दोस्त के दोस्त की बहन की सील तोड़ने की कहानी

हेलो दोस्तों आप सभी कैसे है? मुझे उम्मीद है कि आप सभी अच्छे है, और अपनी कामुकता को उत्तेजित करने के लिए मेरी कहानी पे आए है। तो आप सभी को दिल से शुक्रिया।

अब ज्यादा वक्त ना लेते हुए कहानी पे आता हूं।‌ दोस्तों मेरा नाम राज है। मैं पंजाब का रहने वाला हूं। मेरी उम्र 20 साल है।

दोस्तों मैं सीधे अपनी कहानी पे आता हूं, जो आज से करीब 7 दिन पहले की बात है। मैं अपने चहीते मानो तो लंगोटिया यार के घर गया किसी काम के सिलसिले में। मैं जब घर पे गया, तो दोस्त नहीं था। आवाज लगाई दो-तीन बार कोई है मां, पूजा।

उसकी एक छोटी बहन है जिसका नाम पूजा है। जब वो 10 साल की थी तब से ही उसके घर आना-जाना लगा रहता है। मैं जब उसके घर जाता तो दोस्त की बहन के साथ मस्ती शरारत मैं, दोस्त, और पूजा मिल कर करते थे। लेकिन मैं कभी उसको गलत नजर से नहीं देखता था।

अब वो 18 साल की जवान बला बन चुकी थी। उसकी एक सहेली थी, जिसका बॉयफ्रेंड उसके भाई का दोस्त था, और वो उससे खूब सेक्स करवाती थी। वो ये सब बातें पूजा को बताती थी, जिससे पूजा भी अपने भाई के दोस्त राज को मन ही मन चाहने लगी थी, और उससे चुदवाने का बहाना ढूंढ रही थी।

वो कभी-कभी मजाक में राज को कस के पकड़ लेती थी। पर ये बात राज को समझ में नहीं आयी थी। पर उस दिन जब राज घर पे गया और पूजा से पूछा कि भाई कहा है, तो वो बोली कि “नानी का तबियत खराब है, तो मां को लेकर ननिहाल गया है”।

तो राज ने बोला “क्या, कब आएगा?” तो पूजा ने बोला कि “कल आएगा, क्योंकि मां से बात हुई है अभी फोन पे। नानी ठीक है। और कल तक वो दोनों आ जायेंगे।” इतना सुन कर राज बोला “ठीक है पूजा, हम कल आते है।”

वो बाय कह कर निकलने वाला ही था कि पूजा बोली, “इतना जल्दी में क्यों रहते हो? आए हो तो चाय पीकर ही जाना है।” क्योंकि पूजा ये आज का मौका गवाना नहीं चाहती थी, और उसने कैसे राज को सेक्स करवाने के लिए मनाया, पढ़ते रहिए आगे की ओर।

पूजा: नहीं हम कुछ नहीं सुनना चाहते है। आप बैठो हम चाय लाते है। और वैसे मेरा अकेले मन भी नहीं लग रहा है। आप आए हैं, तो थोड़ा बहुत टाइम कट जायेगा।

और वो अंदर चली गई। पूजा एक ऐसी लड़की थी, जिसकी फिगर इतना सेक्सी थी कि बूढ़े का भी लंड का पानी निकाल दे। बड़ी-बड़ी चूचियां थी, बड़ी गांड थी, और जब वो बल खाके चलती थी, तो क्या सेक्सी लगती थी।

पूजा राज को चाय देकर बोली: राज आप अभी तक कोई लड़की नहीं पटाए, क्यों?

ये सवाल सुन कर राज को थोड़ा अजीब लगा।

फिर वो बोला: नहीं पूजा, छोड़ो ये सब।

पर पूजा भी जिद करने लगी कि बताओ। तो वो बोला: आज तक कोई मेरे दिल को भाई ही नहीं।

पूजा बोली: मैं बोलूं?

राज: बोलो।

पूजा: मैं कैसी लगती हूं?

राज: तुम बहुत सुंदर हो।

पूजा: तो क्या मैं आपकी गर्लफ्रेंड बन सकती हूं? आपको हरेक सुख दूंगी।

राज: तुम क्या बोल रही हो पूजा? अपने दोस्त के भाई से ऐसे बात करते है? तुम मेरे लिए एक बच्ची हो, और कुछ नहीं।

पूजा: मैं आपको एक बच्ची दिखाई देता हूं (राज के चेहरे पे उंगली फिराते हुए बोली)?ये मेरी जवानी देखो, कैसे उछाले मार रही है। मेरी सेक्सी कमर देखो। ये आपको बच्ची की लगती है?

ये सब बाते सुन कर राज की कामुक जग गई, और वो बोला: दिमाग खराब है तुम्हारा? भाई अगर जान गया तो?

