गोआ में हुआ ग्रूप सेक्स

ही दोस्तो कैसे हो आप सब? उम्मीद करता हू की आचे होंगे. तो इस बार आपके लिए लाया हू एक नयी कहानी जो की गोआ की है.

तो बॅकग्राउंड ये है की मेरे घर में मैं और मेरी ब्यूटिफुल मों ही रहते है. हम थोड़े रिच फॅमिली से बिलॉंग करते है और मों वर्किंग विमन है. हम एक दूसरे से बेहाध क्लोज़ है और सब कुछ शाम को घर लौट ते वक़्त एक दूसरे से शेर करते है जिससे हमारी बॉनडिंग बोहोट अची है.

तो काफ़ी सालो बाद हुँने वाकेशन पर जाने का प्लान बनाया और कुछ दिन अपने डेली कम से और सारी टेन्षन से दूर एंजाय करने हम गोआ आ रहे थे फ्लाइट में.

डिस्क्रिप्षन बता हू तो मेरी मों दीप्ति और उन की आगे 43 है और बेहाध सुंदर और गोरा रंग है. फिगर की बात करू उन्होने इस उमर में भी खुद को फिट रखा है जिस वजह से वो अभी भी यंग ही लगती है.

वो मंगलसूत्रा तो नही पहेनटी लेकिन उनके गोरे और सेक्सी नेक पे एक गोल्ड चैन पहेनटी है जो उन पर बेहाध प्यारी लगती है. रेफरेन्स की बात करू तो वो बिल्कुल कीर्ति कुलहारी की तरह फिगर और मिलता झूलता नेचर है.

मेरी बात करू तो मैं राहुल और मेरी उमर 20 साल और मैं कॉलेज के 2न्ड एअर का स्टूडेंट हू. मैं हेवी बियर्ड और लंबे बाल रखता हू. जिम जाता हू तो थोड़ी बोहोट फिट स्लिम टाइप बॉडी है.

तो आते है सीधे कहानी पे जहा मैं और मेरी मों फ्लाइट में बातें कर रहे है

राहुल – तो मम्मी फाइनली इतने फेल्यूर के बाद हमारा ये प्लान सक्सेस्फुल हो ही गया है ना?

दीप्ति – हा बेटा. इतने कम के बाद और पढ़ाई के स्ट्रेस के बाद तोड़ा रिलॅक्सेशन और एंजाय्मेंट भी ज़रूरी है

राहुल – रिलॅक्सेशन का तो पता नही, लेकिन मैं एंजाय पूरा करने वाला हू.

दीप्ति – हा पता है आज कल के बचो का एंजाय मेंट वो भी गोआ में. बियर वगेरा पियोगे, क्लब्स जाओगे और ज़्यादा से ज़्यादा सेक्स कर लोगे. उसके अलावा कुछ सोचा है?

राहुल – आप मेरी हर बात कैसे समाज जाती हो?

दीप्ति – मा हू ना तेरी. लेकिन एक बात याद रहे. लिमिट में पीना जितना पीना है और बिना प्रोटेक्षन नो सेक्स. ओके?

राहुल – हा मों ई नो तीस. बाकी सब तो सेट हो जाएगा, लेकिन जगह का क्या?

दीप्ति – मतलब?

राहुल – ई मीन, सोच लीजिए की मुझे कोई लड़की पसंद आ गयी, वो मान भी गयी . लेकिन अब वो अकेली तो आई नही होगी, तो चान्सस है की उसके रूम पे हम लोग जा नही सकते. हमारे रूम में आप भी होंगे तो उ नो?

दीप्ति – डॉन’त वरी. इस बार मैने एक प्राइवेट विला बुक किया है वित इनडोर स्विम्मिंग पूल आंड बार. 2 रूम्स है तो योउ कॅन दो वॉटेवर योउ वॉंट इन युवर रूम. आंड मैं मेरे रूम में (मुझे आख मरते हुए)

राहुल – ओो मम्मी हिडन फॅंटसीस हा? मुझे भी तो बताओ आपका क्या प्लान है?

