मम्मी पापा, जवान कामवाली और ड्राईवर का ग्रुपसेक्स

antarvasna sex stories मम्मी ने अपने घाघरे को ऊपर किया और ड्राईवर निमेश ने अपनी जबान को उसकी पेंटी के ऊपर घुमानी चालू कर दी. सामने सोफे के ऊपर मेरे पापा एक हाथ में शराब का ग्लास उठाये हुए थे. और दुसरे हाथ से वो हमारी 19 साल की कामवाली दिया के बूब्स मसल रहे थे. दिया और निमेश एक ही गाँव से थे. और निमेश ही दिया को काम के लिए लाया था. लेकिन वो लोग भी मेरे मम्मी पापा के स्वेपिंग वाले चक्कर में फंस चुके थे. जी हां मेरी मम्मी पापा को कपल स्वेपिंग का बड़ा चस्का हैं. और घर के नोकरो को पैसे का लालच दे के वो उनको अपनी ओर्गी में शामिल कर लेते हैं. दिया उनका सब से नया शिकार थी.

निमेश हमारे यहाँ डेढ़ साल से हैं. और पहले जो कामवाली थी, जिसका नाम शान्ति था, उसके और मम्मी पापा के साथ उसने ओर्गी कर रखी थी. मम्मी ने निमेश के माथे को अपनी चूत पर जोर से दबा दिया. निमेश ने अपनी जबान को चूत के ऊपर टटोला जैसे. और फिर उसने अपनी जबान से ही उस हल्की पेंटी को निचे की तरफ खिंचा. मम्मी की आह निकल गई. दिया फटी हुई आँखों से ये सब देख रही थी. लेकिन दो हजार एक्स्ट्रा के चक्कर में वो बुरी फंसी हुई थी.

पापा ने अब खड़े हो के उसके सामने अपने लंड को निकाला. लंड की साइज़ और गर्थ को देख के दिया की जाबां बहार आ गई. वो बोली: साहिब इ तो बहुत ही बड़ा हैं.

मम्मी ने बिच में कहा: बड़े लेगी तभी तो बड़ी होगी जल्दी से, साहब बड़े लौड़े से मजे भी खूब देंगे तुझे.

दिया के हाथ को पापा ने अपने हाथ में लिया और उसके अन्दर अपना लंड पकडवा दिया. दिया ने मुठ्ठी तो बंद की लेकिन वो लंड इतना बड़ा था की उसकी मुठ्ठी से बहार आ रहा था.

पप्पा ने शराब की एक चुस्की ली और बोले, हिला इसे.

दिया अपने नन्हे नन्हे हाथो से लौड़े को मसलने लगी.

उधर निमेश ने मम्मी की पेंटी निचे कर दी थी. और वो किसी अच्छे ब्रिड के कुत्ते के जैसे बड़ी जुबान को बहार कार के मम्मी की फांक को लिक कर रहा था. मम्मी ने उसके माथे को अपने भोसड़े के ऊपर दबाया और बोली, अन्दर डाल दे जबान को.

पापा के लौड़े को हिलाती हुई दीया मम्मी को और निमेश को ही देख रही थी. पापा ने उसके टॉप को उतारा और उसके नन्हे बूब्स ब्रा में थे. वो ब्रा सडक के किनारे मिलने वाली चिप ब्रा के जैसे रंग वाली ही थी. दिया 19 साल की जरुर थी लेकिन एकदम दुबली सी थी. और उसके मम्मे अभी छोटे ही थे. पापा ने दिया के मम्मे हाथ से फेरने के बाद कहा, मालकिन के जैसे करवाना हैं?

दिया कुछ भी नहीं बोली, उसकी चुप्पी को पापा ने हां समझ लिया. और उसके बाकी के कपडे भी खोल दिए. दिया की चूत किसी छोटी आम की फांक के जैसी थी. उसके ऊपर हलके घुंघराले काले बाल थे. पापा ने चूत की फांक को दो ऊँगली से खोला और अन्दर की चमड़ी को एक प्यार भरी पप्पी दे दी. दिया सिहर उठी, उसकी आँखे बंद हो गई और उसने पापा का माथा पकड़ लिया.

वो इस ख़ुशी को बर्दाश्त नहीं कर सकी थी. पापा ने अब उसको निचे लिटा दिया. और उसकी टांगो को खोला. दिया को थोड़ी थोड़ी शर्म आ रही थी.

