ग्रूप चुदाई टीचर और उसकी बहनो के साथ

ही, ई आम फ्रॉम हयदेराबाद सिंध. मैं अपना इंट्रोडक्षन दे डू, की मेरा लंड 6 इंच का है, और 2 इंच मोटा है. किसी भी लेडी या लड़की को खुश कर सकता हू मैं.

जैसे की आपने पिछली स्टोरी मैं पढ़ा की कैसे मैने मेरी माँ के साथ सेक्स को एंजाय किया, और माँ ने अपनी और अपनी बेहन की सुहग्रात की स्टोरी बताई. अब चलते है इस स्टोरी पर.

माँ ने मुझे इन्वाइट किया की मैं उनकी बेहन को खुश करू.

मैने कहा: ओक ठीक है.

अब अगले दिन मुझे माँ का मेसेज आया: मेरी बेहन आ गयी है. तुम कब आ रहे हो?

मैने कहा: दोपहर को आ रहा हू.

फिर मैं दोपहर में चला गया. जैसे ही नॉक किया माँ ने दरवाज़ा खोला. फिर मैं अंदर चला गया. घर पर माँ और उनकी दो बहनो के अलावा कोई नही था. एक सो रही थी, एक मेरे साथ थी, और एक छुड़वाने के इंतेज़ार में थी.

जो सो रही थी उसे कुछ नही पता था. मैं फिर रूम में चला गया जहा दूसरी बेहन वेट कर रही थी. मैं जैसे ही एंटर हुआ रूम में, वो सामने बेड पर बैठी हुई थी. फिर पीछे से माँ ने मुझे धक्का देके गाते बंद कर दिया, और मैं सीधा बेड पर जाके गिरा.

अब माँ की बेहन मेरे नीचे थी, और मैं उपर. मैने उसको किस किया, और वो भी मेरा साथ देने लगी. फिर हमारी किस वाइल्ड होने लगी. अब मैं किस करता जेया रहा था. किस करते-करते उसने मेरे कपड़े उतारे, और मैने उसका कुर्ता उतरा. अब उनकी रेड ब्रा मेरे सामने थी, और 30″ के बूब्स आज़ाद होने के लिए तड़प रहे थे.

फिर मैने उनकी ब्रा उतरी, और बूब्स को चूसने लगा. क्या मस्त बूब्स थे उसके. आए-हाए मज़ा आ गया बिल्कुल. फिर मैने उसका ट्राउज़र उतरा, और पनटी भी साथ उतार दी. उनकी चूत पर हल्के-हल्के बाल थे, और मैं छूट चाटना शुरू हो गया. हाए क्या मज़ा आ रहा था.

अब पीछे से उनकी बड़ी बेहन अंदर आके देख रही थी सब कुछ. इससे वो भी गरम हो गयी थी, और बारी थी माँ की बेहन को छोड़ने की. मैने अपना लंड निकाला, और छूट पर रगड़ने लगा.

माँ की बेहन बोल रही थी: डाल दो, कितना तड़पावगे?

पीछे से माँ बोल रही थी: छोड़ दो इस साली को, छ्चोढो मत.

मैने भी लंड छूट में उतार दिया, और उसकी आ आ निकल रही थी. मैं भी माँ की बेहन को ज़ोर-ज़ोर से छोड़ने लगा. अब उनकी आ आ निकालने लगी. मैं और ज़ोर से छोड़ने लगा, और ठप ठप की आवाज़े गूँज रही थी. पीछे से माँ भी गरम होके छूट में उंगली कर रही थी.

अब मैने उनको डॉगी स्टाइल में लिया, और छोड़ने लगा, और बाल खींच के छोड़ रहा था. वो सिर्फ़ आ आ करती रही, और उनका पानी निकल गया था. अब उन्होने पीछे खड़ी माँ को इन्वाइट किया हमे जाय्न करने के लिए. अब वो भी आ गयी. मैं अब उन दोनो को साथ में छोड़ रहा था.

बड़ा मज़ा आ रहा था मुझे. मेरे मूह से भी श एस श एस की आवाज़े निकल रही थी. अब दोनो बहनो को मैं डॉगी स्टाइल में छोड़ रहा था. दोनो बहनो को बड़ा मज़ा आ रहा था. दोनो बहने दो-दो बार झाड़ चुकी थी.

अब मेरे भी दो शॉट हो गये थे. हम तीनो बेड पर लेते हुए थे. एक बेहन इस तरफ थी, दूसरी उस तरफ. मैं दोनो के बूब्स के साथ खेल रहा था, और उन्हे मज़े से चूस रहा था. निपल्स दोनो के टाइट थे.

हमे नही पता था, की जो उनकी बेहन सो रही थी, अब वो भी हमे देख रही थी. हमे इस बात का पता तब पता चला जब हमने डोर पर शॅडो देखी की कोई छूट में उंगली कर रहा था. तभी माँ ने आवाज़ दी उसके नाम की, और उधर से जवाब आया “जी”.