दीप्ति – ज़्यादा कुछ नही. हम साथ में क्लब्बिंग जाएँगे. तुम तुम्हारे लिए पार्ट्नर ढूंडना मैं मेरे लिए. बाकी अपने अपने रूम्स में सेक्स का मज़ा लेंगे.

राहुल – वाउ मों तीस इस सो एग्ज़ाइटिंग. ई रियली लोवे योउ फॉर तीस

और ऐसे ही बातें करते करते हम गोआ में उतरे. और अपने विला में चले गये. वो काफ़ी खूबसूरत था और वक़्त शाम का. हुँने जाकर ही डिसाइड किया की हम चेंज कर के क्लब के लिए निकलेंगे फ्रेश होकर.

फिर कुछ देर बाद हम फ्रेश होकर हम मिले. मैने ब्लू जीन्स पहनी और वाइट शर्ट वित वाइट शूस. वहीं पर मों ने वन पीस ड्रेस पहनी थी ब्लॅक कलर की जो नीस के थोड़ी उपर तक थी और वो बोहोट सेक्सी लग रही थी उसमें.

फिर हम पास ही के एक क्लब में गये और हम अपने अपने पार्ट्नर्स ढूँडने लगे. मुझे शुरू से ही मिड्ल एज्ड उमर की लॅडीस में ज़्यादा इंटेरेस्ट रहा है और इस बार ऐसा मौका मैं गवाना नही चाहता था.

तो मैने काफ़ी देर ढूनदा और एक दो लोगो से बात भी की मगर कुछ खास बात बनी नही. फिर एक लेडी मिली जो बार काउंटर पर बैठी थी. और मैं पास ही में बैठ कर मों के साथ फोन पर बात कर रहा था.

राहुल – फिलहाल तो कोई हसीना नही मिली. सर्च जारी है

दीप्ति – मुझे एक हॅंडसम लड़का मिला है. तेरी ही उमर का है आंड जबसे मिला है इतनी तारीफे किए जा रहा है की पूछ मत.

राहुल – वाउ नाइस. कॅरी ओं मिलते है. बाइ

फिर उस लेडी ने मुझसे बात करनी शुरू की जिसका नाम नेहा था आंड शी वाज़ अराउंड 38-42 यियर्ज़. उन्होने एक ब्लॅक टाइट स्लिम फिट ट्राउज़र्स पहने थे और एक ब्लू डेनिम स्लीव्ले शर्ट. और काफ़ी हॉट थी सोची जिसकी मुझे तलाश थी बिल्कुल वैसी.

नेहा – वो तुम किसी को ढूंड रहे हो?

राहुल – हा जिसके साथ कुछ खास पल बिता साकु? (थोड़ी फ्लर्ट वाली स्माइल दिखाते हुए)

नेहा – मैं भी.

राहुल – लेकिन मेरी चाय्स थोड़ी डिफरेंट है.

नेहा – क्या मैं जान सकती हू?

राहुल – कोई हुस्न की पारी जो सेक्सी हो. यहा अकेली हो, मॅरीड हो या अनमॅरीड डोएस्न’त मॅटर.

नेहा – आक्च्युयली योउ नो वॉट. मैं भी किसी हॅंडसम हंक को ढूंड रही थी. मगर यहा सब तर्की टाइप्स है. डॉन’त नो तो रेस्पेक्ट विमन. ई होप तुम उनमें से नही हो

राहुल – (उनकी शोल्डर्स से पर्पल ब्रा स्ट्रॅप दिख रहा था जो मैने हल्के हाथो से उनके शर्ट से कवर किया और वो देख कर वो मुस्कुरकर बोली)

नेहा – लगता है ई फाउंड वन. (स्माइल करते हुए)

राहुल – लेट मे बे स्ट्रेट. युवर प्लेस ओर मिने?

नेहा – मी प्लेस इस नोट अवेलबल. युवर्ज़?

राहुल – बिल्कुल. इट’स अवेलबल आंड योउ विल लोवे इट.

फिर मैं और नेहा हमारे विला में गये और वो देख कर काफ़ी इंप्रेस हुई सब देख कर. हम फिर बार वाली साइड बैठे और हुँने एक एक बियर ली और बातें करने लगे.

