भानजे ने हॉट मामी के साथ संबंध बनाए

हेलो फ्रेंड्स, मेरा नाम यश मगर है, और मैं नेपाल से हू. मेरी आगे 20 है, और मेरा लंड 7 इंच का है. ये मेरी पहली स्टोरी है. ई होप की आपको मेरी स्टोरी पसंद आएगी. ये स्टोरी 1 महीने पहले की है.

कहानी लंबी होगी, फिर भी आप सब को मज़ा आएगा कहानी पढ़ने में.
मुझे मेच्यूर औरते ज़्यादा पसंद है. मेरी स्टोरी की हेरोयिन भी मेरी मामी है. उनकी एक बेटी है, जो मेरी आगे की है. वो भी काफ़ी सेक्सी है.

मेरी मामी बहुत ही मस्त माल है. भरा हुआ बदन, मस्त गांद, और माममे भी बहुत बड़े है उनके. उनका फिगर साइज़ 36″32″38″ है. मेरी मामी बहुत ही सेक्सी है. गाओं के जवान से लेके बुड्ढे तक उन्हे छोड़ना चाहते है. मैं जब भी उन्हे देखता हू, तो मेरा लंड खड़ा हो जाता है.

मामी और मैं बहुत फ्रॅंक्ली बाते करते थे. मामी के साथ मज़ाक करना, हग करना, ये मेरे लिए बिल्कुल नॉर्मल था. हम जब भी अकेले होते थे, तो मैं मामी को सेक्सी मामी कह कर बुलाता था, और वो मुझे बदमाश कहती थी. चलिए अब स्टोरी पे आते है.

मेरे मामा का घर गाओं में है, जो शहर से काफ़ी डोर है . गाओं से जंगल सिर्फ़ 20 मिनिट की दूरी पे है. मेरे मामा के यहा गाए, भैंसे, गोट्स, हें सब था. मामा अक्सर बीमार रहते थे, इसलिए मामी को काम ज़्यादा करना पड़ता था. सो मेरी मम्मी ने मुझे उनके घर (मामा के घर) मामी की हेल्प करने के लिए भेज दिया.

अब मैं वाहा रह कर मामी को हेल्प करता था. मामी मोस्ट्ली कुर्ता और सलवार पहनती थी. इसलिए उनका क्लीवेज मुझे आचे से दिख जाता था. गांद बड़ी होने के कारण उनकी सलवार भी गांद में फ़ासस जाती थी. मुझे वो देख के मज़ा आता था. रात को मामी को याद करके मैं लंड हिलता था.

मुझे जब भी मौका मिलता, तो मैं अंजान बन कर उनकी गांद छूटा था और गांद पे लंड रगड़ता था. मामी भी मुझे कुछ नही बोलती थी, सिर्फ़ स्माइल पास करती थी. मुझे लगता था, की वो भी मुझसे छुड़वाना चाहती थी. मामा अक्सर बीमार होते थे, इसलिए मामा उन्हे सॅटिस्फाइ नही कर सकते थे.


मैं हमेशा उनके माममे और गांद को घूरता रहता था. ये बात वो भी जानती थी, पर कुछ नही कहती थी. एक दिन रात को जब मैं पेशाब करने उठा, तो मुझे मामा के कमरे से कुछ आवाज़े सुनाई दी. मैने धीरे से अंदर झाँका, तो
अंदर मामी अपना एक हाथ माममे पे रख कर दबा रही थी, और एक हाथ से छूट में फिंगरिंग कर रही थी.

वो धीमी आवाज़ में आ आहह आहह आहह कर रही थी. उनकी बड़े-बड़े गोल माममे और बालो वाली छूट देख कर मेरा तो लंड खड़ा हो गया. फिर मैने तुरंत अपना मोबाइल निकाला, और वीडियो बनाने लगा. मामी कुछ देर बाद ज़ोर-ज़ोर से मोन करते हुए बोली-

मामी: आ आ कोई छोड़ो मुझे आ. छोड़ो मुझे प्लीज़.