हम तीनो शॉक थे, की ये हमे कब से देख रही थी. तभी वो अंदर आई और हमने ब्लंकेट लिया, और माँ ने उससे पूछा-

माँ: क्या कर रही थी?

तभी वो बोली: वो, वो.

तभी माँ ने बोला: तुम्हे भी छुड़वाना है क्या इससे?

वो शर्मा गयी, और सर नीचे कर लिया. ये सुन के की वर्जिन छूट मिलेगी, मेरा लंड ब्लंकेट से खड़ा सॉफ दिखाई दे रहा था. तभी माँ ने बोला-

माँ: देख इस कुत्ते का सुन के खड़ा हो गया है. आजा तू भी मज़ा ले ले.

मैं खुश हो गया. मेरी तो किस्मत खुल गयी. अब वो मुझे पर आ गयी कपड़े उतार कर, और मुझे वाइल्ड किस करने लगी, और मैं भी उसका पूरा साथ देने लगा. मैने उसको नीचे लिटाया, और लंड रगड़ने लगा.

तभी उसने बोला: कॉंडम लगाओ, फिर छोड़ो मुझे.

तभी उसकी बेहन ने बोला: कॉंडम के बगैर चुड़वव, बड़ा मज़ा आएगा.

उसने बोला: नही.

तभी उसकी बेहन ने कॉंडम निकाला और मुझे पहना दिया. स्ट्रॉबेरी फ्लेवर कॉंडम था, और बड़ी अची स्मेल आ रही थी उसमे से. फिर मैने लंड डाला, तो अंदर जेया ही नही रहा था. वर्जिन छूट थी ना. मैने ज़ोर लगाया तो सिर्फ़ टोपा

अंदर गया, और उसकी चीख निकल गयी.

तभी मैने उसको किस की, और उसकी बहनो को बोला: बूब्स चूसो इसके.

और किस करते-करते सारा लंड पेल दिया अंदर. वो चाहते हुए भी चीख नही पाई, और उसकी आँखों से आँसू निकल गये.

अब मैने वेट किया, और उसको किस करता रहा. फिर जैसे ही वो शांत हुई, तो मैने धक्के देने स्टार्ट कर दिए. और अब वो भी तोड़ा सा कंफर्टबल फील कर रही थी.

वो हल्की आ आ निकाल रही थी, और मैं धक्के ज़ोर-ज़ोर से देने लगा. मिशनरी में 10 मिनिट छोड़ने के बाद उसको कॉवगिरल में लेके आया, और उसे ज़ोर-ज़ोर से जंप करवाता गया. मैं नीचे से भी ज़ोर लगाने लगा, और रूम में सिर्फ़ ठप ठप की आवाज़े थी.

फिर उसकी बहने उसकी गांद पर छानते मारने लगी. उस पोज़िशन में छोड़ने के बाद उसको फॅवुरेट पोज़िशन डॉगी में लेके आया, और उसमे

उसको छोड़ने लगा.

तभी उसकी दोनो बहनो को भी डॉगी में करके छोड़ने लगा. पर उन दोनो को कॉंडम पसंद नही था, तो बड़ी वाली बेहन ने कॉंडम उतरा, और फेंक दिया. अब मैं तीनो बहनो को साथ में छोड़ रहा था, वो भी डॉगी स्टाइल में.

मैं उनकी गांद पर थप्पड़ मारता जेया रहा था. तीनो की गांद लाल हो गयी थी. छोड़ने के बाद एक-एक करके तीनो के मूह को छोड़ा. छ्होटी वाली बेहन को मूह छोड़ने में बड़ा मज़ा आ रहा था. अब मैने उसके मूह के उपर सारा पानी निकाल दिया.

फिर मैं लेट गया. अब मैं बिल्कुल तक चुका था टीन-टीन छूट को शांत करके. वो तीनो भी नंगी मेरे साथ लेती हुई थी, और रूम में टीन-टीन ब्रा पनटी पड़े हुए थे. तभी मैने देखा 4 बाज रहे थे, और मैं 1 बजे आया था.

फिर तीनो बहनो ने कपड़े पहने, और मुझे अलविदा किया. फिर जैसे ही मैं उनके घर से निकल के अपने घर पर पहुँचा, तो देखा उनके घर वाले भी सामने से आ रहे थे.

मैने पीछे मूड के देखा, और स्माइल पास की, और अपने घर चला गया. उसके बाद जब जिसका मॅन होता एक-दूसरे को मेसेज कर लेते है. फ्री टाइम में चुदाई हो जाती है.

जिसको भी सेक्स छत करनी हो, तो वो भी मैल पर कॉंटॅक्ट करे, थॅंक्स. उमीद करता हू आपको कहानी पसंद आई होगी, और खुद को सॅटिस्फाइ करने की लिए दी गयी मैल पर कॉंटॅक्ट करे.

यह कहानी भी पड़े  पहले सेक्स एक्सपीरियेन्स ने जगाई हवस


error: Content is protected !!