नेहा – सो तुम किसी अमीर बाप की बिगड़ी औलाद तो नही हो?

राहुल – (हेस्ट हुए) तोड़ा अप्पर मिड्ल क्लास हू. कॉलेज स्टूडेंट हू आंड मुंबई का रहने वाला हू

नेहा – मैं आमेडबॅड से हू और फिलहाल यहा अपने बचो के साथ आई हू.

राहुल – बचे? इस वक़्त कहा है? आंड बाइ थे वे ई आम हियर वित मी मों.

नेहा – आक्च्युयली वो लोग होटेल के रूम में है पास ही में है. डॉन’त वरी अबौट देम. तो तुम्हारी मों को पता है इस के बारें में?

राहुल – डॉन’त वरी. शी इस थे कूलेस्ट मों एवर. इनफॅक्ट हमारा ये प्लान ही था की अपने लिए पार्ट्नर्स ढूंदे. वो भी आती होंगी.

इस के बाद नेहा उठी और सीधे मेरे करीब आकर मुझे किस करने लगी. बिल्कुल पॅशनेट्ली. मुझे कुछ सोचने का वक़्त ही नही मिला. इसके पहले की मैं कुछ समाज पता उन्होने मुझे किस कर लिया था. कुछ मिनिट बाद

राहुल -वाउ तट वाज़ अमेज़िंग.

नेहा – वैसे अन्य लिमिट्स? ओर स्पेशल फॅंटेसी?

राहुल – नो लिमिट्स. ऑल अप्ट योउ सेक्सी लेडी.

नेहा – ई लीके इट किकी, डर्टी आंड वाइल्ड

राहुल – वाउ तट’स एरॉटिक. एग्ज़ॅक्ट्ली क्या कहना चाहती है आप?

फिर नेहा ने ग्लास में से बियर की एक सीप ली और मेरे पास आकर मेरे चेहरे को पकड़ कर मुझे मूह खोलने का इशारा किया. इमॅजिन कीजिए मैं स्टूल पर बैठा हू और मेरे सामने नेहा जी खड़ी है मूह में बियर का सीप लेकर. फिर मैने मूह खोला तो नेहा जी ने उनका बियर मेरे मूह में धीरे धीरे ट्रान्स्फर किया और मैं तुरंत पी गया. इतना अछा मुझे कभी नही लगा था.

नेहा – उ लाइक्ड इट?

राहुल – ओफ़कौरसे.

नेहा – कम ओं युवर तुर्न.

फिर मैने भी सेम मूह में बियर ली और इस बार नेहा आंटी स्टूल पर बैठी थी आंड हम लोग हग करते हुए मैने बियर उनके मूह में ट्रान्स्फर की जिसके बाद हम स्मूच करने लगे. आंड नेहा आंटी मेरे पीठ पे हाथ देर रही थी जहा मैं उनके हाथो को सहला रहा था. उसी वक़्त मेरी मों और वो लड़का आए.

दीप्ति – राहुल बेटा, प्लीज़ गेट आ रूम.

(स्मूच रोकते हुए) राहुल – ओह सॉरी मों. मुझे नही पता था आप इस वक़्त आ जाओगे. बाइ थे वे शी इस नेहा. आंड नेहा जी, मी मों

दोनो ने एक दूसरे को हेलो कहा और मों ने उस लड़के यानी सिद्धार्थ से इंट्रोड्यूस कराया. फिर हम अपने अपने कमरे में जाने लगे और उसी जैसे ही मैं मेरे रूम के डोर तक पोछा, तो मों ने मुझे आवाज़ लगाई.

दीप्ति – राहुल, कॉनडम्स कोन्से चाहिए? डॉटेड, एक्सट्रा स्लिम?

राहुल – (नेहा आंटी को पूछते हुए) मों डॉटेड.

मों ने अपने पर्स एक एक डॉटेड कॉंडम का बॉक्स मेरी तरफ फेका और हम अपने अपने कमरे में चले गये.

