कॉलेज की वर्जिन गर्लफ्रेंड की मस्त चुदाई-1

हिी. मेरा नामे आराव है. उमीद है ये कहानी पढ़ के आपने लंड मे करेंट दौदेगा और छूट मे से नादिया बहने की पूरी उमीद होगी.
ज़्यादा बोर ना करते हुए मई कहानी की शुरुवत करता हू.

हेलो दोस्तो मई 20 साल का हू, हाइट 5, फीट 8 इंच. लंड का साइज़ आपको आयेज के कहानी मे पता चल जाएगा. मई एक कलाज स्टूडेंट हू और मई अपने कलाज और सहर का नामे डिस्क्लोस नही करना चाहता. सो लेट्स मूव तो मी स्टोरी.

कलाज मे एक लड़की थी, बिल्कुल मस्त फिगर ,गोरा बदन और चलती थी तो पूरी गांद हिलती थी. सारे लड़के उसके पिकचे पागल हो चुके थे बुत वो थी की किसी को भी भाव ही नही देती थी. बस अपने काम से काम रखती और पढ़ाई करती.

उसका नामे शेफाली था और वो बहोट मॉडर्न ख़यालो वाली लड़की थी. ऐसा उसके कपड़ो को देखने से लगता था. जड़तर वो स्लीव्ले टॉप्स और शॉर्ट्स पहना करती थी. और कभी कभी तो ऐसे टॉप पहनती जिसमे उसकी नाभि भी दिखाई दे जाती.

लड़के तो लड़के कलाज के प्रोफेससेर भी बस एक झलक देखने की कॉसिश मे लगे रहते थे. शेफाली डॅन्स बहोट अक्चा करती थी तो और मैने भी अपने स्कूल त्यम पे काफ़ी डॅन्स किया हुआ था. तो जब हमरी कलाज फेस्ट्स स्टार्ट हुई तो हम दोनो ने डॅन्स ग्रूप मे अपना नामे लिखा दिया. और किस्मत से हम दोनो को कपल डॅन्स करने का मौका मिला.

हम दोनो ये चान्स किसी किम्मत पे नही खोना चाहते थे. फिर हुँने साथ मे प्रॅक्टीस करनी शुरू कर दी. स्टार्टिंग मे तोड़ा प्राब्लम हुआ बुत फिर हमारी फ़्रेकुऊएनस्ी मॅच करने लगी. और हम दोनो के एक दूसरे के साथ काफ़ी मज़ा आने लगा.

मेरा तो पूरा लंड खड़ा हो जाता था जब भी वो मेरे बॉडी मे टच होती तो. बुत किसी तरह चुप्पा लेता ताकि उसको पता ना चले. डॅन्स करते वाकयूट कई बार मेरा खड़ा लोड्‍ा उसके कमार से टकरा जाता था. तो वो हल्का सा मुस्कुरा देती बस.

ऐसे ही हुँने साथ मिल कर काफ़ी प्रॅक्टीस की और इस दौरान मैने उसके नामे की अनगिनत बार मूठ भी मार ली थी. फिर हुँने साथ मे पेरफॉर्मे किया और हम नो 1 आ गये. उस दिन वो बहोट खुश थी और एकडम ज़ोर से मेरे गले लग गयी.

मैने भी उससे अपनी बहो मे दबा लिया और उसकी 34-द के बूब्स मेरे सिने से चिपक गये. मुझे बड़ा मज़ा आ रहा था और मेरा लंड मेरे लोवर मे तंबू बना दिया और उसके छूट से टच होने लगा. फिर वो क्च देर बाद हटी और पार्टी के लिए बोलने लगी.

उस रात हम दोनो एक बार मे गये और साथ बैठ कर खूब सारी सराब पी ली. उससे तोड़ा ज़्यादा चाड गयी थी तो मई उससे किसी तरह अपने फ्लॅट पे ले गया और हम दोनो वैसे ही बेड पे सो गये.

आधी रात को मुझे बड़ी तेज़ सस्यू आई तो मेरी नींद खुली. तो मैने देखा की सेफाली का वन पीस अब उसके घुटनो से भी अप्पर चाड चुका है. और उसकी ब्लॅक कलर की पनटी पूरी दिख रही थी.

उसके क्लीन क्लीन टांगे देख कर मेरे मूह मे पानी आने लगा. तो मई उसकी टाँगो को वैसे ही सहलाने लगा और एक हाथ से उसके बूब्स दबाने की कोसिस करने लगा.

वो पूरी नींद मे थी इसलिए मई भी बेफिकरे मज़्ज़े ले रहा था. सोई हुई वो इतनी हॉट दिख रही थी की कोई बुढहा अगर देख लेता उसको इस हालाता मे तो उसका लंड पानी चोर्र देता.

मई धीरे धीरे उसके ब्रा के अंदर हाथ डाल के निपल्स मसालने लगा. और एक हाथ से पनटी को बगल से हटा के छूट मे उंगली डालने की कोसिस कर रहा था.

मेरा लंड बिल्कुल पूरा टन के 7 इंच का हो गया था और अब कभी भी फटत सकता था. फिर मई अपना लंड उसकी छूट पे रग़ाद कर अपना पानी गिरा लिया और उसके कपड़े ठीक कर के सो गया.

अगले दिन सुबह सब कुछ नॉर्मल रहा लेकिन मैने सोचा की अब प्रपोज़ कर देते हैं. तो मैने सही मौका देख कर उससे प्रपोज़ कर दिया और उसने उससी समय हा भी बोल दिया.

