दुखी टीचर को प्यार करने की हो कहानी

हेलो दोस्तों, मेरा नाम हुतररर है. मैं 26 साल का हू. ये स्टोरी 2018 की है, जब मैं कॉलेज में था. बहुत दीनो बाद मैं अपने बचपन के स्कूल को गया था पुरानी यादें ताज़ा करने. उसी दौरान मैं कविता मेडम से मिला.

कविता मेडम की उमर तब 34 साल की थी. वो देखने में गोरी, लंबे बाल, और पर्फेक्ट बूब्स थे. मेडम थी पूरी पतली. उनके हज़्बेंड भी किसी दूसरे स्कूल में मेद्स के टीचर थे. अब सीधे स्टोरी पे आता हू.

मैने इतने सालों बाद जब मेडम को देखा देन ई हद आ क्रश ओं हेर. ई डॉन’त नो वाइ मुझे उनकी आँखें काफ़ी नशीली लगी. मैने जाके मेडम के पैर छुए और आशीर्वाद लिया. मेडम वाज़ हॅपी तो सी मे आफ्टर ऑल दीज़ यियर्ज़. वी हद आ फ्रेंड्ली कॉन्वर्सेशन अबौट मी कॉलेज आंड हेर फॅमिली. मुझे नही पता की मुझमे इतना हॉंसला कहा से आया, की मैने उनको बोला-

मैं: मेडम बाकी सब टीचर्स की उमर बढ़ती जेया रही है, और आप यंग होते जेया रहे हो.

उन्होने ब्लश किया और बोला: कुछ भी.

फिर पुर दिन मैं मेडम से बातें करता रहा. उन्ही के साथ घूमता रहा. उन्हे पता चल गया था की मैं उन्हे लाइन मार रहा था. इसी बीच हम थोड़े क्लोज़ हो गये.

लंच करते टाइम मैने उनकी पीठ में कुछ निशान देखे. ई वाज़ कन्सर्न्ड आंड ई आस्क्ड-

मैं: ये क्या हुआ?

कविता: कुछ नही.

मैं: मेडम योउ कॅन ट्रस्ट मे. इट सीम्स लीके किसी ने आपको मारा है. और अगर ये डोमेस्टिक वाय्लेन्स है, तो आप मुझे बता सकते हो. मैं आस आ स्टूडेंट नही, बल्कि आस आ ह्यूमन पूच रहा हू.

कविता: तुम्हे तो सिर के बारे में पता है. वो डोर रहते है. 3 महीने में एक बार आते है, और मेरे साथ ज़बरदस्ती करते है. मैं अगर माना करू तो मेरी नही सुनते.

और ये बोल कर वो रोने लगी.

मैं: मेडम यहा मत रोइए, लोग देख लेंगे. चलिए यहा से चलते है. आप इतनी सुंदर हो, और इनडिपेंडेंट हो, तो आप इतना डरते क्यूँ हो? आप आवाज़ उताओ, और इस्पे आक्षन लो.

थोड़ी देर बाद वो शांत हुई और मुझे अपने घर छाई पे बुलाया. हम उनके घरे गये. वाहा पता चला की उनका बेटा अपनी नानी के यहा गया हुआ था, और उनका हज़्बेंड लास्ट वीक आया था, और वो भी चला गया था. रूम पूरा बिखरा पड़ा था.

मैने कहा: छाई मैं बनता हू, आप आज बैठिए.

हम नॉर्मल उनके लिविंग रूम में बातें कर रहे थे. तो मैने उनसे पूछा-

मैं: मेडम आपको वैसे फिज़िकल रिलेशन्षिप पसंद नही है क्या?

कविता: ये तुम क्या पूच रहे हो?

मैं: मेडम मैं सोच रहा था की वाइ हे इस सो रूड तो योउ. आप मेरे साथ डिसकस कर सकते हो, और ट्रस्ट भी कर सकते हो.

कविता: जब से हमारी शादी हुई है, वो हमेशा मेरे साथ ज़ोर ज़बरदस्ती करते है.

मे: क्या मैं आपका घाव देख सकता हू? अगर आप कंफर्टबल हो तो.

कविता (रोते हुए): ओके.

फिर उन्होने अपनी सारी सर्काय, और मेरे सामने पीठ करके बैठ गयी. मैने उनके बालों को गर्दन से डोर किया. उनके ब्लाउस के पीठ वाले गॅप से वो ज़ख़्म दिख रहा था. मैने हल्के हाथों से उसे छुआ.

फिर मैने तोड़ा प्रेस किया, तो उनकी आँखों से आँसू निकल गये. बेल्ट का निशान ने पूरा गोरी चाँदी को काला कर दिया था. मैने धीरे-धीरे उनकी पीठ में उंगलियाँ फेरते हुए अपने दोनो हथेलियन उनके कंधो पे रख दी.

उनको हल्के से पीछे किया, और गर्दन के पीछे एक सॉफ्ट सा किस किया. उनकी आँखें क्लोज़ थी. शायद वो भी यही चाहती थी. मैं उनकी पीठ पे धीरे-धीरे सॉफ्ट किस्सस करता रहा. वो ज़ोर-ज़ोर से साँसे ले रही थी. फिर मैने उनके र्लोबस पे किस किए, और धीरे से उनके कानो में बोला-

मैं: आज मैं आपको बताता हू प्यार कैसे करते है.

