दोस्त ने चोदी मा की वर्जिन गॅंड

जो डाइरेक्ट मेरी इस कहानी पर आए उनको मई ये बता डू की ये कहानी मेरे और मेरी मा के बीच में हुए सेक्स संबंध की है. मेरा नाम ऋतिक है और मेरी मा का नाम वंदना है.

आंड फॉर मी रीडर्स जिन्होने इतने मेसेज किए अब तुम ही लोग बताओ जिसको अपनी मा मिलेगी छोड़ने के लिए वो कैसे स्टोरी पर ध्यान रखेगा. और इसीलिए स्टोरी वही से शुरू कर रहा झा से ख़तम किया था.

अगर आपने अभी तक मेरी पिछली कहानियों को नही पढ़ा है तो मा के साथ लॉक्कडोवन् वित फ्रेंड पढ़ ले तब यहा आए. और जिन्होने पढ़ा है उनके लिए स्टोरी स्टार्ट करते है.

अब तक आपने पढ़ा की कैसे मई अपने दोस्त निखिल के साथ घर आया. और हम लॉक्कडोवन् में मा के साथ रहे. हम ये प्लान कर के ही आए थे की हूमें मा की छुदाई करनी है और फिर हम उसमें सफल भी हो गये.

सेक्स करते हुए जब निखिल मा के गांद की तरफ बढ़ा. तब मा ने बताया की उनकी गांद वर्जिन है. फिर निखिल मा की गांद की वर्जिनिटी लूस करवाने के लिए खुला स्पेस चाहता था. जो था हुमारे घर के बगल से होता हुआ 2 केयेम का जंगल जहा कोई नही जाता था और लॉक्कडोवन् में तो और नही जाता.

हम दोनो मा के साथ पहली बार सेक्स कर के खुश थे और फिर अगली शाम हम उस जंगल में जाने के लिए रेडी थे.

मा – कोई ड्रेस भी पहन लू या उसमें भी कोई फॅंटेसी है?

निखिल – आंटी आप ब्रा पनटी तो नही पहनती ना.

मे – निखिल नंगी ही ले चलते ह ना मा को.

मा – नही ब्रा पनटी नही पहनती हू पर तुम लोग बोलो तो पहन लू और मई नंगी नही जेया रही उसमें. अगर बोलॉगे तो घुसते ही नंगी हो जौंगी.

निखिल – नही आंटी कोई नंगा नही जाएगा, आप बस सारी ब्लाउस और पेटीकोत पहन लो और हा पायल ज़रूर पहनना.

मा – क्यू पायल बजा कर किसी को सुनना है क्या..?

निखिल – नही बस हम सुनेंगे.

मा – अब जब इतना बता रहे हो तो सारी का कलर भी बता दो.

मे – मा वो ग्रीन वाली सारी पहनो.

मा – पूरा ग्रीन ना?

मे – मतलब?

मा – अरे ब्लाउस पेटीकोत भी ग्रीन रहेगा ना या वो कोई और कलर की?

मे – हा वो भी ग्रीन.

मा तैयार होने चली गयी. हुँने एक लोवर त-शर्ट डाला क्यूंकी मे का महीना था और गर्मी भी थी. अब मा ने अपने रूम का दरवाजा खोला तो छान की आवाज़ आई हम मा को देखने के लिए मुड़े तो मा ने ग्रीन सारी, ब्लाउस और पेटीकोत पहन रखा था. मा जब चलती तो उनके पैरों से छान छान की आवाज़ आती.

मा – पायल निकल डू क्या बहुत आवाज़ कर रही है?

मे – नही मा आज पायल के साथ तुम भी बजोगी तब देखेंगे कों ज़्यादा आवाज़ करता है.

