भाभी जान की चुदाई

भभि आपकि चूत से कुच बेह रहा हैन कया मैन चूस लू बदमश कहिन केहर समय शररत हि सुझति हैन। भभि रेपलिएद नहिन भभि सच मुच आप कुद देख ले। मैने कहा अर्रे पी होगा एक दो बूनद। भभि सैद नहिन ना भभि पी पिला होता हैन। मैने कहा येह सफ़ेद हैन गदा लिसलिसा सा। ओह।कय इरदा हैन।चूस लो। भभि रेपलिएद अछा भभि। और मैन भभि कि चूत चोस्सने लगा। कुच सफ़ेद सा लिसलिसा सा था शयद परेसुम ओफ़ भभि का अछा था मज़्ज़ा आ गया। भभि बोले छोतु छोद दो मुझे जोर से पी आया हैन। अर्रे भभि जब मुह लगा ही हैइन येहि कर दो। और भभि पी करने लगि।कफ़ि कुच नमकीन सा था।

INTRODUCTIONS: मैन सुरेनदेर वेरमा 21 साल पथनकोत का रेहने वला 5 फ़त 9 इनच निसे वेल्ल मैनतैनेद बोदी दिसक सिज़े 7 इनच। आपने 5 भै बेहनो मैन सब से छोता ओर पयर से मुझे लोग छोतु केहते हैन। भभि सुनयना वेरमा 24 साल मेरे बदे भै कि बिबि तितस सिज़े 34 और वैसत 24 बितस सिज़े 36। खूब सुनदेर हैन मेरे से कफ़ि खुलि हुए हैन।

मेरा भै नरेनदरा वेरमा दुबै मैन सेरविसे करते हैन वोह 28 साल के हैन तथा कुच नेरवौस से रहते हैन। तीन बेहने हैन थिनो शदि शुदा पेर उनमे से एक विधवा हैन जो येहि घर पेर रेहति हैन और आपने पदै पुरि कर रहि हैन।उसका नाम रविनदेर है। हुम एक मिद्दले सलस्स फ़मिली। मा बाप और 5 भै बेहन। पपा एक गोवत ओफ़्फ़िसे मैन थे रेतिरे हो गये। और घर पेर ही रहते हैन।और आज कल चरो धम यत्रा पैर गये हुए हैन।घर पर मैन मेरि भभि और रविनदेर हैन। रविनदेर अकसर सोल्लेगे मैन रेहति हैन। मेरि भभि तीन साल से शदि शुदा हैन और उसे मान ना बान पने का घम हैन।

यह कहानी भी पड़े  मेरी बहन और जीजा जी

एसलिये हुम दोनो मैन पसत हैन कि जब तक वोह परेगनेनत नहि हो जाति मैन उस से सेक्स कर सकता हून। भै अभि तक येहि थे अभि 5 दिन पेहले ही दुबै वपस गये हैन। और मेरे लिये मैदन खुला छोद गये हैन। रविनदेर के सोल्लेगे जाने के बाद मैन अकसर भभि से छेदखनि और चुदै किया करता हून।

बात कुच यून हुए एक दिन भैयया और भभि कफ़ि मूद मैन थे और आपस मैन गुफ़तगू कर रहे थे मैन भि बेथा था भभि बोली की अप्प चले जाते हो दुबै मेरा मान नहिन लगता बतै मैन कया करून तो भैयया बोले अर्रे ये छोतु हैन ना तुमहारा मन लगने को इसको सब अधिकर हैन तुमहरे साथ येह कुच भि कर सकता हैन। भभि बोले वोह सब भि भैयया बोले बहर वलोन से तो घर वला अछा हैन।

भैयया जब चले गये तो एक दिन रविनदेर सोल्लेगे मैन थी और मा पिता जी थिरथ यत्रा पर चले गये। तो मैने भभि से कहा कि आज बहुत मन हो रहा हैन कि । आपके सथ कोइ पिसतुरे देखि जये भभि बोली कौन सी देखनी हैन मैने कहा खवहिश देखे । हुम दोनो पिसतुरे देखने चले गये। उस फ़िलम मैन कै किस्स सीन थे मन हुअ कि भभि को चुम लू पर हिम्मत ना कर सका। पिसतुरे का अनत होते होते मैन इतना गरम हो गया था कि मैने भभि कि चुचि दबा दी।

जिसे भनप कर वोह चोनक गये और बोली इस लिये पिसतुरे देखना चहते थे। मैने कहा हान भभि।हनसि मज़क होता रहा और फ़िलम खतम होने पेर हुम लोग घर आज गये।इतने मैन रविनदेर कर आने का समय भि हो गया था इस्स लिये हुम दोनो चुप हो गये। दुसरे दिन अल सुबह ही रविनदेर को कहिन जना था और वोह तयर होकर चली गयी। सुबह का सुहना मौका मैन बहभि को पिस्सह्हे से जकर चुम लिया।

यह कहानी भी पड़े  सुहागरात पर जम कर चूदी पर चूत का सत्यानाश करवा लिया

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!