और आहह आह करके मोन करने लगी. शायद उनका पानी झड़ने वाला था. कुछ देर बाद वो झाड़ गयी. सच में मेरी सेक्सी मामी बहुत ही सेक्सी थी.

उसके बाद मैने भी कमरे में जाके वीडियो देखी, और दो बार मूठ मारी. मैं अब उन्हे छोड़ने का प्लान बनाने लगा था. अब मैं उन्हे छोड़ना तो चाहता था, पर मुझे मौका नही मिल रहा था. क्यूकी घर पर मामा जी और उसकी बेटी भी होते थे. लेकिन फिर एक दिन भगवान ने मेरी सुन ही ली. एक दिन मामी ने मुझसे कहा-

मामी: सुन यशु, गायों और भैंसो के लिए घास ख़तम हो गया है. क्या तुम मेरे साथ जंगल चलोगे घास लाने?

मैं मॅन ही मॅन में बहुत खुश हुआ, और मामी को हा बोल दी. मैने त-शर्ट और एक हाफ ट्राउज़र पहन ली थी.
मामी ने अपनी ड्रेस चेंज करके पुरानी डीप कट वाइट त-शर्ट और लूँगी(ड्रेस नामे) पहन ली
उस ड्रेस में मेरी मामी एक माल दिख रही थी. फिर मैने मामी को कहा-

मे: मामी आप बहुत ही सेक्सी लग रही हो.

मामी (हस्स के बोली): चल हॅट बदमाश, तू भी ना कुछ भी बोलता है.

मे: सच में आप बहुत ही सेक्सी लग रही हो.

मामी: अछा जी, थॅंक योउ. और हम दोनो हासणे लगे.

त-शर्ट में से उनकी ब्लॅक ब्रा दिख रही थी, और मेरा तो देख के ही खड़ा हो गया था. मेरा लंड मेरी ट्राउज़र में सॉफ दिख रहा था. मामी ने वो देख लिया, और मेरी तरफ देख के मुस्कुराइ. मैं भी उनको देख कर मुस्कुराया.

फिर मामी मेरे आयेज चलने लगी, और मैं उनके पीछे-पीछे चलने लगा. लूँगी में उनकी गांद की शेप बहुत मस्त दिख रही थी. फिर हम जंगल पहुँच गये. वाहा पर सिर्फ़ हम दोनो ही थे, और कोई नही था. फिर मैने मामी को बोला-

मे: मामी, मैं पेड़ पे चढ़ कर घास काट-ता हू. आप नीचे उसको इकट्ठा कीजिए.

और मामी ने हामी भर दी. फिर मैं पेड़ पे चढ़ कर घास काटने लगा.
मामी नीचे थी, तो उपर से उनके माममे आसानी से दिख रहे थे.
मुझसे अब कंट्रोल नही हो रहा था.
फिर जब मैं घास काट कर नीचे उतरा, तब वो झुक-झुक कर घास उठा रही थी.

मामी के माममे आधे से ज़्यादा दिख रहे थे. ऐसा लग रहा था, की माममे भी कह रहे हो, की आओ, पाकड़ो और दब्ाओ हमे. मेरा लंड तो खड़ा ही था, और मुझसे रहा नही गया. फिर मैं जाके मामी के सामने खड़ा हो गया. तभी मामी ने मुझे हेस्ट हुए बोला-

मामी: क्या हुआ बदमाश?

मामी ये बोल ही रही थी, की मैने उनके माममे पकड़ के दबा दिए. इससे वो चौंक गयी और हल्का गुस्सा दिखा कर बोली-

मामी: ये क्या कर रहा है तू?

मे: सेक्सी को प्यार कर रहा हू.

ये कह कर मैने उनको जाकड़ लिया. इससे मामी दर्र गयी, और मुझे बोली-

मामी: छोढ़ो मुझे यशु.