मा कुछ नही बोली. शाम का 8 बाज गया था और हल्का अंधेरा भी हो गया था. हम जंगल की तरफ पैदल ही चल पड़े. उस झड़ी के बीच में ह्यूम एक जगह मिली जहा थोड़ी घास थी और एक पेड़ था. हुँने वही करने का मूड बनाया. निखिल नंगा हो गया और मैने भी अपना लोवर निकल दिया. हुमें ये करता देख मा भी अपनी सारी खोलने लगी.

निखिल – आंटी आप सारी मत निकालिए..

मा – क्यू?

निखिल – ऐसे ही.

फिर मा रुक गयी अब निखिल मा के पास गया और उनके मूह में अपना लंड दे दिया जिसे मा चूसने लगी.

निखिल – आंटी आपने आज पोछा नही..

मा – जब रोज रोज लेना ही ह मूह में तो क्या पोचु.

निखिल – पहले मई कर रहा ऋतिक.

मे – ये क्या बात हुई..?

निखिल – मुझे आंटी की गांद मारनी है तो पहले मई करूँगा और हा आज कोई भी मूह में नही देगा चिल्लाने दो जितना चिल्लती है.

मे – ओक.

जब 10 मिनिट मा ने निखिल का लंड चूस लिया तो उसने मा को रुकने का बोला और फिर मा को खड़ा किया.

मा – झुक जौ मई?

निखिल – नही खड़े खड़े करेंगे.

मा – वो नही हो पाएगा मई झुक जाती हू ना..

निखिल – हो जाएगा आप बस खड़ी होइए.

मा खड़ी हो गयी और फिर निखिल ने पीछे से उनकी सारी को कमर तक उठा दिया और फिर हल्का सा झुक कर मा के गांद के छेड़ में अपना लंड रखा तो मा आयेज उछाल गयी..

मा – इसीलिए बोल रही थी की मई झुक जाती हू.

निखिल – आंटी आप ट्राइ ही नही कर रही खड़ी हो कर.

निखिल ने फिर मा को खड़ा किया और अपना लंड उनकी गांद में रखा. और मा की एक टाँग को उठा कर अपने पैरो पर रख लिया. जिससे मा की गांद और खुल जाए फिर उसने हल्का सा प्रेशर दिया. उसके लंड का हल्का सा टोपा अंदर गया पर मा को बहुत दर्द होने लगा.

निखिल ने मा को आयेज से पकड़ा और उनके कानो में हल्का सा दर्द और सहने को बोला. जिसके रिप्लाइ में मा ने सिर हिला दिया. मा ने अपने होंठो को दाँत से पकड़ रखा था. निखिल ने मा को आयेज से पकड़ा और हल्का सा प्रेशर दिया. पर उसका लंड मा के गांद से सरक कर बाहर हो गया और इस बार मा ने उसको धक्का दिया और वाहा से हट गयी.

तोड़ा साँस लेने के बाद-

मा – इसीलिए बोला था की मई कुटिया बन जाती हू.

निखिल – चलो जब इतना ही मॅन है कुटिया बनने का तो बनो.

अब मा नीचे झुक गयी. मा ने अपने पैर और हाथ मोड़ लिए थे फिर निखिल भी घुटनो पर हुआ और मा के पीछे गया .और मा के गांद के छेड़ में थूका और फिर 2 छानते उनकी गांद पर लगाया.

निखिल – रेडी आंटी?

मा – हा..

अब निखिल अपना लंड मा के गांद के छेड़ पर घूमने लगा. और हल्का सा अंदर किया मा के मूह से आआअहह निकाला.. निखिल रुक गया और थोड़ी देर बाद फिर हल्का प्रेशर दिया और अपना टोपा अंदर कर दिया.

मा अब अपने पैरों को पटक रही थी और फिर निखिल ने उनके बालों को पकड़ा और मा के चेहरे को अपने तरफ घुमाया और फिर उनके होंठो को चूसने लगा.