रूम में जाते ही बिना टाइम गवाए मैने नेहा आंटी को हग किया, और उनको उनकी गांद से पकड़ते हुए उन्हे अपनी बाहों में लिया और एक वॉल के सपोर्ट पे उनको लगते हुए हम स्मूच करने लगे. नेहा आंटी मेरे बालो को सहला कर , एकद्ूम डीप स्मूच करने लगी कभी अप्पर लिप्स तो कभी लोवर. एक टाइम के बाद हम एक दूसरे की जीभ चाटने लगे थे और मेरे हाथ उनकी कोमल सेक्सी नाज़ुक गंद को दबा रहे थे. कुछ देर हुँने फिर स्मूच करते करते थूक एक्सचेंज किए और हूमें इसमें बोहोट मज़ा आने लगा था.

फिर मैने उनको नीचे उतरा और आंटी ने मुझे वाली की तरफ घुमा कर मुझे किस करने लगी. मेरे कानो को बीते करने लगी कभी मेरे नेक को चाटने लगी, कभी मेरे गालो को तो कभी मेरी लिप्स को. जैसे काफ़ी सालो से नेहा आंटी भूकी हो.

मुझे उनका ऐसा डॉमैनेटिंग नेचर देख कर और एग्ज़ाइट्मेंट बढ़ने लगी थी.

फिर आंटी ने मेरे शर्ट के बटन्स खोलना शुरू किया और मैने शर्ट उतार दी. इस बार आंटी ने मुझे बेड पे धक्का मारा और मेरे उपर चढ़ गयी. उसके बाद मुझे किस करते करते नीचे जाने लगी और कभी मेरे शोल्डर्स तो कभी मेरी चेस्ट को किस करती. फिर मेरे चेस्ट पे निपल्स को चूसने लगी और उनके कोमल हाथ मेरे चेहरे पर थे जहा मैं उनकी 2 उंगलिया मूह में लेकर चाटने लगा.

कुछ देर मुझे किस करने के बाद आंटी ने मेरे नाभि में जीभ डाली और मुझे चाटने लगी. फिर उनकी उंगलिया मैने मूह से निकली और आंटी ने वही उंगली अपने मूह में लेकर चूसने लगी.

फिर मैने उनके डेनिम स्लीव्ले शर्ट के बटन्स खोले और उतार दिया. आंटी का मंगलसूत्रा लटक रहा था और अंदर एक नॉर्मल पर्पल कलर की कॉटन वाली ब्रा पहनी हुई थी. उनके बूब्स काफ़ी रौंद शेप्ड थे ऐसे वो बोहोट हॉट लग रही थी.

आप सोचिए ना कोई सेक्सी औरत जीन्स और ब्रा में हो और गले में मंगलसूत्रा और आपके उपर लेती हो तो क्या नज़ारा हो सकता है. खैर उसके बाद मैने उन्हे नीचे लेटया और उनके बॉडी को चाटने लगा. पहले उनका गला जहा से एक रोज़ पर्फ्यूम की महेक आ रही थी.

फिर मैने उनके हाथो को किस किया और उपर कर दिए. फिर मैं झुक कर उनके सेक्सी शेव्ड डार्क अंडरआर्म्स को चाटने लगा.

उन्होने ये एक्सपेक्ट नही किया था इसलिए शायद वो बोहोट एग्ज़ाइट होकर . करने लगी और हम दोनो को मज़ा आने लगा था. अब . टाइम . किए उन्होने ही खुद हाथ पीछे ले जाकर अपनी ब्रा का हुक खोला और उतार कर साइड में . दिया.

फिर मेरे . के पीछे हाथ . और मुझे सीधे उनके बूब्स की तरफ . हुए उनका दूसरे हाथ से एक बूब्स पकड़ते हुए मुझे बूब्स चूसने का इशारा किया. मैने मूह खोल कर बूब्स को पहले किस किया और फिर उनके . निपल्स को चूसने लगा. कुछ देर बाद हम दोनो पूरी तरह गरम हो चुके थे.

