मेरी जीफ़ शेफाली की सील तोड़ी मेरे घर पर

part 1 पर फिर भी हम दोनो घर आए. मैने कुछ खाने के लिए पूछा तो उसने माना कर दिया. और उसने बताया की उसका पीरियड चल रहा था इसलिए उसका मूड कुछ त्क नही रहता था. वो इस बारे मे बात नही कर रही थी.

और ऐसा बोलते ही उसने मेरे पे झपटा मार के मुझे बेड पे गिरा दिया और खुद मेरे अप्पर बैठ कर मुझे किस करने लगी. मैने भी उससे पिकचे से दबोच लिया और उसको पागलो की तरह चूमने लगा. जैसे की कितने दीनो से प्यासा हू.

मैने उसके कपड़े भी पूरे फाड़ दिए और उसे 1 मीं से भी कम समय मे पूरा नंगा कर दिया. ब्रा पनटी के तो चीटड़े चीटड़े उड़ा दिए थे मैने. क्यूकी मुझे उसे नंगा देखने की बेकचानी हो रही थी.

इसके पहले मैने उसके दूध के मज़े तो लिए थे पर उससे देख नही पाया था अंधेरे के कारण. इस बात का कसर मैने आज पूरा कर लिया था.

उसके बदन से कपड़े हटते ही उसका बदन जैसे ढूढ़ जैसा सफेद दिखने लगा और मई तो उससे देख कर ही पागल हो गया. मैने उससे चूमना और चाटना शुरू कर दिया.

सबसे पहले गार्डेन से स्टार्ट कर के पूरे बदन को चाटते हुए बूब्स पे आया और ज़ोर ज़ोर से दबाने लगा. उसके मुममे ऐसे दिख रहे थे की बस डबवाने के लिए ही बनने है.

मई ज़ोर ज़ोर से दबाता जाता और उसके मूह से आवाज़ तेज़ होती जा रही थी. 5 मीं तक ज़ोर से दबाने और चूसने के बाद उसका निपल्स पूरा रेड हो गया था और बिल्कुल खड़ा हो गया. वो सीन इतना सेक्सी था की मई आज भी याद कर के मूठ मार लेता हू.

मैने अभी अपने कपड़े नही खोले थे तो इस बार उसने मेरे लोवर मे से मेरा लंड खींच कर निकल दिया और ज़ोर से मुट्ठी मे बंद कर ली.

मेरा लंड बिल्कुल लोहे की तरह गरम हो चुका था और एक रोड जैसा दिख रहा था. फिर मई उसके नाभि के आंदेर टंग लगा कर चाटने लगा. ये उसके लिए काफ़ी न्यू एक्सपीरियेन्स तो था ही. और उसने कभी एक्सपेक्ट नही किया था की मई ऐसा भी कर सकता हू. तो वो और भी ज़्यादा उतेज़ित हो गयी और उसके छूट से लगातार पानी बहने लगा.

आज उसने अपनी छूट की बालो को भी पूरा शेव कर के रखा था. जिससे उसकी चिकनी छूट और भी ज़्यादा सेक्सी लुक दे रही थी.

फिर अब मई उसकी छूट मे घुस गया. एकद्ूम मखुमाली सी पाओ रोटी की तरह पूरी फुल्ली हुई छूट थी उसकी. उसकी छूट देख कर कोई भी लड़का एक झटके मे अपना लंड पूरा अंदर पेल देना चाहेगा. पर मैने तोड़ा और मज़े लेने की सोची. मेरे फ्लॅट पे कोई आता तो था नही इसलिए मई भी पूरे आराम से उसके साथ मस्ती कर रहा था.

मैने उसकी छूट मे अपनी जीभ पहले भर ही गोल गोल घूमते रहा. और बस उसकी आउटर लिनिंग टच कर के देखी. उसके छूट की ख़ुसाबू इतनी आक्ची थी की मई बस अपने होश को खो चुका था.

पर मैने अभी तक उसको तड़पते हुए उसके छूट को हाथो से टच नही किया था. और जीभ भी बस बाहर ही फिरा रहा था. कुछ देर वैसे ही करने मैने उसकी जाँघ को चाटना शुरू कर दिया और उसकी गोरी गोरी टाँगक को मसालने लगा.

उसकी सिसकिया तेज़ होते जा रही थी और वो बार बार अपनी छूट को अपने हाथ से रगड़ने का कोसिस कर रही थी. पर मई उससे रोक दे रहा था. इधर मेरे लंड से भी प्री कम निकलना चालू हो गया था.