जब मा किस में बिज़ी हुई तभी उसने एक झटका और मारा और आधा लंड अंदर कर दिया. मा के आँखों में दर्द के वजह से आँसू आ गये पर निखिल ने मा के होंठों को दबाया हुआ था. जब मा नॉर्मल हो गयी तो उसने मा के होंठों को चूसा. मा एक बार ऊऊऊऊहह आआअहह कह कर चिल्लाई और तभी निखिल ने अपना लंड निकल दिया.

मा – निकलाअ क्यउउू बीए एक तो वैसे ही इतने दर्द में अंदर गया है.

निखिल – फिर अंदर चला जाएगा और वैसे भी ये तो स्टार्ट है अभी 24 घंटे चूड़ना है.

निखिल अब मा के दोनो गांडो पर छानते मारने लगा. जब 10-20 छानते मा की सफेद गांद पर पड़े तो वो लाल हो गये.

मा – मार क्यू रहा है!

निखिल – ऐसे ही.

फिर निखिल से मा की गांद के छेड़ पर थूका. इस बार उसने मा के बाल पकड़े और एक बार में ही आधा लंड घुसा दिया और उतना ही अंदर बाहर करने लगा.

मा आअहह ऊऊहह उूुुुुुुुुउउ कर रही थी. निखिल फिर रुका और इस बार एक और झटका दिया और उसका पूरा लंड अंदर चला गया और मा के गांद से खून आने लगा.

मा इस बार बहुत तेज से चिल्लाई आआअहह बाआआआप्प्प्प्प्प्प्प्प्प रीईईईईई म्‍म्म्ममममाआआआआआअ…

निखिल ने उनको चिल्लाने दिया और जब मा नॉर्मल हो गयी तो उसने धक्के मारने शुरू किया. मा अब ज़्यादा मोन नही कर रही थी क्यूंकी शायद उनको दर्द हो रहा. और निखिल उनके गांद पर छानते लगाने के साथ उनकी गांद मारे जेया रहा था.

कभी कभी निखिल मा की पीठ पर भी छानते लगता और फिर होंठो को चूस्ता. ऐसे ही करते हुए करीब 20 मिनिट्स की छुदाई में वो जहद गया. झाड़ते हुए उसने अपना लंड निकाला और अपना रस मा के गले से होते हुए उनके नाभि तक गिरा दिया और फिर दोनो रेस्ट करने लगे.

उन दोनो ने 40 मिनिट्स रेस्ट किया.

अब मेरा लंड भी मा को छोड़ना चाहता था तो मैने मा को इशारा किया. मा ने 10 मिनिट का इशारा किया तो मई उनके पास गया, मा ज़मीन पर लेती थी. तो मैने उनका मूह खोला और उसमे अपना लंड घुसा दिया.

मैने अपने पैरों को मोड़ा और उनके बूब्स पर बैठ गया. मा अब मेरा लंड चूस रही थी. 10 मिनिट चूसने के बाद मेरा लंड भी भीग गया. मैने मा को उठाया तब-

मा – अब तू मत ये बोलना की तुझे भी मेरी गांद मारनी है.

मे – नही मा तुम आओ तो सही.

मैने मा के ब्लाउस को खोला और तब उनके बूब्स आज़ाद हो गये. फिर मैने उनको पेड़ पर हाथ रख कर झुकने का बोला. उन्होने ऐसा ही किया और फिर मैने उनके पैरों को और तोड़ा सा फैलाया और सारी कमर तक कर दिया.

अब मा मेरा लंड लेने के लिए तैयार थी. मई तोड़ा झुका और मा के छूट पर अपना जीभ रख दिया और उसे चाटने लगा.

मा को भी अब मज़ा आ रहा था और वो आआअहह उूुुुुुउउइईईईईईईईईईईईउ ओउुुुउउर्र्र्र्ररर कककककचहााआटततटूऊओ माआआआ कीईईईईईईईई कककचहुउुउत्त्तत्त… आआआआअहह बीीत्त्ताआआआ बाअहहूुूत्त्त्टटतत्त म्‍म्म्मममाअज़्जजजाआा द्डडीईएटत्त्त्ताआअ हहााईयईई टतततुउउउ.. बोल कर मेरा जोश बढ़ा रही थी.

