मेरे दोस्त अमन की माँ और दीदी साथ सेक्स

मेरा दोस्त अमन और मैं कॉलेज में साथ में पढ़ते हैं। मैं कभी कभी उसके साथ उसके घर में आता जाता रहता हूँ। अमन के घर में उसकी 55 साल की माँ नयना, 26 साल की उसकी बहन सुषमा रहती है, उसके पिताजी प्रभाकर किसी बड़ी कम्पनी में विदेश(अमेरिका) में कार्यरत हैं।

अमन काफी अमीर परिवार से ताल्लुक रखता है। उसका घर भी काफी बड़ा है। मैं उसके घर पहली बार उसी के साथ गया तो हमारा स्वागत एक बूढ़ी औरत ने किया जो अमन की माँ नयना है। आंटी है तो बूढी लेकिन आंटी का सुडौल बदन देखकर आज भी कई लोग मुट्ठ मारते हैं।
आंटी ने गुलाबी रंग की चिपली फिसलनदार नाईटी पहन रखी है, आंटी का बदन मोटा है और बूब्स सुडौल है, बूब्स का आकर नाईटी में स्पष्ट पता चल रहा है, आंटी दिखने में दूध की तरह गोरी-चिट्टी लगभग 53 से 55 साल के मध्य की सुन्दर मोटी औरत है जिसने मांग में सुर्ख लाल रंग का सिंदूर भरा हुआ है।
हाथों में लाल रंग की चूड़ियाँ पहनी हुयी है, हाथों और पैरों के नाखूनों में गुलाबी रंग की नेल पोलिश आंटी के सेक्सिपन में 4 चाँद लगा रही है, आंटी के गले में एक सोने की चेन और मंगलसूत्र है, मतलब पूरी तरह से एक परफेक्ट सुशील, शादीशुुदा, संस्कारी भारतीय नारी के लक्षण आंटी में विद्यमान हैं।
पहली बार आंटी को देखने में ही वो मेरी नज़रो में चढ़ गयी, उसकी ख़ूबसूरती से मेरी आँखें चकाचौंध हो गयी और मेरे मन में अपने दोस्त की माँ के बारे में गंदे, हवसपूर्ण विचार पनपने लगे, आंटी ने दरवाजा खोलकर अमन और मेरा वेलकम किया।
नयना(मुझे पूछते हुए)- वेलकम बेटा, कैसे हो, नाम क्या है आपका ?
मैं- नमस्ते आंटी, मेरा नाम पंडित है।
अमन(मुझे बताते हुए)- ये मेरी मॉम है पंडित भाई।
मैं- हाँ भाई पता है तेरी मॉम है, और कौन होगी वरना।
नयना- अमन बेटा कभी मिलवाया नहीं तुमने मुझे पंडित से।
अमन- तो आज मिल लो मॉम।
आंटी- अरे बच्चों बाहर ही खड़े खड़े सब बाते करोगे या अंदर भी आओगे, चलो अंदर आओ जल्दी से, अंदाजा लगाओ मेने तुम्हारे लिए क्या बनाया है ? पंडित पहले तुम बताओ बेटा।
मैं- पता नहीं आंटी जी, आप ही बता दो।
आंटी- अरे ऐसे थोड़े ही होता है, जरा सोचो तो सही, तुम बताओ अमन बेटा।
अमन- मॉम आई थिंक आपने इडली बनायीं है।
आंटी- वाव।।। सो इंटेलीजेंट अमन, अच्छा ह्यूमर है तुम्हारा।
अमन(इतराते हुए)- वो तो बचपन से ही है, लेकिन कभी घमंड नहीं किया।
(हम सब हंसने लगते है और इसके बाद आंटी हमारे लिए इडली लाती है और हम बड़े चाव से इडली खाते हैं। बहुत ही लाजवाब इडली बनायीं थी आंटी जी ने। मेरे जाने का समय हो गया था, लेकिन आंटी ने मुझे वहीँ रुकने को कहा)
मैं- ओके आंटी मैं चलता हूँ।
आंटी- अरे बेटा इतनी जल्दी, आज यही रुक जाओ, आराम करो, कल चले जाना।
अमन- हाँ पंडित भाई आज यहीं रुक जा, कल चला जइयो।
मैं- आप लोग इतनी जबरदस्ती कर रहे हो तो ठीक है। रुक जाता हूँ।
(आंटी खुश हो जाती है और मुझे अपने गले लगा लेती है जिससे कि आंटी के बूब्स मेरी छाती से दब जाते हैं और मेरा बदन सिहर उठता है और लण्ड खड़ा हो जाता है, ऐसी अनुभूति मुझे शायद ही पहले कभी हुयी हो, जब आंटी मुझ से गले लगी तो उनसे भीनी भीनी इत्र की खुशबु आ रही थी जैसे अमीर लोगों से आती है और आंटी इस बुढ़ापे की उम्र में भी गजब लग रही है, एकदम साफ़ चेहरा, साफ़ नाखून, गोरा बदन, गोरे हाथ पैर, अप्सरा जैसे लग रही है, अगर आप देखना चाहते हैं आंटी कैसी लगती है तो गूगल में “पून्नम्मा बाबू” मलयालम अभिनेत्री सर्च करना, अमन की मॉम नयना आंटी बिलकुल वैसे ही लगती है)
आंटी- ये.. आज पंडित यही रुकेगा.. क्या खायेगा पंडित डिनर में बताओ ?
मैं- कुछ भी बना देना आंटी, मैं सब कुछ खा लेता हूँ।
आंटी- आज तो स्पेशल बनेगा कुछ पंडित के लिए, अमन बेटा जा तू मार्केट से चिकन ले आ।
अमन- ठीक है मॉम। चल पंडित तू भी चल मेरे साथ।
आंटी- अरे पंडित को यहीं रहने दे, मेरे साथ गप्पे शप्पे मारेगा, पहली बार तो आया है।
अमन- ओके मॉम, मैं आता हूँ, पंडित को बोर मत करना आप प्लीज।
आंटी- अच्छा जी, दोस्त की इतनी चिंता और पंडित ने मुझे बोर कर दिया तो, मेरी चिंता नहीं है तुझे।
अमन(मेरी तरफ देखते हुए)- पंडित मेरी मॉम को भी बोर मत करना, मैं यूँ गया और यूँ आया।
मैं- तू फिक्र मत कर अमन भाई तेरी माँ मेरी माँ है मैं बोर नहीं होने दूंगा मॉम को।
आंटी- ओह कितने स्वीट हो तुम दोनों, आज से मेरे दो बेटे हैं, पंडित आज से मुझे माँ कहकर बुलाना ओके ?
मैं- ओके आंटी, ओह सॉरी मेरा मतलब ओके माँ।