अट्लस्ट जब उसने हाथ पैर जोड़ा की अब बस छोड़ ही दो तो फिर मैने वापस उसके छूट पे कॉन्सेंट्रेट किया. और इस बार पूरी जीभ को अंदर डाल के चूसने लगा.

फिर हम दोनो 69 की पोज़िशन मे आ गये क्यूकी इसके बिना सेक्स आधूरा सा लगता था मुझे.

मुझे अब उसकी पिंक छूट को चोर कर और कुछ भी नही दिख रहा था. और मई उसके पूरे रस को एक बार मे ख़तम कर देना चाहता था. मई धीरे धीरे उसकी छूट पे बीते भी कर रहा था. पर उसपे हवस का इतना नशा चाड चुका था की उसे अब कुछ भी समझ नही आ रहा था.

मुझे लगा यही सही त्यम है इसकी सील तोड़ने का. उसने मेरा लोहा को पूरा गरम कर के रखा हुआ था और लगातार अपने थूक से मालिश करते जेया रही थी.

अगर उसे मई अब नही रोकता तो मेरी बेइज़्ज़ती होनी तय थी. क्यूकी बस मेरा लंड अब अपनी पानी को चॉर्ने वाला था.

फिर मैने उसके मूह से लंड निकाला और बातरूम मे ढोने चला गया. ताकि वापस से इसमे थोड़ी ज़्यादा जान आ सके. अब मई जैसे ही वापस आया मैने देखा की वो अपनी छूट मे ज़ोर ज़ोर से 3 उंगली घुसा कर फिंगरिंग किए जेया रही है.

मैने उसकी कमार के नीचे एक पिल्लो लगाया ताकि उसकी गुलाबी छूट एकद्ूम से उभर कर मेरे सामने आ जाए. और मई आसानी से अपना लोड्‍ा उसमे पेल साकु. मैने अपना लोड्‍ा उसकी छूट मे सताया और रगड़ना शुरू कर दिया.

उसकी उतेज्ना के मारे चीखे निकलनी शुरू हो गयी थी.

फिर मैने एक ज़ोर का धक्का दिया और पूरा लंड एक झटके मे आंदेर डाल दिया. उसकी बहोट तेज़ चीख निकल गयी लेकिन मुझे कोई परवाह नही थी. और मई उसकी छूट को ज़ोर ज़ोर से छोड़ने मे मगन रहा.

स्टार्टिंग के 3-4 झटके मारने मे बहोट दर्द हुआ उसे पर फिर वो भी नॉर्मल हो गयी. और अपनी गांद को उठा उठा कर छुड़वाने लगी. मई ज़्यादा नही छोड़ पाया क्यूकी मई फेले से ही बहोट ज़्यादा उत्तेजित था. और उसकी छूट मे अपना पानी चोर्र दिया.

पानी चॉर्ने के बाद हम वैसे ही पड़े रहे. फिर हम उठे और वैसे ही जाकर साथ नहा कर आए. इतने देर तक नंगे रहने का फुल मज़ा लिया था मैने. और उसके पूरे बदन को ज़ोर ज़ोर से चूसा और छाता था.

नहाते समय मैने उसे स्पॅंक भी किया जिसमे उससे भी काफ़ी मज़ा आया था. नहा कर आने के बाद हुँने एक बार और चुदाई की और इस बार हमारी चुदाई लगभग 35 मिनिट तक चली थी और हुँने हर एक पोज़िशन मे चुदाई की थी.

उस चुदाई के बाद हम अक्सर अपने फ्लॅट पे आकर चुदाई करते. और हुँने इतना सेक्स किया की उसका फिगर काफ़ी ब्रॉड हो गया.

थॅंक योउ, अगर आपको ये कहानी आक्ची लगी तो प्लीज़ मुझे एमाइल कर के बताइए जिससे की मई आयेज भी आप सब के लिए और भी कहानिया लाओ. मेरा एमाइल है – [email protected]

जिससे भी सेक्स रिलेटेड जानकारी या कोई टिप्स चाहिए वो मुझे मैल कर सकता है. ई आम ऑल्सो अवेलबल फॉर सेक्स चट्स. युवर पर्सनल इन्फर्मेशन इंक्लूडिंग नामे विल नोट बे रिवील्ड.

यह कहानी भी पड़े  रोज़ी की कुँवारी चूत

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!