10 मिनिट मा की छूट चाटने के बाद मा की छूट अब लंड लेने के लिए तैयार थी. मई हल्का सा झुका और पूरा लंड एक ही झटके में मा की छूट में घुसा दिया. मा भी जैसे इस झटके के लिए तैयार थी और उन्होने भी छूट अपनी ढीली कर दी थी.

मई रुका और फिर मा के बूब्स को पकड़ लिया जिससे उन्हे हल्का सा दर्द हो और फिर मा के छूट में अपना लंड अंदर बाहर करने लगा. मा भी आआआआहह आआआहह टत्त्ट्टीईईईज़ज़ज्ज्ज्ज्जििइईईईईईईई सस्स्स्स्स्स्सेसीईई म्‍म्म्ममीईईईरर्र्रररीईईई ल्ल्ल्ल्ल्लाआआआाालल्ल्ल्ल्ल्ल्ल्ल्ल्ल आआआवउउर्र्र्र्र्र्र्ररर टत्त्त्ट्टीईईईईजज़्ज़्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज ककककचूऊऊओद्द्द्दद्डूऊऊऊऊ आआअप्प्प्प्पंंनन्निईीईईईईईईईईई र्र्र्र्रररााआअन्न्न्ँद्द्द्द्द्दद्ड म्‍म्म्मममममाआआआ कककककककूऊऊऊ बोल रही थी.

मेरा लंड निखिल से तोड़ा पतला पर उससे लंबा था और फिर मई अपने नेक्स्ट मूव के लिए तैयार था. मई तोड़ा रुका और मा के बूब्स को चोर कर उनके निपल्स को अपनी 2 उंगलियों में फसा लिया और फिर मा को किस किया. और उनके पीठ पर लेट गया और सिर्फ़ कमर को हल्का पीछे किया और अब और तेज़ी से मा को छोड़ने लगा.

मा को अब हल्का दर्द होने शुरू हुआ तो वो चूड़ते हुए ही बोलने लगी-

मा – आआआऐईईईईई ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्जििइईईईईईईईईईई सुउुुुउउन्न्ञन्निईीईईईईईईईययययययययययययईई न्‍न्‍नननणन्नाआआआआ ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्जििइईईईईईईईईईईईईईईईई…

मेरा जोश अब ये बात सुन कर बढ़ने लगा.

मा – सस्स्स्स्स्स्सुउुुुुुउउन्न्ञन्न्निियईईए न्‍न्‍नननणन्नाआआआआ टत्त्टटटत्त्तूऊऊओद्द्दददाााअ द्द्द्दद्धहिईीइइरररीईईई हहूओ ज्ज्ज्ज्जाआाआईयईईईईईईययययययययययययईईई म्‍म्म्मममीईएरर्र्र्र्ररराआआआआ न्‍न्‍नन्न्निईीिकककककककााालल्ल्ल्ल्ल्ल्ल्ल ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्जाआाआययययईईईगगगगगगगाआ…

मेरा भी होने ही वाला था इसलिए मैने अपनी स्पीड स्लो नही की. मैने मा के एक निपल को छोरा और मा के मूह को अपने तरफ किया. और फिर उनके होंठो को चूस्ते हुए हम दोनो मा बेटे साथ ही झाड़ गये. कुछ देर वैसे ही रहने के बाद मई मा को अपने उपर लेकर ज़मीन पर लेट गया.

स्टोरी जारी रहेगी, मिलते है नेक्स्ट पार्ट में और पिछली स्टोरीस पर फीडबॅक देने के लिए थॅंक्स. आंड फील फ्री तो अस्क ओर सजेस्ट एनितिंग. सजेशन्स का इंतेज़ार रहेगा

यह कहानी भी पड़े  किराये का घर मे सेक्स कहानी

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!