और आगे कहने से पहले ही पूजा बोली: कोई जानेगा तब ना।

इतना कह कर वो राज के और करीब आ गई, जिससे राज को उसकी जवानी का जवालामुखी फटता हुआ महसूस हो रहा था। अब उससे भी बर्दाशत नहीं हुआ, और वो उसको किस्स करने लगा। क्योंकि वो जवान था। क्या गलत क्या सही नहीं सोचा, और सोचना भी नहीं चाहिए ऐसी जगह पे।

किस्स चालू था, और वो बूब्स को मसलने लगा, जिस्से पूजा “आह ई ऊह आह मजा आ रहा है राज” बोल रही थी, और साथ दे रही थी। 15 मिनट किस करने के बाद दोनों बेड पे चले गए, और कपड़े उतार दिए। अब वो सिर्फ चड्डी बनियान में थे।

पूजा को ऐसी हालत में देख राज और पागल हो गया। क्या मॉल थी वो, बिल्कुल आलिया की तरह सेक्सी लग रही थी।

चूची को मसल-मसल के लाल कर दिया था राज ने। फिर बरा को निकाल कर फेंक दिया, और चूसने लगा था। पूजा भी राज के लंड को कच्छे के ऊपर से ही उसके आकार को टटोल कर मसल रही थी, और बोल भी रही थी, “तेरा लंड तो बहुत बड़ा है। हमें तो बहुत मजा आयेगा इसे अपनी बुर में लेने में।” वो लंड को लेने के लिए उतावली हो रही थी।

इधर राज ये सब बातें सुन कर कर अपने दोस्त की बहन पूजा की चूची को पी रहा था। राज के पीने की वजह से पूजा की चूची ककरी की तरह टाइट हो गयी थी, और बड़ा-बड़ा था, तो खूब पी रहा था, और एक हाथ बुर पे भी घुमा रहा था।

वो बोल भी रहा था: पूजा तुम छोटी बच्ची नहीं हो। बल्कि मेरी प्यास को बुझाने वाली समंदर हो। लव यू पूजा।

ये बोल कर वो बुर चढ्ढी के उपर से ही मसल रहा था, और चूची को पी रहा था, और इधर-उधर चूम रहा था। 20 मिनट तक चूसा उसने, और इधर पूजा की बुर में मानो 33 हजार गिर गया था वैसे तड़प रही थी।

वो बार-बार बोल भी रही थी: राज आई लव यू। मैं तुमको बहुत दिनों से चाहती थी। जो आज जाके मिले हों।

ये बात सुन कर राज और जोश में आकर उसकी बुर को मसल रहा था, उंगली डाल रहा था। पूजा आई… ऊह… आह…. आवाजें निकाल रही थी।

फिर अपनी जीभ वो पूजा की बुर में लगा के चूसने लगा, जिससे पूजा और बेबाक होने लगी थी। वो अब ब्लू फिल्म की तरह जोर-जोर से आवाज निकाल रही थी, और इधर राज जीभ को और अंदर दबाए जा रहा था। जोश में होकर दोनों खूब मजे ले रहे थे।

कुछ देर बाद पूजा की आवाज तेज हो गई, और उसने अपनी बुर का पानी राज के मुंह पे ही गिरा दिया। राज पानी पी गया, और अपना लंड निकाल के पूजा को दे दिया। पूजा टपाक से लंड पकड़ कर मुंह में लेकर चूसने लगी, मानो जैसे रण्डी हो, वैसे खूब चूस रही थी।

कुछ देर बाद वो बोली: राज अब बुर चोद दो मेरी। अब मुझसे रहा नहीं जाता।

इतना बोलते ही राज ने घोड़ी बना कर अपना लंड पूजा की बुर में डाल दिया। बुर टाइट थी, तो अंदर नहीं जा रहा था। क्योंकि पहली बार था दोनों का। फिर वो तेल लेकर आया, और लगा कर धीरे-धीरे चोदने लगा। तभी जोर से झटका मारा जिससे दोनों की झिल्ली टूट गई, और दर्द भी होने लगा। इधर पूजा की आंखों में आंसू आ गए थे, पर लंड को लिए रखा उसने।

फिर कुछ देर बाद पूजा कमर चलाने लगी। यानी अब दर्द खत्म हो गया था, और दोनों जोश में आ गए थे। राज जोर-जोर से चोदने लगा। पूजा चुदवाने में व्यस्त थी, और बार-बार चुदासी आवाजें निकाल रही थी।

पूजा: चोद, अपने दोस्ती की छोटी बहन को चोद दे। बुर फाड़ दे आज।

ये सुन राज और तेजी से चोद रहा था। 30 मिनट बाद राज ने अपना मॉल पूजा की बुर में ही छोड़ दिया, और कुछ देर पूजा के शरीर पर वैसे ही लेटा रहा।

इस चुदाई से पूजा बहुत खुश थी, और उसके बाद 3-4 बार बुर चोदी। अब जब मौका मिलता है तो चुदाई शुरू हो जाती है। कैसे अब उसकी गांड भी मारी, वो कहानी लेके आऊंगा अगले पार्ट में।

यह कहानी भी पड़े  जेठ जी के बच्चे की मा बनी


error: Content is protected !!