यह कहानी भी पड़े  छीनाल बेहेन की चुदाई नौकर ने की

(और हम सब हंसने लगते हैं और अमन बाजार चला जाता है, अब घर में सिर्फ मैं और आंटी अकेले थे, गप्पे मार रहे थे)
आंटी- पंडित बेटा और बता क्या क्या हॉबी हैं तेरी ?
मैं- बस माँ, कभी क्रिकेट, फुटबॉल खेल लेता हूँ, कभी कभी बाइक में कहीं अकेला दूर निकल जाता हूँ घूमने।
आंटी- ओह।। अच्छा, बाइक में अकेला क्यों जाता है गर्लफ्रेंड नहीं है क्या तेरी ?
मैं(शरमाते हुए)- नहीं माँ, कोई बनी ही नहीं अभी तक।
आंटी- तू कोशिश ही नही करता होगा पगले, वरना तू इतना हैंडसम,जवान है तुझ से लड़की न पटे ऐसा नहीं हो सकता। अमन की है कोई कॉलेज में पटाई हुयी?
मैं- नहीं माँ, वो भी मेरे ही जैसा है।
आंटी- उफ्फ्फ मेरे दोनों बेटे ऐसे सीधे साधे, साधू बाबा हो क्या जो नहीं पटाई अभी तक कोई, अभी तक तो तुमने बहुत कुछ कर देना था, तुमने तो नाक कटवा दी है सही में पंडित बेटा। दिक्कत क्या है क्यों नही पटाई अभी तक कोई तुमने।
मैं- अमन का तो पता नहीं माँ, लेकिन मुझे कोई पसंद ही नहीं आती।
आंटी- अच्छा कैसी लड़की पसंद है तुझे ?
मैं- आपके जैसी, जैसे आप हो मोटी सुडौल, खाते पीते घर से लगती हो। मुझे ऐसी लड़की ही पसंद है, कहीं मिलती ही नहीं।
आंटी- चल हट बदमाश कहीं का, मैं तो अब बूढी हो चुकी हूँ।
मैं- नहीं माँ आप सच मुच अभी भी जवान लड़कियों को टक्कर देती हो, मुझे तो आप पहली नज़र में पसंद आ गए थे सच्ची में। तेरी कसम।
आंटी- गंदे बच्चे, मुझे चने की झाड़ में चढ़ा रहा है, शर्म कर बेटा, अपने दोस्त की मम्मी पे डोरे डाल रहा है तू।
मैं- डोरे नहीं आंटी, आपको सच्चाई से वाकिफ करा रहा हूँ, आप बहुत खूबसूरत हो, अमन ने कभी कहा नहीं आपसे ?
आंटी- उसको कहाँ अपनी माँ की फिक्र है, लेकिन अब मेरा नया बेटा बना है तू, तेरे मुह से अपनी तारीफ सुन कर अच्छा लगा पंडित बेटा।
मैं- दीदी कहाँ है, अमन की दीदी भी है वो दिख नहीं रही।
आंटी- ओह अच्छा, सुषमा।। वो ऑफिस गयी है अभी आने वाली होगी, तू मिला है क्या उससे ?
मैं- नहीं नहीं आंटी, वो अमन ने मुझे मोबाइल में फोटो दिखायी थी।