मेरे हाथ अब पीछे से आयेज आ रहे थे, और उनकी कमर से होके उनके बूब्स को ब्लाउस के उपर से पकड़ने की कोशिश में जारी थे. उनकी पीठ मेरे सीने के उपर थी, और वो ज़ोर-ज़ोर से साँसे ले रहे थे.

ब्लाउस के उपर से मैने उनके बूब्स को प्रेस किया, और उनके निपल्स को अपने थंब और इंडेक्स फिंगर के बीच में रखा, और हल्का सा मसल दिया. उनके मूह से सिसकियाँ निकल रही थी. साथ ही साथ मैने उनकी नेक को किस करते-करते गीला कर दिया था. मेरे हर एक टच से वो सिसक रही थी, और अपने हाथों से मेरे बाल नोच रही थी.

मैने उन्हे अपनी तरफ किया, और उनकी चीन उठा के उनके आँखें खोलने का इंतेज़ार किया. हमारी आँखें मिली, और मैने उनकी तरफ झुक के किस किया. फिर हम दोनो एक-दूसरे को पागलों की तरह किस करने लग गये. कभी उपर के होंठ तो कभी नीचे के.

कभी मेरी जीभ उनकी ज़ुबान में, और कभी उनकी जीभ मेरी में. 10 मिनिट के लंबे किस के बाद हम दोनो अलग हुए.

अब मैने उनके ब्लाउस को खोला, और उन्होने मेरी शर्ट निकाल फेंकी. हम दोनो की आँखों में बहुत ही भूख थी.

मैने उनकी ब्रा और सारी भी खोल दी. अब सिर्फ़ वो पेटिकोट में थी. उन्हे मैने सोफे पे लिटाया, और उनके लेफ्ट बूब को किस करने लगा. साथ ही साथ मैं उनके रिघ्त बूब को दबा रहा था. मेडम भी मादक स्वर में उम्म सस्स आह की आवाज़े निकाल रही थी.

मेरा 6.5 इंच का लंड एक-दूं तन्ना हुआ था. मगर मैने अपनी हवस पे काबू किया, क्यूंकी मुझे उन्हे खुश करना था. फिर मैने उन्हे एक टाइट हग किया, और फिर उन्हे सोफे पे लिटा के मैं बैठ गया. मेरा लेफ्ट हॅंड अब उनके गालों से होके धीरे-धीरे नीचे आ रहा था. मानो की जैसे मोर का पंख हो.

मुझे उनकी बॉडी में सबसे वीक पॉइंट को ढूँढना था. यहा मेरा रिघ्त हॅंड उनके पेटिकोट के अंदर घुसने के प्रयास में जारी था. जैसे ही मैने उनकी कॉलरबोन पे अपने हाथ फिराए, वो सिहार उठी. अब मैने अपने होंठो को उनकी कॉलरबोन के उपर रखा, और उन्हे टीज़ करने लगा.

वो मोन कर रही थी. यहा मैने उसके पेटिकोट का नाडा खोल दिया, और उनकी पनटी के उपर से अपनी उंगलियों को सर्क्युलर मोशन में घुमा रहा था. उनकी पनटी गीली हो चुकी थी, और वो ज़ोर-ज़ोर से सिसकियाँ ले रही थी. मैं अब उनकी बॉडी के नीचे आया, और उनके पेटिकोट और पनटी उतार फेंकी.

फिर उनके कॅफ मसल्स से किस करते-करते उनके इन्नर थाइस पे हल्का-हल्का किस करता रहा. फिर मैं अपनी उंगली से उनकी छूट के द्वार को रब कर रहा था. जैसे ही मैने छूट के इन्नर मसल के अंदर अपनी उंगलियाँ ली, वो सिसक उठी. उनके मूह से मोनिंग और लाउड होने लगी. अब मेरा अगला काम था उनकी क्लिट को ढूँढना.

फिर मैने अपनी उंगलियों से उनकी क्लिट को ढूँढा, और जैसे ही मैने उनकी क्लिट पे रब किया, वो तिलमिला उठी. वो बार-बार मेरा नामे ले रही थी, और मुझे ज़ोर से रब करने को बोल रही थी.

उसके बाद मैने अपनी बीच वाली उंगली उनकी छूट में डाली, और उनके ग-स्पॉट को धीरे-धीरे रब करना शुरू किया. साथ ही साथ मैं अपने थंब से उनकी क्लिट को भी मसल रहा था. वो सिर्फ़ श आ अफ की आवाज़े निकाल के सिहर रही थी.

फिर मैं अपने होंठो से उनके बूब्स को सक करता रहा, और नीचे उंगलियों की रफ़्तार बढ़ा दी. 30 सेकेंड्स के अंदर वो झाड़ गयी, और उन्होने बहुत तेज़ स्क्वर्ट किया. मेरा पूरा हाथ पानी से गीला हो गया था, और सोफा भी.

उनकी बॉडी पूरी कांप रही थी. उनके मूह से बात भी नही निकल रही थी. मैने उन्हे देखा, और एक प्यारा सा किस किया. वो मुझे एक हल्की सी स्माइल दी, और फिर उन्होने मुझे किस किया.

आयेज की कहानी अगले पार्ट में.

न्क्र के आस-पास किसी को अगर डिसेंट, फोरप्ले आंड ऑर्गॅज़म वाला सेक्स करना हो, तो मुझे मेसेज करना.

यह कहानी भी पड़े  रसीली सालियां की चुदाई कहानिया


error: Content is protected !!