उधर मम्मी के मम्मो को दबाते हुए निमेश ने जीभ को पूरी चूत में कर दी थी. वो मस्ती से ममिया रही थी. और फिर उसने निमेश को धक्का दे के चूत के पास से उठा दिया. वो झड़ गई थी ड्राईवर के मस्त चूत चाटने की वजह से.

यह कहानी भी पड़े  टापू सेना इन लॉकडाउन

अब निमेश सोफे के ऊपर बैठ गया. मम्मी ने उसके काले लंड को हाथ में पकड़ा और हिलाने लगी. निमेश का लंड फुल जोश में था जिसे मेरी माँ ने अपने मुहं में भर लिया. अंडे तक के लंड को वो आधी ही मिनिट में अपने मुहं में ले चुकी थी. अपनी जबान को कभी बिच बिच में निकाल के लंड पर घुमाती थी. और फिर वो लौड़े को पूरा मुहं में भर लेती थी. निमेश की हालत एकदम बिगड़ गई थी. भला किसी को ऐसा ब्लोव्जोब मिले फिर वो कैसे खुद के उपर कंट्रोल कर सकता हैं.

उधर दिया की चूत की फांक से कुछ देर खेलने के बाद पापा ने अपनी जबान उसके ऊपर टिका दी. दिया की सिसकियाँ मादक थी और पुरे कमरे में उसकी सिसकियाँ ही सब से ज्यादा आवाज वाली थी. ये जवान कामवाली ने पहली बार चूत चटवाई थी अपनी लाइफ ने. तो उसकी ख़ुशी उसको कितनी मिलती होगी वो आप समझ ही सकते हो!

मम्मी ने कुछ देर लंड को मस्त चूसा. और फिर वो लंड को एक हाथ से हिलाते हुए उसके ऊपर बैठ गई. उसने चूत के होल में लंड को सेट कर दिया था. वो जैसे ही उसके ऊपर बैठी लंड चूत की गहराई में घुस गया. मम्मी के बूब्स को पकड के निमेश ने निचे से धक्के दिए. दिया वो सब देख रही थी अपनी चूत पापा से चटवाते हुए.

पापा के मुहं में झड़ने से पहले वो बहुत छटपटाई और उसका बदन खूब झटके मार रहा था. चूत का पानी निकलने के बाद वो उठी और पापा ने कहा, मुहं में ले लो मेरा.

पापा ने उसे निचे घुटनों के ऊपर बिठा दिया. और अपने लंड को उन्होंने दिया के मुहं में घुसा दिया. वो लंड बहुत बड़ा था इस लड़की के लिए तो. आधा ही लंड मुहं में ले सकती थी वो. लेकिन फिर भी पापा जैसे जबरदस्ती से पूरा घुसाने की फिराक में ही थे. दिया को दर्द हो रहा था और नाखुशी उसके चहरे पर दिख रही थी. लेकिन पापा को फ़िक्र नहीं थी उसकी. दिया के बाल पकड़ के जबरन उसका हार्डकोर माउथ फकिंग कर दिया गया. दिया रो रही थी लेकिन पापा ने ध्यान नहीं दिया. और मम्मी लंड के ऊपर उछलती हुई हंस रही थी दिया की बुरी हालत को देख के.

दिया के मुहं से जब पापा ने लंड निकाला तब जैसे उसकी सांस में सांस आई. लेकिन उस बेचारी को पता नहीं था की अभी तो हार्ड सेक्स की शरुआत हुई थी.

मम्मी अब निमेश के सामने घोड़ी बन गई. उसने अपने लंड को ठपठपा दिया जरा मम्मी की एस के ऊपर. और फिर एक धक्के से लंड को मम्मी की चिकनी चूत में घुसा दिया. मम्मी ने अपनी बिग एस को हिला हिला के चुदवाना चालू कर दिया.

दिया को निचे लिटा के पापा उसके ऊपर आ गए. उन्होंने थोडा थूंक अपने लंड के सुपाडे के ऊपर घिसा. दिया के हाथ में लंड पकड़ा के वो बोले, लगा दे इसे अपनी बुर पर मेरी रानी!