(दरअसल कॉलेज में अमन ने मुझे अपने मोबाइल में उसकी दीदी की फोटो दिखाई थी जिसमे उसकी दीदी ने खुले गले का एक टॉप पहन रखा था, बाहें पूरी नंगी थी, बूब्स की घाटी दिख रही थी, बूब्स के ऊपर छाती में एक काला तिल था जो गोरे बदन की शोभा बढ़ा रहा था, टॉप इतना छोटा था कि अमन की दीदी की गहरी नाभी स्पष्ट दिख रही थी, वो फोटो देखते हुए मेरा लण्ड झटके मारने लगा था जिससे अमन बेखबर था, उसकी दीदी थोडा मोटी थी, गोरी थी लेकिन बहुत सेक्सी लग रही थी। उसकी दीदी की फोटो को याद करके मेने पता नहीं कितनी बार मुट्ठ मारी होगी)
आंटी- ये अमन को इतना टाइम क्यों लग गया, फोन करती हूँ इसे।
(आंटी ने अमन को फोन किया तो अमन ने बताया कि उसे घर पहुचने में समय लग जायेगा, उसके रॉकी भैया उसे जबरन पार्टी में ले गए हैं, नयना आंटी नाराज हो गयी लेकिन मेरे मन में लड्डू फूटने लगे, नयना आंटी ने गुस्से से फोन काट दिया)
मैं- क्या हुआ आंटी क्या कहा अमन ने, आप इतनी टेंशन में क्यों हो।
आंटी- अरे इसके ताऊ का बड़ा लड़का रॉकी बहुत बिगड़ा हुआ है, अमन को पार्टी में ले जा कर उसे ड्रिंक करवाता है, अभी देख लो, तुम्हे यहाँ घर में रोककर पार्टी में चला गया, बोलता है देर रात में आएगा, लेकिन तुम देखना पंडित बेटा, वो कल सुबह तक ही आयेगा।
(आंटी उदास हो जाती है और सोफे में बैठ जाती है)
मैं- कोई बात नहीं आंटी, आपका एक बेटा तो घर ही में है।
आंटी- अब उससे मास मंगाया था रात के खाने में बनाने को, मैं अब क्या बनाऊ तेरे लिए, तू ही बता ये अच्छी बात है क्या।
मैं- आंटी जो भी आप प्यार से बनाओगी मैं खुशी खुशी खाऊंगा, अब गुस्सा छोडो, दिल न तोड़ो, अच्छा आपके हाथ से ही खाऊंगा, अब तो खुश ??
(आंटी हंस पड़ती है और मुझे अपने गले लगा लेती है, आंटी गले इस तरह लगती है कि हमारा बैलेंस बिगड़ जाता है और हम दोनों सोफे से निचे गिर जाते हैं, अब मैं जमीन पर आंटी के ठीक ऊपर लेटा हूँ, आंटी हंसने लगती है और आंटी की साँसे मेरी साँसों से टकराती है, आंटी के बूब्स मेरी छाती से दब जाते हैं, मेरा लण्ड बिलकुल खड़ा हो गया है और ठीक आंटी की चूत के ऊपर है और झटके मार रहा है जिसका एहसास आंटी को भी हो रहा है, मैं कुछ देर ऐसे ही आंटी के ऊपर चित्त लेटा रहा, और हम दोनों हंस रहे हैं)
आंटी- अब हट बेटा, ऐसे ही लेटा रहेगा क्या माँ के ऊपर।
मैं- हटने का मन नहीं है माँ, ऐसे ही लेटे रहने दो प्लीज।
आंटी- तुझे अच्छा लग रहा है क्या ?

यह कहानी भी पड़े  Kamukta Kahani एक रात मज़ा

Pages: 1 2 3 4

error: Content is protected !!