हॉट मम्मी को बेशरम बनाया

रूपाली मों: तुम बहुत नॉटी हो. मत करो अभी बेबी.

मैं: मेरी जान, घर में कों है ऐसा जो हमे रोकेगा?

अब आयेज-

फिर मैं उसको पीछे से कमर पकड़ कर उसके गले पर किस करने लगा. रूपाली गरम हो रही थी, और बोलने लगी-

रूपाली मों: उहह रोहित, मत करो प्लीज़. रूम में चलते है ना, वाहा कर लेना.

मैं: मेरे जान, मैं तुझे पुर घर में मज़ा दूँगा. रूम में भी करूँगा. अभी यहा मज़ा लो.

फिर मैने उसका गला पकड़ा, और अपनी तरफ घुमाया. इससे उसके होंठ मेरे होंठो पर लग गये. मैं रूपाली के मुलायम होंठो को चूसने लगा. मेरा एक हाथ उसकी सॉफ्ट गोरी-गोरी कमर को मसल रहा था.

रूपाली गरम थी. वो बस गरम साँसे ले रही थी. अब वो भी अपनी ज़ुबान मेरे मूह में देके मुझे साथ दे रही थी.

उसका बेटा बाहर से सब देख रहा था. रूपाली ने अपने हाथ किचें की स्लॅब पर रख दिए. मैं उसके होंठो को खूब चूस रहा था. वो बस गरम-गरम सिसकियाँ ले रही थी.

रूपाली मों: उहह श आह उम्म बेबी.

रूपाली मों: उहह उम्म बेबी. प्लीज़ अब छ्चोढो मुझे. बेटा आ जाएगा.

मैं: उसको सब पता है बेबी. तू मुझसे रोज़ चूड़ेगी, क्या उसको पता नही लगेगा?

मैं: तुझे दिन भर पुर घर में उछाल-उछाल कर छोड़ूँगा. तब भी तो तेरे बेटे को तेरे चीखे सुनाई देंगी. अब शरमाना छ्चोढ़.

रूपाली मों: तुम तो आते ही मुझसे ऐसे प्यार कर रहे हो जैसे बहुत टाइम से जानते हो मुझे.

मैं: मेरे रानी, मैं हू ही ऐसा.

उसके बाद मैं रूपाली की मस्त गांद दबाने लगा. वो सस्स उहह कर रही थी. वो भी अब बिना दर्रे मज़े ले रही थी. मुझे स्मूच करने लगी.

रूपाली की प्यास और हवस उसकी आँखों में थी. उसका बेटा बाहर से देख कर एंजाय कर रहा था. 10 मिनिट किस और गांद दबाने के बाद वो बोली-

रूपाली मों: उम्म बस मेरे राजा. अब बाद में कर लेना. अब हमे बाहर चलना चाहिए.

मैं: हा, अब तू खुल के मज़ा ले. तेरे बेटे ने तुझे पूरा मज़ा देने के लिए बुलाया है. इसलिए मुझे अपना काम तो करना पड़ेगा मेरी जान.

रूपाली मों: हा मेरे न्यू हज़्बेंड. तुम मुझे बहुत मज़ा देने वेल हो. बेटे ने बताया है.

फिर 5 मिनिट और उसके होंठो को चूसा, और बूब्स भी दबाए. उसके बाद वो छाई लेके भर जाने लगी. मैं भी उसके पीछे चलने लगा. उसकी गांद को चलते हुए मसालने लगा. रूपाली मुझे स्माइल देने लगी.

उसका बेटा अनिल बाहर बैठा हुआ था. मैने उसे आँख मार दी. वो भी आँख मार के स्माइल देने लगा. रूपाली हमे छाई दी. मैने उसका हाथ पकड़ के अपनी गोद में बिता दिया. वो बेटे से शरमाते हुए उठने लगी. मैं बोला-

मैं: अर्रे मेरी रानी, कहा जेया रही हो? बैठो ना, क्यूँ शर्मा रही हो. अब तो मैं तेरे बेटे के सामने तुझसे रोमॅन्स करूँगा.