अब मैं उनकी गांद मसल रहा था, और मुझ पर चिल्ला रही थी. मैने उन्हे उसी घास पे धक्का दिया, और उनके उपर गया और किस करने लगा. वो मुझसे छूटने की कोशिश कर रही थी, पर मैं उनके माममे दबा कर किस किए जेया रहा था.

उनके माममे बहुत ही सॉफ्ट थे और बड़े-बड़े थे. मेरे एक हाथ में भी उनके माममे नही आ रहे थे. फिर मैने किस करते-करते हाथ उनकी त-शर्ट के अंदर डाल दिया, और ब्रा के उपर से उनकी बड़ी चूचिया दबा रहा था. अब मामी का भी चिल्लाना कम हो रहा था.

फिर मैने किस ब्रेक करके उनकी त-शर्ट उपर की, और ब्रा के उपर से ही उनकी चूची को किस किया. मैं ब्रा के उपर से ही उनकी चूची को चाटने लगा. तभी वो बोली-

मामी: यशु छोढ़ो मुझे, ये ग़लत है.

वो ये सब कह रही थी, पर अब मुझसे छूटने की कोशिश नही कर रही थी.
फिर मैने झट से उनकी ब्लॅक ब्रा खोल दी, और उनके दोनो चूचे आज़ाद हो गये. उनकी चूचियो को देख कर मेरे मूह में पानी आ गया.

मैं एक हाथ मे लेके एक चूची चूस रहा था, और दूसरे हाथ मे लेके दूसरी चूची दबा रहा था.
अब मामी मोन करने लगी थी.

मामी: यशु, आहह आहह आहह यशु.
ये ग़लत आहह आहह है.

फिर मैने एक हाथ उनकी लूँगी के अंदर डाल दिया. लूँगी के अंदर तो पनटी ही नही थी. तो मेरा हाथ सीधा मामी की छूट पे गया. बहुत गीली हो चुकी थी उनकी छूट, और उसमे से पानी तपाक रहा था. फिर मैने मामी के तरफ देखा और कहा-

मे: सेक्सी तुम्हारी छूट से तो पानी तपाक रहा है.

ये सुन कर मामी शर्मा गयी. फिर मैने मामी को नंगा किया, और वो घास के ढेर पे लेट गयी. फिर मैं मामी की छूट चाटने लगा. अब मामी तो बस मोन कर रही थी.

मामी: आ आहह यशु, कितने महीनो बाद आज किसी ने मेरी छूट छाती है. और ज़ोर से छातो यशु, आहह आहह. खा जाओ मेरी छूट को.

मैं उनकी छूट पे फिँगुरइंग करते हुए छूट चूस रहा था. बहुत ही टेस्टी छूट थी उनकी. अब वो और ज़ोर से मोन करने लगी थी.

मामी: आ आ आ यशु. मैं झड़ने वाली हू आहह आहह. ज़ोर से चूसो आहह.

मैं ज़ोर-ज़ोर से उनकी छूट चूसने लगा. तभी मामी झाड़ गयी, और मैने उनका पानी पी लिया. फिर मैं उठा, और उनको बिता दिया, और एक टंग किस दिया उनको. उसके बाद मैं खड़ा हो गया, और अपना लंड बाहर निकाल लिया. मामी मेरा लंड देख कर चौंक गयी, और बोली-

मामी: कितना बड़ा लंड है तेरा. मैने कभी इतना बड़ा लंड नही लिया अपनी छूट में.

मे: बाते बाद में. अभी तो आप मेरा लंड चूसो.

इतना कहते ही उन्होने मेरा लंड पकड़ के हिलाया, और फिर अपने मूह में ले लिया. उनके मूह की गर्मी से बहुत मज़ा आ रहा था. वो लॉलिपोप की तरह मेरे लंड को चूज़ जेया रही थी. फिर मैने मामी का सिर पकड़ लिया, और उनके मूह को छोड़ने लगा. मैने अपना लंड उनके मूह के अंदर तक डाल दिया, और वो खाँसने लगी.

