.

भले ही इमरान ने मेरा उसे किया है पर सच ये भी है की मैने ही उससे खूब चुडवाया था तो मेरे डिल मे उसके लिए एक सॉफ्ट कॉर्नर अबी भी था.

धीरे धीरे इमरान ने मेरे बूब्स को सहलाना तेज़ कर दिया और इस बार मई कुछ नही बोली.

फिर इमरान ने मेरे लिप्स पे किस करना शुरू कर दिया लीप किस करते हुए. मुझे बेड पे लिटा दिया और मेरे उपर आ गया.

उसने मेरे दोनो हाथ पकड़ के उपर किए और ज़ोर से किस करने लगा. उफफफफ्फ़… लीप से होते हुए वो मेरी नेक फिर कान पे किस करने लगा जिससे मई भी गरम होने लगी और उसका साथ देने लगी.

किस करते हुए उसने मेरे बूब्स द्वाने शुरू कर दिए और मैने भी उसकी शर्ट की बटन खोल दी और उसके चेस्ट पे किस करने लगी

मैने अपनी त शर्ट निकल दी जिसके बाद इमरान ने मेरी ब्रा को उपर खिसा के मेरे बूब्स को बाहर निकाला और दोनो बूब्स को अपने दोनो हाथो मे लेते हुए सक करना शुरू कर दिया.

जब वो एक बूब को सक करता तो दूसरे बूब को ज़ोर से परेस्स करता जिससे मुझ बहुत अच्छा फील होने लगा.

फिर उसने मुझे पलटा दिया और मेरे बॅक पे किस करते हुए मेरी ब्रा की हुक खोल के उसको अलग कर दिया जिसके बाद उसने मुझे पीछे से नेक से लेकर कमर तक किस किया.

मई भी इस फोरप्ले को पूरा फील कर रही थी. इसके बाद इमरान ने मेरे जीन्स आंड अंडरवेर को निकल के अलग कर दिया और खुद भी नंगा हो गया इसके बाद उसने मेरी छूट से खेलना शुवर किया.

इमरान – (छूट को अपनी उंगलिओ से फक करते हुए बोला) देख मैने बोला था ना की तू चूड़ने के लिए ही आई थी. इसलिए नीचे के बाल सॉफ कर के आई है.

मई -(हॉर्नी आवाज़ मे) कुछ भी मत बोलो.

इमरान – चल साली झुटि.

इतना बोल के वो मेरे छूट सक करने लगा जिससे मई बहुत ज़यादा गरम हो गयी.

जब इमरान ने देखा मई चूड़ने के लिए तैयार हू तो उसने . . किया और . सा करने लगा. जब मई थोड़ी . हू तो उसने फिर मुझे गरम कर दिया ऐसा उसने 3 बार किया.

मई – क्या कर रहे हो यार..

इमरान – वोही जो मई चाहता हू, तू बीटीये क्या करना चाहिए तू क्या चाहती है.

मई – यार तुम्हे भी पता है.

इमरान – नही पता बोल ना.

मई – यार नाटक मत करो, वोही जो करते हो.

इमरान – क्या करते है.

मई – फक..!

इमरान – तो ऐसा बोल ना, बोलो “इमरान मुझे छोड़ो प्लीज़..”

मई – (तोड़ा सर्माते हुए) यर्र्र्ररर नाटक मत करो…

इमरान – मई नही कर रहा, पहले बोल.

मई – फक करो.

इमरान – नही जैसा मैने बोला . बोलो “इमरान प्लीज़ मुझे .”

करीब 5-10 मीं तक ऐसे ही चलता रहा पर मई इतनी गरम हो चुकी थी की अब बिना चुड़े नही रह सकती थी इसलिए मैने बोल ही दिया-

मई – इमरान प्लीज़ मुझे …

इमरान – (हेस्ट हुए) एक बार और बोलो.

मई – प्लीज़ इमरान मुझे .…

इमरान – . गुड, चल अब मेरा लंड सक कर.

मई – ठीक है लेट जाओ.

इमरान – लेट जौ? साली भूल गयी की कैसे सक करना है? नीचे घुटनो पे बेत के कर!

फिर मैने वैसा ही किया अपनी घुटनो पे बेत के उसका लंड सक किया. इसके बाद इमरान ने मुझे बेड पे लिटा दिया और मेरे दोनो पैर को फेला के अपना लंड मेरी छूट मे दल दिया.

जिससे रूम मे मेरी गांघो से उसकी गांघो की टकराने की आवाज़ (फ़ाच फ़ाच फ़ाच) और मेरी सिसकिया… (आअहहााअ उूुुुुउउ म्‍म्म्मममम आआआ ऊआा) गूंजने लगी.

फिर उसने मुझे उल्टा किया और हमेसा की तरह मेरी आस लाल की और फिर पीछे से मुझे छोड़ना शुरू किया. वो मेरे बाल पकड़ के कुटिया ब्ना के मुझे छोड़ रहा था और इस तरह से उसने फर्स्ट रौंद छोड़ा. फिर थोड़ी देर बाद सेकेंड रौंद शुरू हुआ.

इसमे उसने मुझे खड़े खड़े छोड़ा. फिर एक टेबल पे लिटा के छोड़ा. मई अब तक मई 3 बार ओर्गसम फील कर चुकी थी.

इसके बाद उसने मुझे 3र्ड आंड 4त रौंद तक पूरे रूम मे अलग अलग तरीके से छोड़ा. जिसके बाद मई इमरान के साथ ही सो गयी और मेरी नींद शाम को खुली.

मेरी चुदाई की भूक मिट चुकी थी और मेरा दिमाग़ ठिकाने पे आ गया था की मई ये ग़लत कर रही हू. ऐसे लड़के के साथ कोई रिस्ता नही रखना चाहिए. इसलिए मैने जल्दी से कपड़े पहने और वाहा से जाने लगी. इमरान ने भी मुझे नही रोका. जब मई जाने लगी तो उसने बोला-

इमरान – सुन पालक मई कभी खुद भावना को मिलने नही बूलौगा. लेकिन यदि कोई खुद मेरे पास चूड़ने के लिए आएगा तो मई उसको ज़रूर छोड़ुगा. फिर वो कोई भी हो समझी!

मई कुछ नही बोली बस पलट के इमरान को देखा और वाहा से निकल गयी.

इसके बाद मैने कभी अपनी छ्होटी बेहन को नही टोका, उसको जो करना था करने दिया. और उसका तेज़ी से आयेज-पीछे बदता हुआ फिगर बता रहा था की उसने भी नॉवब के रूम जाना बंद नही किया. नेक्स्ट एअर वो एक दूसरी सिटी मे कॉलेज के लिए चली गयी जहा उसने एक ब्फ बना लिया.

यह कहानी भी पड़े  माँ की सहेली से मस्त चुदाई

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!