आंटी कुछ ज़्यादा ही एग्ज़ाइटेड थी जो उठी और मेरे पीछे आकर पीछे से हाथ मेरी कमर पे रखते हुए मेरी जीन्स के बटन्स और ज़िप खोलने लगी. उन्होने फिर पीछे से ही मेरी जीन्स उतार दी और मेरी ब्लॅक अंडरवेर भी. मुझे फिर बेड पर ढककर दे दिया और मैं उल्टा लेता हुआ था. पीछे से तुरंत नेहा आंटी आई और मेरे बम्स को दबाने लगी.

नॉर्मली कोई लड़का जैसे किसी लड़की की गंद से ऑबसेस्ड नही होता, बिल्कुल वैसा ही सीन था. आंटी कभी मुझे स्पॅंक करती तो कभी मेरी गंद पे किस करती.

नेहा – बेटा अगर किसी पॉइंट पे तुझे ऐसा लगा की मैं लिमिट क्रॉस कर रही हू और तुझे नही पसंद आ रहा तो बता देना.

राहुल – नो आंटी. ई लीके थे वे योउ दो इट. ई वॉंट तो एक्सपीरियेन्स तीस. आंड बिलीव मे, मुझे बोहोट मज़ा आ रहा है.

नेहा – आक्च्युयली मैं बाइसेक्षुयल हू. तो योउ नो ई लीके तो लीक आस चाहे वो माले हो या फीमेल. होप योउ डॉन’त माइंड.

राहुल – बिल्कुल नही. मुझे तो लगा था की रिंजोब सिर्फ़ फॉरिन कंट्रीज़ में होता होगा. इंडियन लॅडीस कहा ये सब करती होंगी

नेहा – फॅंटसीस होती भी है तो लड़के तुम्हारी तरह ब्रॉड माइंडेड नही होते. एनीवेस लेट्स कंटिन्यू

फिर नेहा आंटी ने मेरी गंद को तोड़ा स्प्रेड किया और लिटरली सो मेरी गंद चाटने लगी. मेरा ये फर्स्ट एक्सपीरियेन्स था जो मुझे बोहोट मज़ा दे रहा था. कुछ देर बाद आंटी ने मुझे घुमाया और मेरे लंड को बिना हाथ लगाए सिर्फ़ अपने मूह से पकड़ कर मूह में लेने लगी.

लंड मेरा ऑलरेडी खड़ा तो था ही और आंटी को चूस्ते हुए देख कर मुझे बोहोट सेक्सी महसूस हो रहा था. पूरा तो अंदर नही ले पा रही थी लेकिन काले लंड को अगर चूसो और बाहर निकालो तो थूक के गीलेपान से पता चलता है की कितना गहरा चूस पा रही थी.

कुछ देर बाद आंटी उठी और मेरी आखों में देखते हुए वो अपनी जीन्स उतरने लगी. और एक सेक्सी नॉटी स्माइल देकर उन्होने जीन्स उतार दी और उनकी मॅचिंग पर्पल कॉटन पनटी उतार कर सीधे मेरे मूह पे फेकि.

फिर आंटी मेरे उपर लेती और उनकी वो पनटी लेकर सीधे मेरे फेस पर घूमने लगी. मैं भी उसे सूंघ रहा था और महसूस कर रहा था की असली छूट कितनी खुशबूदार होगी. फिर आंटी और मैं एक दूसरे की आखों में देख कर उसी पनटी को आधी उनके मूह में और आधी मेरे मूह में लेकर हम चाटने लगे.

कुछ देर बाद जब पनटी पूरी गीली हो चुकी थी, तो आंटी ने वो हटा दी और मेरे मूह के उपर खड़ी हो गयी.

वाहा मुझे उनकी हल्के हल्के बलों वाली सेक्सी छूट और गंद दोनो नज़र आ रही थी. वैसे ही मेरे मूह के उपर खड़े खड़े मुझे देखा और मुझसे पूछा,

नेहा – छूट या गंद?

राहुल – पहले छूट. (ये बोलकर मैं उठा और जैसे ही उनके छूट को किस करने वाला था की आंटी ने मुझे रोका और मुझे फिर से लेता दिया.)

