फेसबुक से बनी गर्लफ्रेंड की बुर चुदाई खण्डहर में

फेसबुक से बनी गर्लफ्रेंड की बुर चुदाई खण्डहर में

(Facebook Se Bani Girlfriend Ki Bur Chudai Khandhar Me)

Facebook Se Bani Girlfriend Ki Bur Chudai Khandhar Me

हैलो साथियो.. मेरा नाम सौरभ है, मैं यमुननगर, हरियाणा का रहने वाला हूँ। मैं हिंदी सेक्स स्टोरी की इस साइट पर पिछले 3 साल से कहानियां पढ़ रहा हूँ। मेरी हाइट 5 फुट 11 इंच है, रंग गोरा है। बहुत अधिक न कहूँ तो कुल मिला कर किसी भी लड़की को चोदने के लिए एक परफ़ेक्ट लड़का हूँ।

एक दिन मैं फ़ेसबुक पर एक लड़की से बात करने लगा, लगभग एक हफ्ते तक बात करने के बाद उसने मुझे अपना नम्बर दे दिया। अब हम दोनों फोन पर बात करने लगे थे।

कुछ दिन बाद हम दोनों ने मिलने का प्लान बनाया और मैं उससे मिलने के लिए सोचने लगा। फिर वो दिन आ ही गया, जब मुझे उससे मिलना था। वो मिलने आई तो उस दिन मैंने उसे पहली बार सामने देखा था, वो बहुत सुंदर थी। उस दिन वो ब्लू सूट में कहर ढा रही थी.. एकदम पटाखा.. तबाही!
मेरी गर्लफ्रेंड का नाम साक्षी है और वो भी यहीं यमुननगर में पढ़ती थी.. पर हमारा कॉलेज अलग था।

हम दोनों ने डोमिनोज में पिज़्ज़ा खाया। वो मेरी फर्स्ट डेट थी.. पर मुझको कुछ भी नहीं मिला। इसके बाद हम दोनों ने दुबारा मिलने पर मूवी देखने का प्लान बनाया।

उस दिन हम दोनों मूवी देखने चले गए और वहां हम दोनों ने एक दूसरे के साथ बहुत मस्ती की, बहुत सारी किस कीं, इस सबमें हम दोनों पूरी तरह आउट ऑफ कंट्रोल हो गए थे।
यह एक पब्लिक प्लेस था तो थोड़ा कंट्रोल करके हम वहां से वापिस आ गए।

इसी तरह हम दोनों बार बार मिलते रहे, कभी किसी रेस्तरां में मिलते..कभी पार्क में गलबहियां कर लेते, पर कभी उसको चोदने का मौका नहीं मिला।
उसके चूचे मुझको बहुत पसंद थे.. मेरा दिल करता था कि उनको पकड़ कर खूब चूसूँ।

यह कहानी भी पड़े  डॉली की एक रात की कीमत

फिर उसके घर वालों ने उसकी शादी की फिक्स कर दी.. जो कि हम दोनों को अच्छा नहीं लगा.. उसने कहा कि वो शादी से पहले तुम्हारी होना चाहती हूँ। मेरी भी उसकी सील तोड़ने की इच्छा थी।

शादी से एक हफ्ते पहले वो मेरे साथ मेरे रूम में आई.. वहां भी हम सेक्स नहीं कर पाए.. उसकी तो शादी के बाद चुदाई हो गई होगी, पर मेरी प्यास अधूरी रह गई।

उसकी शादी हो गई लेकिन उसने वादा किया था कि पहली बार वो मेरे साथ सेक्स करेगी, अपने पति के साथ सेक्स नहीं करेगी। उसने अपना वायदा पूरा किया, अपनी सुहागरात पर भी पति से सेक्स नहीं किया।

वो पहली विदाई के बाद वापिस अपने घर आ गई, लेकिन यहाँ से मेरे ज़िंदगी ने एक नया मोड़ ले लिया। शादी के बाद उसने और भी आग लगा दी.. हम दोनों ने एक खाली पड़े ढाबे की बिल्डिंग में जाने का सोचा, इधर किसी की निगाह नहीं जाती थी, शहर से दूर ये स्थान मेरी नजर में बहुत दिन से था। हम दोनों वहां चले गए।

शायद वो मेरी ज़िंदगी का सबसे अच्छा टाइम था। हम दोनों किस करने लगे, दस मिनट किस करने के बाद जब मेरा लंड उसकी चूत में जाने के लिए तन गया तो मैंने उसका कुर्ता उतारा और उसके चूचों को दबाने लगा और उनको ब्रा से आज़ाद कर दिया।

उसके तने हुए चूचे सामने देख कर मैं पूरा आउट ऑफ कंट्रोल हो गया था। मैं बड़ी बेदर्दी से उसके चूचों को दबाए जा रहा था।

यह कहानी भी पड़े  मेरी गर्लफ्रेंड निशा

मैंने उसको वहां बनी सिमेंट की बेंच पर लेटा दिया। अब मैंने उसकी लैगी उतार दी और पेंटी भी खींच दी। उसकी चुत पूरी गर्म थी और पनिया चुकी थी।
उसने मुझे अपनी टाँगों के बीच में ले लिया और मैंने अपना लंड उसकी चूत पर टिका दिया। फिर मैं लंड को चूत पर रगड़ने लगा.. तो वो भी मचलने लगी।

मैं भी पूरा चुदास में भरा हुआ था, मैंने उसकी चूत पर लंड रख कर झटका मारा, तो मेरा आधा लंड उसकी चूत में घुस गया।
वो चीख पड़ी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ तो मैंने उसका मुँह दबा लिया और एक और झटका मार दिया।

अब मेरा पूरा लंड उसकी चूत में घुस चुका था.. वो बेंच पर पड़ी तड़फ रही थी.. मैं उसको किस करने लगा और चूत में झटके मारने लगा।

कुछ ही देर की चुदाई में वो झड़ गई उसके कुछ देर बाद ही मैं भी झड़ गया।

कुछ समय रुक कर हम दोनों ने चुम्बन आदि किए और 20 मिनट के बाद मैंने दुबारा से उसकी चूत में लंड पेल दिया।

हालांकि वो अब भी दर्द के मारे कराह रही थी। लेकिन मैंने दर्द की चिंता किए बिना उसकी चूत में पूरा लंड डाल दिया। कुछ ही देर में हम दोनों ने चुदाई का भरपूर मजा लूटा और झड़ने के बाद हम वहां से चले आए।

अगले दिन हम फिर वहां अपने साथ एक पतला कम्बल लेकर आए और बेंच पर कम्बल बिछा कर कर बेड बना लिया, वहां हम दोनों लेट गए।

Pages: 1 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!