रूपाली मों: चुप करो तुम. कुछ भी बोलते हो. छ्चोढो मुझे.

उसकी बात सुन के अनिल बोला: क्या मों, आओ एंजाय करो ना. क्यूँ शर्मा रही हो? खुल के मज़े लो, अपनी लाइफ जिओ रोहित के साथ. मुझसे डरो मत.

अनिल: पुर वीक तक आप मुझे अपना बेटा मत समझो. सिर्फ़ एक दोस्त समझो और मज़े करो सब कुछ भूल कर.

रूपाली मों: तू ना रोहित की तरह बेशरम हो गया है.

मैं: मेरी जान. तू भी अब बेशरम हो जेया, और मेरी गोद में बैठ और अपने कोमल हाथो से छाई पीला.

फिर वो हेस्ट हुए मुझे अपने हाथो से छाई पिलाने लगी. छाई के हर एक घूँट के बाद मैं उसके होंठो को चूस्टा. रूपाली को मज़ा आ रहा था. अनिल सामने बैठा सब देख कर स्माइल करने लगा. फिर वो बोला.

अनिल: मों, आप भी करो ना. पीछे मत हटो रोहित से. उसको अपना रूप दिखा के पागल कर दो.

रूपाली मों: ओक बेटा, अब तू देख.

अब रूपाली भी छाई पी कर मेरे लिप्स को ज़ोर-ज़ोर से चूसने लगी. मैं एक हाथ से उसके बूब्स दबाने लगा. वो बोली-

रूपाली मों: आह बेबी, प्लीज़ तोड़ा धीरे दब्ाओ ना.

मैने उसकी नही सुनी, और ज़ोर-ज़ोर से उसके बूब्स दबा रहा था. रूपाली बस किस करते हुए आह उम्म ससस्स करती. मैं

रूपाली के ब्लाउस के उपर से ही बूब्स को मूह में लेके चूसने लगा. इससे उसका ब्लाउस गीला हो गया. उसकी गरम-गरम सिसकियाँ मेरा लंड खड़ा करने लगी. खड़ा लंड उसकी गांद में चुभ रहा था.

रूपाली भी अब सब भूल कर मेरे फेस को किस करने लगी. अनिल छाई पीटा हुआ हमे बस देख रहा था. रूपाली की गरम सिसकियाँ निकालने लगी.

रूपाली: उम्म्म श उहह. रोहित तुम बहुत ज़्यादा गरम लड़के हो.

उसका बेटा उसकी बातों से गरम होने लगा. वो पंत के उपर से लंड मसालने लगा. करीब 20 मिनिट तक मैने रूपाली को खूब चूसा, और उसने भी मुझे खूब छाता. उसकी आँखों में सेक्स की गर्मी और लंड लेने की हवस दिख रही थी.

रूपाली अपने बेटे के सामने मुझे चूम रही थी, और बेटा अपना लंड मसल रहा था. जो उसने अपनी नज़रो से देख लिया. रूपाली उसे देख कर हासणे लगी. उसकी भी हिचक निकल गयी. अब वो खुल के मेरे साथ मज़े ले रही थी. रूपाली ने अब गरम होके मुझसे कहा-

रूपाली: मेरे बेबी, अब कुछ करो ना. आपका ये चुभ रहा है. मुझसे अब रहा नही जेया रहा है.

मुझसे भी अब रहा नही जेया रहा था. उसकी प्यास देख कर मेरा लंड और मैं गरम हो गये.

रूपाली बोली: रोहित, चलो ना रूम में प्लीज़.

