मम्मी पापा, जवान कामवाली और ड्राईवर का ग्रुपसेक्स

antarvasna sex stories मम्मी ने अपने घाघरे को ऊपर किया और ड्राईवर निमेश ने अपनी जबान को उसकी पेंटी के ऊपर घुमानी चालू कर दी. सामने सोफे के ऊपर मेरे पापा एक हाथ में शराब का ग्लास उठाये हुए थे. और दुसरे हाथ से वो हमारी 19 साल की कामवाली दिया के बूब्स मसल रहे थे. दिया और निमेश एक ही गाँव से थे. और निमेश ही दिया को काम के लिए लाया था. लेकिन वो लोग भी मेरे मम्मी पापा के स्वेपिंग वाले चक्कर में फंस चुके थे. जी हां मेरी मम्मी पापा को कपल स्वेपिंग का बड़ा चस्का हैं. और घर के नोकरो को पैसे का लालच दे के वो उनको अपनी ओर्गी में शामिल कर लेते हैं. दिया उनका सब से नया शिकार थी.

निमेश हमारे यहाँ डेढ़ साल से हैं. और पहले जो कामवाली थी, जिसका नाम शान्ति था, उसके और मम्मी पापा के साथ उसने ओर्गी कर रखी थी. मम्मी ने निमेश के माथे को अपनी चूत पर जोर से दबा दिया. निमेश ने अपनी जबान को चूत के ऊपर टटोला जैसे. और फिर उसने अपनी जबान से ही उस हल्की पेंटी को निचे की तरफ खिंचा. मम्मी की आह निकल गई. दिया फटी हुई आँखों से ये सब देख रही थी. लेकिन दो हजार एक्स्ट्रा के चक्कर में वो बुरी फंसी हुई थी.

पापा ने अब खड़े हो के उसके सामने अपने लंड को निकाला. लंड की साइज़ और गर्थ को देख के दिया की जाबां बहार आ गई. वो बोली: साहिब इ तो बहुत ही बड़ा हैं.

मम्मी ने बिच में कहा: बड़े लेगी तभी तो बड़ी होगी जल्दी से, साहब बड़े लौड़े से मजे भी खूब देंगे तुझे.

दिया के हाथ को पापा ने अपने हाथ में लिया और उसके अन्दर अपना लंड पकडवा दिया. दिया ने मुठ्ठी तो बंद की लेकिन वो लंड इतना बड़ा था की उसकी मुठ्ठी से बहार आ रहा था.

यह कहानी भी पड़े  माँ और बेटियों की रसीली जवानी

पप्पा ने शराब की एक चुस्की ली और बोले, हिला इसे.

दिया अपने नन्हे नन्हे हाथो से लौड़े को मसलने लगी.

उधर निमेश ने मम्मी की पेंटी निचे कर दी थी. और वो किसी अच्छे ब्रिड के कुत्ते के जैसे बड़ी जुबान को बहार कार के मम्मी की फांक को लिक कर रहा था. मम्मी ने उसके माथे को अपने भोसड़े के ऊपर दबाया और बोली, अन्दर डाल दे जबान को.

पापा के लौड़े को हिलाती हुई दीया मम्मी को और निमेश को ही देख रही थी. पापा ने उसके टॉप को उतारा और उसके नन्हे बूब्स ब्रा में थे. वो ब्रा सडक के किनारे मिलने वाली चिप ब्रा के जैसे रंग वाली ही थी. दिया 19 साल की जरुर थी लेकिन एकदम दुबली सी थी. और उसके मम्मे अभी छोटे ही थे. पापा ने दिया के मम्मे हाथ से फेरने के बाद कहा, मालकिन के जैसे करवाना हैं?

दिया कुछ भी नहीं बोली, उसकी चुप्पी को पापा ने हां समझ लिया. और उसके बाकी के कपडे भी खोल दिए. दिया की चूत किसी छोटी आम की फांक के जैसी थी. उसके ऊपर हलके घुंघराले काले बाल थे. पापा ने चूत की फांक को दो ऊँगली से खोला और अन्दर की चमड़ी को एक प्यार भरी पप्पी दे दी. दिया सिहर उठी, उसकी आँखे बंद हो गई और उसने पापा का माथा पकड़ लिया.

वो इस ख़ुशी को बर्दाश्त नहीं कर सकी थी. पापा ने अब उसको निचे लिटा दिया. और उसकी टांगो को खोला. दिया को थोड़ी थोड़ी शर्म आ रही थी.

उधर मम्मी के मम्मो को दबाते हुए निमेश ने जीभ को पूरी चूत में कर दी थी. वो मस्ती से ममिया रही थी. और फिर उसने निमेश को धक्का दे के चूत के पास से उठा दिया. वो झड़ गई थी ड्राईवर के मस्त चूत चाटने की वजह से.

यह कहानी भी पड़े  राहुल की बीवी सेक्स कहानी

अब निमेश सोफे के ऊपर बैठ गया. मम्मी ने उसके काले लंड को हाथ में पकड़ा और हिलाने लगी. निमेश का लंड फुल जोश में था जिसे मेरी माँ ने अपने मुहं में भर लिया. अंडे तक के लंड को वो आधी ही मिनिट में अपने मुहं में ले चुकी थी. अपनी जबान को कभी बिच बिच में निकाल के लंड पर घुमाती थी. और फिर वो लौड़े को पूरा मुहं में भर लेती थी. निमेश की हालत एकदम बिगड़ गई थी. भला किसी को ऐसा ब्लोव्जोब मिले फिर वो कैसे खुद के उपर कंट्रोल कर सकता हैं.

उधर दिया की चूत की फांक से कुछ देर खेलने के बाद पापा ने अपनी जबान उसके ऊपर टिका दी. दिया की सिसकियाँ मादक थी और पुरे कमरे में उसकी सिसकियाँ ही सब से ज्यादा आवाज वाली थी. ये जवान कामवाली ने पहली बार चूत चटवाई थी अपनी लाइफ ने. तो उसकी ख़ुशी उसको कितनी मिलती होगी वो आप समझ ही सकते हो!

मम्मी ने कुछ देर लंड को मस्त चूसा. और फिर वो लंड को एक हाथ से हिलाते हुए उसके ऊपर बैठ गई. उसने चूत के होल में लंड को सेट कर दिया था. वो जैसे ही उसके ऊपर बैठी लंड चूत की गहराई में घुस गया. मम्मी के बूब्स को पकड के निमेश ने निचे से धक्के दिए. दिया वो सब देख रही थी अपनी चूत पापा से चटवाते हुए.

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!