दिया घबरा रही थी और उसे पंखे के निचे भी पसीना सा आ रहा था. उसने लंड को अपनी चूत के छेद पर लगा दिया. पापा ने अब एक धक्का दिया. दिया की कसी हुई वर्जिन चूत के ऊपर लंड फिसल गया. दिया को दर्द भी बहुत हुआ.

यह कहानी भी पड़े  राज और उसकी पड़ोसी सेक्स कहानी 2

पापा ने लंड के उपर और भी थूंक लगाया और दिया की टांगो को खोला. दिया घबरा रही थी इतने बड़े लंड को चूत में लेने से. और वो बार बार लंड को ही देख रही थी. लेकिन पापा फुल मूड में थे उसकी सेक्सी जवान चूत को पेलने के. उन्होंने दिया को कंधे से पकड़ा और लंड को सही जगह पार लगा के ऐसा झटका दिया की उसकी आँख से आंसू और मुहं से चीख निकल पड़ी. पापा ने उसके मुहं को हाथ से बंद किया. और लंड को ऐसे ही रहने दिया चूत के अंदर.

उधर निमेश ने अब अपने लंड को मम्मी की चूत से निकाला. मम्मी ने एक हाथ से अपने कुल्हें को एक साइड पर खिंचा और बोली, डाल दे पीछे!

निमेश की लोटरी लग गई थी मम्मी ने सामने से गांड मरवाने की पेशकश जो की थी. उसने लंड को मम्मी की एस्होल में डाल दिया. मम्मी पहले भी बहुत गांड मरवा चुकी थी. इसलिए लंड एकदम आराम से बिना किसी पेन के अन्दर हो गया.

मम्मी ने दिया को कुछ दीन में तू भी ऐसे बड़े लंड ले लेगी आराम से, पहले दो तिन बार दर्द सब को होता हैं मेरी रानी.

दिया के आंसू पापा के हाथ पर आ चुके थे. अब पापा ने एकदम धीरे धीरे से अपने लंड को दिया की चूत में हिलाया. दर्द और चमड़ी के छिलने की जलन से दिया परेशान थी. वो कराह रही थी लेकिन पापा ने हाथ हटाया ही नहीं. एक मिनिट के बाद जब पापा को लगा की अब वो शांत हुई हैं तो उन्होंने दिया का मुहं छोड़ा. दिया अभी भी रो रही थी. लेकिन अब उसका दर्द काफी कम हो चूका था. पापा अपने लंड को हौले हौले उसकी चूत में हिला रहे थे.

उधर मम्मी किसी पोर्नस्टार के जैसे अपनी गांड को जोर जोर से हिला के मरवा रही थी. निमेश मम्मी के बूब्स को आगे हाथ कर के पकड रहा था और दबा रहा था. किसी क्सक्सक्स मूवी के जैसा ही सिन था. एक तरफ कामवाली को पापा चोद रहे थे और दूसरी तरफ मम्मी कुतिया के जैसे ड्राईवर से गांड मरवा रही थी.

दिया कुछ देर तक रोती रही लेकिन फिर वो शांत हो गई अब उसे भी मजा आने लगा था. पापा ने निचे झुक के उसकी चुन्चिया चुसी. और दिया ने पापा का अब पूरा सपोर्ट किया.

उधर निमेश के लौड़े ने मम्मी की गांड को वीर्य से भर दिया. मम्मी ने गांड को कस लिया और सब वीर्य गांड में ही लिया. निमेश ने लंड को निकाला जिसके ऊपर मम्मी का गू लगा हुआ था.

वो दोनों खड़े हो के कपडे पहनने लगे.

अब पापा ने दिया को और भी जोर जोर से पेलना चालू कर दिया था. वो कस कस के इस जवान कामवाली को ठोक रहे थे. दिया की चूत में ही उन्होंने वीर्य भर दिया.

जब पापा ने लंड को बहार निकाला तो उसके ऊपर खून लगा हुआ था. आज इस जवान कामवाली की चूत की झिल्ली उन्होंने फाड़ डाली थी.

मम्मी ने कहा, वाऊ यु आर सो लकी, जवान वर्जिन बुर मिल गई तुम्हे. अब मुझे भी किसी जवान लंड का मजा करवाओ बहुत दिन हो गए हैं.

पापा ने लंड को दिया की कमीज से साफ़ करते हुए कहा, जरुर डार्लिंग, अगले हफ्ते ही!



error: Content is protected !!