फिर मैं देखने लगा की आंटी इस बार क्या करती है. तो उन्होने अपना हाथ मूह के आगे लिया, और तोड़ा थूक लेकर वो अपनी छूट पे रगड़ने लगी. और सीधे मेरे मूह पे बैठ गयी

फिर उन्होने अपनी पोज़िशन ली मेरे मूह पे और मेरे बलों को सहलाने लगी. जैसे मान से कह रही हो की छत मेरी छूट बेटा. मैं वहीं पर उनकी गीली छूट और उसपे लगा हुआ उनका थूक चाटने लगा था. कसम से इतना जुवैसी लग रही थी उनकी छूट की क्या बतौ. फिर आंटी खुद मेरे मूह पे अपनी छूट रगड़ने लगी. वहीं पर मैने फिर उनसे पूछा

राहुल – आंटी दो योउ स्क्वर्ट?

नेहा – सम्टाइम्ज़. जब मुझे किसी के आगे अपने एमोशन्स रोकने नही होते.

राहुल – तो आंटी, कॅन योउ प्लीज़ स्क्वर्ट फॉर मे?

नेहा – बुत मेरा बोहोट ज़्यादा निकलता है.

राहुल – ई डॉन’त माइंड. प्लीज़ ई वॉंट तो टेस्ट इट.

नेहा – आज कल के बचे भी ना. ओके. तुम्हे पता है हाउ तो मेक आ विमन स्क्वर्ट?

राहुल – कभी किया नही है लेकिन वीडियोस देखे है.

नेहा – चल फिर देखु मैं भी क्या सीखा है तूने. बता कैसे लेतू?

फिर मैने आंटी को बेड के किनारे पर लेटया और पहले कुछ सेकेंड्स उनकी छूट चाटने लगा. फिर मैने 2 उंगली छूट में डाली जो आसानी से अंदर घुस गयी और अंदर बाहर करने लगा. यहा आंटी समाज चुकी थी की मुझे नही आता ठीक से

तो उन्होने मेरा हाथ पकड़ा पीछे से. और मेरी 2 उंगली और उसके पीछे आंटी की 2 उंगली छूट में दल दी. फिर अंदर घुसते ही आंटी ने उनकी 2 उंगलियो को उनके छूट के उपर की साइड पे रब कराया. जैसे मुझे सीखा रही हो. कुछ देर बाद जब मैं खुद से करने लगा तो आंटी ने खुद की उंगलिया निकल दी और वो खुद ही उंगली चाटने लगी.

मुझे नई पता था की कोई अपना ही माल कैसे छत सकता है. खैर मैं उनके बताए हुए ट्रिक को फॉलो करते गया और कुछ देर बाद आंटी बिल्कुल मछली की तरफ तड़प रही थी. जहा मैं बिल्कुल प्यार से कर रहा था वाहा आंटी ने मेरे हाथ निकले और खुद उंगली छूट में दल कर बिल्कुल ज़ोर ज़ोर से रगड़ने लगी.

नेहा – मूह पे निकालु तेरे?

राहुल – हा आंटी. मुझे टेस्ट करना है.

इतना कहते ही आंटी ने अपनी गंद उठाई और मैं उनके सामने तो बैठा हुआ हू था, फिर उन्होने ज़ोर से स्क्वर्ट निकाला सीधे मेरे मूह पे.

कसम से इतना मज़ा आया देख कर और वो इतना टेस्टी था की एक बार में किसी का मान भरेगा ही नही. मेरा फेस पूरा गीला हो चुका था और आंटी ने कुछ देर रेस्ट लेकर खुद की साँसों को नॉर्मल किया. उनके चेहरे पर अलग ही रोनक नज़र आ रही थी.

तो दोस्तो आपको यहा तक की कहानी कैसी लगी मुझे कॉमेंट्स और नीचे दिए गये मैल द्वारा ज़रूर बताए. आप सब के प्यार के लिए बोहोट बोहोट ..

यह कहानी भी पड़े  दो सेक्सी मुस्लिम लड़कियों को चोदा

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!