हुँने उस समया एक किस की फोर्हेड पे. क्यूकी मई कोई जलड़बाज़ी नही करना चाहता था छोड़ने मे. मुझे पता था ये खुद से बोलेगी छोड़ने के लिए तब ज़्यादा मज़ा आएगा.

फिर वो अपने घर चली गयी.

धीरे धीरे 1 महीना हो गया. अब हम फ्रॅंक्ली कभी भी स्मूच कर लेते थे और कभी कभी मई धीरे से उसके बूब्स भी दबा दिया करता था जिसका वो बुरा नही मनती थी.

हम अक्सर मोविए देखने जाते थे और वही बैठ कर किस कर लेते थे. फिर एक दिन हुँने मोविए देखने का प्लान बनाया. एक बहोट ही सेनुयल मोविए लगी हुई थी हॉलीवुड की. जिसमे बहोट सारे सेक्स सीन्स थे.

मई तो जैसे उस दिन का इंतेज़ार कर रहा था. जब भी कोई किस्सिंग या न्यूड सीन आता तो मई उससे देखता था और वो शर्मा जाती थी. फिर मई धीरे से आयेज बढ़ा और अपने लिप्स को उसके लिप्स से टच कराया. उसने भी आयेज बढ़ के पूरा साथ दिया और हम किस्सिंग करने लग गये.

ऐसे भी हॉल पूरा खाली था और हम दोनो बिल्कुल अप्पर वाली सीट पे बैठे थे जहा से हमे कोई ना देख सके. इस बार मैने उसे किस करते करते ही उसके बूब्स पे हाथ लगा लिया और हल्का हल्का दबाने लगा.

वो मेरे हाथ पड़ते ही थोड़ी उछाल गयी और मेरे हाथ को पीछे करने की असफल कोसिस करने लगी. लेकिन कुछ देर बाद उसने मेरे हाथ को हटाने का प्रयास करना बंद कर दिया.

तो मैने उसका हाथ को पकड़के अपने पंत के अप्पर रख दिया. शेफाली ने मेरे जीन्स के अप्पर से ही मेरे लंड को मसलना शुरू कर दिया और ज़ोर ज़ोर से रब करने लगी. मेरा लंड अब पूरा खड़ा था और पंत मे अलग से ही एक उभर जैसा दिख रहा था.

फिर उसने मेरे ज़िप को खोला और मेरे लंड को अंडरवेर मे से निकाल कर मुत्ती मे पकड़ लिया. उसके हाथ का टच होते ही मेरे लंड ने तुमकना शुरू कर दिया और उसके हाथ मे ही झटके देने लगा.

इधर वो मेरे लंड के साथ खेल रही थी और मई उसके बूब्स को उसके शर्ट मे से बाहर निकल कर हाथो से दबाए जा रहा था. फिर मैने उसके दूध को उसके ब्रा मे से बाहर निकाला और उसके निपल्स को पीने लगा.

मई उसके निपल्स को बीते करते हुए ऐसे पी रहा था जैसे अब उसमे से ढूढ़ भर आ जाएगा. मई 5 मीं तक उसके दूध को चूस्ते रहा और वो मदहोश हो चुकी थी पूरी तरह.

फिर मैने उसको लंड मूह मे लेने को बोला. लेकिन वो माना करने लगी तो उसको मूठ ही मारने के बोला. वो इस बार तुरंत फिर से लंड को अपने हाथो मे क़ैद कर के ज़ोर ज़ोर से हिलने लगी और मई 2 मिनिट मे ही झाड़ गया. फिर हुँने वाहा अकचे से कपड़े पहने और हम वापस अपने अपने घर चले गये.

उस दिन के बाद से मेरी हवस बढ़ते ही जा रही थी. पर जब भी मई उसे इस बारे मे बात करने की कोसिस करता तो वो माना कर देती. मुझे अब समझ नही आ रहा था की मई क्या करू. एक तरफ मेरा लंड झटके पे झटके दिए जाता था और दूसरी तरफ से हर बार कलपद हो रहा था.

लेकिन हुमारे बीच बाते काफ़ी अकचे से होती रही. रोज रात को हम दोनो एक दूसरे को डिजिटल किस कर के सोते थे. पर जब भी वो सामने आती किस करने से माना करने लगती.

4-5 दिन बीत गये ऐसे ही. फिर के दिन वो बोली की मई तुम्हारे फ्लॅट पे अओ? तुमसे बाते करनी है. मुझे खुशी तो हुई पर मई समझ नही पाया की जब ये किस भी नही करना चाहती तो फाल्ट पे क्यों आ रही है.

आयेज की कहानी जल्दी ही अगले पार्ट मे आएगी.

थॅंक योउ, अगर आपको ये कहानी आक्ची लगी तो प्लीज़ मुझे एमाइल कर के बताइए जिससे की मई आयेज भी आप सब के लिए और भी कहानिया लाओ. मेरा एमाइल है – [email protected]

जिससे भी सेक्स रिलेटेड जानकारी या कोई टिप्स चाहिए वो मुझे मैल कर सकता है. ई आम ऑल्सो अवेलबल फॉर सेक्स चट्स. युवर पर्सनल इन्फर्मेशन इंक्लूडिंग नामे विल नोट बे रिवील्ड.

यह कहानी भी पड़े  मैं और मेरी मौसी

error: Content is protected !!