ये बोल कर मुझे किस पर किस करने लगी. रूपाली मेरे होंठो को चूस कर सारा रस्स पीने लगी. मैने वही पर उसका ब्लाउस फाड़ दिया, जिसे देख कर अनिल चौंक गया. फिर मुझे देख कर हस्स कर ऑल थे बेस्ट का साइन दिया.

रूपाली भी अग्रेसिव होके मुझे चूमने लगी. उसे कोई फराक नही पद रहा था, की उसका बेटा साथ था. वो उसी के सामने अपने बाल खोल कर मेरी त-शर्ट निकालने लगी.

मैने झट से उसे उठाया. वो दोनो हाथ मेरे गले में फ़ससा कर मुझे किस करे जेया रही थी. मैं उससे उठा कर बेडरूम में ले गया. पीछे से अनिल को आँख मार दी. वो अपना लंड बाहर निकालने लगा. वो समझ गया अब चुदाई होगी.

रूपाली को मैने बेड पर पटक दिया, और मैने अपनी जीन्स निकाल दी. मैं ककचे में आके उसके उपर आ गया. मैने अब जल्दी से उसकी सारी निकाल दी, और पेटिकोट भी उतार कर फेंक दिया. रूपाली मेरे सामने सिर्फ़ ब्रा पनटी में थी.

उसकी ज़ोर-ज़ोर सांसो के साथ बूब्स भी उपर-नीचे हो रहे थे. बेडरूम का डोर खुला था. अनिल बाहर से सब देख रहा था. रूपाली मुझे बोली-

रूपाली: राजा जी, डोर तो बंद कर दो. लाओ मैं कर देती हू. वरना अनिल अंदर ना आ जाए.

वो उठने लगी, लेकिन मैने उसे जाने नही दिया और बोला-

मैं: मेरी जान, खुला रहने दे. तू क्यूँ तेनतीओं ले रही है? वो देखता है तो देखने दे. वैसे वो देखेगा नही.

मैं उसके गोरे-गोरे जिस्म को चाटने लगा. कभी गले पर, चेहरे पर, नाक पर, बालों पर, और उसके बगलो पर, अपनी ज़ुबान से चाटने लगा. रूपाली गरम सिसकियों के साथ बेड पर मचल कर अपने हाथो को मेरी पीठ पर सहलाने लगी.

रूपाली: आह उम्म्म उहह. रोहित. तुम कितना अछा प्यार करते हो. प्लीज़ और करो. बहुत मज़ा आ रहा है. मुझे खा जाओ मेरे राजा.

मैं उसके गले की स्किन को अपने मूह में लेके खींचने लगा. जिससे वाहा हल्का सा काट गया. इससे रूपाली की चीख निकल गयी.

रूपाली: आह उफ़फ्फ़, कितने बेरहम हो यार. आराम से करो ना.

मैं: मेरे बुलबुल, तोड़ा अग्रेसिव सेक्स में ही मज़ा आता है.

ये सुन कर उसने भी मेरे गाल पर काट कर लोवे बीते दी. फिर मुझे देख कर हेस्ट हुए बोली-

रूपाली: ऐसे ही ना? अब आया मज़ा तुम्हे?

मैं: हा मेरी जान.

कहानी पर बने रहना दोस्तों. बहुत मज़ा आने वाला है अगले पार्ट में. किसी भाभी, गर्ल, हाउसवाइफ को ऐसे ही रोमॅंटिक और सेक्सी लाइफ का मज़ा लेना है, और रियल सेक्स चाहिए, तो मुझे मैल करके मेसेज करे. आपकी लाइफ की खुशियों को वापस ला दूँगा. और बोरिंग लाइफ को मज़ेदार बना दूँगा.

मुझे आप गम0288580@गमाल.कॉम पर मैल करे. आप मुझसे गूगले छत भी कर सकते है. आपकी सेक्यूरिटी और प्राइवसी पूरा ध्यान रखा जाएगा.

यह कहानी भी पड़े  मा बहन की चुदाई पापा और अंकल ने की


error: Content is protected !!