मामी: मार ही डालेगा क्या?

ये सुन कर मैने सिर्फ़ हस्स दिया. फिर मैने मामी को घास पे लिटाया,
और उनके पैर फैलाए. उनकी छूट ग़ज़ब की दिख रही थी. फिर मैने देर ना करते हुए एक ही झटके में लंड अंदर डाल दिया. मामी बहुत ज़ोर से चिल्लाई, और मुझे गालिया देने लगी.

मामी: आबे मादरचोड़, रंडी नही हू मैं. हरामी कुत्ते, आराम से डाल ना. छूट फाड़ेगा क्या मेरी?

मे: अब तो रंडी बनौँगा मैं तुझे, और तेरी छूट का भोंसड़ा बना दूँगा रंडी. अब ले मेरा लंड.

मामी: आ आहह छोड़ मुझे सेयेल,
तेरे मामा से तो कुछ होता ही नही है. आज फाड़ डाल मेरी छूट को तू.

मे: ले मेरी रंडी.

अब मैं छोड़ूँगा तुझे हर दिन. रंडी मेरा लंड तो तुझे देखते ही खड़ा हो जाता था. साली तू इतनी हॉट क्यू है?

मामी: आहह आहह जब खड़ा होता था, तो उसी वक़्त छोड़ दिया होता सेयेल.
मेरी प्यासी छूट को आराम तो मिलता. आहह और ज़ोर से, और ज़ोर से छोड़ मुझे. आज बना ले मुझे अपनी रंडी.

अब मैं उन्हे छोड़ते जेया रहा था. वो भी पुर मज़े ले रही थी. फिर मैने उनको बोला-

मे: चल अब कुटिया बन जेया. अब मैं तुझे पीछे से छोड़ूँगा.

तभी वो झट से कुटिया की तरह डॉगी-स्टाइल में आ गयी. उनकी गांद बहुत बड़ी दिख रही थी. मैं उनकी गांद को ही देख रहा था. फिर मामी बोली-

मामी: मादरचोड़, गांद भी मारने का सोच रहा है क्या?

मे: हा रंडी, मुझे तेरी गांद बहुत पसंद है. मैं इसको भी छोड़ूँगा.

मामी: गांद बाद में छोड़ लेना.
अभी तो मेरी छूट की प्यास मिटा दो.

मे: रंडी बहुत खुजली हो रही है ना तेरी छूट में? ये ले रंडी, और ले.

और मैने ज़ोर के धक्के देने शुरू कर दिए.

मामी: आहह आहह आहह यशु,
और ज़ोर से छोड़. मैं तेरी रंडी हू, छिनाल हू तेरी, छोड़ मुझे.

फिर करीब आधे घंटे के बाद मेरा निकालने वाला था. उस वक़्त तक मामी 2 बार झाड़ चुकी थी. मैने मामी को बोला-

मे: मेरा निकालने वाला है मामी.

फिर मामी ने बोला: मुझे पीना है तेरा पानी. मेरे मूह में झाड़ जेया तू.

फिर मैं उनके मूह में झाड़ गया. हम दोनो अब थके हुए थे, तो वही लेट गये. फिर मामी बोली-

मामी: मुझे बहुत मज़ा आया आज. तू जब चाहे मुझे छोड़ सकता है. मैं तेरी रंडी हू अब. अब से तेरे अलावा और किसी से नही चुड़ूँगी मैं.

मैने उनको वही पर और दो बार छोड़ा, और उनकी बड़ी गांद भी मारी.

तो दोस्तो ये थी मेरी कहानी. आपको कहानी कैसी लगी, मुझे फीडबॅक ज़रूर दीजिएगा. ये मेरी मैल ईद है:

यह कहानी भी पड़े  दोस्त की माँ को दो लोगो ने ठोका

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!